चिकित्सा में अपने परिवार को शामिल करने से आपको निजी प्रगति में लाभ मिल सकता है

पारिवारिक थेरेपी पारस्परिक मुद्दों पर इकाई के काम के साथ-साथ आगे बढ़ने में मदद कर सकती है

शबरी भट्टाचार्य

परिवार और समाज से आपका मानसिक स्वास्थ्य और रिश्ते प्रभावित होते हैं- तो यदि वे आपकी सहायता नहीं करते हैं तो आप बेहतर कैसे महसूस कर सकते हैं? हम में से प्रत्येक अपने परिवार का एक सदस्य है-जो समाज की उप-इकाई है-और यह फैमिली सिस्टम बनाता है। जोड़ा और पारिवारिक थेरेपी का मानना है कि यदि यह फैमिली सिस्टम स्वस्थ है, तो परिवार के सभी सदस्यों में भी अच्छी तरह से सामंजस्य रहेगा।

हर कोई आम तौर पर इस बात से सहमत होता है कि परिवार ने उसके व्यक्तित्व को सकारात्मक या नकारात्मक तरीके से प्रभावित किया है। यदि आप एक स्वस्थ, सहायक परिवार के मूल (एफओओ) से आने वाले भाग्यशाली हैं, तो विचार यह है कि आप एक बेहतर समायोजित व्यक्ति  होंगे और भविष्य के आपके संबंध भी स्वस्थ और संतुलित होंगे। दुर्भाग्यवश, यदि आप एक परेशानी भरे बचपन और जटिल परिवार की पृष्ठभूमि से आते हैं तो यह अक्सर आपके भविष्य के रिश्तों पर स्थायी प्रभाव डाल सकता है।

प्रारंभिक तौर पर जो बात स्पष्ट नहीं है वो यह है कि व्यवहार और भावनाओं के उन पुराने पैटर्न को बदल पाना कितना मुश्किल है जिनसे हम घिर सकते हैं। हम एक केस का उदाहरण देते हुए इनमें से कुछ चुनौतियों को उजागर कर सकते हैं:

 

रमेश नाम का एक क्लायंट हमेशा थका हुआ रहने की शिकायत लेकर परामर्श के लिए आया। उसे संदेह है कि वह अवसादग्रस्त हो सकता है। वह किसी चिकित्सक से बात करना चाहता था। थेरेपी रूम में आगे की पूछताछ के बाद, पता चला कि रमेश की हाल ही में शादी हुई है और नई दुल्हन और वह अपने माता-पिता और भाई के साथ संयुक्त परिवार में रह रहे हैं। रमेश परिवार का सबसे बड़ा बच्चा था और परिवार के प्रति अपनी पूरी जिम्मेदारी महसूस करता था, आवश्यकतानुसार अपने परिवार को आर्थिक रूप से मदद कर रहा था। उसकी मां रमेश का विशेष ध्यान रखती थी और उसका पसंदीदा भोजन पकाती थी, जबकि रमेश के पिता और छोटे भाई को ऐसी सुविधा नहीं मिल पाती थी। रमेश की मां बेटे से पति और अपने बीच की समस्याओं के बारे में बात करती थी और रमेश भी अपनी मां से निकट होने पर खुश रहता था। शादी के बारे में रमेश की सोच यह थी कि पत्नी के रूप में उसे एक ऐसी साथी मिलेगी जो उसे अपने परिवार की जिम्मेदारी में मदद करेगी और उसकी मां की सेवा करेगी।

 

शादी के बाद, चीजें असहज हो गईं। हालांकि हनीमून मजेदार था, लेकिन घर में कुछ मामूली टकराव थे। पूछताछ के दौरान रमेश ने बताया कि उसकी पत्नी घर पर हमेशा उसके पसंदीदा भोजन पकाए जाने के बारे में व्यंग्यात्मक टिप्पणियां किया करती है और काम के बाद अपनी मां से बात करने में कितना समय बिताया इसे लेकर सवाल उठाया करती है। रमेश अपनी मां के साथ पर्याप्त समय न बिता पाने के बारे में खुद को दोषी महसूस करता है, जबकि उसकी मां ने सीधे तौर पर कभी भी कुछ ऐसा नहीं कहा। रमेश का सोचना है कि उसकी मां को उसकी और ज्यादा जरूरत है। अगर वह खुद अपनी मां के लिए नहीं होगा, तो कौन होगा?

 

इन स्थितियों के कारण रमेश की शादीशुदा जिंदगी में टकराव होने लगा- घर में किसी तरह की शांति नहीं थी। उसकी पत्नी उसे छोड़कर अपने माता-पिता के पास वापस जाने की धमकी दे रही थी- और यदि ऐसा हुआ तो लोग क्या सोचेंगे? इस बीच शादी और हनीमून के लिए छुट्टी लेने के बाद नौकरी पर भी स्थितियां तनावपूर्ण थीं। वह वहां पर भी पर्याप्त समय नहीं दे पाने के बारे में दोषी महसूस कर रहा था।

 

रमेश के परिप्रेक्ष्य से, वह हर किसी को खुश रखने के लिए वो सब कर रहा है जो वह कर सकता है, लेकिन फिर भी कोई खुश नहीं है। उसका मानना था कि इस तरह के मुद्दे उठना ही नहीं चाहिए और जहां तक संभव है वह 'सही' करता है, तो चीजों को अपनी तरह काम करना चाहिए। दुर्भाग्यवश, व्यक्ति  परामर्श के लिए तब आते हैं, जब अक्सर घर पर टकराव की स्थिति बनी होती है। चिकित्सक रमेश के साथ इस दिशा में काम कर सकता था और उसे कुछ पैटर्न देखने में मदद करता: वह 'सही चीज़' करने की कोशिश कर रहा है, तब भी वह अक्सर खुद को दोषी ठहराता है। वह घर में अपने माता-पिता के लिए, पत्नी के प्रति और काम पर अपनी भूमिका को लेकर जिम्मेदार महसूस करता है। दूसरे लोग उसके परिवार के बारे में क्या सोचते हैं, वह उस सामाजिक दबाव को भी महसूस करता है। 

