रजोनिवृत्ति और मानसिक स्वास्थ्य

रजोनिवृत्ति क्या है?

रजोनिवृत्ति महिला की मासिक धर्म चक्र की प्राकृतिक परिणति है। भारत में, रजोनिवृत्ति की औसत आयु 46 से 48 के बीच है। हालांकि, अलग-अलग महिलाओं के भिन्न अनुभव उनके चिकित्सकीय और परिवार के इतिहास से निर्धारित होते हैं। कुछ महिलाओं को 41 से  50 वर्ष की उम्र के बीच कभी भी रजोनिवृत्ति का अनुभव हो सकता है। 40 साल की उम्र से पहले इसको समयपूर्व रजोनिवृत्ति कहा जाता है; और 52 वर्ष की आयु के बाद रजोनिवृत्ति को देरी से माना जाता है

महिलाओं को 10-वर्ष की अवधि में रजोनिवृत्ति का अनुभव हो सकता है यह मासिक धर्म चक्र की आवृत्ति में परिवर्तन, प्रवाह में परिवर्तन, अनियमित पीरियड, गर्म पसीना आना और नींद में गड़बड़ी से शुरू होता है। परिवार का समर्थन बहुत महत्वपूर्ण होता है।  

रजोनिवृत्ति महिला के जीवन के कई क्षेत्रों में बदलाव लाती है

ज्यादातर भारतीय महिलाओं के लिए, रजोनिवृत्ति एक ऐसे समय पर होती है जब उनके बच्चे घर छोड़ देते हैं; यही वह उम्र भी होती है जब वे अपने माता-पिता और ससुराल वालों की देखभालकर्ता होती हैं या उनको खो रही होती हैं। वे अपने स्वास्थ्य पर अधिक ध्यान दे सकती हैं और स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में पता कर सकती हैं: मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल, दिल के दौरे, रक्तचाप या थायरॉयड असंतुलन का खतरा। काम करने वाली महिलाएं अपने करियर के उस चरण में हो सकती हैं, जहां उन्हें जिम्मेदारी वाली भूमिका लेने की आवश्यकता हो, और इन परिवर्तनों के कारण वे सभी मांगों को पूरा करने में संघर्ष कर सकती हैं।

शारीरिक स्वास्थ्य की समस्याएं

रजोनिवृत्ति के दौरान, शरीर एस्ट्रोजेन उत्पादन बंद कर देता है। एस्ट्रोजेन हृदय, त्वचा और हड्डी के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है, और कई महिलाओं को इनकी समस्या होती है। हड्डियों कमजोर हो जाती हैं और पीठ दर्द तथा कंधे एवं जोड़ों में पीड़ा का अनुभव होता है। कुछ महिलाओं को असंयम का ज़ोर अनुभव होता है, जिससे वे शर्मिंदा हो सकती हैं।

ज्यादातर महिलाएं सोने में समस्याओं का ज़िक्र करती हैं; उन्हें नींद आना मुश्किल लगता है या रात भर सोने में परेशानी होती है। (बैंगलोर की स्त्री रोग विशेषज्ञ कहती हैं कि इस अवधि के दौरान उनके कम से कम 20-25 प्रतिशत रोगी अनिद्रा की शिकायत करते हैं)।

रजोनिवृत्ति और मानसिक स्वास्थ्य

कई महिलाओं को रजोनिवृत्ति की उम्मीद होती है और इसके लिए तैयार रहती हैं; वे इसकी वजह से आने वाले परिवर्तनों का सामना करने में सक्षम होती हैं। लेकिन कुछ अन्य के लिए, रजोनिवृत्ति जीवन की एक बहुत चुनौतीपूर्ण घटना बन जाती है, और उन्हें मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से सहायता की ज़रूरत हो सकती है।

साक्रा वर्ल्ड अस्पताल की मनोचिकित्सक डॉ. सबिना राव कहती हैं  कि "कुछ महिलाओं को इसका सामना करना मुश्किल होती है, जब अचानक उन्हें अहसास होता है कि शारीरिक रूप से बूढ़ी होने लगी हैं जबकि वे अपने करियर के शीर्ष पर हो सकती हैं या अपने मन में पूरी तरह से फिट और युवा महसूस कर सकती हैं। जिन महिलाओं ने अपने लिए बड़े लक्ष्य निर्धारित किए हैं, उन्हें यह याद दिला सकता है कि उनहोंने जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा पार कर लिया है। यह अहसास व्यग्रता, संकट या निराशा पैदा कर सकता है; मन अभी भी फिट है, लेकिन उनका शरीर एक अलग दिशा में आगे बढ़ना शुरू कर देता है,"।

