We use cookies to help you find the right information on mental health on our website. If you continue to use this site, you consent to our use of cookies.

किसी बच्चे को शारीरिक रूप से सकारात्मक होने के लिए जागृत करना

क्या आप अपने शरीर के किसी निश्चित हिस्से के बारे में आत्म-जागरूक हैं (उदाहरण के लिए, मेरी जांघें बहुत मोटी हैं)? या क्या लुक्स को लेकर आपकी कुछ मान्यताएं हैं जो आदतन आपको कचोटती रहती हैं, भले ही आपको यह पता है कि इसे साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है ("मोटे लोग बुरे हैं" या "काले लोगों पर भरोसा नहीं किया जा सकता")? क्या आप जानते हैं कि ऐसी मान्यताएं कहां से आती हैं?

अक्सर, हम पूर्व में सुनी गई टिप्पणियों के आधार पर अपने शरीर या लुक्स के बारे में कुछ मान्यताएं बना लेते हैं, शायद बचपन में ही- जब माता-पिता, शिक्षक या अन्य बड़े लोग इस बारे में बोलते हैं। कभी-कभी, हम इन मान्यताओं को दूर करने में सफल हो जाते हैं, खासकर तब, जबकि वे हमारे लिए सहायक नहीं होती हैं। कभी-कभी, हम खुद को देखने और दूसरों को देखने के तरीकों से इन मान्यताओं से प्रभावित होते हैं- और अक्सर, हमें इस बात का पता नहीं होता कि हमारे पूर्वाग्रह कैसे काम करते हैं।

बच्चों की शारीरिक छवि को क्या प्रभावित करता है:

तीन या चार साल के बच्चे को अपने आसपास जो कुछ दिखाई देता है और वह सुनता है, उससे प्रभावित हो सकता है। और कुछ ऐसी चीजें हैं, जो माता-पिता या अन्य बड़े लोग करते हैं, वे उन्हें गहराई से प्रभावित कर सकती हैं।

आप खुद के बारे में कैसे बात करते हैं: बच्चे यह देखकर बहुत कुछ सीखते हैं कि उनके माता-पिता और अन्य बड़े कैसा व्यवहार करते हैं। ध्यान दें कि आप अपने और अपने शरीर के बारे में कैसे बोलते हैं। क्या आप खुद को मोटा या काला कहते हैं, या अपनी मोटी बाहों की चर्चा करते हैं, या ऐसा कहते हैं कि मुझे ये कपड़े नहीं पहनना चाहिए, क्योंकि उनमें मैं कैसी दिखूंगी? इस तरह की टिप्पणियां बच्चे को संदेह में डाल सकती हैं कि उनके शरीर के साथ भी कुछ 'गड़बड़' है।

आप दूसरों के बारे में कैसे बात करते हैं: अक्सर, हम पूरी तरह से अर्थ समझे बिना ही दूसरों के बारे में बात करते हुए कुछ विशेषणों का उपयोग करने लगते हैं: वह पतली लड़की, वह घड़े जैसे पेट वाला आदमी, वह महिला जो बड़ी नाक वाली है, वह गोरा बच्चा..आदि। जब कोई बच्चा इन उपनामों को सुनता है, तो वह विश्वास करने लग सकता है कि लुक्स किसी भी व्यक्ति  की पहचान का बहुत बड़ा हिस्सा है।

आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले शब्दों का प्रभाव: कई परिवारों में, 'मोटा' या 'काला' शब्द का उपयोग 'बदसूरती' के लिए किया जाता है। ("छी..! वह बहुत काली है!"), जबकि 'स्लिम' और 'गोरा' स्वीकार्य होने के लिए उपयोग किया जाता है। अपने बच्चे को यह बताकर इन शब्दों के लांछन को हटा दें, कि ये शब्द सिर्फ आकृति का वर्णन करते हैं, और व्यक्तित्व से यह किसी भी तरह से जुड़े हुए नहीं हैं।

भोजन से आप कैसे संबंधित हैं इस बारे में स्पष्टता की कमी: क्या आप किसी विशेष डिश को दूसरी बार लेने से इंकार करते हैं, क्योंकि आप मोटे हो जाने को लेकर चिंतित हैं? क्या आप अपने वजन की चिंता के कारण कुछ निश्चित खाद्य पदार्थों को नहीं खाते हैं? बच्चों की उपस्थिति में आहार या 'मोटापा बढ़ाने वाले' खाद्य पदार्थों के बारे में बात करने से बचें, क्योंकि यह बच्चों में धारणा बना सकता है कि वजन-संबंधी सभी समस्याओं का कारण भोजन ही होता है।

