मीडिया द्वारा मानसिक बीमारी और हिंसा संबंधी रिपोर्टिंग में संवेदनशीलता दिखाई जानी चाहिये

किसी भी हिंसा संबंधी रिपोर्टिंग करना, खासकर तब जब उसमें कोई मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित व्यक्ति शामिल हो, वाकई चुनौतीपूर्ण हो सकता है। पिछले सप्ताह, एक व्यक्ति, जिसे मानसिक अस्पताल में चिकित्सा दी जा रही थी, वह एक गोलीबारी के घटना में शामिल माना गया। इसे अखबारों और टेलीविजन चैनलों में पूरे देश में बड़े पैमाने पर दिखाया गया। चूंकि कुछ रिपोर्ट्स में यह अनुमान लगाया गया है कि मानसिक स्वास्थ्य संबंधी मुद्दा किस प्रकार का होगा और दूसरों द्वारा सनसनी के तरीके से उस दृश्य को बताया गया जिसे उन्होंने देखा भी नही था। गलत रिपोर्टिंग करने से, गलत प्रकार की धारणा जनता के मन में उत्पन्न होत है जो कि मानसिक बीमारी और हिंसा के आपस में जुड़े होने जैसी सोच को बढावा देता है, और उससे लड़ाई कमज़ोर पड़ जाती है। व्हाईट स्वान फाउन्डेशन को निमहांस के मनोरोग विभाग के असोसियेट प्रोफेसर डॉ सेन्थिल कुमार रेड्डी ने मानसिक बीमारी के रिपोर्टिंग हेतु प्रमुख निर्देशों की जानकारी दी।

किस प्रकार से हिंसा की रिपोर्टिंग में मानसिक बीमारी को लेकर संवेदनशीलता बरतनी चाहिये?

जब भी कभी मानसिक बीमारी से संबंधी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं होती हैं और इसमें मरीज शामिल होती हैं, तब इसके रिपोर्टिंग के तथ्यों में इस बिन्दु को प्रमुखता से छापा जाता है, अथवा गलत तथ्यों के साथ रिपोर्टिंग की जाती है जिसमें मानसिक बीमारी से संबंधित हिंसा या आत्महत्या को लेकर सनसनी फैलाई जाती है। इस घटना की स्थिति में यह सलाह दी जाती है कि वास्तविक जानकारी के साथ सामान्य घटना के रुप में ही इसकी रिपोर्टिंग की जाए। घटना को किसी खास तथ्य के साथ प्रमुखता से सामने नही लाया जाना चाहिये।

इस प्रकार की स्थितियों में मीडिया अधिक संवेदनशील कैसे हो सकता है और इसकी रिपोर्टिंग में हौव्वा बनाने से कैसे बचा जा सकता है?

यह महत्वपूर्ण है कि घटना से संबंधित कुछ जानकारी को हटा दिया जाए, इसमें कुछ स्थितियां जो कि अभी स्पष्ट नही है, उन्हे लेकर मनगढंत तथ्य नही बताए जाने चाहिये। सही रिपोर्टिंग करने की आवश्यक्ता होती है: जिस परिस्थिति में घटना हुई है, यह बताएं कि उसमें किसी को चोट लगी है या नही। इसका उपयोग लोगों को यह जागरुकता देने में हो सकता है कि हिंसा में मानसिक अस्थिरता का कारण उतना प्रखर नही है और इसके स्थान पर कुछ अन्य कारण हो सकते हैं। वे इस संबंध में जो गलत अवधारणा है, उसे दूर करने के लिये किसी प्रकार के साहित्य का सहारा भी ले सकते हैं जिसमें मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति और उनकी हिंसात्मक गतिविधियों को लेकर जानकारी दी गई हो।

मानसिक बीमारी से संबंधित व्यक्तियों पर गलत रिपोर्टिंग का क्या प्रभाव होता है?

