मानसिक पीड़ा से निपटने में सहायता समूह मददगार साबित हो सकते हैं

सहायता समूह क्या होते हैं?

किसी भी सहायता समूह में वे लोग शामिल हैं जो उसी तरह की कठिनाइयों (या जीवन के अनुभवों) से गुजर रहे हैं। वे सांत्वना देने का एक बड़ा जरिया बन सकते हैं क्योंकि इन समूहों में सदस्यों को अपने अनुभव साझा करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। ये समूह ऐसे व्यक्तियों के लिए खुद को व्यक्त करने के लिए एक सुरक्षित जगह उपलब्ध कराते हैं, एक-दूसरे जुड़ा हुआ महसूस कराते हैं और परिस्थितियों का सामना करने के लिए व्यावहारिक संसाधन प्रदान करते हैं।

एक सहायता समूह किसी भी विषय को लेकर हो सकता है,  जहां कैंसर से शुरू होकर कार्यस्थल पर होने वाले तनाव का सामना करने वाले हो सकते हैं। किन्हीं लोगों द्वारा सामना की जाने वाली समस्या के आधार पर समूह अलग-अलग प्रारूपों का उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, लोगों की सुविधा के लिए समूह किसी मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ की मदद ले सकता है या ऐसी सुविधा देने वाले स्वयंसेवक समूह के सदस्य भी हो सकते हैं। मीटिंग्स या तो आमने-सामने हो सकती हैं या ऑनलाइन प्लेटफार्मों पर हो सकती हैं।

सहायता समूह में क्या होता है?

समूह के लोग नियमित आधार पर (साप्ताहिक से मासिक) मिलते हैं, ताकि उनकी रोजमर्रा सामने आने वाली समस्याओं के बारे में चर्चा की जा सके, जबकि अन्य सदस्य उनकी बातों को बड़े ध्यान से सुनता है और उनकी मदद के लिए किसी संभावित कदम या संसाधनों का सुझाव देता है। अधिकांश सहायता समूहों का उद्देश्य एक ऐसे जोश और समझ के लिए जगह प्रदान करता है जो सदस्यों को आमतौर पर बाहर नहीं मिल सकती है। कभी-कभी, वे किसी विशेषज्ञ को भी आमंत्रित करते हैं जो विशिष्ट तरीके से समस्या का सामना करने या समस्या को समझने के बारे में बात करते हैं जो देखभालकर्ता के सामने आ सकती हैं। उदाहरण के लिए, एक देखभालकर्ता सहायता समूह में बीमारी से ग्रस्त अपने प्रियजनों के साथ बेहतर संवाद के तरीकों के बारे में विशेष जानकारी दी जा सकती है।

सहायता समूह किस तरह सहायक होते हैं?

एक समीक्षात्मक अध्ययन में कहा गया है कि सहयोगी सहायता समूहों का सदस्यों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। भावनात्मक संकट या मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से गुजरने वाला व्यक्ति खुद को अलग-थलग महसूस कर सकता है। उसके लिए अपने जीवन को नए सिरे से चलाना मुश्किल हो सकता है और उसे स्थितियों से समझौता करना पड़ सकता है। ऐसे मामले में, किसी ऐसे व्यक्ति का होना जो आपके समान की स्थिति से गुजर रहा हो, वह आपको स्थिति संभालने के लिए आश्वस्त होने में मदद कर सकता है,  परिस्थितियों का मुकाबला करने के नए तरीके सिखा सकता है या इससे आपको नया दृष्टिकोण भी हासिल हो सकता है।

सहायता समूह परामर्शदाता के जरिए नए सदस्यों की मदद कर सकते हैं जो उनके लिए आश्वासन, उद्देश्य और पूरी तरह से एक अच्छा अनुभव प्रदान कर सकते हैं। यह उस तरह का व्यवहार करने के लिए एक अच्छा मंच भी प्रदान किया जा सकता है जिसमें कोई सदस्य शामिल होना चाहता है और अन्य सदस्यों से प्रतिक्रिया लेने की कोशिश कर रहा है।

