युवावस्था में प्रवेश कर रही मेरी बेटी में कौन से बदलाव आ सकते हैं?

यह बात तो सभी को पता है कि युवावस्था की शुरुआत बच्चों में प्रजनन से जुड़े शारीरिक परिवर्तनों के साथ होता है। यह चरण बच्चे के शरीर के अंदर और बाहर होने वाले विभिन्न परिवर्तनों के कारण चुनौतीपूर्ण हो सकता है। यद्यपि युवावस्था के दौरान एक विशिष्ट श्रेणी के परिवर्तन होते हैं, लेकिन इस परिवर्तन का समय और गति हर बच्चे के लिए भिन्न होते हैं। पोषण, आनुवंशिकी, और सामाजिक कारक युवावस्था की शुरुआत का निर्धारण करने में भूमिका निभा सकते हैं। इसलिए, इन महत्वपूर्ण, प्राकृतिक और स्वस्थ परिवर्तनों के प्रति ध्यान और जागरूकता रखने से माता-पिता को मदद मिलती है। ये परिवर्तन इंगित करता है कि बच्चा बचपन से किशोरावस्था में जा रहा है।

साथ ही, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक बच्चे के लिए युवावस्था की शुरुआत अलग-अलग समय पर होती है और आम तौर पर 9 से 14 वर्ष की आयु के बीच होती है। किशोरावस्था की शुरुआत और पर्यन्त में होने वाले परिवर्तनों में शामिल हैं:

• इस दौरान शारीरिक वर्धन और विकास होता है जो लड़कियों और लड़कों के लिए अलग होता है।

• यौन अंगों में परिवर्तन

• भावनात्मक और सामाजिक परिवर्तन

• संज्ञानात्मक परिवर्तन

लड़कियों में अंडाशय और लड़कों में वृषण प्रजनन अंग हैं, और युवावस्था की शुरुआत प्रजनन अंगों में सेक्स (प्रजनन) हार्मोन के स्रवण के साथ होती है। लड़कों के शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन परिवर्तन का कारण बनते हैं और लड़कियों में एस्ट्रोजेन हार्मोन।

अपनी किशोर बेटी में इन परिवर्तनों की अपेक्षा करें:

शारीरिक परिवर्तन:

  • युवावस्था की शुरुआत के दौरान आपकी बेटी के विकास में वृद्धि होगी और उसकी कद लम्बी होगी। लड़कियां आमतौर पर 16-17 साल की उम्र तक बढ़ती है।
  • उसके शरीर का आकार भी बदलना शुरू हो जाएगा। उसके वजन में भी वृद्धि हो सकती है। उसके कुल्हें चौड़े हो सकते हैं। उसके नितंबों, जांघों और पेट के आसपास चर्बी में वृद्धि हो सकती है।
  • आम तौर पर स्तनों का विकास युवावस्था की शुरुआत का पहला संकेत होता है। जघन और काँख के बाल बढ़ने लगेंगे।
  • उसका ऋतुचक्र शुरू हो जाएगा। उसे ऋतुस्रव के पहले या उसके दौरान दर्द या ऐंठन महसूस हो सकता है। कुछ लड़कियों में, पहले कुछ महीनों के दौरान ऋतुस्रव अनियमित हो सकती है।
  • हार्मोनल परिवर्तनों के कारण, उसे त्वचा के तेल और पसीने में वृद्धि का अनुभव हो सकता है। किशोर युवतियों में फुंसियां और मुँहासे एक आम चिंता का कारण है।

भावनात्मक और सामाजिक परिवर्तन:

किशोरावस्था के दौरान, आप अपनी बेटी में सामाजिक और भावनात्मक परिवर्तनों को देख सकते हैं जो इंगित करता है कि वह शारीरिक परिवर्तनों के अनुरूप ढल रही है जिससे उसकी एक स्वतंत्र पहचान बन रही है।

विभिन्न शारीरिक और हार्मोनल परिवर्तनों के कारण, आप निम्नलिखित भावनात्मक परिवर्तनों को देख सकते हैं:

• अलग-अलग समय में दृढ भावनाओं या गहन मनोभावों को प्रदर्शित करना: हालांकि यह अस्थिरचित्तता जैसा प्रतीत हो सकता है, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि उसका मस्तिष्क अभी भी अपनी भावनाओं को संसाधित और अभिव्यक्त करना सीख रहा है।