अक्सर, एक कोई घटना की गलत रिपोर्टिंग हो जाने पर उससे संबंधित हौव्वा लोगों में फैल जाता है और यह संदेश लोगों तक जाता है कि मानसिक रुप से बीमार हर व्यक्ति गंभीर हिंसा कर सकते हैं और उनकी मानसिक विकलांगता ही इसके लिये जिम्मेदार होती है। अनेक लोग जो समुदाय में मानसिक मंदता के शिकार हैं, उन्हे लोगों की इस सोच के कारण पीडित होना पड़ता है। इस प्रकार की रिपोर्ट सामने आने के बाद सामुदायिक स्वरुप में इन पीडितों को नकारात्मकता का सामना करना पड़ता है।

ऐसी मान्यता है कि मानसिक बीमारी वाले लोग स्वभाव से अधिक हिंसक होते हैं जब उनकी तुलना ऐसे लोगों से की जाती है जिन्हें कोई मानसिक बीमारी नहीं है। क्या ये सच है?

सच्चाई इस धारणा से वास्तव में बहुत अलग है, और मैं ऐसा उन उद्देश्यपूर्ण साक्ष्यों और अध्ययनों के आधार पर कह रहा हूँ जो संचालित किये गये हैं। ये अध्ययन पूरे विश्व में किए गए हैं। मानसिक बीमारी वाले लोगों की आबादी के भीतर, केवल एक छोटा प्रतिशत ऐसा है जो हिंसक है, और ये संख्या पाँच से 15 प्रतिशत तक हो सकता है। इसका अर्थ है कि मानसिक बीमारी वाले सौ लोगों में से केवल पाँच- या अधिकतम पन्द्रह हैं- जिनके हिंसक होने की संभावना है, या जिन्होंने इस हिंसा का प्रदर्शन किया है। इस हिंसा के पीड़ित हिंसक व्यक्ति के परिवार के सदस्य होते हैं, अज्ञात लोग नहीं। हिंसा के कारण भी मानसिक बीमारी से सीधे संबंधित नहीं हैं; वे पारस्परिक संबंधों जैसे मुद्दों के कारण होते हैं। ऐसे अन्य अध्ययन हुए हैं जिन्होंने हिंसक अपराधों के लिए दोषी ठहराए गए लोगों के एक समुदाय को देखा है। यह लगातार दिखाया गया है कि सभी अपराधों में से सिर्फ चार प्रतिशत ऐसे हैं जो मानसिक रूप से बीमार व्यक्तियों के कारण होते हैं। इसलिए अन्य 96 प्रतिशत अपराध उन लोगों द्वारा किए जाते हैं जो मानसिक रोगी नहीं हैं। हिंसक अपराध करने वाले अधिकांश लोग मानसिक रूप से बीमार नहीं हैं। मानसिक बीमारी वाले लोग आबादी के बाकी हिस्सों की तुलना में अधिक हिंसक नहीं हैं, और मानसिक बीमारी हिंसा का प्रत्यक्ष जोखिम प्रदान नहीं करते हैं, विशेष रूप से दूसरों के लिए गंभीर हिंसा।

आपने कहा कि एक मानसिक बीमारी, एक व्यक्ति को स्वयं ही हिंसक नहीं बनाती है। किसी मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति के हिंसा का कृत्य करने का क्या कारण हो सकता है?

ऐसे अध्ययन हुए हैं जिन्होंने ऐसी बीमारियों वाले लोगों को दिखाया है, जिनमें से ऐसे व्यक्ति थे जो हिंसक थे, और जो हिंसक नहीं थे। कुछ लोग हिंसक नहीं हैं और अन्य लोग हैं। कुछ कारक जो ऐसे व्यक्तियों में मौजूद हैं जो हिंसक हो गए, और एक ही समुदाय में भी उनके व्यवहार को बढ़ा सकते हैं:

1.    शराब और ड्रग्स या नशा का दुरुपयोग: बड़े समुदाय में अधिकांश लोग जो दवाओं के आदी होते हैं या जिनका दुरुपयोग का इतिहास है वे अधिक हिंसक होते हैं।

2.    कुछ व्यक्तित्व विशेषताओं की उपस्थिति जैसे आक्रामकता, उग्रता, कमजोर शिक्षा, गरीबी और निम्न सामाजिक-आर्थिक स्थिति ।

