जब किसी प्रियजन की मानसिक बीमारी का निदान होता है

पुरानी या प्रगतिशील मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति की देखभाल करना एक कठिन जिम्मेदारी है। देखभालकर्ता कई भूमिका निभाता है जिसमें दिन-प्रति-दिन देखभाल, दवाओं की निगरानी, ​​रोगी को अस्पताल ले जाना, उनके खाने का ध्यान करना और उनकी आर्थिक जरूरतों का ध्यान करना शामिल है। देखभालकर्ता को भी रोगी के व्यवहार में बदलाव का सामना करना पड़ता है। यह सब देखभालकर्ता के लिए बहुत अधिक तनाव और बोझ का कारण बनता है।

जिस समय से देखभालकर्ता को अपने प्रियजन की बीमारी के बारे में पता चलता है और देखभाल की पूरी अवधि के दौरान, वे काफी भावनात्मक उथल-पुथल से गुजरते हैं। यह प्रक्रिया प्राकृतिक है और सभी नहीं तो अधिकांश देखभालकर्ताओं के साथ ऐसा होने की संभावना है।

हर व्यक्ति की ऐसी स्थिति में अलग-अलग प्रक्रिया होती है। कुछ इसे बहुत हल्के ढंग से ले सकते हैं और एक आम समस्या समझ कर इससे निपट सकते हैं, और कुछ इसे गंभीरता से लेते हुए तीव्र भावनाओं के साथ प्रतिक्रिया कर सकते हैं।

विशेषज्ञों ने भावनाओं का एक वर्ग पहचाना है जो सामान्य रूप से देखभालकर्ता एक चरणबद्ध तरीके से अनुभव करते हैं।

इनकार

जब देखभालकर्ता को पहली बार मानसिक बीमारी (स्किज़ोफ्रेनिया, द्विध्रुवीय विकार, आदि) के बारे में पता चलता है, तो वे सोचते हैं कि यह चरण धीरे-धीरे गुज़र जायेगा और पीड़ित कुछ समय बाद ठीक हो जायेगा। लंबे समय तक, उन्हें लगता है कि यह एक मामूली मुद्दा है। यह गलत धारणा मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता और ज्ञान की कमी के कारण है। जब पीड़ित सुधार के कोई संकेत नहीं देता है, तो वे चिंता करना शुरू करते हैं। फिर भी वे इनकार ही करते हैं और मानते हैं कि यह किसी धार्मिक कारक, काले जादू या कुछ दूसरे विश्वास से संबंधित घटना के कारण हुआ है और इस समस्या का कारण बन गया है। इसलिए, वे बीमारी से बचने के लिए धार्मिक और विश्वास अनुष्ठानों का सहारा लेते हैं।

देखभालकर्ताओं को इस चरण से बाहर निकल कर अपने प्रियजन की बीमारी के बारे में जानने के लिए डॉक्टर को संपर्क करने में और उनका इलाज कराने में कुछ समय लग जाता है।

गुस्सा

देखभालकर्ता खुद से पूछताछ शुरू करते हैं: 'यह मेरे परिवार के सदस्य / पति / बच्चे के साथ क्यों हुआ?', 'क्या मैं इस स्थिति के लिए जिम्मेदार हूँ?' शुरुआत में, वे खुद से गुस्सा रहते हैं, सोचते हैं कि वे इस समस्या का कारण हैं। बाद में, वे कारणों की तलाश करते हैं और आत्म-अपराध की भावना से छुटकारा पाने के लिए दूसरों को दोष देना शुरू करते हैं। मिसाल के तौर पर, जब उनके बेटे या बेटी का अवसाद, उत्कंठा, खाने के विकार, या किसी अन्य मानसिक बीमारी का निदान किया जाता है, तो माता-पिता अपने बच्चे के दोस्तों को बुरी आदतों को विकसित करने के लिए दोषी ठहराते हैं; या वे कह सकते हैं कि समस्या कॉलेज में रैगिंग के कारण हुई थी। माता-पिता कॉलेज अधिकारियों को सख्त होने और छात्रों से परीक्षा में अच्छे नंबर लाने की उच्ची उम्मीदों के कारण दोषी ठहरा सकते हैं। नौकरी कर रहे लोगों के मामले में, परिवार के सदस्य कार्यस्थल की नीतियों, प्रबंधन, या अधिकारियों को कार्यस्थल सम्बन्धी मुद्दों के लिए दोषी ठहरा सकते हैं जिससे, उनका मानना ​​है कि, पीड़ित के स्वास्थ्य पर असर पड़ा है।

