बचपन से जुड़े बीमारियाँ

इस खंड में बचपन के विकारों के बारे में सूचनाएं हैं, जो आमतौर पर नवजात दिनों में, बचपन में या किशोरावस्था में ही पहचान ली जाती हैं. बचपन के विकारों को सीखने की क्षमता से जुड़े विकार और विकासपरक विकार की श्रेणियों में बांटा जाता है.

सीखने की क्षमता से जुड़े विकार जिन्हें लर्निग डिसएबिलिटीज़ भी कहा जाता है- वे उन विकारों का एक स्पेक्ट्रम है जैसे डिसलेक्सिया, डिसकैलकुलिया आदि. अटेंशन डेफ़ेसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) एक लर्निग डिसऑर्डर ही है.

विकास से जुड़े विकार वे हैं जो बच्चे के विकास की अवधियों में सामने आते हैं. ज़्यादातर विकलांगता भ्रूणता से पैदा हो जाती है लेकिन कुछ ऐसी हैं जो चोट या संक्रमण या किसी और वजह से जन्म के बाद दिखने लगती हैं. ऑटिज़्म, दिमागी लकवा, बोलने में मुश्किल, मानसिक मंदता- विकास से जुड़े विकारों में गिने जाते हैं.

आप यहां विभिन्न बाल विकारों के बारे में पढ़ और समझ सकते हैं, उनकी वजहें, लक्षण, पहचान, इलाज और देखरेख करने वाले के रूप में आप पीड़ित बच्चे की क्या मदद कर सकते हैं.


और जानकारी

संबंधित