परामर्श क्या है? यह कब मदद कर सकता है?

अर्चना रामानाथन

जीवन के किसी दौर में या किसी समय, हम उन चुनौतियों से गुज़रते हैं जो उन कामों से बड़ी होती हैं, जिनसे हम परिचित हैं या जिनसे निपटने में सक्षम हैं। ऐसे में हम अभिभूत, थका हुआ, क्रोधित, असहाय, भयभीत, निराश, दुखी या यहां तक ​​कि अक्षम भी महसूस कर सकते हैं। कभी-कभी, परिस्थितियों के प्रति हमारी प्रतिक्रिया हमें परेशान कर सकती है या हमें परेशान महसूस करा सकती है। हमारा जीवन किसी तरह से ठहरा हुआ सा लग सकता है। ऐसे समय में, परामर्श एक सहानुभूतिपूर्ण किसी की कठिनाइयों के बारे में बात करने का एक सहायक तरीका हो सकता है और यह किसी को चुनौतियों का सामना अधिक प्रभावी ढंग से या अर्थपूर्ण तरीके से करने में मदद कर सकता है।

आइए निम्नलिखित लोगों और उनकी स्थितियों पर नज़र डालें।

43 वर्षीय राजन एक सफल उद्यमी हैं। वह आर्थिक रूप से सुदृढ़ हैं। उनका एक प्यारा परिवार है। अपने बचपन में राजन को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ा और अपने संघर्षों को दूर करने और जीवन के इस मुकाम पर पहुंचने के लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की है। हालांकि, तेजी से आगे बढ़ने की नाखुश भावना के कारण आराम करने या आनंद लेने में खुद को असमर्थ महसूस करते हैं और लगातार तनाव में रहते हैं। हाल ही में उनके गुस्से में फट पड़ने की घटनाएं हुईं और इसने उनके व्यक्तिगत और व्यावसायिक संबंधों को प्रभावित करना शुरू कर दिया है।

35 साल की लक्ष्मी, बैठकों के एक लंबे और थकाऊ दिन और एक तनावपूर्ण यात्रा से वापस लौटीं। घर आने के बाद वह बिस्तर पर जाकर अपनी सारी चिंताओं को भूल जाना चाहती थीं। आखिरी चीज, जो वह चाहती थीं वह ये कि अपने पति के साथ बातचीत करे। हमेशा यह इस तरह शुरू होने लगा - एक साधारण बातचीत, जो आखिर में एक बड़ी लड़ाई में खत्म हो जाती थी। वह घर लौटने से नफरत करने लगी और कामना करने लगी कि वह कहीं और ही चली जाए।

अमित, 19 साल का तीव्रबुद्धि कॉलेज छात्र था। वह ऊर्जा और मैत्री से भरा था। हालांकि, जब परिवार को उसके पिता की गंभीर बीमारी का पता चला, तो घर की स्थिति अचानक बदल गई - उसकी मां अपने पति की देखभाल में व्यस्त हो गईं, उसके दादा-दादी मां के साथ हाथ बंटाने लगे। वह जान चुका था कि उसका परिवार वित्तीय संकट में था। उसने अपनी पढ़ाई जारी रखने की पूरी कोशिश की, लेकिन खुद को अन्य लोगों से डिस्कनेक्ट, निराशाजनक और अकेला महसूस करने लगा। उसने अपने दोस्तों से भी दूरी बना ली। उसे डर था कि उनके पिता मर सकते हैं और वह ये सोचता था इसके बाद उसका और उसके परिवार का क्या होगा। फिर भी परिवार में कोई इस बारे में बात नहीं करता था। यह कमरे में हाथी जैसी स्थिति थी।

क्या काउंसिलिंग राजन, लक्ष्मी और अमित की मदद कर सकती है? इन सभी मामलों में, सीधा सा जवाब हाँ है, परामर्श से सहायता मिल सकती है।

परामर्श हर किसी के लिए है

परामर्श हर किसी के लिए है  और जब चीजें मुश्किल या हद से बाहर लगती हैं तो यह विशेष रूप से सहायक हो सकती है। परामर्श एक प्रक्रिया और यात्रा है जो हमें खुद को बेहतर तरीके से समझने में मदद कर सकती है, और जिस स्थिति का हम सामना कर रहे हैं उस स्थिति पर स्पष्टता और परिप्रेक्ष्य विकसित कर सकती है। यह हमें अपने जीवन के अनुभवों को समझने, हमारी चुनौतियों का सामना करने, बदलाव की सुविधा, आत्म-सम्मान बढ़ाने और लचीलापन खोजने के बेहतर और रचनात्मक तरीकों की पहचान करने में भी मदद कर सकता है। ये सभी व्यक्तिगत विकास में योगदान दे सकते हैं और एक पूर्ण जीवन जीने के लिए अपने साथ गहरा संबंध बना सकते हैं।