ज्यादातर समय, ऐसी भावना को महसूस करना स्वाभाविक है। एक तरह से, यह चिकित्सीय है क्योंकि यह आपको अपनी कुंठा को दूर करने में मदद करता है। एक बार जब आप इस चरण से बाहर निकल जाएंगे, तो आप रोगी के लिए कुछ करने में सक्षम होंगे और अपने प्रियजन के इलाज में मदद करेंगे।

नोट: जो गुस्सा दिखाया नहीं जाता या दबा दिया जाता है,वो उत्कंठा,तनाव,या कुछ मामलों में,अवसाद का कारण बन सकता है। जो गुस्सा विस्फोट हो जाता है वो संबंधों को खतरे में डाल सकता है और दूसरों को भी नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए,किसी की मदद से या परिस्थितियों को तर्कसंगत बनाने के लिए तकनीकों के अभ्यास से गुस्से से निपटने के तरीकें सीखे जा सकते हैं।

सौदेबाज़ी / बचाव

कुछ देखभालकर्ता भाग्य के साथ सौदेबाजी करने लगते हैं और यह कहते हैं कि यह स्थिति इतनी गंभीर नहीं है और कुछ भी बड़ा नहीं हुआ है, भले ही रोगी गंभीर मानसिक बीमारी से प्रभावित हो। वे यह भी मानते हैं कि डॉक्टर पूरी तरह से बीमारी का इलाज कर सकते हैं।

जब वे दूसरों से आलोचनात्मक टिप्पणियां सुनते हैं या कोई ऐसी जानकारी पढ़ते हैं जो उनके विचारों के विपरीत हो, तो देखभालकर्ता रक्षात्मक हो सकते हैं। हालाँकि कोई भी आपके प्रियजन को उतना नहीं जानते जितना की आप जानते हैं, रक्षात्मक होने से आप की सोच सीमित हो सकती है। आप मदद और समर्थन भी खो सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक सामाजिक कार्यकर्ता या मित्र के पास स्थिति को बेहतर तरीके से संभालने के तरीके या सुझाव हो सकते है।

नाराज़गी

यह भावना अभी भी इतनी निषिद्ध है कि कई देखभालकर्ता इसे स्वीकार करने से डरते और संकोच करते हैं। यह ज्यादातर हमारे समाज के दृष्टिकोण के कारण होता है, जहां किसी के कुशलता की लागत पर बलिदान, समझौता और समायोजन को गौरवान्वित किया जाता है, बिना देखभालकर्ता के जीवन, उनकी इच्छाओं, भावनाओं और इरादों के बारे में ध्यान दिए।

देखभालकर्ता (आमतौर पर परिवार में एक व्यक्ति जो देखभाल में अधिकांश समय बिताता है), अक्सर निराश महसूस करता है क्योंकि अन्य परिवार के सदस्य मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति की देखभाल करने में मदद नहीं करते हैं। परिवार सोचता है कि देखभालकर्ता ही ये भूमिका निभा सकता है और मान लेता है कि यह सब कुछ करना इस व्यक्ति की एकमात्र ज़िम्मेदारी है, जो देखभालकर्ता के लिए काफी तनावपूर्ण हो सकता है।

