We use cookies to help you find the right information on mental health on our website. If you continue to use this site, you consent to our use of cookies.

आत्महत्या के संकेतों की पहचान

कोई व्यक्ति जो आत्महत्या करने के बारे में सोच रहा है उसमें संकट के कुछ संकेतों या सहन करते रहने का प्रदर्शन करने की संभावना है। इन संकेतों को समझें:

  1. अस्वाभाविक व्यवहार: वे अपने काम या शौक में अरुचि दिखा सकते हैं, अव्यवस्थित दिखाई दे सकते हैं, या अचानक अपने आप में ही अकेले बहुत अधिक समय बिता सकते हैं
  2. अपने स्वास्थ्य, स्वच्छता और स्वयं की देखभाल में अचानक कमी लाना।
  3. इस तरह की बातें करना जैसे  "जब मैं चला जाऊंगा, तब तुम्हें पता चलेगा" या "मेरी इच्छा है कि सब कुछ खत्म हो जाए"।
  4. मरने के दर्द रहित तरीकों के बारे में जानकारी खोजना, या मृत्यु के बाद क्या होता है इस बारे में प्रश्न पूछना शुरू कर देना।
  5. अपने प्रिय सामानों से दूरी बनाना, क्षमा मांगना, और / या लोगों को भावनात्मक रूप से अलविदा कहना।
  6. अप्रत्याशित रूप से असमय ही वसीयत तैयार करना, या लोगों को यह बताने लगना कि मेरे  मरने के बाद तुम्हें क्या-क्या मिलेगा। वे यह निर्देश भी दे सकते हैं कि मेरी मृत्यु के बाद तुम्हें किस प्रक्रिया का पालन करना होगा।
  7. खतरनाक व्यवहारों में अचानक वृद्धि कर देना, जैसे कि शराब पीने या खराब तरीके से गाड़ी चलाने में अचानक वृद्धि दिखाई देना।

ये संकेत व्यक्ति के भावनात्मक संकट की ओर इशारा करते हैं, भले ही वे आत्महत्या पर विचार कर रहे हों या नहीं। दोनों ही परिस्थितियों में, रोगी को सहारा और सहानुभूति जताने वाले व्यक्ति का समर्थन बहुत अच्छा हो सकता है। बातचीत शुरू करने से आपको यह समझने में मदद मिल सकती है कि व्यक्ति कैसा कर रहा है, और आप कैसे उसकी मदद कर सकते हैं।