 

व्यक्तिगत चिकित्सा के साथ समस्या यह है कि इसमें घर में रहने वाले परिवार के लोग शामिल नहीं होते हैं, जिससे ये समस्याएं स्थाई बनी रह सकती हैं। जब रमेश अपनी पत्नी के बजाय अपनी मां के साथ समय बिताता है, तो वह अकेली या ईर्ष्या की भावना महसूस कर रही है। उन भावनाओं को व्यक्त  करने के बजाय वह कटाक्ष या क्रोध से अपनी प्रतिक्रिया दे सकती है, जो रमेश के मामले में अधिक क्रोध या अपराधबोध पैदा कर सकती है। परामर्श के बाद भी, रमेश को अभी भी अपने परिवार के पास घर जाना है, जो उसे अच्छी तरह से प्रतिक्रिया नहीं दे सकते, क्योंकि उन्हें इस तथ्य का पता नहीं होता कि रमेश बदल गया है और चीजों के बारे में अलग तरह से सोच सकता है।

 

परिवार या जोड़ों के चिकित्सक इन मुद्दों को एक अलग परिप्रेक्ष्य से देखते हैं। इस उदाहरण में, रमेश के माता-पिता और उनके बीच के रिश्ते और परिवार में यह कैसे निभाए जाते हैं, यह देखकर इस परिवार की मदद की जा सकती है। यह तब तक ठीक था जब बेटे छोटे थे, लेकिन अब वे वयस्क हैं, क्या अब भी उनसे पहले की ही तरह अपने माता-पिता की जरूरतों को पूरा करने की उम्मीद की जा सकती है? परिवार इस विकास को समायोजित करने में सक्षम नहीं है। रमेश और उनके भाई दोनों से पूछा जा सकता है कि परिवार के चलते रहने के लिए इस स्थिति के बारे में वे कैसा महसूस करते हैं। सिर्फ इसलिए कि उसके भाई को उस तरह के टकराव का सामना नहीं करना पड़ता है, इसका मतलब यह नहीं है कि वह प्रभावित नहीं है। पारिवारिक चिकित्सा, अपराधबोध जैसी भावनाओं के लिए एक उद्देश्य प्रदान करती हैं। इस मामले में अपराधबोध और परेशानी रमेश का संकेतक हो सकती हैं कि पूरे परिवार के साथ यह सब अच्छा नहीं चल रहा है। रमेश और उसकी पत्नी एक दूसरे से निकटता बढ़ाने के लिए आपसी बातचीत में सुधार कर सकते थे।

 

इस तरह, फैमिली थेरेपी रमेश के अपराधबोध और अवसादग्रस्त भावनाओं के मूल कारण को ठीक करने में मदद कर सकती है। हालांकि चीजें उसके जीवन में आए महत्वपूर्ण बदलाव (उसकी शादी) से पहले ठीक काम कर रही थीं, बाद में धीरे-धीरे समस्याएं पैदा होने लगीं। परिवार अक्सर परिस्थितियों के जवाब में आवश्यकतानुसार अनुकूलन और परिवर्तन करने में सक्षम नहीं होते हैं, और इसलिए दर्दनाक परिस्थितियों में फंस जाते हैं। फैमिली थेरेपी इन मुद्दों से निपटने का और अधिक प्रभावी तरीका हो सकता है।

 

फैमिली थेरेपी का उपयोग कर समस्याओं को हल करने के लिए पश्चिमी देशों में इसे आंदोलन की तरह चलाया जा रहा है। विशेष रूप से जोखिम वाले बच्चों और किशोरों के बारे में हस्तक्षेप एक परिवारिक माहौल में आयोजित किए जाते हैं, इस उम्मीद के साथ कि यह समस्या पैदा करने वाली प्रणाली का ध्यान तुरंत खींचेगा। विदेशों में रोजगार सहायता कार्यक्रम (ईएपी) भी जोड़ों के साथ बैठक इस उम्मीद से प्रोत्साहित किया जाता है कि व्यक्ति की समस्याओं पर कुशलता से चर्चा की जा सके। हमारे परिप्रेक्ष्य से लगभग हर समस्या को एक प्रणालीगत मुद्दे के रूप में देखा जा सकता है जिसे उस परिप्रेक्ष्य से सबसे अच्छी तरह समझा जा सकता है। भारत में हम विदेशों की तुलना में अपने परिवारों और समुदायों से भी अधिक जुड़े हुए रहते हैं। हालांकि इसमें सहारा मिलने जैसे लाभ हैं, अगर सिस्टम इसे अनुकूलित करने और बदलने में सक्षम नहीं है, तो अन्यथा की तुलना में अधिक परेशानी हो सकती है। जोड़ों और फैमिली थेरेपी इसे समग्र परिप्रेक्ष्य से संबोधित करती हैं।

यहां प्रस्तुत दृष्टांत सिर्फ शब्द चित्रण के उद्देश्य के लिए उपयोग किया गया है और यह वास्तविक ग्राहकों का प्रतिनिधित्व नहीं करता है।

शबरी भट्टाचार्य परिवर्तन काउंसलिंग ट्रेनिंग एंड रिसर्च सेंटरकी परामर्शदाता और प्रशिक्षक हैं।