किसी कर्मचारी की आत्महत्या से निपटना

हमारे रोज़मर्रा के जीवन में बढ़ते तनाव के साथ, कार्यस्थल आत्महत्या की रोकथाम के लिए महत्वपूर्ण स्थान बन गया है। कार्यस्थल पर आत्महत्या को रोकने के लिए चार लेखों की श्रृंखला में अंतिम इस लेख में श्रीरंजीता जेउरकर ने पड़ताल की कि संगठन आत्महत्या की कोशिश कर सकने वाले कर्मचारियों को कैसे रोक सकता है और उन्हें सहारा प्रदान कर सकता है।

एक बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी में 35 वर्षीय अजय को पांच साल के लिए काम पर रखा गया था। वह कड़ी मेहनत के लिए जाना जाता था, और अपने साथियों में बहुत लोकप्रिय था। जब अजय एक सप्ताह तक काम पर नहीं आया, तो उनके सहयोगियों ने मान लिया कि वह बीमार हो गए होंगे। वे किसी भी अन्य कारण की कल्पना करने में असमर्थ थे जो अजय को इतने समय तक काम से अलग रख सकेगा। अजय के संगठन ने उनकी अनिर्धारित अनुपस्थिति का कारण जानने के लिए संपर्क करने की कोशिश की। उन्हें अजय के परिवार से पता चला कि उसने आत्महत्या कर ली थी।

 

कार्यस्थल पर आत्महत्या को रोकना

  • मेरा संगठन आत्महत्या की रोकथाम कार्यक्रम में क्यों निवेश करे?
  • आत्महत्या की रोकथाम को आपके कर्मचारी सहायता कार्यक्रम में क्यों शामिल होना ही चाहिए?
  • आप अपने सहकर्मी का जीवन बचा सकते हैं।

 

अजय के साथियों को धीरे-धीरे अजय की मौत के बारे में पता लगाने लगा। कार्यस्थल में उनके सबसे करीबी दोस्तों को जब इसका पता चला तो वे हिल गए, और उनके लिए काम पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो गया। अफवाहें उड़नी शुरू हो गईं कि अजय ने आत्महत्या क्यों की; कुछ लोगों ने कहा कि वह कार्य तनाव के कारण था, जबकि कुछ अन्य ने कहा कि इसमें रिश्ते की समस्या थी। स्थिति नियंत्रण से बाहर होने तक प्रबंधन यह सुनिश्चित नहीं कर पा रहा था कि इससे कैसे निपटें।

(विशेषज्ञों की सहायता से इस काल्पनिक मामले का अध्ययन तैयार किया गया है, जिससे उन्हें वास्तविक जीवन की स्थिति में डालकर समस्या को समझाया जा सके।)  

एक कर्मचारी की आत्महत्या का संगठन में लहर (उतार-चढ़ाव) प्रभाव पड़ता ही है। उसकी मृत्यु उसके सहकर्मियों, प्रबंधकों, मानव संसाधन (एचआर) विभाग और संगठन के प्रबंधन को प्रभावित करती है। जिसके साथ मिलकर काम किया उसे खोने के दुःख से कर्मचारियों और प्रबंधन को निपटना होता है या अपराधबोध ("मैं मदद कर सकता था ..." या "केवल अगर"), दुख (एक मित्र को खोने का) और क्रोध (उन परिस्थितियों पर जिन्होंने आत्महत्या करवायी थी) का अनुभव हो सकता है।

जब ऐसा कहा जाता है कि व्यक्ति ने काम के कारणों से आत्महत्या की, तो उसका प्रभाव कई गुना बढ़ सकता है। सहकर्मी और टीम के सदस्यों को मुश्किल भावनाओं का सामना करना पड़ सकता है और यह उनके प्रदर्शन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। ज्यादातर समय, अप्राकृतिक मौत पर कई अफवाहें फैलती है और इस बारे में अटकलों लगाई जातीं हैं कि यह क्यों हुआ। ये सब कर्मचारी मनोबल और कंपनी की छवि को प्रभावित कर सकते हैं।

आत्महत्या पोस्टवेंशन क्या है?