• भावनात्मक रूप से संवेदनशील होना: वह अभी भी अन्य लोगों की भावनाओं को पढ़ने और संसाधित करने के कौशल को विकसित कर रही है और वह संवेदनशील हो सकती है या कभी-कभी दूसरों की अभिव्यक्तियों या हाव भाव की भाषा को गलत तरीके से परिभाषित कर सकती है।

• आत्म-जागरूक बनना, विशेष रूप से शारीरिक रूप रंग और परिवर्तनों के सम्बन्ध में। वह अपने शरीर की तुलना अपने दोस्तों और साथियों के साथ भी कर सकती है।

आप निम्नलिखित सामाजिक परिवर्तनों को देख सकते हैं:

• पहचान विकसित करने की प्रक्रिया में, वह खुद को जानने और समझने के लिए खुद से पूछताछ और स्वयं का अन्वेषण कर सकती है। पहचान के लिए यह खोज लिंग, सहकर्मी समूह, सांस्कृतिक पृष्ठभूमि, मीडिया, स्कूल और पारिवारिक अपेक्षाओं से प्रभावित हो सकती है।

• खुद को समझने की प्रक्रिया में, वह अपनी आजादी का इस्तेमाल करने की कोशिश कर सकती है और साथ ही कुछ पहलुओं में आपके और आपके पति / पत्नी पर निर्भर रह सकती है। इससे उसके द्वारा किए गए निर्णयों और परिवार और दोस्तों के साथ संबंधों के प्रभावित होने की संभावना है। खुद के लिए और अधिक जगह बनाने के लिए वह आप से दूर हो सकती है।

• साथियों और दोस्तों के साथ बातचीत परिवार पर प्राथमिकता ले सकता है। उसका व्यवहार, आत्म चेतना और आत्म-सम्मान, उसके मित्रों और साथियों की स्वीकृति के आधार पर प्रभावित हो सकता है।

• उसके मस्तिष्क के विकास की प्रकृति ऐसी है कि वह नए अनुभवों को तलाशना चाहेगी। इसलिए, कुछ किशोर (सभी नहीं) उस तलाश के दौरान स्वयं को अधिक जोखिम लेने वाले कार्यों में शामिल कर सकते हैं। लेकिन वे अभी भी अपने आवेगों पर नियंत्रण विकसित कर रहे हैं।

• वह अपनी कामुकता और यौन पहचान भी तलाश सकती है। उसके लिए एक ही या विपरीत लिंग के लिए भावनाओं को विकसित करना स्वाभाविक है। वह रोमांटिक रिश्ते बना सकती है या प्यार में भी पढ़ सकती है।

• वह विभिन्न तरीकों से संवाद कर सकती है। वह दोस्तों के साथ कैसे संचार करती है और दुनिया के बारे में क्या सीखती है, यह मोबाइल, इंटरनेट और सोशल मीडिया से महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित हो सकता है।

संज्ञानात्मक परिवर्तन:

यह वह समय है जब आपके बच्चे का दिमाग बहुत सारे बदलावों से गुज़र रहा होता है। किशोरावस्था वह समय है जब उच्च मस्तिष्क प्रक्रियाएं जैसे भावात्मक विचार, निर्णय लेने की क्षमता, लक्ष्य-निर्धारण और धारना बनाने की क्षमताएं विकसित होना शुरू हो जाती है। आप निम्नलिखित परिवर्तन देख सकते हैं:

• वह और अधिक भावात्मक रूप से सोचने लगेगी और सही और गलत के सम्बन्ध में और सवाल करेगी। इस दौरान वह अपने व्यक्तिगत मूल्यों और नैतिकता को विकसित कर सकती है।

• चूंकि उसके निर्णय लेने के कौशल अभी तक विकसित नहीं हुए हैं, इसलिए उसे कार्यों के परिणामों के बारे में सीखने और समझने में समय लग सकता है।

• वह लक्ष्य निर्धारित करने की दिशा में आगे बढ़ सकती है और अपने कैरियर या शौक के चयन जैसे दीर्घकालिक लक्ष्यों के बारे में सोचना शुरू कर सकती है।

यह जानकरी कि आपकी बेटी शारीरिक, भावनात्मक और सामाजिक रूप से कैसे विकसित हो रही है, आपको उसके इन परिवर्तनों को समझने और समर्थन करने में सहायता मिल सकती है।

की सिफारिश की