आपकी किशोर बेटी के मानसिक कल्याण को प्रभावित करने वाले कारक

ऐसे मनोवैज्ञानिक और सामाजिक कारकों को समझना जो उसके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं

किशोरावस्था की शुरुआत एक ऐसी अवधि होती है जिसमें शरीर, भावनाओं, रवैये, अहमियत, बुद्धि और रिश्तों में जबरदस्त परिवर्तन आता है। इन परिवर्तनों के बीच, कुछ ऐसे कारण हैं जो किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं। इन कारणों में किशोरों की स्वयं की परिकल्पना, माता-पिता, परिवार और साथियों के साथ उनके संबंध, पढ़ाई-लिखाई को लेकर माता-पिता और शिक्षकों का दबाव और मीडिया शामिल है। यहां कुछ मनोवैज्ञानिक कारक हैं जो किशोरियों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने में भूमिका निभाते हैं।

- नाजुक आत्म-सम्मान: किशोरवय लड़की का आत्म-सम्मान अक्सर रंग-रूप या उसके साथी और दोस्त उसके लुक्स को लेकर क्या सोचते हैं, इससे प्रभावित होता है। उसका आत्म सम्मान कई कारकों के आधार पर बढ़ या घट सकता है: उसके शारीरिक विकास, हार्मोनल परिवर्तन, साथियों से सामूहिक तौर वार्तालाप के साथ ही माता-पिता और अन्य महत्वपूर्ण लोगों के साथ बातचीत। शरीर के असामान्य वजन और रंग-रूप से संबंधित चिंताओं का निदान न होने पर उसके आत्म-सम्मान में कमी आने के साथ ही भावनात्मक संकट पैदा हो सकता है।

- अकादमिक प्रदर्शन और करियर को लेकर चिंता: किशोरी की पहचान बनाने में अकादमिक प्रदर्शन का भी योगदान होता है। पढ़ाई को लेकर स्वयं, माता-पिता या शिक्षकों की तरफ से बहुत ज्यादा दबाव या उच्च उम्मीदें उसके मानसिक स्वास्थ्य पर असर डाल सकती हैं। अगर लड़की का पढ़ाई की ओर ज्यादा झुकाव है, तो बेहतर प्रदर्शन का दबाव और उम्मीदें उसे अधिक भावनात्मक बना सकती हैं, जिससे चिंता विकार पैदा हो सकता है। अगर पढ़ाई की ओर उसका झुकाव नहीं है, तो वह स्वयं के और करियर के बारे में असुरक्षित और अनिश्चित महसूस कर सकती है।

- लिंग और यौन पहचान को लेकर अस्पष्टता: यौन पहचान स्वयं की अवधारणा से जोड़ती है। अगर उनकी यौन पहचान में भ्रम है तो यह उसके आत्म सम्मान को कम करने में एक और परत को जोड़ सकता है। जैसा कि एक लड़की के मामले में हुआ, जिसने आत्मघाती भावनाओं की समस्या को लेकर एक परामर्शदाता से संपर्क किया था। उसेने धीरे-धीरे खुलासा किया कि उसे अपने लिंग और कामुकता के बारे में भ्रम था और इंटरनेट पर पढ़कर उसने इसे समझ लिया था। उसने अपने माता-पिता को यह बताने का साहस भी जुटाया, लेकिन उसके पिता ने इसे स्वीकार नहीं किया और इसे अस्वाभाविक माना। इसलिए, किशोरों के लिए स्वीकार्यता महसूस करना और खुद होने में सहज होना महत्वपूर्ण है।

आजादी, स्पेस और आत्म-पहचान विकसित करने की आवश्यकता: अपनी आजादी का प्रयोग करते समय, किशोर अक्सर खुद को बेहतर तरीके से समझने के लिए अंतराल की आवश्यकता महसूस करते हैं। जब माता-पिता अपने मूल्यों, विचारों और सोच को उन पर थोपने का प्रयास करते हैं, तो किशोर उनसे दूरी बना सकते हैं और पीछे हट सकते हैं। ऐसे समय के दौरान, माता-पिता के लिए उनके इस तरह दूरी बनाने का सम्मान करना महत्वपूर्ण है।

- पारस्परिक संबंधों में बदलाव: किशोर लड़कियां अपने पारस्परिक संबंधों को महत्व देती हैं, खासतौर पर अपने साथियों के साथ। यह उनके श्रेय लेने की भावना में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। रानी मधुमक्खी की अवधारणा में यह देखा जाता है। लोकप्रियता हासिल करने का यह खेल किशोर लड़कियों के बीच इतना सूक्ष्म रूप में होता है कि यह माता-पिता इससे अनजान रहते हैं। उदाहरण के तौर पर, एक लड़की कमरे में जाती है और दूसरी लड़कियां उसके बारे में बात कर रही होंगी, तो उसकी लोकप्रियता इस बात पर आधारित होती है कि रहस्यों का साझा करने वाली इस पार्टी में उस लड़की बुलाया जाता है या नहीं। रानी मधुमक्खी की अवधारणा के मुताबिक यदि कोई लड़की समूह का हिस्सा है तो उस पर ध्यान दिया जाएगा और वह लोकप्रिय होगी। वास्तविकता यह है कि रानी मधुमक्खी की अपनी असुरक्षाएं होती हैं और इसलिए अपनी असुरक्षा से निपटने के लिए ही उसे अन्य लड़कियों की आवश्यकता होती है।

- सांस्कृतिक मानदंडों की कठोरता और अपेक्षाएं: कभी-कभी सांस्कृतिक कारक तनाव और चिंता में इजाफा कर सकते हैं, जो किशोरवय लड़की में विभिन्ना बदलावों के कारण हो सकता है। आम तौर पर, जब एक लड़की युवावस्था में प्रवेश करती है, सांस्कृतिक प्रथाओं के कारण वह संरक्षित हो सकती है और उसकी गतिविधियों, कपड़ों और व्यवहारों पर प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं। ऐसे सांस्कृतिक कारक लड़कियों और लड़कों के बीच के अंतर को भी बढ़ा सकते हैं। ऐसे परिदृश्य में, किशोर लड़कियां अपने बदलावों के बारे में माता-पिता से बात करने के लिए और भी चुनौतीपूर्ण महसूस कर सकती हैं, हालांकि माता-पिता को उनकी भावनाओं को साझा करने की आवश्यकता है।

यह लेख बैंगलोर स्थित रीच क्लिनिक में परामर्शदाता मौलिका शर्मा के इनपुट के आधार पर लिखा गया है।