आत्महत्या पोस्टवेंशन एक भावनात्मक सहारा है जो किसी ऐसे व्यक्ति को दिया जाता है जो आत्महत्या का शिकार रहा है। ज़्यादातर आत्महत्या पोस्टवेंशन कार्यक्रमों में मृतक के परिवार या दोस्तों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। आत्महत्या का व्यक्ति के सहकर्मियों पर बहुत बड़ा असर पड़ सकता है, चाहे जिस कारण से भी उस व्यक्ति द्वारा आत्महत्या की गई हो।

अपने कर्मचारियों को पोस्टवेंशन कार्यक्रम प्रदान करके, प्रबंधन शोक संतप्त कर्मचारियों को सहारा देने और अन्य होने वाली आत्महत्याओं को रोकता है; जो आत्महत्या से बचे हैं वे आत्महत्या का प्रयास करने के उच्च जोखिम पर होते हैं पोस्टवेंशन के लक्ष्य हैं:

  1. किसी कर्मचारी की मृत्यु के बारे में सटीक जानकारी प्रदान करें, और गलत सूचना या अफवाहों के नियंत्रण से बाहर जाने की आशंका से बचें।
  2. उन कर्मचारियों को सहायता प्रदान करें जो आत्महत्या से बच गए हैं, और उन्हें उनके संताप से निपटने में मदद करें। इससे संगठन को और आत्महत्याओं को रोकने में मदद करता है।
  3. आत्महत्या से जुड़े कलंक को संबोधित करें।
  4. कर्मचारी को सामान्य स्थिति में लौटने में मदद करना, जिससे वे अधिक स्वस्थ हों और अपनी जिम्मेदारियों के लिए वापस आने में सक्षम हो सकें।

इन लक्ष्यों के साथ, पोस्टवेंशन संगठन के आत्महत्या रोकथाम कार्यक्रम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन सकता है क्योंकि यह आगे होने वाली आत्महत्याओं को होने से रोकता है।

संस्था द्वारा पोस्टवेंशन योजनाओं को वास्तव में आत्महत्या होने से पहले रखा जाना चाहिए। संगठन का प्रबंधन और मानव संसाधन इकाई ऐसी कार्ययोजना बनाने के लिए मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों की टीम के साथ काम कर सकते हैं जो उन्हें किसी एक कर्मचारी द्वारा आत्महत्या (या आत्महत्या का प्रयास) के मामले में मार्गदर्शन कर सके कि ऐसे में क्या करना है। संगठन को इस कार्ययोजना का उपयोग करने की बहुत कम या कोई ज़रूरत नहीं हो सकती है; हालांकि, इसे तब भी लागू करना आवश्यक है, क्योंकि यह प्रबंधन और कर्मचारियों को बताता है कि आत्महत्या पर कैसे प्रतिक्रिया दी जाती है, और अपने कर्मचारियों को इस संताप से निपटने में मदद करता है।  

संकट पर प्रतिक्रिया देना

पोस्टवेंशन योजना के एक भाग के रूप में, संगठन की एक त्वरित प्रतिक्रिया टीम होती है जो संकट के समय प्रभार लेती है। इस टीम के सदस्यों (जो एचआर, प्रबंधन या अन्य विभागों से संबंधित हो सकते हैं) की स्पष्ट रूप से निर्दिष्ट भूमिकाएं और जिम्मेदारियां होती हैं, जो आत्महत्या की खबर मिलने के तुरंत बाद कार्रवाई करने में सक्षम करती हैं। उनके पास संकट के समय में पालन करने के लिए स्पष्ट रूप से प्रलेखित दिशानिर्देशों का सेट होता है। पोस्टवेंशन योजना में शामिल बिंदु हैं:

  • एक व्यक्ति की पहचान करना जो मृतक के परिवार वालों के साथ संवाद करेगा
  • ऐसे व्यक्ति की पहचान करना जो कि कर्मचारियों को जानकारी देगा, विशेष रूप से मृतक के करीबी दोस्तों या उसके दल के सदस्यों को बताएगा
  • ऐसे व्यक्ति की पहचान करना जो मीडिया के साथ संवाद करेगा, नीतियों के साथ कि क्या जानकारी साझा की जानी चाहिए
  • संगठन के अन्य सदस्यों के लिए उपलब्ध सहायता (एक अपना परामर्शदाता, या किसी अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर तक पहुंच) के बारे में जानकारी देने की एक योजना।