रजोनिवृत्ति के दौरान क्या उम्मीद होती है

रजोनिवृत्ति के दौरान, आप कई हार्मोनल, शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तनों से गुजर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:

• थकान; दिनभर थका हुआ और अनऊर्जित महसूस करना

• सोने के तरीके में गड़बड़ी

• गर्म पसीना आना

• तेज़ी से दिल धड़कना और मिजाज़ बदलना

• असंयम का ज़ोर(उदाहरण के लिए खांसी के दौरान न चाहते हुए मूत्र का रिसाव)

• पीठ और कंधे में दर्द

जब मॉडरेशन में मौजूद होते हैं, तो ये रजोनिवृत्ति के ख़ास लक्षण होते हैं लेकिन यह जानना महत्वपूर्ण है कि ये लक्षण सामान्य होने पर कैसे रोकते हैं, और आपको सहायता प्राप्त करने की आवश्यकता है

यह सामान्य बात है

यह 'सिर्फ रजोनिवृत्ति' नहीं है और आपको मदद मांगने की ज़रूरत है

कुछ दिनों में थका हुआ और अनमना महसूस कर रही हूँ  

कम से कम दो हफ्तों तक लगातार अधिक थका रहना, अनमना और निराशा की भावना आना, और बार-बार रोने लगना; कोई आत्मघाती विचार आना

यदि आप में जीवन समाप्त करने का विचार आता है, तो कृपया एक मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से परामर्श करें या तुरंत हेल्पलाइन पर कॉल करें

मिजाज़ बदलना;समय समय पर चिड़चिड़ापन, गुस्सा या दुखी महसूस करते हैं ; सिरदर्द और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है

 कम से कम दो हफ्तों से लगातार मिजाज़ बदलना; निराशा की भावना या इसका सामना करने में असमर्थता लगना

व्यग्रता, चिड़चिड़ापन, भूख या नींद के दिनचर्या में परिवर्तन; कभी-कभी तनाव या थका हुआ महसूस करना

 लगातार दो सप्ताह से अधिक समय तक व्यग्रता, तनाव या थकावट का रहना; या यदि भविष्य के बारे में आपका उत्साह का स्तर बहुत कम है

 

पसीना आना या 'भुजाएँ फड़कना'; या कभी-कभी उत्तेजित महसूस करना 

 

यदि आप भयाक्रांत महसूस करते हैं या एकदम से धकधकी होती है, जो कम से कम 15 मिनट तक रहती है, तो यह आपको संत्रास का हमला हो सकता है यदि आपको एक से अधिक बार संत्रास के हमले का सामना करना पड़ता है, तो तत्काल सहायता प्राप्त करें 

 

रजोनिवृत्ति के दौरान मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं

रजोनिवृत्ति के दौरान पांच में से कम से कम एक महिला अवसाद से ग्रस्त हो जाती है। अवसाद के व्यक्तिगत या पारिवारिक इतिहास (प्रसवोत्तर अवसाद सहित) वाली महिलाएं विशेष रूप से असुरक्षित होती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि रात में पसीना आना और गर्म पसीना आने से होने वाली परेशानी से नींद में दिक्कत हो सकती है और मन स्थिरता को प्रभावित कर सकती है।

कई स्त्रियां अपने संज्ञानात्मक कार्य को लेकर भी समस्याओं का अनुभव करतीं हैं; उन्हें चीजों को याद रखने या विशिष्ट कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई हो सकती है। जो महिलाएं सित्ज़ोफ्रेनिया, बाईपोलर विकार, व्यग्रता या संत्रास के विकार आदि मानसिक बीमारियों से पीड़ित हैं रजोनिवृत्ति उसको बढ़ा सकती है। जो महिलाएं पहले मानसिक बीमार थीं, वे फिर से शुरू होने के लिए अधिक संवेदनशील होती हैं।

जब रजोनिवृत्ति'प्राकृतिक'नहीं होती है  

जिन महिलाओं को सर्जिकल रजोनिवृत्ति से गुजरना (अंडाशय को हटाना, जो उनके मासिक धर्म चक्र को ख़त्म करता है) पड़ता है, उनको संकट का सामना करना पड़ सकता है आंशिक रूप से एक तथ्य यह है कि उनकी रजोनिवृत्ति बिना पूर्व चेतावनी के एकदम से आ जाती है (प्राकृतिक रजोनिवृत्ति का अनुभव दस वर्ष की अवधि में, महिला के मासिक धर्म चक्रों में अनियमितताओं से शुरू होता है)। वे अपने गर्भाशय के जाने को अप्राकृतिक मान सकती हैं, या स्वयं के महिला होने का सार खोने के रूप में देख सकती हैं; हार्मोन के स्तर में परिवर्तन से उनका वजन बढ़ सकता है और शरीर के आकार को लेकर चिंता हो सकती है। उनमें व्यग्रता या अवसाद के लक्षण भी विकसित हो सकते हैं।

