We use cookies to help you find the right information on mental health on our website. If you continue to use this site, you consent to our use of cookies.

क्या आपके पाचन तंत्र और आपकी भावनाओं के बीच कोई संबंध है?

मैं हमेशा एक दुखी प्रकार की व्यक्ति  रही हूं, ज्यादा सोचने और चिंता की ओर उन्मुख। दोस्त मुझे निराशावादी और चिड़चिड़ा कहा करते थे। मुझे निराशा,  चिड़चिड़ापन और कभी-कभी अनुचित रूप से गुस्सा आता, और फिर इसके बारे मैंने खुद को दोषी भी माना, जिसने निस्संदेह मेरी मनोदशा में कोई सुधार नहीं किया।

मुझे यह जानने में एक लंबा समय लगा कि यह केवल चिंता और अवसाद का मेरा शारीरिक चक्र था।

मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे के लिए मैं शरीर को क्यों कहूं? क्योंकि पिछले कुछ सालों से मैंने यह सीखा कि जो कुछ मैंे सोचती थी वह बहुत कुछ मानसिक और भावनात्मक था, जो वास्तव में भोजन के पाचन की रासायनिक प्रतिक्रियाओं की वजह से शुरू हुआ था।

मेरी उम्र के तीसवें दशक में ही मुझे पता चल सका कि मैं आम खाद्य सामग्री की एक बड़ी श्रृंखला (गेहूं, डेयरी, अंडे, चॉकलेट और कुछ अन्य चीजें, कुछ सब्जियां सहित जड़ी-बूटियों और मसालों) के प्रति असहनशील हूं। इनमें से किसी भी भोजन को खाने से मुझे सप्ताहभर तक आलस्य से लेकर सुबह उठने में बीमार सा महसूस होता था। यह पता लगाने में और भी अधिक समय लगा कि इन खाद्य पदार्थों से प्रत्यक्ष भावनात्मक प्रतिक्रिया भी उत्पन्ना होती थी।

नियमबद्ध तरीके से आहार लेने के बाद मुझे स्वस्थ महसूस होने लगा और फिर से ऊर्जावान और खुशी महसूस हुई। मैंने अपनी सुधरी हुई मनोदशा के लिए बेहतर शारीरिक स्वास्थ्य को जिम्मेदार माना। मैं बेहतर महसूस कर रही थी। मुझे अच्छी नींद आती थी, मुझमें काम करने, पार्टी, यात्रा और उन सभी चीजों के लिए ऊर्जा थी, जिनका 'सामान्य' लोग इतनी आसानी से आनंद लेते थे; बेशक मैं पहले से ज्यादा खुश थी।

मैं क्या खा रही हूं, इसके बारे में लगातार सतर्क रहने के भावनात्मक और शारीरिक श्रम से यह खुशी धीरे-धीरे कम हो गई थी। वह भोजन जिसे मेरा शरीर पचा पाने में कठिनाई महसूस करता है उसकी सूची लंबी है। अपने मुंह में डाले जा रहे हर निवाले के हर घटक के बारे में जानना मुश्किल है - यहां तक कि असंभव भी, जब मैं बाहर खाती हूं या एक 'सामान्य' जीवन जीती हूं, जिसमें सामूहिक रूप से रेस्तरां, आयोजन और पार्टियां शामिल हैं।

लेकिन बाद में कई प्रतिकूल खाद्य प्रतिक्रियाओं के बाद मुझे संदेह हुआ कि इनके पीछे एक मजबूत कारण था: कुछ खाद्य पदार्थ मेरी घबराहट बढ़ाते हैं, यही चिंता, खुद एलर्जी की प्रतिक्रिया की तरह दिखती है।

विज्ञान ने अभी तक इस बात को सिद्ध नहीं किया है, लेकिन हालिया अनुसंधान में इस बात का संकेत है। दो साल पहले न्यूयार्क टाइम्स की एक रिपोर्ट में नए अनुसंधान का उल्लेख किया गया है जो बताता है कि "आंत के रोगाणु, मस्तिष्क में संदेशों को प्रसारित करने वाले कुछ न्यूरोकेमिकल्स जैसे ही रसायनों का उपयोग कर तंत्रिका तंत्र एवं पेट तक संवाद पहुंचाते हैं" और "पेट के सूक्ष्म जीव" किसी भी तरह से उन जटिल मस्तिष्क संरचनाओं से संवाद कर सकते हैं- जिन्हें चिंता जैसी प्राथमिक भावनाओं के लिए जिम्मेदार माना जाता है।" अनुसंधान ने यह भी पाया है कि " अवसादग्रस्त रोगियों में इस तरह के बैक्टीरिया से सम्बंधित होने की  संभावना ज्यादा थी।" 

