मेरे बच्चे हर समय क्यों लड़ते रहते हैं?

माता-पिता ने अपने बच्चों को एक दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा करते या एक दूसरे के साथ लड़ते देखा होगा। कभी-कभी बच्चों का एक दूसरे के साथ मिलकर रहना या आपसी संतुलन बनाए रखना असंभव सा लग सकता है। बच्चों के बीच एक सतत प्रतिद्वंद्विता उनकी दोस्ती और पारिवारिक माहौल को भी प्रभावित कर सकती है।

सहोदर प्रतिद्वंद्विता क्या है?

सहोदर प्रतिद्वंद्विता को सहोदरों के बीच मौजूद प्रतिस्पर्धा या ईर्ष्या के रूप में परिभाषित किया जाता है। यह आपसी हो सकता है या एक बच्चे के दूसरे बच्चे (या बच्चों) के प्रति भावना हो सकती है। इन भावनाओं में ईर्ष्या, नाराजगी, कुढ़न शामिल है, और यह तर्क और झगड़े का कारण बन सकता है। यह माता-पिता के समय और ध्यान के लिए एक प्रतियोगिता भी बन सकता है।

सहोदर प्रतिद्वंद्विता तब शुरू होती है जब एक बच्चा इस तथ्य से अवगत हो जाता है कि उन्हें अब अपने माता-पिता के समय और ध्यान किसी अन्य व्यक्ति या व्यक्तियों के साथ बाँटना होगा। किशोरावस्था के दौरान जब बच्चा अपनी पहचान विकसित कर रहा होता है, तब यह भावना गहन और जटिल हो सकती है।

प्रतिद्वंद्विता और सामयिक झगड़े के बीच क्या अंतर है?

एक साथ खेलने वाले बच्चों के बीच झगड़े आम हैं। जब दो या दो से अधिक बच्चे एक ही घर में रहते हैं, तो वे ज्यादातर समय एक साथ खेलते हैं, एक दूसरे के साथ खिलौने बाँटते है, एक साथ टीवी देखते है, और उनके माता-पिता का ध्यान और स्नेह भी बाँटते हैं। सहोदर के बीच मामूली तर्क सामान्य हो सकते हैं और इस पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन प्रतिद्वंद्विता अगर लगातार चलती रहे तो ये बहुत गंभीर हो सकती है। सहोदर प्रतिद्वंद्विता न केवल बच्चों को प्रभावित करती है बल्कि घर के माहौल और पारिवारिक गतिशीलता को भी बाधित करती है।

मानसी सात साल की थी जब उसकी बहन पैदा हुई थी। वह एक सहोदर होने के बारे में उत्साहित थी और परिवार और पड़ोसियों को बताया करती थी कि जल्द ही उसके साथ खेलने के लिए एक छोटी बहन होगी। बच्चे के घर आने के बाद,मानसी- जो एक शांत,सौम्य बच्ची हुआ करती थी - बहुत जल्दी गुस्सा हो जाती थी और अक्सर बदमिजाजी या चिड़चिड़ापन दिखाया करती थी। वह अपनी बहन को कई दिनों तक देखना पसंद नहीं करती थी। स्कूल से उसकी अकादमिक गिरावट और अनैच्छिक व्यवहार के बारे में शिकायतें आने लगी। वह एक आज्ञाकारी बच्ची थी जो हमेशा स्कूल में अच्छा प्रदर्शन किया करती थी और बहुत मिलनसार थी,लेकिन उसकी बहन के जन्म के बाद,उसने स्कूल में अन्य बच्चों के साथ झगड़ा करना शुरू कर दिया। उसने अपने माता-पिता के प्रति कठोर होना शुरू कर दिया। मानसी के माता-पिता उसके व्यवहार में बदलाव को उसकी बहन के आगमन और ध्यान में बदलाव से जोड़ नहींपारहे थे।

सहोदर प्रतिद्वंद्विता के संकेत क्या हैं?

