अकादमिक परिवेश में साथियों की काउन्सलिंग

एक छात्र के रूप में, आप सबसे पहले किसके पास जाएँगे जब आपको लगता है कि आपको कोई समस्या है या जब आप किसी चीज के बारे में चिंतित हैं? कोई दोस्त या विश्वसनीय वयस्क? संभावना यह है कि वह तुम्हारा दोस्त होगा, क्योंकि आपको लगता है कि आपका मित्र आपकी समस्या को अपने माता-पिता या शिक्षक से बेहतर समझेगा।

किसी किशोर या नवयुवा के लिए, वयस्कों के बजाय, किसी हमउम्र या अपनी जैसी मानसिकता वाले से अपनी समस्याओं के बारे में बात करना आसान है। इसी कारण साथियों की काउन्सलिंग बहुत प्रभावी बनाती है क्योंकि यह किशोरों को उनकी समस्या को हल करने में पहला कदम उठाने में मदद करता है।

साथियों की काउन्सलिंग क्या है?

साथियों की काउन्सलिंग एक सहायता प्रक्रिया है जिसमें एक समूह के सदस्यों में एक-एक से बातचीत होती है या समूह के सदस्यों में आपस में बातचीत होती है, जिनमें कई चीजें एक जैसी होती हैं। एक अकादमिक पैमाने में, यह आमतौर पर छात्रों को अपने साथी छात्रों की मदद करने के लिए संदर्भित किया जाता है। यह लोगों से जुड़ने, समझाने और मदद करने का एक तरीका है, इसका उद्देश्य विचारों, भावनाओं, मुद्दों और चिंताओं को तलाशने तथा आशा पूर्ण निर्णय लेने और फैसलों को बताना है।

साथियों की काउन्सलिंग छात्रों की मदद कैसे करती है?

एक छात्र के रूप में, आपके जीवन में कई तनावपूर्ण पहलू हो सकते हैं। इनमें शैक्षणिक तनाव, करियर चुनने के लिए दबाव, साथियों का दबाव, रिश्तों को लेकर उलझन, शरीर की छवि की चिंता, मादक द्रव्यों की चिंता और नशे की बात शामिल हो सकते हैं, लेकिन यही तक सीमित नहीं हैं। हर किसी के लिए हो सकता है आसानी से एक पेशेवर परामर्शदाता से संपर्क करना संभव न हो, इसके कई कारण हो सकते है जिनमें अनुपलब्धता, और मदद के लिए पूछने से जुड़े कलंक शामिल हैं। साथियों का परामर्शदाता आपको और आपके साथियों की कई मुद्दों से सहायता कर सकता है जैसे कि:

• टकराव रोकने में

• विश्वास और आत्मसम्मान बनाना,

• शैक्षिक कठिनाइयों, परीक्षा तनाव

• शिक्षकों, अन्य छात्रों के साथ समायोजन मुद्दे

• हॉस्टल जीवन से सामंजस्य बैठाना

• रैगिंग, धमकाने और अन्य ऐसे मामले

कई मामलों में साथियों के परामर्शदाता से संपर्क करना प्रभावी रहता है, क्योंकि दूसरा व्यक्ति आपके मुद्दों को समझने और उससे संबंधित होने में सक्षम होता है। और जैसे कि वह प्रशिक्षित होते है, साथियों के परामर्शदाता सलाह देने से बचने के लिए छात्रों को सुनते, सहारा देते और विकल्प प्रदान करते हैं।

साथियों के परामर्शदाता प्रशिक्षित होते हैं

साथियों के परामर्शदाता बातचीत में, सुनने के कौशल में, दृढ़ता में, साथियों को परामर्श देने की नैतिकता में, मुद्दों की गोपनीयता और इसके उल्लंघन में, दूसरों की सहायता करने की सीमाएं और मूल परामर्श कौशल में प्रशिक्षित होते हैं। साथियों के परामर्शदाता को यह भी प्रशिक्षण होता है कि व्यक्ति को कब पेशेवर परामर्शदाता के पास भेजा जाना है। हालांकि वे प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं, वे प्रमाणित परामर्शदाता नहीं होते हैं। कैंपस में परामर्शदाता होने से, साथियों के परामर्शदाता छात्रों और परामर्शदाता के बीच पुल बन जाते हैं। स्कूल / कॉलेज परामर्शदाता की अनुपस्थिति में, साथियों के परामर्शदाता अपने साथी छात्रों को उनके भावनात्मक और व्यवहार संबंधी परेशानियों को समझते हैं और समाधान पर काम करते हैं। कुछ मामलों में, वे उन्हें उस क्षेत्र के पेशेवर परामर्शदाता के पास भी भेजते हैं। 

यहां तक ​​कि प्रशिक्षण के साथ भी साथियों का परामर्शदाता बनने के लिए छात्रों में ख़ास गुण होने चाहिए।

• दखल दिए बिना सक्रियता से सुनने का कौशल

• सहानुभूति और संवेदनशीलता

• उन्हें छात्रों की जानकारी को गोपनीय रखनी चाहिए, इसके बारे में गपशप न करें

• बातचीत का अच्छा कौशल और एक छात्रों की मनोदशा को गहराई से समझने की क्षमता

• प्रकृति में सौम्य

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि उन्हें दूसरे छात्रों को उनके मुद्दों के साथ मदद करने में स्वभाबिक रुचि लेनी चाहिए।

साथियों के परामर्शदाता को अपने संबंधित स्कूलों/ कॉलेजों में मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों पर कलंक और भेदभाव, मानसिक बीमारियों के बारे में मिथकों और इसी तरह के जागरूकता अभियानों का संचालन करते हैं।

साथियों के परामर्शदाता को भी लाभ मिलता है

यह सिर्फ साथी छात्रों की ही नहीं, बल्कि साथियों के परामर्शदाता अपने प्रशिक्षण और अभ्यास के दौरान सकारात्मक लाभ अर्जित करते हैं।

• कुछ विदेशी विश्वविद्यालय एनजीओ/ स्वयंसेवक अनुभव के लिए पूछते हैं। ऐसे संस्थानों के लिए आवेदन करते समय छात्र अपने संक्षिप्त विवरण में साथियों के परामर्शदाता के अनुभव को लिख सकते हैं।

• अपना आत्मसम्मान और समस्या सुलझाने का कौशल बढ़ाते हैं।

• नेतृत्व कौशल को सिखाते हैं।

• उन्हें सहानुभूति, सम्मान और अन्य जीवन कौशल सीखने में मदद करता है।

कॉलेज में साथियों के परामर्शदाता के समूह

सनशाइन - आईआईटी, हैदराबाद में साथियों के परामर्श समूह

आईआईटी, गांधीनगर के परामर्श केंद्र में विद्यार्थी मार्गदर्शक और छात्र समन्वयक हैं

'आपका दोस्त: एक भावनात्मक समर्थन प्रणाली', आईआईटी गुवाहाटी के परामर्श केंद्र, विद्यार्थी मार्गदर्शक को साथी कहते हैं।

परामर्श के लिए विश्वास केंद्र। जैन विश्वविद्यालय, बैंगलोर (अन्य अकादमिक संस्थानों के इच्छुक छात्र भी साथियों के परामर्शदाता के प्रशिक्षण के लिए इस केंद्र से संपर्क कर सकते हैं)।

 

की सिफारिश की