परिणाम: "विशिष्ट मनोवैज्ञानिक रोगों का इलाज करने के लिए प्रोबायोटिक बैक्टीरिया तैयार किया जा सकता है।" और जब तक कि इस तरह के उपचार की पहुंच का रास्ता संभवत: हमारे लिए बंद है, तो यह जानते हुए कि इस तरह के मूड का क्या कारण है, और सही खाद्य पदार्थ हमें बेहतर महसूस करा सकते हैं- यह न सिर्फ शारीरिक रूप से, बल्कि भावनात्मक रूप से जीवन बदलने वाला हो सकता है।

क्या यह सिर्फ मेरे साथ ही हुआ था, यह जानने की उत्सुकता में, मैंने उन कुछ अन्य लोगों से बात की, जिन्होंने अपना स्वास्थ्य बेहतर बनाने के लिए अपना आहार बदल दिया है। दिल्ली में रह रही 32 वर्षीय पत्रकार अदिति माल्या कहती हैं, "मैंने देखा है कि लसलसे पदार्थ, शक्कर वाला दूध और खमीर मुझे सुस्त बनाते हैं, और इन वस्तुओं को कुछ दिन खाने से मेरा मिजाज गड़बड़ाने लग जाता है। अगर मैं एलर्जी पैदा करने वाले इन पदार्थों का सेवन करती हूं तो मुझे चिड़चिड़ापन और कमजोरी महसूस होती है।"

नाओमी बार्टन, 25 वर्षीय प्रकाशन उद्योग पेशेवर, जो दिल्ली में भी रहती है और लसलसे पदार्थों के प्रति संवेदनशील हैं, वह ग्लूटेन के सेवन से सीधे मानसिक स्वास्थ्य पर किसी तरह की प्रतिक्रिया से इन्कार करती हैं। हालांकि, वह कहती हैं, "जब मेरा पेट खराब हो जाता है, तब मैं ध्यान में कमी, थकान एवं आम तौर पर बेजान या भावुकमहसूस करती हूं।"

हम में से वो, जिन्हें कुछ खाद्य पदार्थ इस तरह प्रभावित करते हैं - उन्हें यह ध्यान में रखते हुए कि हर शरीर अलग है और उनकी अलग-अलग जरूरतें हैं- अपने आहार को प्रबंधित कर लेने से मानसिक स्वास्थ्य में नाटकीय रूप से सुधार हो सकता है।

मेरे लिए, यह मैंने कभी नहीं सोचा था जो मुझे मिल गया: शांति। जब मैं ठीक होती हूँ, मैं वास्तव में खुश रहती हूं, आसानी से चिढ़ने के लिए नहीं, बल्कि दया और धैर्य के साथ प्रतिक्रिया करने के लिए।

मैं अभी भी बार-बार अस्वस्थ हो जाती हूं, हालांकि मेरी निरंतर सतर्कता सुनिश्चित करती है कि कोई भी खाद्य प्रतिक्रियाएं हल्की और कभी-कभार होती हैं लेकिन अब मुझे पता है कि चिंता की कोई बात नहीं है, यह किसी हव्वे से कम ही लगता है। मैं इस पर हंसने का प्रयास कर सकती हूं और कह सकती हूं, कि सचमुच, यह सिर्फ मेरा पेट ही है।

जब मुझे भावुकता में अनावश्यक प्रतिक्रियाएं होती हैं - छोटी-छोटी बात को लेकर चिंता, अपने साथी पर भड़कना, कोई फिल्म देखते हुए रोना - तो मैं तुरंत पहचान जाती हूं कि यह एक लक्षण है। इसका मतलब है कि मैं पीएमएस (प्रीमेन्स्ट्रुयल सिंड्रोम) या खाद्य प्रतिक्रिया से गुजर रही हूं। बाहरी घटनाओं के लिए यह एक व्यक्तित्व दोष या उचित प्रतिक्रिया नहीं है। मैं इसके गुजर जाने का इंतजार करूंगी और अपने निर्णयों को प्रभावित नहीं होने दूंगी, या उन दिनों में जब चिंता बहुत ज्यादा होती है और मेरे शरीर को कंपकंपाती है, तो मैं अपने आप पर दया करूँगी, इसे सामान्य रूप में लूंगी और ऐसी चीजें करूंगी, जो इससे मेरा ध्यान हटाए और मुझे बल प्रदान करे।

उन्मना मुंबई में रहती है और इसे प्यार करती हैं। वह उपन्यास और कथाएं लिखती हैं,मार्केटिंग में काम करती हैं,और रंगों और संगीत के साथ-साथ शब्दों,से खेलना सीख रही हैं।