अपने सहोदर, माता-पिता, दोस्तों या स्कूल में अन्य बच्चों के प्रति व्यवहार में अचानक परिवर्तन सहोदर प्रतिद्वंद्विता का एक आम संकेत होता है। सहोदर प्रतिद्वंद्विता बच्चे के अकादमिक प्रदर्शन को प्रभावित कर सकती है। उदाहरण के लिए, बच्चे को पहले से कम अंक मिल सकते हैं, या वे अपना होमवर्क करना बंद कर सकते हैं। वे अन्य सहपाठियों पर धौंस जमाना शुरू कर सकते हैं। बच्चे के कपडे पहनने के तरीके में भी एक उल्लेखनीय परिवर्तन हो सकता है - वे दूसरों का ध्यान पाने के लिए चटकीले कपडे पहनना शुरू कर सकते हैं, या कभी-कभी मैले-कुचैले कपडे पहनने लग जायेंगे और वे कैसे दिख रहे है, इस को पूरी तरह से अनदेखा कर सकते हैं।

सहोदरकेएक दूसरे के साथ लड़ने के क्या कारण हो सकते है?

माता-पिता के इस सचेत प्रयास के बावजूद कि उनके सभी बच्चों को समान ध्यान मिलता रहे, सहोदर एक-दूसरे को प्रतिद्वंद्वियों के रूप में देख सकते हैं।

अध्ययनों से पता चलता है कि मनुष्य जीवित रहने के क्रम में सीमित संसाधन प्राप्त करने के लिए दूसरों के साथ लड़ने के लिए जैविक रूप से कार्यक्रमित किए गए हैं। आज भी, जब किसी बच्चे को अपने अस्तित्व से जुड़े संसाधनों के लिए दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करने की आवश्यकता नहीं होती है, तो यह पूर्वाग्रह बच्चों के एक दूसरे के साथ लड़ने के कारणों में से एक हो सकता है।

माता-पिता इसके बारे में क्या कर सकते हैं?

माता-पिता के रूप में, बच्चों की जरूरतों के प्रति उत्तरदायी होना और उन्हें यह महसूस करवाना की वे उन्हें समझ पा रहें है, बहुत महत्वपूर्ण है। सहोदर प्रतिद्वंद्विता को प्रभावित करने वाला सबसे महत्वपूर्ण कारक यह है कि परिवार अपने बच्चों के बीच इस प्रतियोगिता में कैसे प्रतिक्रिया करता है। यहां कुछ तरीके दिए गए हैं जिससे आप सहोदर प्रतिद्वंद्विता से निपट सकते हैं:

बड़े बच्चे की तैयारी: बच्चे को अपने सहोदर के जन्म के लिए तैयार करें। शुरुआत में, बच्चा सहोदर होने के बारे में उत्साहित हो सकता है, लेकिन 2-3 दिनों में उत्साह कम होने लग सकता है और बच्चे को यह महसूस होना शुरू हो सकता है कि उन्हें अपने माता-पिता के स्नेह और ध्यान का बंटवारा करना होगा। बड़े बच्चे को यह कह कर तैयार करने में मदद मिल सकती है कि, हालाँकि नवजात शिशु के आगमन के बाद चीज़ों में थोड़ा बदलाव आ सकता है, पर आप उनके साथ जितना हो सके समय बिताएंगे।

लिंग भेदभाव से बचें: जब सहोदर अलग-अलग लिंग के होते हैं, तो आप किसी भी पक्षपात के बिना निर्णय लेने की कोशिश कर सकते हैं और इस बात से अवगत रह सकते हैं कि आपके निर्णय किसी के भी द्वारा अनुचित न माने जाये। छोटे लड़के और एक बड़ी लड़की के मामले पर विचार करें। सामाजिक रूप से, माता-पिता सोच सकते हैं कि लड़के को देर तक बाहर रहने देना कम जोखिम भरा है, और इसलिए उसे और अधिक स्वतंत्रता प्रदान की जा सकती है। लेकिन इससे बड़ी बहन कूढ़ सकती है क्योंकि उसे यह संदेश मिलता है कि उसके माता-पिता उस पर उतना भरोसा नहीं करते जितना की वे उसके छोटे भाई पर करते हैं।

उन्हें इसे अपने आप हल करने दें: बच्चों की हर लड़ाई में हस्तक्षेप न करें। उन्हें अपनी समस्याओं को स्वयं हल करने देना एक अच्छा दृष्टिकोण हो सकता है। इसका नकारात्मक पक्ष यह हो सकता है कि यदि एक बच्चा मजबूत और दूसरे से बड़ा है, तो वह हमेशा जीत सकता है। यह आगे चलकर धौंस और प्रतिद्वंद्विता का कारण बन जाएगा। यदि यह व्यवहार आम तौर पर देखा जाता है तो माता-पिता को हस्तक्षेप करना चाहिए और बच्चों को उनकी शक्ति का उपयोग करने के बजाय बातचीत करके मसला हल करने के तरीके को सिखाना चाहिए।