माता पिता द्वारा की गयी उपेक्षा और उसका प्रभाव

माता-पिता अक्सर बच्चे के सर्वप्रथम सामाजिक संपर्क होते हैं। वे न केवल बच्चे को प्रभावित करते हैं बल्कि उसके ऊपर अधिकतम नियंत्रण भी रखते हैं। विभिन्न कारणों से माता-पिता  अपने जीवन में इतने व्यस्त हो जाते हैं कि वे अनजाने में बच्चे की ज़रूरतों को अनदेखा कर देते हैं। इसे असम्मलित या उपेक्षित परवरिश की शैली के रूप में जाना जाता है।

परवरिश की शैलियाँ

परवरिश और परवरिश की शैलियां एक लंबे समय तक शोध का विषय रहा है। 1960 में शोध की एक श्रृंखला के माध्यम से, एक प्रसिद्ध विकासशील मनोवैज्ञानिक डायना बाउम्रिंड ने परवरिश की तीन शैलियों का वर्णन किया: आधिकारिक, तानाशाही और अनुमोदित / अनुग्रहकारी। चौथा प्रकार, असम्मलित परवरिश को हाल ही में अन्य शोधकर्ताओं द्वारा सूची में संकलित किया गया है।

असम्मलित परवरिश की शैली की विशेषताएं निम्नानुसार हैं:

• माता-पिता बच्चे के प्रति उत्तरदायी महसूस नहीं करते और उससे भावनात्मक रूप से अनासक्त रहते हैं। बच्चे की भावनात्मक जरूरतें जैसे प्रशंसा, सुरक्षा, प्यार, और पोषण की आवश्यकता को नजरअंदाज कर दिया जाता है।

• बच्चों को अक्सर अनिरीक्षित छोड़ दिया जाता है।

• बच्चें को स्नेह, देखभाल और सौहार्द की कमी होना।

• बच्चे से शिक्षा या व्यवहार के मामले में मुश्किल से कोई उम्मीदें होना।

असम्मिलित परवरिश बच्चे को कैसे प्रभावित कर सकती है?

परवरिश के ऐसे दृष्टिकोण का बच्चे पर नकारात्मक असर हो सकता है। उदाहरण के लिए, एक नन्हा बच्चा अपने दोस्तों के साथ घर पर खेल रहा है और अचानक किसी अन्य बच्चे से खिलौना छीनता है। माता-पिता इसे देख कर भी हस्तक्षेप नहीं करते है। एक छोटे बच्चे होने के कारण, वह अच्छे और बुरे व्यवहार के बीच के अंतर को समझने में सक्षम नहीं है, लेकिन यह समय होता है जब उसे सिखाया जा सकता है कि क्या स्वीकार्य है और उसका व्यवहार उसके आस-पास के अन्य लोगों को कैसे नुकसान पहुंचा सकता है। उपेक्षित परवरिश के कुछ यह परिणाम हो सकते हैं:

• प्रेमरहित महसूस करना: यदि बच्चे बचपन के दौरान महत्वहीन और उपेक्षित महसूस करते हैं, तो वे अन्य संबंधों में इसके महत्व को समझ नहीं पाते। वे प्रेमरहित महसूस कर सकते हैं और इससे उनके आत्म-मूल्य और भविष्य के रिश्तों पर बहुत बड़ा असर हो सकता है।

• निर्भरता का डर: चूँकि बच्चे जीवन में बहुत जल्दी सीख लेते हैं कि उन्हें खुद की जरूरतें का ध्यान रखना होगा, तभी उनकी जरूरतों के लिए किसी पर निर्भर होने का डर विकसित हो सकता है। बाद के चरण में उनके रिश्तों के लिए यह एक बड़ी चुनौती हो सकती है।

• सामाजिक अंतःक्रिया: बच्चें कम उम्र से जिस माहौल में रहते हैं, उसी माहौल से सामाजिक व्यवहार के बारे में सीखते हैं। अगर घर पर उनके साथ हमेशा उपेक्षित व्यवहार किया जाता है, तो दूसरों को अनदेखा करना बच्चे के लिए स्वीकार्य सामाजिक व्यवहार का हिस्सा बन जाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि उचित सामाजिक अंतःक्रिया न होने से वे सामाजिक रूप से अलग थलग हो सकते हैं, असामाजिक व्यवहार प्रदर्शित कर सकते हैं, और सामाजिक रूप से उत्कंठित भी हो सकते हैं।

• धौंस: माता पिता की बच्चों को भ्रष्टाचार और धौंस के प्रति शिक्षित और मार्गदर्शन करने की महत्वपूर्ण भूमिका होती हैं। शोधकर्ताओं ने पाया है कि असम्मिलित परवरिश बच्चों को सहकर्मियों या बड़े भाई बहनों द्वारा धमकाए जाने से पीड़ित कर सकता है क्योंकि माता-पिता बच्चों का मार्गदर्शन करने और खुद को उनके जीवन में शामिल करने में असमर्थ होते हैं।