इस श्रेणी की महिलाएं अक्सर तब आसानी से इसका सामना कर लेतीं हैं जब उनको आपरेशन के बाद बेहतर सुविधा, मनोवैज्ञानिक सहारा और परिवार का साथ मिलाता हैं। यदि आपको सर्जिकल रजोनिवृत्ति का सामना करना पड़ रहा है, तो परामर्शदाता के पास जाएँ जो आपके विचारों और आत्म-छवि को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है।

परिवार का सहारा रजोनिवृत्ति का सामना करने में मदद करता है

रजोनिवृत्ति चाहे प्राकृतिक हो या सर्जिकल, पर परिवार का सहारा – ख़ासकर पति का - एक महिला को रजोनिवृत्ति के कारण शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तनों का सामना करने में मदद कर सकता है। यहाँ कुछ बिंदु हैं कि एक महिला के लिए इस प्रक्रिया को आसान बनाने में परिवार क्या कर सकता है:

• परिवार के लिए यह जानना ज़रूरी है कि ऐसे में महिला क्या झेल रही है। पति पत्नी के साथ उसके डॉक्टर के यहाँ साथ में जा सकता है और उसे स्वयं की देखभाल करने में मदद कर सकता है।

• पति ऐसी गतिविधियां भी बना सकता है जो दोनों एक साथ कर सकते हैं, जैसे कि टहलने जाना या धीरे से दौड़ना या नियमित व्यायाम, जो महिला को फिट रहने में मदद करे।

• महिला को भावनात्मक सहारा प्रदान करें; उसके साथ अच्छा समय बिताएं।

• जब वह उसे सामना करने में दिक्कत हो तब महिला के साथ सहानुभूति दिखाएं।

• यदि वह अनमनी सी है, तो उसे पीएमएस या 'महिला की बात' पर मत छोड़ें- समझें कि वह क्या महसूस कर रही है, उसके लिए थकाऊ या बहुत भारी हो सकता है।

रजोनिवृत्ति के दौरान मानसिक रूप से ठीक रहना

जीवनशैली में कुछ परिवर्तन करना आपको रजोनिवृत्ति के कारण हुए परिवर्तनों का सामना करने और मानसिक रूप से अच्छी तरह से रहने में मदद कर सकते हैं।

• अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास नियमित रूप से जाकर स्वास्थ्य जांच कराएं जिससे थायरॉयड खराबी या प्रजनन अंगों की बीमारी की आशंका से बच सकें।

• व्यायाम. यदि आपने पहले कभी वर्जिश नहीं करती रहीं है, तो यह नियमित रूप से शुरू करने का अच्छा समय है। योग और प्राणायाम आपको लचीला रहने और आपकी हड्डी के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। सूर्य के प्रकाश की पर्याप्त व्यवस्था रखें।

• यह समझें कि आपका शरीर बदल रहा है; और अपनी अपेक्षाओं को तदनुसार निर्धारित करें। आपका ध्यान वजन कम करने पर नहीं होना चाहिए, बल्कि वजन बढ़ाने न पाए इस पर होना चाहिए। अपने आप को फिट रखने पर हार मानते हुए यह मत मानो कि आप इसे नियंत्रित नहीं कर सकते हैं।

• अपने आहार पर ध्यान दें; कम मात्रा में अधिक बार भोजन खाएं। फाइबर, प्राकृतिक विटामिन और खनिजों का सेवन बढ़ाएं।

• सबसे महत्वपूर्ण बात, अपनी देखभाल के लिए समय निकालें। ख़ास अपने लिए अलग से कुछ समय रखें और एक शौक या पसंदीदा गतिविधि का आनंद लें।

• यदि आप अभिभूत हैं और सामना करने में असमर्थता लगती हैं, तो तुरंत परामर्शदाता या मनोचिकित्सक के पास जाएँ।

इस लेख को निमहैंस, बैंगलोर में मनोचिकित्सा की अतिरिक्त प्रोफेसर डॉ. गीता देसाई, साक्रा वर्ल्ड अस्पताल की मनोचिकित्सक डॉ. सबिना राव और अपोलो क्रैले जयनगर की प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ अरुणा मुरलीधर के आदानों के साथ लिखा गया है।

 

Was this helpful for you?

की सिफारिश की