भारत में, अधिकांश देखभालकर्ता महिलाएं हैं। अगर कोई पूर्णकालिक देखभाल की आवश्यकता हो तो उन्हें अपनी नौकरियां छोड़नी पड़ सकती हैं। उन्हें पर्याप्त सामाजिक समर्थन भी नहीं मिल सकता है, क्योंकि यह भारतीय संस्कृति के अनुसार एक महिला को ही घर के सारे काम करने होते हैं। अधिकांश समय, अपने जीवन को प्रबंधित करने के लिए पर्याप्त पैसे की कमी के साथ उनके प्रयासों के लिए परिवार की उपेक्षा, देखभालकर्ता के लिए बहुत दर्दनाक और निराशाजनक हो सकता है।

कुल मिलाकर, जब देखभालकर्ता का काम, विवाह, स्वास्थ्य या घर के बाहर की गतिविधियों का समझौता किया जाता है, तो इससे क्रोध और नाराजगी पैदा हो सकती है।

नोट: मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति और परिवार के सदस्यों के प्रति नाराजगी महसूस करना सामान्य होता है। पर सिर्फ तब तक जब तक देखभालकर्ता अपने आप या अपने प्रियजन जो मानसिक बीमारी से पीड़ित है,उनके लिए कोई कठोर कदम नहीं उठाता है।

शोक

हम मान सकते हैं कि देखभालकर्ता शोक नहीं करते है क्योंकि ज्यादातर समय, वे एक दहला देने वाला आचरण और मुस्कराहट प्रदर्शित करते हैं। पर हो सकता है कि ये हकीकत न हो। कई बार, हम शोक को मौत के साथ जोड़ते हैं, लेकिन जब एक प्रियजन मानसिक बीमारी से पीड़ित होता है, खासकर जब बीमारी पुरानी और जानलेवा हो, तो लोगों को एक ऐसी ही भावना का अनुभव होता है जिसे अपेक्षित शोक के रूप में जाना जाता है। अपेक्षित शोक देखभालकर्ताओं में एक आम भावना है और इसे किसी भी समय अनुभव किया जा सकता है, लेकिन यह अल्जाइमर, डिमेंशिया, कैंसर इत्यादि जैसी बीमारियों के मध्य और आखिर के चरणों में ज्यादा आम है।

अगर आप अपनी उदासी और दर्द की भावनाओं से अवगत हैं तो इससे मदद मिलती है। इसे अपने प्रियजनों या किसी मददगार व्यक्ति को व्यक्त करने की कोशिश करें, जो ये समझ सके कि आप किन हालत से गुजर रहे हैं। एक खुशनुमा चेहरा सच्चाई को झुटला सकता है और कुछ समय बाद यह बहुत निराशाजनक हो सकता है।

खुद के लिए समय निकालें और ऐसी चीजें करें जिससे आप सुस्ता सकें। इससे चीजों को परिप्रेक्ष्य में रखने में भी मदद मिल सकती है।

चिंता

जितना भी हम चिंता न करने की कोशिश करें, हम इस भावना से बच नहीं सकते हैं। मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति के लिए हमारा प्यार और ख्याल हमें उनकी शिक्षा, वित्त, और विवाह के बारे में चिंतित करता है। ऐसे सवाल जैसे कि "मेरी मौत के बाद क्या होगा?" कुछ ऐसे परेशान कर देने वाले विचार हैं जो हमारे दिमाग में आते रहते हैं।

चिंतित होना अच्छा है, लेकिन भविष्य की समस्याओं के बारे में हद्द से ज्यादा चिंता करना या उसका जुनून सवार होना, सिर्फ आपकी गतिविधियों को प्रभावित करता है, आपकी नींद को बाधित करता है, सिरदर्द और अन्य शरीर के दर्द का कारण बनता है, और इससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

अगर इस तरह के चिंताजनक विचार आपके स्वास्थ्य और दैनिक गतिविधियों (काम, आहार, नींद) को प्रभावित कर रहे हैं, तो आपको इस भावना से उभरने के लिए कोई कदम लेने की जरुरत है। किसी विश्वसनीय परामर्शदाता या किसी अन्य चिकित्सक से मदद लें, जो आपको अपने नकारात्मक विचार व्यक्त करने में मदद कर सकता है और आपको अधिक रचनात्मक तरीके से सोचने के लिए पुनर्निर्देशित कर सकता है।

