Your search results under: "अवसाद (डिप्रेशन)"

देखभाल करते बच्चेः अदृश्य और समर्थनहीन

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/care-to-care/

डॉ अनिल पाटिल केरर्स वर्ल्डवाइड नाम की संस्था के संस्थापक और कार्यकारी निदेशक हैं. ये संस्था परिवार में ही देखरेख करने वाले उन लोगों की मुश्किलों से निपटती और उन्हें सामने लाती है जो अनपेड हैं यानी जिन्हें देखरेख का कोई मानदेय नहीं मिलता है. 2012 में स्थापित और ...

भारत में बहुत से बच्चे देखभाल का काम भी करते हैं और हममें से बहुत लोग ये तक महसूस नहीं करते हैं बंद दरवाजों के पीछे वे क्या भूमिका निभा रहे हैं. अक्सर बच्चे खुद को इस स्थिति में तब पाते हैं जब उनके माता पिता बीमार पड़ जाते हैं ...

आत्म-प्रकटीकरण: अपना मुखौटा उतारना

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/living-positively/

एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर में येशिवा विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान के एक सहायक सहयोगी प्रोफेसर है. निजी प्रैक्टिस भी करते हैं और 25 से अधिक मनोविज्ञान व उससे संबंधित क्षेत्रों की किताबों के लेखक/संपादक हैं जिनमें पुरस्कार जीतने वाली अल्फ्रेड एडलर और इब्राहीम मॉसलो की जीवनियाँ भी शामिल हैं. डॉ हॉफमैन ...

क्या आप आसानी से अपनी भावनाएं और अनुभव साझा कर लेते हैं या दूसरों को एक भावनात्मक दूरी पर रखते हैं? आपके लिए अपनी अंदरूनी ख़ुशियों, लक्ष्यों और निराशाओं को ज़ाहिर करना कितना कठिन होता है? लगातार हुए वैज्ञानिक शोधों के ज़रिए ये अब साफ है कि आपके जवाब आपकी ...

किशोर व्यवहार में परिवर्तन, मूड से जुड़े विकार को ढांप रहा हो सकता है

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/wonder-years/

दिल्ली की 23 साल की लड़की अनीशा पिछले आठ महीनो से बंगलौर में रह रही है. वो दो बार एक काउंसलर के पास जा चुकी है जिसने उसे मेरे पास रेफर किया क्योंकि काउंसिलिंग में वो अवसाद से उबर नहीं पा रही थी. काउंसलर को लगा कि उसे दवाओं की ...

ब्रेकअप आपके जीवन में एक नये अध्याय की शुरुआत हो सकता है

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/wonder-years/

किसी के प्रति आपकी तीव्र चाहत एक ऐसी चीज़ है जिसकी आप कभी व्याख्या नहीं कर सकते हैं. आप अपने पुरुष मित्र या महिला मित्र के बारे में अच्छी चीज़ें पेश कर सकते हैं. लेकिन अपने अंतर्तम में आप जानते हैं कि इससे ये नहीं समझा जा सकता कि आप ...

देखरेख के काम से जुड़े अपने किसी परिचित की मदद कर आप उन्हें स्वस्थ रहने में मदद कर सकते हैं.

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/care-to-care/

डॉ अनिल पाटिल केरर्स वर्ल्डवाइड नाम की संस्था के संस्थापक और कार्यकारी निदेशक हैं. ये संस्था परिवार में ही देखरेख करने वाले उन लोगों की मुश्किलों से निपटती और उन्हें सामने लाती है जो अनपेड हैं यानी जिन्हें देखरेख का कोई मानदेय नहीं मिलता है. 2012 में स्थापित और ...

अपने पिछले लेख में, देखरेख करने वालों पर पड़ने वाले बोझ को पहचानने की अहमियत और इसके परिणामस्वरूप उनके मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में बात की थी. देखरेख करने वालों के काम की मान्यता और उन्हें समय पर मिलने वाली सहायता से न सिर्फ़ उनकी सेहत ...

बौद्धिक ईमानदारी- शिक्षा का लक्ष्य

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/wonder-years/

किसी दूसरे के विचार चुराकर उन्हें अपने विचार की तरह पेश करना साहित्यिक चोरी कही जाती है. सहपाठी के होमवर्क की नकल कर लेना या स्कूल प्रोजेक्ट के लिए इंटरनेट की किसी सामग्री को कॉपी पेस्ट करना भी साहित्यिक चोरी है. ज़्यादा परिचित शब्दों में कहें तो ये धोखा है. ...

सकारात्मक मनोविज्ञान क्या है?

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/living-positively/

एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर में येशिवा विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान के एक सहायक सहयोगी प्रोफेसर है. निजी प्रैक्टिस भी करते हैं और 25 से अधिक मनोविज्ञान व उससे संबंधित क्षेत्रों की किताबों के लेखक/संपादक हैं जिनमें पुरस्कार जीतने वाली अल्फ्रेड एडलर और इब्राहीम मॉसलो की जीवनियाँ भी शामिल हैं. डॉ हॉफमैन ...

सकारात्मक मनोविज्ञान इन दिनों एक बहुचर्चित विषय है. "सुख और संतोष", "अच्छी सेहत", "ध्यान", "एकाग्रता" आदि शीर्षक वाली पुस्तकें अधिक संख्या में प्रकाशित हो रही हैं जिन्होंने सिर्फ़ अकादमिक पत्रिकाओं में ही नहीं बल्कि मुख्यधारा पत्रिकाओं में भी अपनी जगह बना ली है. संयुक्त राज्य अमेरिका में 200 से अधिक ...

जुनून और व्यवहारिकता में अंतर

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/wonder-years/

अट्ठारह. भारत में यही वो उम्र है जब आपसे ये तय करने की अपेक्षा की जाती है कि आप क्या पढ़ेंगे और कौनसा करियर चुनेंगे. 18 साल की उम्र वाले कई नवबालिगों के लिए 12वीं की कक्षा एक ख़ौफनाक समय हो सकता है और इसका असर उनकी मानसिक सेहत पर ...

परेशान करने वाले किशोर या किशोरों की परेशानी

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/wonder-years/

‘अचानक, दुनिया बड़ी हो गई थी; खगोलीय लिहाज़ से नहीं, क्योकि उसके प्रति तो मैं कई वर्षों पहले से जागरूक हूं और चकित हुआ रहता हूं, मेरे साथ हुआ ये कि मुझे ऐसा महसूस हुआ मानो मैं जिस बुलबुले के भीतर हूं वो फट गया है, और मैं तीखी, कच्ची ...

किशोरावस्था के लक्षण क्या हैं

http://hindi.whiteswanfoundation.org/experts-columns/wonder-years/

ये शब्दावली मैंने उन्हीं अभिभावकों के मुंह से सुनी है जिनके किशोर बच्चे कष्टदायी हैं. वे मांबाप देर तक घर से बाहर रहने, ज़्यादा अल्कोहल का सेवन करने वाले, लंच के समय तक बिस्तर पर पड़े रहने और जीवन में ‘विद्यार्थी’ का तमगा बने रहने लायक ग्रेड लाने वाले अपने ...

Categories