नया मातृत्व: माता के स्वास्थ्य हित में पति और परिवार की क्या भूमिका है?

बच्चे के जन्म के बाद मां को उसके शरीर और उसके जीवन में होने वाले परिवर्तनों के दौरान पिता के सहारा मिलने से मदद मिल सकती है। जब नई मां को बच्चे के पिता का सहारा मिलता  है, तो वह कम व्याकुलता महसूस करती है और अपनी जिम्मेदारियों से निपटने में सक्षम होती है।

पिता क्या कर सकता है:

- प्रसव एवं किसी भी अन्य चिकित्सा देखभाल के दौरान और उपस्थित रहें।

- भावनात्मक रूप से सहारा देते रहें।

- जन्म के तुरंत बाद, सभी नई माताएं अपने बच्चों के साथ बंधन नहीं बना पाती हैं। पिता बच्चे के साथ मेलभाव की प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं, और माता को धीरे-धीरे बच्चे के साथ बंधन बनाने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

- बच्चे को शांत करने में माता की सहायता करें।

- सुनिश्चित करें कि वह तनाव मुक्त  है और अच्छी तरह से आराम की स्थिति में है, ताकि वह बच्चे को दूध पिला सके।

- बच्चे के टीकाकरण की योजना बनाएं।

- सामाजिक-सांस्कृतिक बाधाओं के कारण होने वाले तनाव पर बातचीत करने में उसकी मदद करें।

- सुनिश्चित करें कि गर्भधारण के बीच अंतर हो, इससे मां शारीरिक और भावनात्मक रूप से इसके लिए पुन: स्वस्थ हो सकती है।  गर्भनिरोधक योजनाओं के बारे में स्त्री रोग विशेषज्ञ के साथ चर्चा करें।

स्वास्थ्य हित में परिवार की भूमिका क्या है?

बच्चे के जन्म के बाद, मां व्याकुल महसूस कर सकती है और उसे अतिरिक्त  सहारे की आवश्यकता होती है। कुछ माताओं में इस स्तर के दौरान मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं। यहां बताया गया है कि परिवार कैसे उनकी मदद कर सकता है:

- अनुचित रूप से दखल दिए बिना नए बन रहे परिवार को सहारा दें। 

- नई पारिवारिक इकाई का यदि आपसे कोई सांस्कृतिक अंतर है तो उसका सम्मान करें।

- मां को पर्याप्त आराम और समय दें, ताकि उसकी अपने बच्चे से प्रगाढ़ता हो और वह उसे दूध पिला सके।