निराशा,शर्म

इन भावनाओं को परिवार और मानसिक बीमारी से पीड़ित व्यक्ति, दोनों अनुभव करते है। मानसिक बीमारी के बारे में समाज में प्रचलित कलंक और गलत धारणाओं के चलते परिवार अपने प्रियजन की बीमारी से शर्मिंदा हो जाता है। वे सामाजिक रूप से दूर किये जाने के डर से इस समस्या को अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को बोलने या प्रकट करने में संकोच करते हैं।

मानसिक बीमारी से पीड़ित व्यक्ति पर उतना ही असर पड़ता है जितना की देखभालकर्ता पर पड़ता है। कलंक, भेदभाव, और सामाजिक अलगाव के डर से वे अपनी भावनाओं को अपने प्रियजन या दोस्तों के सामने व्यक्त नहीं कर पाते जिससे वे असहाय महसूस करने लगते हैं। मानसिक बीमारी वाले एक जवान आदमी के पिता ने कहा: "लोग हमारे घर आना बंद कर चुके हैं। हमें किसी भी शादी या सामाजिक कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं किया जाता है।"

अपराधबोध

देखभालकर्ताओं को खुद से थोपे गए अपराधबोध की भावना का अनुभव होता है। वे मानने लगते हैं कि उन्होंने जो किया है वो काफी नहीं है, उन्होंने सही तरीके से व्यवहार या काम नहीं किया है, सही समय पर उचित निर्णय नहीं लिया है, और उनके पास मानसिक स्वास्थ्य के सम्बन्ध में सही ज्ञान नहीं है, इत्यादि। देखभालकर्ता "काश मैं कर सकता" "मुझे करना चाहिए था", "मैं कर सकता था" जैसे विचारों से खुद पर बोझ बना लेते हैं। उदाहरण के लिए, "मुझे अपने बेटे को पहले ही इलाज के लिए ले जाना चाहिए था", "मैं पीड़ित के साथ अधिक धैर्यवान हो सकता था", "मुझे अपनी बेटी की देखभाल करने में और अधिक समय बिताना चाहिए था, जो उसे खाने के विकार से बचा सकता था", इत्यादि।

अपराध की भावना अपरिहार्य है और निराशाजनक स्थिति के कारण देखभालकर्ताओं में इन विचारों का आना आम है। इस निरंतर आने वाले विचारों के कारण, देखभालकर्ता किसी भी समय अवसाद से ग्रस्त हो सकते हैं और उन्हें उपचार की जरुरत हो सकती है।

नोट: यदि आप बहुत अधिक आदर्शवादी विचार और अपेक्षाएं नहीं रखते हैं,तो इससे मदद मिलती है। इस तथ्य को अपनी सभी सीमाओं के साथ स्वीकार करने से आप स्थिति को बेहतर तरीके से संभाल सकते हैं। इसके लिए खुद को दंडित करने के बजाय प्रवाह के साथ जाने की कोशिश करें।

अवसाद

लम्बे समय तक देखभाल काफी तनावपूर्ण हो सकती है और इससे देखभालकर्ता के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ सकता है। वे तनावग्रस्त, उत्कंठित महसूस करते हैं, जो भावनात्मक थकावट का कारण बन सकता है। आगे चल कर, वे अवसाद का शिकार हो सकते हैं। डॉक्टर तब देखभालकर्ता का इलाज करते हैं ताकि वे जल्द ही ठीक हो जाएं और मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति की देखभाल कर सकें।