कभी-कभी उन चिंताओं या ज्वलंत समस्याओं को दबा दिया जा सकता है, जिन पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है। बाकी समय,अतीत के पुराने अनुभव हमारे वर्तमान अनुभव को, व्यवहार को और रिश्तों को प्रभावित कर सकते हैं। किसी स्तर पर, भविष्य के लिए संभावनाओं का पता लगाने की आवश्यकता हो सकती है, या अधिक एकीकृत और आत्म-जागरूक महसूस हो सकता है। चिंता की प्रकृति के बावजूद, परामर्श एक ऐसी सुरक्षित जगह प्रदान करता है, जहां बिना निर्णय के सुनवाई एवं हमारी अंतर्दृष्टि को विकसित करने और इसे प्रतिबिंबित करने का मौका मिलता है।

हालांकि परामर्श पाने के लिए कई ट्रिगर्स हो सकते हैं, यहां कुछ ऐसे क्षेत्र बताए जा रहे हैं जहां परामर्श बहुत उपयोगी हो सकता है।

• रिश्ते के मुद्दे: पारस्परिक संघर्ष, रिश्तों का टूटना, वैवाहिक और पारिवारिक संघर्ष

• मुश्किल भावनाओं से निपटना: गुस्सा, भय, चिंता, दर्द, अकेलापन, तनाव

• दुर्व्यवहार से निपटना: शारीरिक, यौन, मौखिक या मनोवैज्ञानिक

• घरेलू हिंसा से निपटना

• लिंग पहचान, कामुकता के मुद्दों को समझना

• जीवनकाल की बदलती अवस्थाएं और इनकी चुनौतियों से निपटना: रोजगार, विवाह, अलगाव, तलाक, लालन-पालन, उम्र बढ़ना, सेवानिवृत्ति

• कार्यस्थल के मुद्दे: आपसी टकराव, कार्य प्रदर्शन, करियर आकांक्षाएं और संतुष्टि के साथ ही उत्पीड़न का प्रबंधन

• मानसिक बीमारी जैसे अवसाद एवं स्कित्ज़ोफ्रेनिया से निपटना

• शारीरिक बीमारी से निपटना

• व्यसन, खुद को हानि पहुंचाने और आत्मघाती विचारों से निपटना

• मौत, हानि और शोक से निपटना

• आघात और विकलांगता से निपटना

•  किसी शारीरिक बीमार या मनोरोगी के लिए देखभालकर्ता के रूप में मुकाबला करना

• बच्चों और किशोरावस्था के मुद्दे: व्यवहारिक चुनौतियां, अकादमिक तनाव, पारिवारिक संघर्षों का प्रभाव, सहकर्मी दबाव, धमकी आदि।

जब मैं परिवार या किसी मित्र से बात कर सकता हूं तो मुझे काउंसेलर  से बात करने की ज़रूरत क्यों है?मैं एक काउंसेलर  से क्या उम्मीद कर सकता हूं?

आगे बढ़ते हुए, जब लोग इसकी आवश्यकता पहचानते हैं तो बड़ी संख्या में लोग परामर्शदाता तक पहुंच रहे हैं। हालांकि,  अभी भी बहुत से लोग मानते हैं कि यह वर्जित है या उन्हें सलाह लेने में असहज लगता है। अक्सर यह सोचा जाता है कि परामर्श युवा और दिमागी असंतुलन वाले लोगों, कमजोर बुद्धि वालों या मनोरोगियों के लिए होता है। कुछ का मानना ​​है कि परामर्श सलाह देने के बारे में है और इससे बेहतर यह है कि किसी पहचान वाले व्यक्ति से बात की जाए - जैसे करीबी दोस्त या परिवार के सदस्य।

जब लक्ष्मी ने घर पर अपने झगड़े के बारे में एक करीबी दोस्त से बात की, तो उनके दोस्त ने कहा, " सभी रिश्तों में यह होता है। तुम्हें जैसा लगता है, तुम्हारी समस्याएं उससे बहुत कम जटिल हैं। तुम जानती हो, सब ठीक है। "किसी भी तरह,  यह सुनना लक्ष्मी के लिए किसी भी तरह से मददगार नहीं था। इसके विपरीत, उसने खुद ही दूसरा अनुमान लगाया – कि क्या वह वास्तव में राई का पहाड़ बना रही थी? क्या इस तर्क ने लक्ष्मी को परिस्थितियों से बाहर निकाला?

