तनाव क्या है?

रोजमर्रा की जिंदगी में हम सभी तनाव महसूस करते हैं। किसी भी परिस्थिति या हालत में तनाव पैदा हो सकता है। एक बच्चे को स्कूल जाने के बारे में तनाव हो सकता है, एक किशोर को अपने सहयोगियों द्वारा स्वीकार न किए जाने के बारे में तनाव हो सकता है, किसी वयस्क को अपने काम या रिश्ते में सफल होने के बारे में तनाव हो सकता है। तो, तनाव का मतलब आखिर क्या है?  

जब हम यह कहते हैं कि हमें तनाव हो रहा है, तो सामान्यतया इसका मतलब होता है कि परिस्थिति की जरूरत को चुनौतीपूर्ण मान रहे हैं या हम परेशानी और बेचैनी महसूस कर रहे हैं। डॉ. विलियम आर लोवेलो अपनी किताब स्ट्रेस एंड हेल्थ में तनाव को उस स्थिति के रूप में दर्शाते हैं, जिसमें दो घटक हैं-  पहला भौतिक घटक, जिसमें प्रत्यक्ष शारीरिक परिवर्तन शामिल हैं; और दूसरा मनोवैज्ञानिक घटक, जो इस बात से संबंधित है कि कैसे व्यक्ति अपने जीवन में परिस्थितियों को समझते हैं।

जीवन की चुनौतियों का सामना करते हुए हम सभी को तनाव का सामना करना पड़ता है। हमारे जीवन में ऐसी कई स्थितियां होती हैं जिनमें तनाव पैदा करने की क्षमता है: वाहन चलाने और खाना पकाने जैसी नियमित घटनाओं से लेकर परीक्षा की तैयारी, नौकरी के लिए इंटरव्यू में भाग लेना या किसी नई जगह पर जाने जैसी प्रमुख घटनाओं के लिए; और प्राकृतिक आपदाओं या गंभीर बीमारी होने जैसे बड़े संकट।

प्रतिक्रिया या उत्तेजना के रूप में तनाव

किसी चुनौतीपूर्ण या धमकाने वाली घटना या परिस्थिति का सामना करना भी तनाव पैदा कर सकता है। इसलिए, तनाव या तो स्वाभाविक रूप से हमें क्रिया करने (उत्तेजना के रूप में) के लिए प्रेरित कर सकता है या स्वाभाविक प्रतिक्रिया (प्रतिक्रिया स्वरूप) का कारण बन सकता है। तनाव ऐसी घटनाएं या परिस्थितियां हैं जिन्हें हम आम तौर पर तनावपूर्ण मानते हैं, उदाहरण के लिए, परीक्षा के लिए तैयारी और परीक्षा देना, किसी नए घर में जाना, कोई नई नौकरी खोजना, या कोई भी ऐसी घटना, जिसके लिए हमें ढलने और बदलने की आवश्यकता होती है। हम किसी भी ऐसी घटना या परिस्थिति पर क्या प्रतिक्रिया करते हैं, जिसे खतरनाक या चुनौतीपूर्ण माना जाता है, इसी से शारीरिक और मनोवैज्ञानिक तनाव का निर्धारण होता है। इसी दबाव को तनाव के रूप में महसूस किया जाता है। जब हम तनावग्रस्त होते हैं, तो हम घबराहट महसूस कर सकते हैं; कभी-कभी, दिल तेजी से धड़कता है, मुंह सूख जाता है, या हम पसीना-पसीना हो जाते हैं। कुछ लोगों में और कुछ परिस्थितियों में तनाव का यह अनुभव आतंक के स्तर तक बढ़ सकता है।

तनाव एक आत्मगत अनुभव है

यदा-कदा हम सभी किसी न किसी रूप में तनाव का सामना करते हैं। बिना किसी तनाव के, हमारा जीवन एकरस हो जाएगा और शायद हमें व्यक्तिगत रूप में सीखने और विकसित करने का अवसर नहीं मिलेगा। जीवन में कुछ प्रकार के तनाव अच्छे होते हैं, और वे जीवन के हमारे अनुभव को बढ़ाते हैं, जैसे कि जीवन परिवर्तनकाल-  पहली बार स्कूल में कदम रखना, काम करना शुरू करना, शादी करना या माता-पिता बनना।

अन्य तनावपूर्ण स्थितियां ये हो सकती हैं:

