डिसप्राक्सिया

डिसप्रेक्सिया क्या होता है?

डिसप्रेक्सिया एक विकास संबंधी समन्वय में कमी से जुड़ा विकार है जो दिमागी संदेशों के समन्वय को प्रभावित करता है. डिस्प्रेक्सिया से पीड़ित बच्चे सूक्ष्म मोटर गतिविधियों के प्रबंधन में कठिनाई महसूस करते हैं जैसे दाँतो को ब्रश करने में, जूते के फीते बाँधने में, चीज़ों को पकड़े रहने में, चीज़ों को इधर से उधर रखने या उन्हें व्यवस्थिक करने में या ठीक से उठने बैठने या चलने फिरने में.

डिसप्रेक्सिया आमतौर पर मस्तिष्क से जुड़े अन्य विकारों के साथ ही मौजूद पाया जाता है जैसे डिसलेक्सिया, डिसकैलकुलिया या एटेंशन डेफ़ेसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर(ए.डी.एच.डी).

डिसप्रेक्सिया के चिन्ह क्या हैं?

डिसप्रेक्सिया से पीड़ित बच्चों को निम्न मामलों में समस्या आ सकती हैः

स्थूल मोटर योग्यताएँ

• चीज़ों को गिराए बिना थामे रहना

• खेलते समय या व्यायाम करते समय शारीरिक समन्वय यानि शरीर के अंगों में तालमेल बनाए रखना

• वॉकिंग, स्किपिंग, गेंद फेंकना या कैच करना या बाइक पर बैठना

• चीज़ों से टकराए बिना इधर से उधर चल पाना, चलते हुए चीज़ों को न गिराना

• ऐसे खेलों और गतिविधियों में भाग लेना जिनमें हाथ और आँख के कुशल तालमेल की ज़रूरत पड़ती है

सूक्ष्म मोटर योग्यताएँ

• बटन लगाना, पेंसिल पकड़ना, कैंची चला पाना

• छोटी चीज़ों पर काम करना जैसे ब्लॉक बनाना, पहेलियाँ हल करना

स्पीच/बोलने की क्षमता

• आवाज़ में उतार चढ़ाव ला पाना (वॉल्यूम, स्पीडस, टोन, पिच)

• साफ़ साफ़ बोलना और बहुत धीरे नहीं बोलना

सामाजिक-भावनात्मक

• काम कर पाने, खेलने या संचार में सक्षम हो पाने को लेकर ख़ुद पर पक्का भरोसा होना

• टीम वाले खेलों में शामिल होना

• बच्चों और वयस्कों से मिलना जुलना, उनसे घुलनामिलना

याददाश्त और ध्यान: स्कूल या घर में किए जाने वाले कामों के सिलसिले या क्रम को याद रखना और उन्हें पूरा कर पाना (स्कूल का बस्ता लगाना, होमवर्क पूरा करना, लंचबॉक्स रखना आदि)

स्थानिक संबंधः चीज़ों को एक जगह से दूसरी जगह बिल्कुल सही जगह रखना या यहाँ से वहाँ ले जाना

डिसप्राक्सिया किस वजह से होता है?

डिसप्राक्सिया के सही कारणों का पता नहीं चल पाया है. लेकिन ये पाया गया है कि ये विकार उन तंत्रिकाओं की गड़बड़ी की वजह से हो सकता है जो समन्वय के लिए मस्तिष्क से पेशियों तक संकेत भेजती हैं.

डिसप्राक्सिया की पहचान कैसे की जाती है?

डिसप्राक्सिया की पहचान का कोई एक अकेला टेस्ट उपलब्ध नहीं है. कोई विशेषज्ञ या थेरेपिस्ट निम्न मापदंडों के आधार पर विकार का आकलन कर सकता हैः

• मोटर योग्यताओं का अवरुद्ध या धीमा विकास

• दिमागी लकवे जैसी अन्य न्यूरोलॉजिकल स्थितियों की वजह से मोटर योग्यताएँ कमज़ोर नहीं होती हैं.

डिसप्राक्सिया का इलाज

अभिभावक किसी विशेषज्ञ या थेरेपिस्ट से मिल सकते हैं. किसी स्पीच थेरेपिस्ट, विशेष शिक्षा विशेषज्ञ या बाल मनोचिकित्सक से भी समस्या को समझने के लिए मिला जा सकता है. और ज़रूरी मदद हासिल की जा सकती है. 

डिसप्राक्सिया में देखरेख

डिसप्राक्सिया वाले बच्चे को अपने विचार, भावनाएँ, या समस्याओं को अभिव्यक्त करने यानि बता पाने में मुश्किल आ सकती है. लेकिन देखरेख करने वाले व्यक्ति के रूप में आप बच्चे को बोलने और अपनी समस्या बताने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं. आप अपने बच्चे को हल्कीफुल्की शारीरिक गतिविधियाँ करते रहने के लिए भी प्रेरित कर सकते हैं. इन गतिविधियों से समन्वय और तालमेल में मदद मिलती है और इस तरह बच्चे के भीतर विश्वास बढ़ाया जा सकता है.


और जानकारी

संबंधित