मानसिक स्वास्थ्य के लिए प्राथमिक चिकित्सा

आपकी अगर उंगली कट जाती है, तो आप क्या करते हैं? आप पानी से उंगली धो कर घाव पर एंटीसेप्टिक लोशन लगाते हैं, और संक्रमण से बचने के लिए बैंडएड से इसे बंद कर देते हैं। यह शरीर के लिए प्राथमिक चिकित्सा है, इसी तरह, मन के लिए प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध है, जिसे मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा कहा जाता है। 
मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा किसी व्यक्ति में संभावित मानसिक बीमारी का पता लगाने की प्रक्रिया है। इसमें भावनात्मक और व्यवहार संबंधी समस्याओं के लक्षणों को पहचानना और यदि आवश्यक हो तो पेशेवर मदद लेने के लिए बातचीत कर व्यक्ति को तैयार करना शामिल है। किसी भी शारीरिक या मानसिक बीमारी के लिए, शीघ्र हस्तक्षेप, उस बीमारी से उबरने के लिए संभावनाओं को बढ़ा देते हैं। 
मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा की जरूरत किसको है? 
मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा उनके लिए है जो भावनात्मक संकट का सामना कर रहे हैं और मदद चाहते हैं। कई परिस्थितियां ऐसी होती हैं जो भावनात्मक उतार और चढ़ाव ला सकती हैं, जैसे बच्चे का एक नए स्कूल में जाना, किसी व्यक्ति का सम्बन्ध विच्छेद से सामना करना, एक कर्मचारी का नए शहर में जाना, किसी प्रियजन का चला जाना, नौकरी का छूट जाना, वित्तीय नुकसान आदि कुछ उदाहरण हैं। अचानक, कोई अप्रत्याशित परिवर्तन व्यक्ति में तनाव, डर और व्यग्रता पैदा कर सकता है, और यदि जल्दी ही इसका पता नहीं चला तो यह एक मानसिक बीमारी का रूप ले सकता है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि व्यक्ति अपनी सुरक्षा के लिए सहायता प्राप्त करे और आगे खुद को हानि पहुँचाने का कारण न बने। 

मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा में किसी भी मानसिक बीमारी का निदान, या व्यक्ति के लिए संकट प्रबंधन, या परामर्श और चिकित्सा शामिल नहीं है।

उस व्यक्ति की पहचान कैसे करें जिसे मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा की ज़रूरत हो? 
इस विषय की कोई जानकारी नहीं रखने पर आप अपने प्रियजनों को देखकर यह नहीं पहचान सकते हैं कि उनको मदद देने की आवश्यकता है। लेकिन, जो लोग गंभीर मानसिक और भावनात्मक संकट से गुजर रहे हैं वे कुछ विचार, व्यवहार और भावनाओं को प्रदर्शित करते हैं जो आपको उनके संकट की पहचान करने में मदद कर सकते हैं। वे हैं: 
• आसानी से उद्धत हो जाना 
• चिंतित और व्यग्र होना  
• आक्रामक और चिड़चिड़ा होना 
• समाज से दूरी बनाना 
• स्कूल/कालेज/ कार्यस्थल पर जाने से इनकार करना 
• आत्म-दोष के विचार 
• खुद को ग़लत महसूस करना  
• निराशा की भावनाएं 
• असहायता की भावनाएं 
कभी-कभी, व्यक्ति को मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर की मदद की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन अक्सर वे दूसरे व्यक्ति से सहानुभूति की बातचीत और सहारे की तलाश कर रहे होते हैं।  

आप मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा कैसे दे सकते हैं?

जब आप किसी परिचित को भावनात्मक अशांति से गुज़रते हुए देखते हैं, तो आप उनसे संपर्क कर सकते हैं और एक सहानुभूतिपूर्ण, गैर-आलोचनात्मक, गोपनीय बातचीत कर सकते हैं। 
उदाहरण के लिए, एक प्रबंधक और अधीनस्थ के बीच इस बातचीत को देखें: 
प्रबंधक: हाय आनंद, आप कुछ समय से बहुत सुस्त और थके हुए लग रहे हैं। क्या कुछ गड़बड़ हॆ? 
आनंद: मेरे पिता की तबियत ठीक नहीं है। उनका स्वास्थ्य और खराब हो गया है। मैं काम के कारण उनके साथ समय बिताने में असमर्थ हूं। 
प्रबंधक: क्या आप उन्हें डॉक्टर के पास ले गए? 
आनंद: हां, चिकित्सक ने कहा कि उनकी दवा ने काम करना बंद कर दिया है और उनको बिना दवा के शांति से रहने देना चाहिए।  
प्रबंधक: ओह और उस बारे में आप कैसा महसूस कर रहे हैं? 
आनंद: मैं उसके बारे में सोचकर थका-हारा महसूस कर रहा हूं और मुझे बुरा लग रहा है कि मैं उनके साथ समय बिताने में असमर्थ हूं। 
प्रबंधक: आप को आज छुट्टी लेनी चाहिए और उनके साथ रहना चाहिए। उनके साथ कुछ समय व्यतीत करें। इस स्थिति में गाड़ी चलाकर घर नहीं जाना, सबसे अच्छा टैक्सी ले लो।  
आनंद: धन्यवाद, महोदय। मैं अभी चला। 
इस स्थिति में, प्रबंधक ने अपने सह-कार्यकर्ता को मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा दी, जो अपने पिता के स्वास्थ्य के बारे में असहाय और दुःखी महसूस कर रहा था। वह संवेदनशील था, और बिना किसी दखल के आनंद को सुनता रहा, उसे अपनी भावनाओं को उजागर करने दिया। उन्होंने आनंद को राहत महसूस करने और अपने पिता के साथ समय बिताने में मदद की।
यदि आपको लगता है कि आपके किसी परिचित को मदद की ज़रूरत है, तो यहां है जो आप कर सकते हैं: 
• उनके विचारों के लिए उन्हें दोष न दें (उदाहरण के लिए, आत्मघाती भावनाएं) 
• उनकी भावनाओं को मान्य करने का प्रयास करें
• समाधान देने का प्रयास न करें, व्यक्ति की समाधान ढूंढने में सहायता करें। 
• पता करें कि उनके पास कोई समर्थन प्रणाली है या नहीं 
• लोगों को उनके मुद्दों पर आपके साथ चर्चा करने के लिए ज़ोर न दें। सीमाओं का सम्मान करें। 
अगर आपको लगता है कि व्यक्ति में आत्महत्या के विचार हैं, या नशे की लत जैसी दुर्बल भावनात्मक या व्यवहारिक समस्याओं का सामना कर रहा है, तो उन्हें मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के पास भेजें।  

यह आलेख  डॉ. के.एस. मीना, सहायक प्रोफेसर, मानसिक स्वास्थ्य शिक्षा विभाग से निविष्टियाँ ले कर लिखी  गई है।