  • आकस्मिक घटनाएं: दुर्घटनाएं, किसी प्रियजन की अचानक मौत या उन लोगों की अनपेक्षित प्रतिक्रियाएं जिन्हें हम महत्व देते हैं
  • जिन स्थितियों में हम स्पष्टता चाहते हैं: एक रोगी जिसे अपने स्वास्थ्य या उपचार के बारे में ज्ञान की कमी है
  • अवांछित परिस्थितियां: किसी प्रियजन को खो देना, सामान या संपत्ति की हानि
  • ऐसी स्थितियां जो हमारे नियंत्रण से बाहर प्रतीत होती हैं: किसी दर्दनाक अनुभव के बारे में सोचना बंद नहीं कर पा रहे हों

कभी-कभी हम थोड़े समय के लिए तनाव का अनुभव करते हैं। कुछ स्थितियों में यह लंबे समय तक जारी रहता है। कुछ स्थितियों में हम  तीव्र तनाव का अनुभव कर सकते हैं और कई बार हमें किसी भी तरह के तनाव का अनुभव नहीं हो सकता है।

कुछ अनुभव जो किसी एक व्यक्ति के लिए तनावपूर्ण हो सकते हैं (उदाहरण के लिए, परीक्षा में शामिल होना या किसी नए शहर में जाना), वही कारण अन्य किसी के लिए तनाव पैदा करने वाले नहीं बन सकते हैं, यहां तक कि दूसरों के लिए यह उत्साहित करने वाले हो सकते हैं। इसलिए, तनाव का अनुभव व्यक्ति से व्यक्ति और समय-समय पर भिन्न होता है। किसी भी दी गई स्थिति में, हम तनाव का अनुभव कैसे करते हैं और इसका स्तर इस बात पर निर्भर करता है कि हम इस स्थिति के आधार पर इसका मूल्यांकन कैसे करते हैं:

  • स्थितियों से मुकाबला करने के लिए हमारे बायोसाइकोसोशल संसाधन जैसे शरीर की भौतिक स्थिति, दिमाग की स्थिति (हमारे विचार, भावनाएं और व्यवहार) और सामाजिक सहायता
  • स्थिति की मांगें
  • व्यक्ति के संसाधनों और स्थिति की मांग के बीच कोई विसंगति, यानी उच्च मांग और कम संसाधन या कम मांग और उच्च संसाधन।

हालांकि तनाव जीवन का एक हिस्सा और पार्सल के रूप में आता है, हम स्थिति का आकलन कैसे करते हैं, हमारी भलाई के लिए स्थिति को किस अर्थ में लेते हैं और हमारे संसाधनों का उपयोग कैसे करते हैं, यही तनाव से निपटने की हमारी क्षमता निर्धारित करते हैं।

तनाव के प्रभाव को घटाना

आमतौर पर तनाव को टाला नहीं जा सकता है और ऐसा कुछ है जिसका हम सभी को सामना करने की ज़रूरत है। यहां तक कि अगर हम में से कुछ के पास तनाव से निपटने के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं हैं, तो कुछ सक्रिय तरीके जो इसके प्रभाव को रोकने या कम करने में मदद कर सकते हैं:

  • सामाजिक समर्थन बढ़ाना: तनाव के दौरान दूसरों से सहायता लेना और मदद तलाशने से तनाव के कारण होने वाली समस्याओं को रोकने में मदद मिलती है
  • अपने व्यक्तिगत नियंत्रण में सुधार लाना: व्यक्तिगत नियंत्रण की एक अच्छी भावना हमें तनावपूर्ण स्थितियों को चुनौती के रूप में देखने में मदद कर सकती है और हमारी आत्म-क्षमता को मजबूत करती है
  • जीवन को बेहतर तरीके से व्यवस्थित करना: अपनी दुनिया को व्यवस्थित करने से निराशा, समय की बर्बादी और तनाव की संभावना को कम करने में मदद मिल सकती है। उदाहरण के लिए, समय प्रबंधन और चीजों को व्यवस्थित रखना
  • अपनी जीवनशैली का ख्याल रखना: नियमित व्यायाम के साथ स्वस्थ और समय पर भोजन करने से स्वास्थ्य पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है और तनाव से निपटने में मदद मिलती है
  • तनावपूर्ण घटनाओं के लिए खुद को तैयार करना: जीवनशैली की कुछ घटनाओं के बारे में जो तनावपूर्ण हो सकती हैं, उनके लिए मानसिक रूप से तैयार होने से हमें उनका सामना करने में मदद मिल सकती है

संदर्भ

हेल्थ साईकोलॉजी: पी सैराफिनो और टिमोथी डब्ल्यू स्मिथ द्वारा बायोसाइकोसोशल इंटरैक्शन्स 

 

Was this helpful for you?