प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया को समझना: इसका वास्तविक अर्थ क्या है?

"जब मैं 17 वर्ष की थी तब मैंने अपनी मां को खो दिया। मेरी छोटी बहन (उस समय 16 वर्ष की थी) और मैं अपनी मां के बहुत करीब थे। मां हमारी दोस्त और हमराज़ थी- जब भी हम किसी चीज़ से संघर्ष कर रहे होते, तो हम उनके पास जाते थे। उनके चले जाने से मैं टूट गयी थी। एक साल बीत जाने के बाद भी, मैं उनकी मौत से उबर नहीं सकी और मुझे चिकित्सक के पास ले जाया गया। मेरी बहन आश्चर्यजनक रूप से इस हादसे से उबर चुकी थी। जब भी हम मां की बात करते, वो उन्हें याद करती और रोती थी। लेकिन उसका जीवन जारी रहा, जबकि मेरा रुक गया।"

मीरा, जिसने अपने अनुभव को ऊपर साझा किया है, हमेशा सोचती थी कि क्या था जिससे उसे अपनी मां की मौत से उभरने में मुश्किल हुई। वह खुद से सवाल पूछती रही कि क्यों वह उस हादसे से निपटने में सक्षम नहीं है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उसने अपनी बहन के साथ खुद की तुलना की और वह समझना चाहती थी कि उसमे क्या कमी थी जिससे वह तनाव पैदा करने वाली स्थितियों के प्रति अधिक संवेदनशील थी।

प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया को समझना

ज्यादातर लोग मानते हैं कि ऐसा कुछ है जिसके कारण लोग एक समान परिस्थितियों का सामना करने के बावजूद उनसे अलग-अलग तरीकों से निपटते है। उनका मानना ​​है कि यह अंतर केवल इस बारे में नहीं है कि वे लोग किस तरह के हैं या उनके अनुभव क्या हैं। कुछ है जो आंतरिक और अंतर्निहित है, जिसे प्रारंभ में एक विशेषता के रूप में अवधारणाबद्ध किया गया था जो लोगों को अजेय और अभेद्य बनाता है। इसे 'प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया' कहा जाता है और यह वह कारक है जो एक तनावपूर्ण स्थिति में अलग-अलग व्यक्तियों को प्रतिक्रिया देने, अभिक्रिया देने और आखिरकार इससे उबरने में मदद करता है।

लेकिन वर्तमान में इस शब्द की हमारी समझ में बदलाव आया है। प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया अब किसी प्रतिकूल परिस्थिति के अनुसार रूपांतरित होने की व्यक्ति की क्षमता के रूप में जाना जाता है।

ऐतिहासिक रूप से, हम प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया का वर्णन करने के लिए बाढ़, भूकंप, भूस्खलन और अन्य प्राकृतिक आपदाओं के पीड़ितों का उदाहरण ले सकते हैं। हाल ही में, केरल में बाढ़ ने इसी तरह की स्थिति पर प्रकाश डाला, जहां कुछ ऐसे लोग थे जिन्होंने अत्यधिक ताकत और इच्छा शक्ति प्रदर्शित की। इसके बावजूद की उनका सब नष्ट हो गया था, वे उन लोगों की मदद करते रहें जो उनसे बेहतर, उनके जैसी या उनसे भी बत्तर स्थिति में थे।

क्या प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया “है या नहीं है” वाली स्थिति है?

प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया कोई लक्षण नहीं है जो किसी में होता है और किसी में नहीं होता। लोगों की अलग-अलग परिस्थितियों में प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया भिन्न होती हैं।

"मुझे लगता है कि मैं कमजोर हूँ। मैं किसी भी स्थिति से निपट नहीं सकती" - मीरा का यह जवाब तुरंत आया,जब उससे पूछा गया कि वह मुश्किल परिस्थितियों से निपटने की अपनी क्षमता के बारे में क्या सोचती थी। उसका पति उसके बगल में बैठा था और इंकारी ढंग से हलके-हलके सिर हिला रहा था। जब पूछा गया कि वह क्या सोच रहा था,तो उसने कहा, "मुझे नहीं लगता कि यह सच है। हमारे विवाह के बाद हमने काफी मुश्किल समयनिकालाथा क्योंकि मेरे माता-पिता हमारी शादी से खुश नहीं थे। हमारा प्रेम विवाह था, और मेरी खातिर मीरा ने हमेशा मेरे माता-पिता के साथ अच्छा व्यवहार करने की कोशिश की है,उन का ध्यान रखती है और उनके साथ मिलकर चलने की कोशिश करती हैं,भले ही वे उसके साथ कितना ही बुरा और कठोर व्यवहार करते हो।"

अधिकांश लोगों की तरह मीरा, मुश्किल पारिवारिक परिस्थिति से निपटने में अपने प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया को नहीं देख पा रही थी और खुद में विश्वास की कमी से ये भावना और दृढ़ हो रही थी।