इसके बजाय आप यह कर सकते हैं

बिना शर्त स्वीकृति: अपने बच्चे से बात करें और समझाएं कि वह कौन है और उसे जिस रूप में देखा जाता है, वह कई चीजों को मिलाकर आंका जाता है, लुक्स तो उसका सिर्फ एक हिस्सा है। आप उसे बता सकते हैं कि वह अपने लुक्स या वजन से कहीं बढ़कर है, और सौंदर्य का त्वचा के रंग से कोई लेना देना नहीं होता है। जब भी आप उसके बारे में या उससे बोलते हैं, तो- छोटू, लंबू, मोटू जैसे शारीरिक छवि बताने वाले शब्दों से पुकारने से बचें। कभी-कभी, माता-पिता इन शब्दों को बिना किसी गलत मतलब के प्यार में कहते हैं, लेकिन ये शब्द बच्चे को अवचेतन स्तर पर प्रभावित कर सकते हैं। अगर वह अपने लुक्स के बारे में चिढ़ाया जा रहा है, तो आप उसे बताएं कि वह जिस तरह का है उसी से आप प्यार करते हैं। उसकी उस तरह प्रशंसा करें जो उसके लुक्स पर आधारित न हो। उसे बताएं कि आपको विशेष रूप से उसमें क्या सराहनीय लगता है: उसके गुण, उसकी प्रतिभा, या जो वह करता है।

उनके शरीर के बारे में उनसे बात करें, और उनकी उम्मीदों में बदलाव करें: जैसे-जैसे बच्चे यौवनावस्था तक पहुंचते हैं और शारीरिक परिवर्तन का अनुभव करते हैं, वे अपने शरीर के साथ आत्म-जागरूक या असहज महसूस कर सकते हैं। अपने बच्चे के साथ बातचीत करें कि वे किस शारीरिक परिवर्तन की उम्मीद कर सकता है और ऐसे परिवर्तन क्यों होते हैं। जो बच्चे अपने साथियों के पहले या बाद में परिपक्व होते हैं (सहायक यौन लक्षण विकसित होते हैं) उन्हें तालमेल बैठाने में परेशानी हो सकती है। इस बात पर जोर दें कि अलग-अलग बच्चों में बढ़ने की गति अलग-अलग हो सकती है।

सलाहपूर्ण बातचीत को खुला रखें: अपने बच्चे को यह जताएं कि आप उनकी चिंताओं के बारे में सुनना चाहते हैं और उनके किसी भी प्रश्न का उत्तर देना चाहते हैं। जब वे आपसे बात करते हैं, तो तुरंत प्रतिक्रिया देने या तत्काल समस्या ठीक करने का प्रयास किए बिना पहले उन्हें पूरी तरह सुनें। उन्हें बोलने दें कि उन्हें कैसा महसूस होता है। उनकी चिंताओं को सामान्य बनाने में मदद करें ("मुझे याद है कि मुझे भी अपनी किशोरावस्था में मुंहासे की परेशानी होती थी और यह सोचकर चिंता करती थी कि दूसरे क्या कहेंगे..."), और यह समझने की कोशिश करें कि उन्हें किस चीज से परेशानी हो रही है।

आकार पर नहीं, फिटनेस पर जोर दें: अपने बच्चे को यह समझने में सहायता करें कि अलग-अलग लोगों का शरीर अलग-अलग होता है और शरीर के प्रकार को लेकर सही या गलत जैसी कोई चीज नहीं है। उन्हें फिटनेस परिप्रेक्ष्य से अपने शरीर को देखने के लिए प्रोत्साहित करें: क्या वे ऐसे कार्य करने में सक्षम हैं, जो उनकी उम्र के अन्य बच्चे कर रहे हैं? क्या वे शारीरिक रूप से सक्रिय हैं? क्या उन्हें पर्याप्त नींद आ रही है? क्या उनमें नियमित दिन गुजार पाने की ताकत है? वजन के बजाय इन लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करें। यदि आप बच्चे से उसके वजन के बारे में बात करना चाहते हैं, तो तथ्यात्मक और ईमानदार रहें: "मुझे चिंता है कि इससे तुम्हारे दिल या हड्डियों पर असर पड़ेगा, वैसे ही जैसे बुखार या सर्दी का तुम्हारे शरीर पर असर पड़ता है।"

भोजन के साथ स्वस्थ संबंध पैदा करें: अपने बच्चे को शरीर की जरूरतों पर ध्यान देने के महत्व को समझने में मदद करें और जब शरीर को खाने की भूख लगी हो, तब खाओ। यदि आप स्वास्थ्य के बारे में चिंतित हैं, तो आप एक सामान्य दिशा निर्देश तैयार कर सकते हैं कि बच्चा कब या कितनी बार जंक फूड खा सकता है।

खुद को दयालु बनाए रखें: पेरेंटिंग आसान नहीं है। हम में से अधिकांश अपने शरीर के बारे में मान्यताओं और पूर्वाग्रह से ग्रस्त हैं और इसे कुछ हफ्तों या महीनों में बदलना मुश्किल है। यदि आप ऐसा कुछ करते हैं जो आपको पसंद नहीं हैं, खुद को दयालु बनाए रखें और याद रखें कि आप सबसे अच्छा प्रयास कर रहे हैं।