देखभाल की परवाह

  • डॉ अनिल पाटिल
    डॉ अनिल पाटिल

    डॉ अनिल पाटिल केरर्स वर्ल्डवाइड नाम की संस्था के संस्थापक और कार्यकारी निदेशक हैं. ये संस्था परिवार में ही देखरेख करने वाले उन लोगों की मुश्किलों से निपटती और उन्हें सामने लाती है जो अनपेड हैं यानी जिन्हें देखरेख का कोई मानदेय नहीं मिलता है. 2012 में स्थापित और यूके(ब्रिटेन) में रजिस्टर्ड ये संस्था, विकासशील देशों में देखरेख करने वालों के साथ ही एक्स्क्लूसिव तौर पर काम डरती है. डॉ पाटिल इस स्तंभ को लिख रहे हैं रूथ पाटिल के साथ जो केरर्स वर्ल्डवाइड में वॉलंटियर हैं.

    ज़्यादा जानकारी के लिए आप संस्था की वेबसाइट Carers Worldwide को देख सकते हैं. आप लेखकों को ईमेल भी भेज सकते हैं इस पते परः columns@whiteswanfoundation.org

     
     
देखभाल करते बच्चेः अदृश्य और समर्थनहीन

भारत में बहुत से बच्चे देखभाल का काम भी करते हैं और हममें से बहुत लोग ये तक महसूस नहीं करते हैं बंद दरवाजों के ...और पढ़ें

चमकदार भविष्य की रचनाः देखभाल के आर्थिक प्रभाव का आकलन

बीमार या विकलांग रिश्तेदार की देखभाल की कठिन लेकिन सराहना योग्य प्रकृति के बारे में हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं. देखभाल करने वाले ...और पढ़ें

देखरेख के काम से जुड़े अपने किसी परिचित की मदद कर आप उन्हें स्वस्थ रहने में मदद कर सकते हैं.

अपने पिछले लेख में, देखरेख करने वालों पर पड़ने वाले बोझ को पहचानने की अहमियत और इसके परिणामस्वरूप उनके मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव ...और पढ़ें

थोड़ा आराम दीजिए- देखरेख से जुड़े लोगों की ज़िम्मेदारियों को हल्का करें

इस लेख में, मैं इस बात को रेखांकित करूंगा कि परिवार, समुदाय और स्थानीय संगठन किस प्रकार देखरेख के काम से जुड़ी जिम्मेदारियां बांटकर देखरेख ...और पढ़ें

देखभाल करने वालों के लिए सावधानी

अपने पिछले लेख में, मैंने समाज में वेतन या मानदेय के बगैर देखरेख का काम करने वाले परिजनों पर उसके विभिन्न प्रभावों की चर्चा की ...और पढ़ें

हमारे समाज के अदृश्य नायकः देखभाल करने वाले लोग

हम लोगों के बीच एक अदृश्य आबादी रहती हैः आपकी गलियों में, कार्यस्थल पर, कॉलेज या आपके परिवार में. ये लोग कई घंटों के लिए ...और पढ़ें

देखभाल करने वालों के बोझ को समझें

अपने पिछले लेख में देखरेख करने वालों पर इस काम से होने वाले शारीरिक प्रभावों की चर्चा करने के बाद मैं अब देखरेख करने वालों ...और पढ़ें

विचार धारा