ये कारक हैं जो किसी भी व्यक्ति पर हिंसा का खतरा डालते हैं, भले ही उन्हें मानसिक बीमारी हो या न हो। तो स्पष्ट है, यदि ये कारक किसी मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति में मौजूद हैं, तो उनके उस व्यक्ति की तुलना में अधिक हिंसक होने की संभावना है जो उसी बीमारी से पीड़ित होता है लेकिन उसमें ये जोखिम कारक नहीं होते हैं।

मानसिक बीमारी के बारे में बोलते समय आप मीडिया को कौन सी भाषा का उपयोग करने की अनुशंसा करेंगे?

'मानसिक रूप से बीमार' जैसे शब्दों का उपयोग करने के बजाय इसकी चिकित्सा पद द्वारा विकार का उल्लेख करना बेहतर है। 'मानसिक रूप से बीमार' पद का उपयोग उन सभी लोगों को व्यक्त करता है जिन्हें किसी तरह की मानसिक बीमारी है। केवल कुछ प्रकार की बीमारियाँ हैं जो हिंसा की उच्च समानता को व्यक्त करती हैं। गंभीर अवसाद या चिंता विकार वाला कोई व्यक्ति वास्तव में उनकी बीमारी के माध्यम से हिंसक नहीं होता है। यहाँ तक कि जिन लोगों को सिजोफ्रेनिया है, वे स्वयं हिंसा के शिकार होने की संभावना रखते हैं, और अपराधियों की नहीं। सिजोफ्रेनिया के लोगों पर समुदाय द्वारा हमला किया जाता है।

एक ही हिंसा कई संदर्भों में घटित होती है। मीडिया आमतौर पर हिंसा की उन घटनाओं को कवर नहीं करती है जो कि इस तरह के व्यापक विस्तार में मानसिक बीमारी से जुड़े नहीं होते हैं। जब सनसनीखेज होता है, तो इस बात का अधिक अवसर है कि रिपोर्ट की गई घटना की नकल की जा सकती है, या कोई उत्पीड़न है। यह उत्पीड़न सिर्फ मानसिक बीमारी वाले लोगों तक सीमित नहीं है - उनके परिवार और दोस्तों को जुड़ाव द्वारा कलंकित किया जा सकता है।

हिंसा और मानसिक बीमारी के बारे में रिपोर्ट करने पर दिशानिर्देश

विशेषज्ञ मानसिक रोग से पीड़ित लोगों के मामलों पर रिपोर्ट करने वाले मीडियाकर्मियों के लिए निम्न अनुशंसाओं का प्रस्ताव देते हैं:

 क्या करें

क्या न करें

  • विकार के नाम का उल्लेख इसके चिकित्सीय पद द्वारा करें
  • आंतरिक पृष्ठों में कहानी प्रकाशित करें
  • उद्देश्य, तथ्यात्मक जानकारी प्रदान करें, कोई विशेषण नहीं
  • यदि व्यक्ति की बीमारी का उल्लेख करना बिल्कुल जरूरी है, तो 'सिजोफ्रेनिया वाला व्यक्ति' या 'बायपोलर डिसऑर्डर वाला व्यक्ति' जैसे पदों का प्रयोग करें
  • विकार के बारे में सही जानकारी साझा करें, और मिथकों और तथ्यों की व्याख्या करें।
  • व्यापक पदों जैसे "मानसिक रूप से बीमार", "मानसिक रूप से अस्थिर" या "मानसिक रूप से मंद" का उपयोग करें
  • पृष्ठ 1 की कहानी का उपयोग करें। इसे अनुचित महत्व देने से बचें
  • हिंसा के कारण होने के नाते मानसिक बीमारी का उल्लेख करें
  • घटना की अटकलें लगाएँ या फिर से चलाएँ या विशिष्ट जानकारी प्रदान करें
  • लेबल का प्रयोग करें जैसे मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति, पागल, सनकी, शराबी, आदि। यह व्यक्ति को उनके विकार से परिभाषित करता है।

 

की सिफारिश की