इंटरनेट आपकी मानसिक बीमारी का निदान क्यों नहीं कर सकता है

ऐसा हम में से कितनों ने किया है? एक हफ्ते से अधिक समय तक लगातार सिरदर्द होने पर 'लगातार सिरदर्द’ गूगल करना; रात के खाने के बाद 'सीने में दर्द' के विषय में तुरंत खोज कराना; और यदि आप विशेष रूप से चिंतित हैं तो शायद 'दिल के दौरे के संकेत' जानने की कोशिश करना।

आत्म-निदान पिछले अनुभवों या इंटरनेट या किताबों जैसे लोकप्रिय मीडिया पर उपलब्ध जानकारी के आधार पर अपनी बीमारी का निदान करने की प्रक्रिया है, चाहे वो भौतिक हो या मानसिक।

बीमारी के संभावित संकेतों पर जानकारी पाना निश्चित रूप से महत्वपूर्ण है और ऐसी जानकारी आपको सशक्त बनाती है। अच्छी तरह से किये गये शोध से प्राप्त जानकारी हमें अपने लक्षणों को समझने में मदद करती है ताकि हम विशेषज्ञ से सलाह ले सकें और प्रारंभिक हस्तक्षेप कर सकें। हालांकि, इसका नकारात्मक प्रभाव यह है कि हम अक्सर उन बीमारियों के सूचीबद्ध लक्षणों पर हमारे लक्षण को आरोपित कर लेते हैं, और इससे हम घबरा सकते है या खुद से दवाइयां लेनी शुरू कर सकते हैं।

इसलिए हम संभवतः ऐसे निष्कर्षों तक पहुंच जाते हैं जैसे कि रात के खाने के बाद के छाती का दर्द शायद दिल का दौरा है, या बारिश के मौसम के दौरान सुस्त महसूस करना अवसाद है। यदि आप अपने स्वास्थ्य के बारे में चिंतित महसूस कर रहे हैं, तो जब भी आप अपने लक्षणों को लेकर उत्कंठित महसूस करें, तब किसी चिकित्सक से परामर्श करना सबसे अच्छा होता है। मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के मामले में यह अत्यधिक महत्वपूर्ण है।

मानसिक बीमारियों के लक्षण फ्लू के लक्षणों की तरह स्पष्ट नहीं होते हैं। वे लक्षण एक समूह के रूप में होते हैं और ये इतने सूक्ष्म होते है कि केवल एक प्रशिक्षित मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ ही पहचान और निदान कर सकता है। उदाहरण के लिए, हल्के, मध्यम या गंभीर अवसाद का निदान तभी किया जा सकता है जब पीड़ित व्यक्ति का एक मनोवैज्ञानिक और / या एक मनोचिकित्सक द्वारा नैदानिक ​​परीक्षण हो, और साथ ही डीएसएम-वी (अमेरिकन साइकोट्रिक एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित डायग्नोस्टिक और मानसिक विकारों के सांख्यिकीय मैनुअल) और आईसीडी -10 (विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किए गए रोगों का अंतर्राष्ट्रीय वर्गीकरण) में निर्धारित दिशानिर्देशों के आधार पर पूरी तरह से जांच हो।

मानसिक बीमारी का आत्म-निदान करने से मानसिक बीमारी का जोखीम मात्रा से अधिक संगीन या महत्वहीन लग सकता है, और यह दोनों परिस्थिति आपके लिए खतरनाक हो सकते हैं।

हाइपोथायरायडिज्म या मधुमेह के साथ 'कॉमोरबिड' रूप से प्रत्यक्ष स्वास्थ्य समस्या को आप अवसाद समझ सकते हैं (शब्द 'कॉमोरबिड' एक ऐसी बीमारी को संदर्भित करता है जो किसी अन्य चिकित्सकीय स्थिति के साथ मौजूद रहता है)। या, उत्कंठा विकार के लक्षणों को साधारण तनाव का एक दौर समझकर आप सहायता की खोज नहीं करते हैं।

ओसीडी या द्विध्रुवीय विकार जैसी मानसिक बीमारी को महत्वहीन करना उन लोगों के प्रति भी हानिकारक हो सकता है जो उनसे पीड़ित हैं, क्योंकि आपको लग सकता है कि आपको भी ऐसा कुछ हुआ है जबकि वास्तव में ऐसा नही है। यह उनकी अवमानना है जो नैदानिक रूप से बीमार हैं।

खुद के लिए दवा निर्धारित करना भी मानसिक रोग के आत्म-निदान में एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। सिरदर्द एक गोली से ठीक हो सकती है, लेकिन मनोवैज्ञानिक दवाओं के अक्सर अन्य प्रभाव होते हैं और इनके सेवन का परामर्श व्यक्ति के अन्य मुद्दों को परखने के बाद दिया जाता है। दवा के अलावा, मनोवैज्ञानिक उपचार में एक प्रशिक्षित मनोवैज्ञानिक द्वारा थेरेपी जैसे चिकित्सकीय हस्तक्षेप भी शामिल है।

तो ऑनलाइन जानकारी उपलब्ध क्यों है?

स्वास्थ्य समस्या के बारे में जानना और इंटरनेट पर लक्षणों के बारे में खोज करना या विश्वसनीय सुत्रों से जानकारी प्राप्त करना बिलकुल ठीक है। पर, शोध के बाद हमेशा एक मनोचिकित्सक से सलाह लें, जो आपकी हालत का सटीक और प्रासंगिक निदान करने में सक्षम है।

मानसिक बीमारियों के मामले में हमारे बीच समझ की कमी है। लक्षणों के विषय में पढ़कर व्याकुल होने की सम्भावना रहती है, लेकिन हमारे लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि हमें चिकित्सा सहायता की आवश्यकता कब पड़ सकती है। मानसिक स्वास्थ्य और मानसिक बीमारियों के बारे में जानकारी देने वाले वेबसाइट मानसिक बीमारियों के लक्षणों को जानने और समझने में मदद करते हैं, उपलब्ध उपचार की जानकारी देते हैं, और चिकित्सकों को ढूंढने में मदद करते हैं, ताकि हम चिकित्सकीय हस्तक्षेप के बारे में सोच-समझकर निर्णय ले सकें।

यह लेख दिल्ली स्थित क्लीनिकल मनोवैज्ञानिक डॉ गारिमा श्रीवास्तव केद्वारादी गयी जानकारी के आधार पर लिखा गया है। उन्होंने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान,दिल्ली से पीएचडी की डिग्री हासिल की है।

Was this helpful for you?