जब सहायता समूह से मदद पर्याप्त न हो

बेशक, सहायता समूह पूरी तरह मददगार साबित नहीं हो सकते हैं। कुछ ऐसी परिस्थितियां हैं:

• यदि कोई व्यक्ति सामाजिक परिस्थितियों में चिंता का अनुभव करता है, तो वे आश्वस्त होकर विचार कर सकते हैं कि क्या वे ऑनलाइन समूहों का हिस्सा बनना चाहेंगे।

• यदि समूह के सदस्य अपनी सीमाओं के बाहर हो जाते हैं, तो यह कुछ अन्य सदस्यों को गलत रूप से प्रभावित कर सकता है।

• यदि सदस्य अक्सर मीटिंग्स में शामिल होने के लिए पर्याप्त प्रतिबद्ध नहीं हैं, तो अंततः समूह से धीरे-धीरे सदस्य कम होने लगते हैं और समूह का अस्तित्व खत्म हो सकता है। इससे बहुत सारे सदस्यों का नुकसान हो सकता है और इससे उन्हें दुःख पहुंच सकता है।

• यदि समूह को जांचा परखा न जाए तो इस बात की संभावना है कि समूह में बहुत अधिक विषमता रहे। इससे समूह में बहुत सारी कठिनाईयां हो सकती हैं और इन्हें हल करने में बहुत अधिक समय खराब हो सकता है। इस कारण अधिकांश सदस्य सुरक्षित महसूस नहीं कर सकते हैं और उन्हें मीटिंग्स में भाग लेना भारी लगने लग सकता है।

आप कैसे एक सहायता समूह स्थापित कर सकते हैं?

यदि कोई सहायता समूह आपके लिए ठीक नहीं है या वे आपसे संबंधित कारण पर ध्यान नहीं दे पाते हैं, तो आप खुद किसी सहायता समूह को स्थापित करने पर विचार कर सकते हैं। इसके लिए यहां कुछ बाते बताई गई हैं, जिन्हें ध्यान में रखना होगा:

सामान्य उद्देश्य: किसी समूह की सफलता और कामयाबी लिए, एक ऐसे उद्देश्य का होना महत्वपूर्ण है जिससे सब सहमत हों।

सूत्रधार:एक सूत्रधार वह होता है जो चर्चाओं का नेतृत्व करता है। ये वो लोग होते हैं जो मीटिंग्स कराते हैं, यदि जरूरी हो तो विशेषज्ञों की व्यवस्था करें, सुनिश्चित करें कि चर्चा काम की है, एक सुरक्षित वातावरण को बढ़ावा दें, सदस्यों के बीच टकराव की स्थिति न बने इसका प्रबंध करें और यह सुनिश्चित करें कि समूह अपनी सीमाओं में रहकर व्यवहार करता है।

सदस्य:समूह अपने सदस्यों को एक मापदंड के आधार पर जांच सकता है, या इसमें दिलचस्पी रखने वाले को बुला सकता है। प्रत्येक सदस्य को समूह के नियमों को स्पष्ट रूप से समझाया जाना चाहिए जिसमें यह बात शामिल रहे कि समूह किस तरह एक सुरक्षित स्थान है, गोपनीयता बनाए रखने का महत्व,  सहानुभूतिपूर्वक रहना, अन्य सदस्यों के प्रति असभ्य होने और उन्हें गलत सलाह देने से बचें।

निर्धारित मीटिंग्स:तय करें कि मिलना-जुलना साप्ताहिक, पाक्षिक या मासिक आधार पर होना चाहिए। सदस्यों और समन्वयकों को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि बैठकों के लिए एक निश्चित जगह पर ही हो  और किसी भी परिवर्तन की स्थिति में सदस्यों को पूर्व में सूचित किया जाए। यदि नए सदस्यों को लिया जा रहा है, तो सुनिश्चित करें कि उनके लिए समूह में पर्याप्त जगह है। ध्यान रखें कि कुछ सदस्य देखभालकर्ता हो सकते हैं और उनके पास अपने प्रियजन को छोड़कर आने का कोई सुरक्षित स्थान नहीं हो सकता है।

सहायता समूहों के बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन पढ़ सकते हैं।