राजन ने अपने संघर्ष के बारे में अपने चचेरे भाई से बात करने की कोशिश की। उसके चचेरे भाई ने कहा, "मुझे ऐसा मत कहो! आप हमारे परिवार और हमारे रोल मॉडल हैं। जब आप एक कंपनी चला सकते हैं, तो यह सब क्या है? आप साधु नहीं हैं, जो हर समय शांत रहे। चीयर अप! "राजन के पास मिलीजुली भावनाएं थीं – यह परिहास उसे सांत्वना नहीं दे रहा था, और ऐसा लगा कि कोई आलोचनीयता या भावना व्यक्त करना उसके लिए ठीक नहीं था।

किसी मित्र या परिवार के सदस्य से बात करना सहायक हो सकता है और दोस्ताना सलाह अच्छी हो सकती है - लेकिन इसमें उनके व्यक्तिगत पूर्वाग्रह या निर्णय में हस्तक्षेप का खतरा होता है। कभी-कभी,  बोझ डालने के डर से दूसरों से बात करना चिंताजनक हो सकता है। यह भी संभव है कि दूसरे इस स्थिति में न हों कि पर्याप्त रूप से स्थिति को समझें या सहानुभूति रख सकें या वे व्यस्त हो सकते हैं। एक दोस्त या परिवार के सदस्य के लिए दर्दनाक भावनाओं को सुनना मुश्किल हो सकता है या बिना किसी परेशानी के इसे संभालना मुश्किल हो सकता है।

हालांकि, एक परामर्शदाता एक अद्वितीय स्थिति में है - वे एक दोस्त या परिवार नहीं हैं, और सामाजिक रूप से ग्राहक से जुड़े नहीं हैं। एक परामर्शदाता एक उद्देश्यपूर्ण रिश्ते और किसी के अनुभवों के बारे में बात करने के लिए एक सुरक्षित,  गैर-न्यायिक और गोपनीय स्थान प्रदान करता है,  चाहे वे मुश्किल या दर्दनाक हों। एक परामर्शदाता एक प्रशिक्षित पेशेवर है जो सैद्धांतिक पृष्ठभूमि वाला होता है, चिकित्सकीय कौशल की समझ,  साधन और दृष्टिकोण का उपयोग करता है जो ग्राहक की आवश्यकताओं के लिए सबसे उपयुक्त हैं। एक परामर्शदाता महत्वपूर्ण रूप से सहानुभूति, सहारा और गोपनीयता प्रदान करता है,  उचित होने पर ग्राहक को आगाह करता है। यह जानना भी महत्वपूर्ण है कि परामर्श किसी समस्या को हल करने के लिए सलाह लेने के बारे में नहीं है - बल्कि, यह आत्म-प्रतिबिंब को प्रोत्साहित करने की एक प्रक्रिया है जो किसी व्यक्ति को उसकी समस्याओं से निपटने और स्वयं को सशक्त बनाने के मार्ग पर पहुंचने में मदद कर सकती है।

जबकि प्रत्येक परामर्शदाता की काम करने की एक अलग शैली हो सकती है, शुरुआत में यह उम्मीद करना उचित होता है कि शुरुआत में,  एक परामर्शदाता ग्राहक की कठिनाई की प्रकृति को समझने में कुछ समय लगाएगा। एक परामर्शदाता ग्राहक के परिवार, रिश्ते और स्वास्थ्य पृष्ठभूमि का पता लगाएगा और उपचार के लिए लक्ष्यों की पहचान करने के लिए उनके साथ काम करेगा। इसके बाद, परामर्शदाता अपने लक्ष्यों की दिशा में आगे बढ़ने के लिए, ग्राहक के साथ चिकित्सा प्रक्रिया में संलग्न होगा।

एक परामर्शदाता एक चिकित्सकीय पेशेवर नहीं है और दवा का निदान या निर्धारण नहीं करेगा। एक परामर्शदाता ग्राहक की चिकित्सकीय आवश्यकताओं को देखते हुए मनोचिकित्सकों और नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिकों जैसे अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ सहयोग कर सकता है।

**यहां वर्णित लघु वृत्तांत लोगों के वर्णन के लिए रखे जाते हैं और यह वास्तविक ग्राहकों का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं।

अर्चना रामानाथन परिवर्तन काउंसलिंग ट्रेनिंग एंड रिसर्च सेंटर के साथ एक अभ्यास सलाहकार है।