आत्महत्या के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

आत्महत्या के विचार क्या सामान्य हैं?

किसी के मन में आत्महत्या के विचार आना कोई असामान्य बात नहीं हैं और अधिकांश लोगों को कभी-कभी ऐसी भावना आती है, जिसमें सभी कुछ खत्म करने या हारकर थक जाने के बारे में भटकाव का अनुभव होता है। हालांकि, एक क्षणिक विचार किसी के भी दिमाग को पार कर सकता है, भले ही उन्हें कोई मानसिक स्वास्थ्य समस्या हो या नहीं। यह तब होता है जब इन विचारों की आवृत्ति, तीव्रता और यह किसी व्यक्ति के दैनिक जीवन में इतनी घुसपैठ बढ़ाते  हैं कि यह चिंता का कारण बन जाता है।

किन लोगों में आत्महत्या के विचार पैदा हो सकते हैं?

कोई भी व्यक्ति अपनी उम्र, व्यक्तित्व के लक्षणों, उपलब्धियों या सामाजिक स्थिति के बावजूद आत्महत्या के विचारों को मन में ला सकता है। कुछ कारक जैसे मानसिक बीमारी, हाशिए पर आ जाना और सामाजिक-सांस्कृतिक तनाव व्यक्ति को इसके जोखिम में ला सकते हैं। शोध से पता चलता है कि भारत में, 15-29 आयु वर्ग में आत्महत्या की दर सबसे ज्यादा है, इस आयु वर्ग की महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक कमजोर होती हैं। हालांकि यह भी कहा जाता है कि, ऐसा कोई भी आयु वर्ग नहीं है जो इन विचारों से मुक्त हो।

क्या आत्महत्या का मतलब है कि व्यक्ति को मानसिक बीमारी है/ थी?

आत्मघाती विचार वाले या आत्महत्या का प्रयास करने वाले सभी लोग मानसिक बीमारी से पीड़ित नहीं होते हैं और सभी मानसिक बीमारियां व्यक्ति को आत्महत्या करने के लिए कमजोर नहीं बनाती है। कई जैविक, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक कारक हैं जो किसी व्यक्ति को आत्महत्या के लिए कमजोर बना सकती हैं। आत्महत्या एक जटिल घटना है जो कई कारकों के संयोजन से होती है। मानसिक बीमारी उनमें से एक हो भी सकती है या नहीं भी।  आत्महत्या तीव्र भावनात्मक संकट का सूचक है, पर यह आवश्यक रूप से मानसिक बीमारी का संकेतक नहीं है।

क्या आत्महत्या का प्रयास,व्यक्ति की कमजोरी या परेशानियों से निपटने में उनकी असमर्थता का संकेत है?

एक आम धारणा है यह कि आत्महत्या व्यक्ति की कमजोरी या चुनौतियों का सामना करने में उनमें साहस की कमी का संकेत है। कोई भी व्यक्ति आसानी से आत्महत्या के विचारों का विकल्प नहीं चुनता है। जैविक, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक जैसे कई कारकों की अंतःक्रिया के कारण उनमें आत्महत्या के विचार पैदा हो सकते हैं। आत्महत्या के विचार आना आमतौर पर चरम संकट का एक लक्षण होते हैं और आदमी कितना भी मजबूत हो, इसके बावजूद वे उस पर हावी हो सकते हैं।

लेकिन वे मदद के लिए क्यों नहीं पहुंचते?

एक व्यक्ति जिसके मन में आत्महत्या के विचार हैं, उसमें अकेलापन, असहायता और निराशा का तीव्र अनुभव होने की संभावना है, इस वजह से उनके लिए मदद तलाशना मुश्किल हो जाता है। वे दूसरों द्वारा निर्णय लिए जाने से भी डर सकते हैं। वे प्रायः ऐसे व्यवहारों में शामिल होते हुए अपनी समस्याओं का सामना करने का प्रयास करते हैं जिनसे आसानी से पता नहीं चल पाता कि उन्हें मदद की जरूरत है - इन व्यवहारों में शामिल है अपने शौक से किनारा कर लेना, काम, परिवार या दोस्तों से दूरी बनाना, अचानक नशीले पदार्थों पर निर्भर होना या परिचित लोगों से बातचीत में गोलमोल जवाब देना। कुछ लोग अपने निकटतम लोगों से मेलजोल नही रखने का विकल्प भी चुन सकते हैं क्योंकि वे इस बारे में चिंतित रहते हैं कि वे इसे किस रूप में लेंगे, या इस डर से कि जिस व्यक्ति के पास वे पहुंचते हैं, वह उनकी परेशानी को समझ नहीं पाएंगे। आत्महत्या और मानसिक बीमारी से जुड़ी मौजूदा गलत धारणाएं और बदनामी के कारण इससे बाहर निकलना और मुश्किल हो सकता है।

क्या अवसादग्रस्त व्यक्ति के आत्महत्या करने का खतरा है?