• नशीले पदार्थों के दुरुपयोग की संभावना: परिवार और विशेष रूप से माता-पिता का समर्थन, उन प्रमुख कारकों में से एक है जो बच्चे के समायोजन को प्रभावित कर सकते हैं। शोध कहता है कि उपेक्षित परवरिश एक बच्चे को पदार्थों के उपयोग के प्रति संवेदनशील बना सकती है और आगे चल कर बच्चा इनका दुरुपयोग भी कर सकता है। यह आचरण की समस्या भी पैदा कर सकता है।

• अकादमिक प्रदर्शन: चूंकि घर पर बच्चे से कोई उम्मीद नहीं की जाती है, इसलिए वह पढाई में बहुत कम या कोई रुचि नहीं दिखा सकता हैं और उसमे उपलब्धियों की प्रेरणा की कमी हो सकती है। अध्ययनों ने इंगित किया है कि बेपरवाह माता-पिता वाले बच्चे कम से कम समायोजित होते हैं और परीक्षा में सबसे कम अंक प्राप्त करते हैं।

कुछ माता-पिता इस दृष्टिकोण का चयन क्यों करते हैं?

माता-पिता शायद ही कभी अपने बच्चों की जानबूझ कर उपेक्षा करते हैं। घर की परिस्थितियां जैसे वित्तीय कठिनाइयां, पति / पत्नी के बीच पारस्परिक संबंध, पति / पत्नी की मृत्यु, या अन्य तरह की कठिनाइयां, माता-पिता का बच्चे की उपेक्षा करने का कारण बन सकता है। इसका बच्चे पर गंभीर नकारात्मक असर हो सकता है।

मुझे कैसे पता चलेगा कि मैं एक असम्मिलित माता या पिता हूं?

यदि आप अपने आप में या किसी दोस्त जिसके संतान हो उसमे, इनमें से कुछ लक्षण पाते हैं, तो संभावना है कि बच्चे को उपेक्षित किया जा रहा है।

• बच्चे के व्यक्तिगत और अकादमिक जीवन में क्या चल रहा है, इससे अनजान है।

• घर पर बच्चे के लिए एक ऐसी सुरक्षित स्थिति प्रदान करने में असक्षम है, जहां वे अपनी भावनाओं को व्यक्त और साझा कर सकते हैं और बदले में प्रतिक्रिया प्राप्त कर सकते हैं।

• बच्चे के साथ समय न बिताना और उन्हें लंबे समय तक घर पर अकेले छोड़ना।

• बच्चे के दोस्तों, शिक्षकों और उन लोगों के बारे में जागरूक नहीं होना जिसके साथ वे अपना अधिकांश समय व्यतीत करते हैं।

• रिश्तेदारों और स्कूल प्रशासन को बच्चे के लिए उपस्थित न हो पाने के बहाने बनाना।

क्या किया जा सकता है?

अगर आपको लगता है कि आपका बच्चा उपेक्षित महसूस कर रहा है, अक्सर सही से तैयार नहीं होता है, स्कूल जाने में कसमसाता है, दूसरों का ध्यान आकर्षित करता है, निर्लिप्त और अलग थलग रहता है, तो उसके जीवन में अधिक सम्मिलित होने से मदद मिलेगी। ऐसा करने के लिए बच्चे के साथ अधिक समय बिताना और उसके जीवन और पढाई पर ध्यान देना शुरू करना होगा। बच्चे की पसंद और नापसंद और स्कूल में वो कैसा प्रदर्शन कर रहा है, इस बारे में रुचि लेने से शुरुआत हो सकती है।

जो माता पिता ऐसी स्थिति में है उन्हें समस्या से बाहर आना होगा। परवरिश के सही रास्ते पर वापस आने के लिए हस्तक्षेप की आवश्यकता है। ऐसी स्थिति वाले बच्चे को भी पेशेवर के हस्तक्षेप की आवश्यकता है। वर्तमान स्थिति की स्वीकृति पहला कदम है। अगर एक अभिभावक को पता चलता है कि दूसरा बच्चे की उपेक्षा कर रहा है, तो उसे अपने साथी का सामना करना और उससे बात करना महत्वपूर्ण है। माता-पिता का इस तथ्य को स्वीकार करने के बाद कि बच्चे को उपेक्षित किया जा रहा है, अगला कदम एक पेशेवर - एक पारिवारिक चिकित्सक या परामर्शदाता से संपर्क करना है। ऐसा करके, माता-पिता अपने निजी मुद्दों के लिए भी मदद ले सकते हैं जो बच्चे के साथ उनके संबंधों में हस्तक्षेप कर रहा है और उन अन्य मुद्दों के लिए भी मदद प्राप्त कर सकते है जो ऐसी परिस्थितियों को जन्म दे रहा है।

की सिफारिश की