स्वीकृति

कुछ समय बाद, देखभालकर्ता की स्थिति से उभरने की क्षमता के आधार पर, वे अंततः अपनी बीमारी को स्वीकार करते हैं और पेशेवर से मदद लेने का फैसला करते हैं। फिर वे निर्धारित उपचार का पालन करते हैं और अपने परिवार के सदस्य का समर्थन करते हैं। उपचार के साथ, वे कुछ धार्मिक अनुष्ठान कर सकते हैं या अपनी श्रद्धा के माध्यम से शान्ति ढूंढने की कोशिश कर सकते हैं। डॉक्टर उनकी मान्यताओं या किसी विश्वास के अभ्यास के खिलाफ सलाह नहीं देते हैं जब तक कि यह रोगी को नुकसान नहीं पहुंचाता और उनके उपचार में हस्तक्षेप नहीं करता है।

अगर डॉक्टरों का लगता ​​है कि देखभालकर्ता धार्मिक अनुष्ठानों के माध्यम से रोगी को शारीरिक नुकसान पहुंचा रहे हैं (पीटना, हाथ पर कपूर जलना, पीड़ित को बांधना), तो वे सख्ती से उन्हें ऐसी शत्रुता को रोकने के लिए सलाह देते हैं।

नोट: देखभालकर्ता इस तरह के अनुष्ठानों और अंधविश्वासों पर बहुत पैसा खर्च करते हैं और जब तक वे डॉक्टर से परामर्श के लिए पहुँचते हैं,तब तक उनके पास इलाज के लिए पर्याप्त पैसे नहीं बचते। यह ऐसे धार्मिक रीति-रिवाजों और अनुष्ठानों का दोष है।

ऐसी भावनाओं से उभरने में देखभालकर्ता को समय लगता है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए देखभालकर्ता को भी परिवार के दूसरे सदस्यों, दोस्तों और बड़े पैमाने पर, समाज से समर्थन, प्यार और देखभाल की आवश्यकता होती है।

देखभालकर्ताओं की भावनाएं जब एक महिला मानसिक बीमारी से प्रभावित होती है

जब कोई महिला मानसिक बीमारी से प्रभावित होती है तो देखभालकर्ता अधिक चिंतित होते हैं। समाज, खासतौर से ग्रामीण समुदायों में, अभी भी यह सोच है कि एक महिला एक अच्छा जीवन तभी जी सकती है जब वह शादी कर लेती है और 'बस जाती है'। जब एक महिला मानसिक बीमारी से प्रभावित होती है, तो परिवार के सदस्यों को पहला विचार यह आता है कि वह अकेले अपना जीवन कैसे बिताएगी, या उससे शादी कौन करेगा। एक युवा अविवाहित बेटी की मां ने कहा: "परिवार को इसकी बीमारी को छिपाना पड़ रहा है क्योंकि वह अविवाहित है। अगर हम किसी को बताते हैं, तो हमे उसके लिए उपयुक्त लड़का खोजने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है।"

हमारे समाज में, एक आदमी के लिए स्थिति अलग होती है क्योंकि विवाह के बाद भी, वह अपने माता-पिता के साथ रहता है जो उसका समर्थन करते हैं। लेकिन विवाह के बाद एक महिला अपने पति के घर जाती है, जहां उसे नए पर्यावरण में समायोजन करना पड़ता है। इसलिए वह अपने परिवार के समर्थन को खो देती है, जो उसे पहले मिलता था। उसका परिवार इस बात से चिंतित हो जाता है कि क्या उसके पति और ससुराल वालों उसकी समस्या को समझ पाएंगे और उसका समर्थन करेंगे। महिलाओं के लिए बहुत सारे मुद्दे हैं, क्योंकि समाज अभी भी रूढ़िवादी है और जब मानसिक बीमारी की बात आती है तो महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक बदनाम होती हैं। इस कारण से, महिला एक कार्यात्मक जीवन जीने के लिए संघर्ष करती है

यह आलेख डॉ जगदीशा थिर्थहल्ली,मनोचिकित्सा के प्रोफेसर,निमहंस द्वारा प्रदान किए गए जानकारी की सहायता से लिखा गया है।

Was this helpful for you?