अवसाद जैसे मनोविकार वाले लोगों में जैविक रूप से सामान्य लोगों की अपेक्षा आत्महत्या का खतरा ज्यादा हो सकता है। हालांकि, सामाजिक घटक भी मायने रखता है: यदि अवसादग्रस्त कोई व्यक्ति, जिसके पास एक प्रेमपूर्ण और सहायक परिवार होता है, और एक कार्यस्थल या सामुदायिक स्थान जहां उन्हें स्वीकृति और सहारा मिलता है, तो वे समय पर सहायता पाने और अपने भावनात्मक संकट से जूझने में सक्षम हो सकते हैं। मानसिक बीमारी (या इसके बिना) का अस्तित्व ही एकमात्र कारक नहीं है जो किसी व्यक्ति के जोखिम को निर्धारित करता है।

अगर कोई व्यक्ति खुद को नुकसान पहुंचा रहा है,तो क्या इसका मतलब है कि उसे आत्महत्या का खतरा है?

आत्महत्या के विचार वाले कुछ लोग खुद को नुकसान पहुंचा सकते हैं, लेकिन हर कोई जो खुद को नुकसान पहुंचाता है, वह खुद का जीवन खत्म करने के इरादे से ऐसा नहीं कर रहा है। डीएसएम -5 के नए वर्गीकरण, जिसे नोनसुसाइडल सेल्फ इंजेरी डिसऑर्डर (एनएसएसआई) कहा जाता है, उसे आज दुनिया भर में पहचाना जा रहा है। खुद को नुकसान पहुंचाना, खुद को खत्म करने के बजाए ज्यादातर मुकाबला तंत्र या एक विकृति के रूप में उपयोग किया जाता है। जो लोग स्वयं को नुकसान पहुंचाते हैं, वे अपने जीवन को समाप्त करने के प्रयास किए बिना महीनों या वर्षों तक खुद को नुकसान पहुंचाते रह सकते हैं। यह कहा जाता है कि, स्वयं को नुकसान पहुंचाना, आत्महत्या के लिए जोखिम कारकों में से एक हो सकता है, और इसकी बारीकी से निगरानी की जानी चाहिए।

क्या यह कहना ठीक है कि किसी ने आत्महत्या की है?

अंग्रेजी में, 'कमिट' शब्द का प्रयोग कानून के खिलाफ या नैतिकता के वर्तमान विचारों के संदर्भ में किया जाता है। आत्महत्या के संदर्भ में इस शब्द का उपयोग (कभी-कभी अनजाने में) घटना के मौजूदा कलंक और गलतफहमी को कायम रख सकता है। यह कलंक लोगों को सहायता की तलाश करने के बजाय आत्महत्या के जोखिम में रख सकता है। आत्महत्या के बारे में बात करते हुए इस अधिनियम में गलत करने की भावना का अर्थ नहीं है, जिससे इस कलंक को कम करने में मदद मिल सकती है। 'अपने जीवन को समाप्त करने का प्रयास किया', और 'अपनी जान खुद ले ली' या 'आत्महत्या से मौत हुई' अधिक दयालु वाक्यांश हैं, जिनका उपयोग किसी घटना का वर्णन करने के लिए किया जा सकता है।

नैदानिक मनोवैज्ञानिक डॉ दिव्य कण्णन,फोर्टिस हेल्थकेयर में सलाहकार नैदानिक मनोवैज्ञानिक कामना छिब्बरपरामर्श मनोवैज्ञानिक पारस शर्मा,द आल्टरनेटिव स्टोरी और शेरेज़ेड संचिता सायोभान,द टॉकिंग कम्पास में साइकोथेरेपिस्ट से इनपुट के साथ।