कर्मचारी की मृत्यु के बारे में संगठन परिवार के साथ परामर्श के बाद खबर साझा कर सकता है। बहुत बार, सामाजिक लांछन के कारण, परिवारवाले मौत का कारण प्रकट नहीं करना चाहते हैं। यदि ऐसा होता है, तो संगठन परिवार की इच्छाओं का अनुपालन कर सकता है। परिवार की वरीयता पर विचार करने के बाद कितना जानकारी साझा करने का निर्णय लिया जाता है।

विशेषज्ञों का सुझाव है कि आत्महत्या के बारे में जानकारी साझा करते समय, संगठन आत्महत्या पर रिपोर्ट करने के लिए डब्ल्यूएचओ के दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए।:

  • ऐसी भाषा से बचें जो आत्महत्या को सनसनीखेज बनाता है या यह इंगित करता है कि यह समस्याओं का समाधान हो सकता है
  • ऐसा वर्णन करने से बचें कि आत्महत्या का प्रयास या इसे पूरा कैसे किया गया
  • फोटो या वीडियो फुटेज का उपयोग करने से बचें
  • आत्महत्या से शोक संतप्त लोगों के लिए उचित विचार दिखाएं
  • आत्महत्या के बारे में संवेदीकरण का अवसर लें
  • जानकारी प्रदान करें कि कर्मचारी कहां मदद मांग सकते हैं 

विशेषज्ञों का सुझाव है कि मौत का ब्योरा करीबी परिवारवालों के अलावा किसी के साथ साझा नहीं किया जाना चाहिए, जब तक ऐसा करने का कोई ठोस कारण न हो। संवेदनशील जानकारी को रोकना परिवार की गोपनीयता की रक्षा में मदद करता है और अन्य व्यक्तियों की सुरक्षा सुनिश्चित करता है जो अपने सहयोगी की मृत्यु से प्रभावित हो सकते हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि ऐसी बातचीत करने से बचें जो कि किसी भी एक कारण या किसी पर अप्रत्यक्ष दोष लगाए कि उसको आत्महत्या तक ले जाने के लिए जिम्मेदार के रूप में देखा जा सकता है।  

कर्मचारियों के साथ बातचीत में, संगठन के लिए यह महत्वपूर्ण है कि इस बात पर ज़ोर दे कि आत्महत्या का लगभग कभी भी एक ही कारण नहीं होता है। यह एक दुखद और जटिल घटना है जो कई कारणों के संयोजन से होती है।

इस दुखद समाचार को साझा करने वाली किसी भी बातचीत में उन लोगों के लिए उपलब्ध समर्थन की जानकारी भी शामिल हो सकती है जो मृतक के करीब थे, और मौत से परेशान हो सकते हैं। संगठन ऐसे में अफवाहों को परोक्ष रूप से गोपनीयता के लिए परिवार की जरूरतों पर बल देते हुए संबोधित कर सकती है और कर्मचारियों को याद दिला सकती है कि आंतरिक या बाह्य संचार में कौन सी जानकारी देना सबसे अच्छा है, साथ ही सोशल मीडिया में क्या कहना है और क्या नहीं कहना है।

हानि पर शोक

एक बार व्यक्ति के सहकर्मियों और प्रबंधक के साथ जानकारी साझा हो गई, तो संगठन अपने कर्मचारियों को किसी भी अंतिम संस्कार या स्मारक सेवाओं में भाग लेने के लिए समय प्रदान कर सकता है। इससे अन्य कर्मचारियों को अपना दुःख व्यक्त करने का और अपने भावनात्मक संकट से निपटने का अवसर मिलता है। यह सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त सतर्कता रखनी चाहिए कि कर्मचारी की मौत के बारे में आधिकारिक वक्तव्य व्यक्ति को अपनी जान लेने के लिए कलंकित करने वाला न हो, या इस तथ्य को सनसनीखेज करे कि यह एक आत्महत्या थी। उस व्यक्ति के जीवन की सकारात्मकता के बारे में जागरूक होना चाहिए, और जिस तरह से उनका जीवन समाप्त हुआ। संगठन जीवन व्यतीत की त्रासदी के बारे में दूसरों से बात कर सकता है, जबकि ख्याल रखें कि मृतक के\ अपनी ज़िंदगी लेने पर राय कायम न करें।

