महिला देखभालकर्ताओं का बोझ कम करने में आप मदद कर सकते हैं

मेरे पिछले लेख में इस बात पर विशेष जोर दिया गया था कि देखभालकर्ता के रूप में भारी आनुपातिक अंतर महिलाओं पर बोझ डालता है। केयरर्स वर्ल्डवाइड के हमारे शोध में पाया गया कि देखभाल करने वालों में 84% हिस्सेदारी महिलाओं की है। दिव्यांग बच्चों की देखभाल करने की बात करें तो यह आंकड़ा 93% तक पहुंच जाता है।

महिलाओं पर देखभालकर्ता का बोझ कम करने के लिए, समाज के लिए यह जरूरी है कि इस भूमिका में से महिलाओं की हिस्सेदारी को कम कर पुरुषें की संख्या बढ़ाने के तरीके खोजे जाएं। इसके लिए सरकारी स्तर पर अभियान और नीतियां पेश करने की आवश्यकता है जो पुरुषों को देखभालकर्ता के रूप में मिलने वाली बदनामी को दूर करते हैं, और इस भूमिका को संभालने के लिए पुरुषों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाते हैं। हालाँकि, महिलाओं पर देखभाल के बोझ को कम करने के लिए एकमात्र तरीका केवल सामाजिक दृष्टिकोण में बदलाव नहीं है, आप भी अपनी परिचित महिला देखभालकर्ता का सहयोग कर सकते हैं। कई  सरल कार्य हैं जिन्हें आप अभी कर सकते हैं:

ध्यान से उनकी बात सुनना: देखभालकर्ताओं को अपनी भूमिका सावधानीपूर्वक निभाने के लिए जाना जाता है, अक्सर इस रोल से जुड़ी चिंताओं या परेशानियों को चेहरे पर दिखाए बिना वह वह काम करती रहती हैं। वास्तव में, कई देखभालकर्ता हैं, जो तनाव और चिंता से गुजर रहे होते हैं और ऐसे में कोई सहारा देने खड़ा हो तो उन्हें फायदा मिल सकता है। देखभालकर्ता आपसे यह उम्मीद नहीं करेगा कि उसका पूरा काम आप करें। वे सिर्फ इस बात पर आपके आभारी होंगे कि कोई ऐसा व्यक्ति है जो उनके बोझ को हल्का कर सकता है। अगली बार जब भी आप देखभालकर्ता के साथ हों, तो यह पता लगाएं कि वे वास्तव में कैसे हैं और अगर उनकी भूमिका के बारे में चिंता करने जैसी कोई बात है, तो उनसे बातचीत करें।

उन्हें थोड़ा आराम दें: जब भी संभव हो तो जिम्मेदारियों को बांटें। कई देखभालकर्ता दिनभर अपना पूरा समय देखभाल में ही लगे रहते हैं और खुद के लिए बहुत कम या थोड़ी भी राहत नहीं देते हैं। ऐसे देखभालकर्ता जिनके पास खुद के लिए समय नहीं है,  उन पर बीमारी की आंच आने का जोखिम रहता हैं। क्या आप ऐसी स्थिति में हैं जहां मुख्य देखभालकर्ता को एक बहुत जरूरी ब्रेक देने के लिए सप्ताह में कुछ घंटों के लिए आप देखभाल करने वाले की भूमिका में कदम रख सकते हैं। या क्या आप परिवार के अन्य सदस्यों के साथ उन तरीकों पर चर्चा कर सकते हैं, जिससे देखभालकर्ता की जिम्मेदारी को बांटा जा सके?

उनकी स्वास्थ्य जरूरतों के बारे में जागरूक रहें: देखभाल करने वाले खुद भी मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं से घिरे हो सकते हैं जो उनके देखभालकर्ता की ड्यूटी से संबंधित हो भी सकते हैं या नहीं भी। देखभालकर्ताओं के बीच यह आम बात देखी जाती है कि वे जिस व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, उसकी भलाई के लिए पूरी तरह से ध्यान केंद्रित कर देते हैं और अपनी व्यक्तिगत स्वास्थ्य समस्याओं को अनदेखा करते रहते हैं। आप देखभालकर्ता के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के बारे में पूछताछ कर सकते हैं और यदि ऐसा लगता है कि उन्हें उन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह लेने की आवश्यकता हो सकती है तो इसके लिए उन्हें प्रोत्साहित कर सकते हैं। यदि देखभाल करने वाले का स्वास्थ्य बिगड़ता है, तो यह उस व्यक्ति की तंदुरुस्ती को भी प्रभावित कर सकता है, जिसकी वे देखभाल करते हैं।

देखभालकर्ताओं को पारिवारिक और सामाजिक कार्यक्रमों में शामिल किया जाना सुनिश्चित करें, जिससे उन्हें अलग-थलग महसूस न हो। ऐसे कई काम हैं जो यह सुनिश्चित करने के लिए किए जा सकते हैं कि देखभाल करने वाला पारिवारिक और सामाजिक कार्यक्रमों में भाग ले सके। उदाहरण के तौर पर एक ऐसे स्थान पर आयोजित होने वाला पारिवारिक समारोह, जहां देखभालकर्ता और जिस व्यक्ति की देखभाल की जा रही है, उन दोनों के लिए उपयुक्त हैं। क्या ऐसा समारोह आयोजित किया जा सकता है जो देखभालकर्ता के घर पर किया जा सके, ताकि वे इसमें भाग ले सकें? वैकल्पिक रूप से, अगली बार जब कोई सामाजिक कार्यक्रम होता है, तो क्या परिवार का कोई अन्य सदस्य मरीज की देखभाल कर सकता है और प्राथमिक देखभालकर्ता को खुद से इस कार्यक्रम में भाग लेने का मौका दे सकता है?

ऊपर लिखे गए किसी भी सुझाव को अपनाने से आपके परिचित देखभालकर्ता के जीवन में सकारात्मक अंतर आ सकता है और देखभालकर्ता के रूप में महिलाओं के अनुपात को कम करने में मदद मिल सकती है। आप जो भी सुझाव दे सकें, मैं उसे प्रोत्साहित करूंगा।

डॉ अनिल पाटिल केयरर्स वर्ल्डवाइड के संस्थापक और कार्यकारी निदेशक हैं। केयरर्स वर्ल्डवाइड दुनिया भर में परिवार की अवैतनिक देखभाल करने वालों के मुद्दों पर प्रकाश डालता है और उन्हें निपटने में मदद करता है। यह संस्था वर्ष 2012  में स्थापित और यूके में पंजीकृत है, यह विशेष रूप से विकासशील देशों में देखभालकर्ताओं के साथ काम करता है। इस कॉलम में डॉ. पाटिल के साथ सह-लेखक रूथ पाटिल हैं, जो केयरर्स वर्ल्डवाइड के स्वयंसेवक हैं। अधिक जानकारी के लिए आप केयरर्स वर्ल्डवाइड लॉग ऑन कर सकते हैं। आप लेखकों को columns@whiteswanfoundation.org पर लिख सकते हैं।

की सिफारिश की