आप शोषित हो रहे वृद्ध की सहायता कैसे कर सकते हैं?

शोषण की परिभाषा बेहद जटिल है, अनेक परिस्थितियां मिलकर शोषण जैसी स्थिति का निर्माण करती हैं (यहां पर पढ़िये)। बहरहाल आप क्या करेंगे यदि आपको ऎसी स्थिति में कोई व्यक्ति मिलता है यदि वह शोषित हो रहा हो? आप तब क्या करेंगे जब शोषणकर्ता परिवार का ही सदस्य हो या फिर वह व्यक्ति हो, जिसपर वृद्ध व्यक्ति आर्थिक रुप से निर्भर हो? वृद्ध व्यक्ति उन्हे शर्मिन्दा नही करना चाहता और मदद अस्वीकार करता है। ऎसे में कुछ चरण हैं जिन्हे आप अपना सकते हैं।

·         यदि शोषण जानलेवा हो, तब एक विकल्प होता है कि किसी वृद्ध संबंधी हैल्पलाईन पर संपर्क किया जाए अथवा व्यक्ति को अन्य परिवार के सदस्यों से संपर्क करने में मदद करना जो उसे ले जाना चाहे।

·         वृद्ध व्यक्ति को विश्वास में लें। कई बार वृद्ध व्यक्तियों के पास उनकी चिन्ताओं और विचारों को बांटने वाला कोई नही होता है। उनसे बातचीत संबंधी प्रोत्साहन के द्वारा उन्हे आप मान्सिक रुप से मदद कर सकते हैं साथ ही उन्हे स्वयं के बारे में बोलने के लिये भी शक्ति प्रदान कर सकते हैं।

·         कई बार देखभाल करने वाला व्यक्ति जागरुकता की कमी के चलते यह समझ नही पाते कि व्यक्ति को किस प्रकार का सहयोग चाहिये। देखभाल करने वाले व्यक्ति को इस संबंध में जानकारी दिये जाने पर यह संवाद की कमी खत्म हो सकती है।

·         कुछ स्थितियों में पारिवारिक उपचार भी मदद कर सकता है जैसे संवाद संबंधी समस्या में (अधिकांश स्थितियों में मानसिक शोषण खराब संवाद की स्थितियों के कारण होता है अथवा किसी बच्चे को इसी प्रकार की सोच के साथ बडा करने के कारण होती है।)

·         वृद्ध व्यक्ति को सहायता के लिये उन व्यक्तियों का समूह बनाना जो इसी अनुभव से गुज़र रहे हैं, इससे काफी मदद मिलती है।

यदि आपको कभी भी यह शक होता है कि किसी वृद्ध व्यक्ति को शोषित किया जा रहा है, तब आप वृद्धों की हैल्पलाईन पर नाईटेंगल मेडिकल ट्रस्ट पर 1090 डायल कर अथवा हैल्पेज इन्डिया की हैल्पलाईन 1800-180-1253 पर संपर्क कर सकते हैं।

 

Was this helpful for you?