संगठन का दृष्टिकोण जब संवेदनशील होता है, तो कर्मचारी अपने संकट से आसानी से निपटने में सक्षम होते हैं। इस चरण के दौरान, संगठन उन सह-श्रमिकों की भी पहचान कर सकता है जिन्हें परामर्श की आवश्यकता हो सकती है, और यह सुनिश्चित कर लेते हैं कि वे गोपनीयता और पूर्ण समर्थन के आश्वासन के जरिए पहुंचने के बारे में सुरक्षित महसूस करते है।

समर्थन देना

प्रतिक्रिया टीम सहायता प्रदान करके मृतक के सहकर्मियों और दोस्तों को मदद कर सकती है। छोटे समूहों में भेद्य कर्मचारियों (या अपने सहयोगी की हानि के कारण प्रभावितों) को संबोधित करते हुए, उनके नुकसान को स्वीकार करते हुए और उन्हें बताते हुए कि उनके लिए क्या समर्थन उपलब्ध है, संगठन एक स्पष्ट संदेश भेजता है कि वह कर्मचारियों कल्याण के बारे में चिंतित है और आत्महत्या के आसपास कलंक को नकारता है। 

यदि कर्मचारियों अंतिम संस्कार या स्मारक सेवा में भाग लेने के लिए समय दिया जाता है तो वे अपने नुकसान का बेहतर ढंग से सामना कर सकते हैं। प्रतिक्रिया टीम, उन कर्मचारियों की भी पहचान कर सकती है जिन्हें अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता है, और यह सुनिश्चित करने के लिए जांच करें कि वे विशिष्ट संकट में नहीं हैं।   

भलाई सुनिश्चित करना

संकटकाल निकल जाने के बाद आत्महत्या पोस्टवेंशन योजना को बनाए रखने से संगठन को अपने नियमित रुटीन पर लौटने में मदद मिल सकती है। हम सभी के लिए पीड़ा महसूस करने के अलग तरीके हैं; कुछ लोगों को सप्ताह लग सकते हैं, जबकि अन्य को महीनो लग सकते हैं। इस अवधि के दौरान, पोस्टवेंशन दल कर्मचारियों का अनुवर्तन कर सकता हैं ताकि वे नुकसान से निपटने के लिए अतिरिक्त समर्थन की आवश्यकता जाँच सकें।

अपने संगठन में पोस्टवेंशन मुद्दों को संबोधित करने के बारे में अधिक जानकारी के लिए, आप अपने कर्मचारी सहायता कार्यक्रम (ईएपी) प्रदाता से संपर्क कर सकते हैं। निमहैंस सेंटर फॉर वेलबीइंग एंड डिपार्टमेंट ऑफ क्लीनिकल साइकोलॉजी, कार्पोरेट कंपनियों के लिए मानसिक स्वास्थ्य, आत्महत्या पोस्टवेंशन और पोस्टवेंशन के मुद्दों पर के लिए कार्यशालाएं आयोजित की जाती हैं। उनसे  workshops.nimhans@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है।  

यह श्रृंखला व्हाइट स्वान फाउंडेशन द्वारा बनाई गई है, इसमें निमहैंस के जानपदिक रोग विज्ञान के विभागाध्यक्ष डॉ. गुरुराज गोपालकृष्ण, मनोचिकित्सा की प्रोफेसर डॉ. प्रभा चंद्रा, नैदानिक ​​मनोविज्ञान की अतिरिक्त प्रोफेसर डॉ. सीमा मेहरोत्रा, नैदानिक ​​मनोविज्ञान विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. पूर्णिमा भोला और मनोचिकित्सा के सहयोगी प्रोफेसर डॉ. सेंथिल कुमार रेड्डी से लिए गए आदानों को शामिल किया गया है। 

 

 

 

 

Was this helpful for you?