प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया की अनुकूली प्रक्रिया किसी शुन्य में या ''है या नहीं है' तरीके से नहीं होती है। लोग एक संदर्भ में एक तरह की प्रतिक्रिया देते हैं। जैसे-जैसे परिस्थितियों में भिन्नता और परिवर्तन होता है, प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया का स्तर भी भिन्न होता है। एक लम्बे समय तक लगातार तनाव एक व्यक्ति की प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया को कमजोर कर सकता है और परिस्थितियों का सामना करना मुश्किल हो सकता है।

इससे हमें यह समझने में मदद मिलती है कि प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया को बेहतर बनाया जा सकता है, और यह कुछ चुनिंदा विशेष लोगों की कोई असाधारण विशेषता नहीं है।

प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया का निर्माण

परिस्थितियों में प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया की उन्नति और इसे बनाए रखने में एक व्यक्ति, उसके परिवार और समुदाय की भूमिका अहम होती है। लोगों के प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया के निर्माण के लिए कई करकों का संयोजन चल रहा होता है।

1। प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया की सक्षमता का अर्थ है अक्सर मुश्किल भावनात्मक अनुभव,परेशानी और आघात का अकेले सामना करना। कठिन परिस्थिति से जूझने का आपका अनुभव आपको मजबूत कर सकता है और चुनौतियों से निपटने के लिए आपके मनोबल को सशक्त बनाता है। जब तक आप एक तनावपूर्ण स्थिति का अनुभव नहीं कर लेते हैं, तब तक आप यह नहीं जान पाते हैं कि आप इसका सामना कर सकते हैं या नहीं। प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया के मामले में भी ऐसे ही है। अपने भावनात्मक दर्द और उदासी को सँभालने से ही आपकी प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया सक्षम बनती है।

2। आपके समर्थन प्रणाली के अस्तित्व का ज्ञान आपको प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया के सक्षम बनाता है। यह एक मजबूत और प्रभावी समर्थन प्रणाली बनाने की आवश्यकता पर जोर देता है। घर पर, दोस्तों और आपके कार्यस्थल पर अच्छे संबंध रखने पर ध्यान केंद्रित करना प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया की कुंजी है।

3। अपने आप को,अपनी ताकतों और कमजोरियों को समझने से आप विपत्तियों के लिए बेहतर तैयार हो सकते हैं। आप जो करने और जिसका सामना करने में सक्षम हैं, इस बारे में यथार्थवादी ज्ञान भी आपके प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया को सक्षम बनाता है। जैसे ही आप पहचानते हैं कि आपको एक मुश्किल स्थिति का सामना करना पड़ रहा है, यह आपको सहायता मांगने के लिए सक्षम बनाता है।

4। स्थितियों के लिए अपना दृष्टिकोण बदलें। यह समझना आवश्यक है कि जो आप जिसे संकट के रूप में देख रहे हैं, वह गुजर जाएगा। आज जो असंभव लग रहा है वह कल बीत जायेगा क्योंकि आपको इससे मुकाबला करने का कोई रास्ता मिल जाएगा या परिस्थिति बदल जाएगी।

5। अपनी समस्या सुलझाने और निर्णय लेने के कौशल को बनाने पर ध्यान केंद्रित करें। इन क्षेत्रों में अपनी क्षमता बढ़ाने से आप अपने आप में एक सकारात्मक विश्वास प्रणाली विकसित कर सकेंगे। स्वयं के प्रति सकारात्मक भावना विभिन्न स्थितियों में खुद पर भरोसा रखने और मजबूत रहने का अवसर देती है।

6। सकारात्मक दृष्टिकोण बनाने के लिए आशावाद की संतुलित भावना बनाए रखें। जब भी आप अपने लक्ष्यों की ओर काम करते रहते हैं, उन चीजों को देखें जो अच्छी हैं। समस्याएं हमेशा रहेंगी और कुछ चीजें आशानुरूप नहीं होंगी। लेकिन सम्पूर्ण छवि को देखने से आपको कठिनाइयों का सामना करने के दौरान अपने प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया को बनाये रखने में और स्थिर रहने में मदद मिलती है।

सुझाई गई रणनीतियों के विभिन्न संयोजन अलग-अलग लोगों के लिए काम करेंगे। यह जानने के लिए कि आपके लिए सबसे अच्छा क्या हो सकता है, अपने पिछले अनुभवों को देखें और पता लगाएं कि प्रत्यास्थी प्रतिक्रिया की रणनीति को मजबूत करने में आपके लिए क्या कारगर साबित हुआ था।

कामना छिब्बर फोर्टिस हेल्थकेयर के मानसिक स्वास्थ्य और व्यवहार विज्ञान विभाग में नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक की सलाहकार और मानसिक स्वास्थ्य की प्रमुख हैं।

की सिफारिश की