मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति से क्या नहीं कहना चाहिए

क्या नहीं कहना चाहिए

नहीं, तुम इससे ज्यादा मजबूत हो!

या: तुम यह कर सकते हो!

इस तरह की टिप्पणियाँ दिल को लग सकती हैं क्योंकिमानसिक बीमारी कमजोरी के कारण नहीं होती है; यह सच नहीं है कि जो व्यक्ति मजबूत है, उसे मानसिक बीमारी हो ही नहीं सकती है। मानसिक रोग से ग्रस्त व्यक्ति कुछ समय में संवेदनशील या खुद को कमजोर महसूस कर सकता है, और यह सुनकर कि उन्हें मजबूत होना है या कुछ अलग करना है, उनके दिल को चोट पहुंच सकती है।
 

परेशान न हों

या: इससे बाहर निकलें

अनजाने में ही कही गई इस तरह की बातों का अर्थ है कि एक व्यक्ति जानबूझकर या चाह कर परेशान हो रहा है। एक सी स्थिति का सामना कर रहे अलग-अलग लोगों की अलग-अलग भावनात्मक प्रतिक्रियाएं हो सकती हैं। कोई व्यक्ति जो निराश हो, उससे यह कहना कि परेशान न हों या अपनी सोच को बदले, इससे उसकी भावनाओं को ठेस पहुंच सकती है, और उन्हें यह लग सकता है कि वे परिस्थितियों का सामना करते समय अत्यधिक प्रतिक्रिया कर रहे हैं।

यदि तुम इस बारे में ज्यादा नहीं सोचोगे, तो बेहतर महसूस करोगे।

अक्सर, जब लोग अपने तनाव या चिंताओं के बारे में हमसे बात करते हैं, तो हम उनसे 'कुछ और' सोचने के लिए कहते हैं। हालांकि ऐसा कहना चिंताओं को दूर रखने के लिए एक समाधान की तरह लग सकता है, लेकिन चिंता को दूर रखने की प्रक्रिया अपनेआप में हमारे तनाव को बढ़ा सकती है। व्यक्ति क्या सोच रहा है, वह इसके बारे में अपने दिमाग को अधिक जागरूक रहने के लिए प्रशिक्षित कर सकता है, लेकिन यह संभव नहीं है कि उस तरह के विचारों से वह पूरी तरह से मुक्त हो जाए।

कम से कम तुम उस (किसी ऐसे व्यक्ति का नाम जिन्हें दोनों जानते हो) से तो बेहतर हो… तुम्हे सुनना चाहिए कि उनके साथ क्या हुआ...

कभी-कभी, हम दूसरे व्यक्ति को बेहतर महसूस करवाने के लिए यह कहते हैं, या उन्हें उनकी स्थिति के बारे में आशा की किरण दिखाने का प्रयास करते हैं, मगर यह उनकी समस्याओं को कम करने की तरह लग सकता है।हर समस्या का अंजाम बरबादी नहीं है, पर ऐसा कहना उनके दर्द को मान्यता न देने के समान होता है।

तुम कोशिश क्यों नहीं करते...

कभी-कभी हम दूसरे व्यक्ति को बेहतर महसूस कराने में मदद के इरादे से समाधान की पेशकश करने के लिए कूद पड़ते हैं, लेकिन हम यह नहीं सोचते हैं कि क्या अगला को हमसे समाधान की अपेक्षा है या नहीं। हमारे साथ क्या हो रहा है इस बारे में अक्सर हम अपने दोस्तों या परिवार से चर्चा करते हैं सहानुभूति और समझ पाने की उम्मीद लिए। ऐसे में बहुत जल्दी समाधान देने की कोशिश से व्यक्ति सोच सकता है कि हमें उसकी बात सुनने में कोई दिलचस्पी नहीं है।

मुझे मानसिक बीमारी जैसी बात पर विश्वास नहीं है।

या: मानसिक बीमारी जैसी कोई चीज नहीं होती।

या: तुम्हें दवा नहीं लेनी चाहिए।

इस तरह की बातें उन लोगों के अनुभवों को पूरी तरह नकार सकती हैं, जिन्होंने मानसिक बीमारी का अनुभव किया है, और उनके संघर्षों और चुनौतियों को अस्वीकार करते हैं। इस विषय में हम सभी की अलग-अलग राय और दृष्टिकोण हो सकते हैं। इसके साथ-साथ यह स्वीकार करना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक व्यक्ति की खुद की देखभाल को लेकर अपनी प्राथमिकताएं और विश्वास हैं, और संभवत: जो चीज उनके लिए सबसे अच्छा काम करती है, वह उसी तरीके से उसे करना चाहते हैं।

"लेकिन मुझे नहीं पता कि तुमसे क्या कहूं!"

जब बीमारी से पीड़ित कोई दोस्त या प्रियजन हमें अपने अनुभव के बारे में बोलता है, तो वे सिर्फ यह चाहते हैं कि कोई उनकी बात को ध्यान से सुने। साथ ही साथ, यह भी एक सामान्य मानवीय पहलू है कि हम सामने वाले व्यक्ति की समस्या को 'ठीक' करना चाहते हैं क्योंकि हम उसकी चिंता करते हैं। हमें ऐसी स्थिति में किसी प्रशिक्षित मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ की तरह जवाब देने की आवश्यकता नहीं है; जो चीज मदद करती है, वह है जागरूकता- कि हम क्या कह रहे हैं और क्यों कह रहे हैं। यहाँ कुछ चीजें हैं जिनकी कोशिश की जा सकती है:
 

1. उन्हें किसी तरह की सलाह या समाधान पेश करने से पहले उनके मन की बात पूरी तरह सुनें। यदि आप उन्हें सुझाव देने के लिए उतावले हो रहे हैं तो खुद को समझाएं कि इसका भी समय आएगा, लेकिन पहले उस व्यक्ति को जानने तो दें कि उसकी बात सुनी जा रही है।

2. अगर वे आपके साथ ऐसी कोई बात साझा कर रहे हैं, जिसकी समझ आपको पूरी तरह से नहीं हैं, तो इसके बारे में ईमानदारी से बताएं: “ऐसा लगता है कि यह पेचीदा मामला है, और मुझे नहीं पता कि वास्तव में कैसे मदद करनी है। लेकिन अगर आपको मेरी जरूरत हैं तो मैं आपके लिए हाजिर हूं। या "मैं इसे पूरी तरह से नहीं समझता लेकिन मैं इस बारे में और जानना चाहता हूं। "

3. सलाह या सुझाव देने से पहले जान लें कि सामने वाला व्यक्ति इसे सुनने के लिए तैयार है या नहीं।

4. यदि वह व्यक्ति किसी विशेष सहायता की मांग नहीं करता है, तो उनसे पूछें कि आप उनके लिए क्या कर सकते हैं।

5. यदि उनकी कहानी सुनना आपको भारी लगता है और आपको लगता है कि आप उस पर अपना पूरा ध्यान नहीं दे पा रहे हैं, तो स्पष्ट रूप से कहें: “वास्तव में, ऐसी बातों से मेरा मन उतावला हो जाता है। क्या तुम किसी और से इस बारे में बात कर सकते हो?”

6. उन्हें बताएं कि आप उनसे प्यार करते हैं, और अगर उन्हें आपकी ज़रूरत है तो आप हरदम उनके साथ हैं।

Was this helpful for you?