विशेष जरूरत वाले सहोदर के साथ बड़े होना चुनौतीपूर्ण हो सकता है

ऐसे बच्चे जिनके सहोदर मानसिक बीमारी, विकलांगता से ग्रस्त हैं या जिन्हें विशेष जरूरत है, तो कम उम्र होने पर भी उन्हें उसकी जानकारी होती है कि उनमें और उनके सहोदर में क्या अंतर है। अपने साथियों की तुलना में वे अधिक संवेदनशील और भावनात्मक रूप से परिपक्व हो सकते हैंया स्थिति से क्रोधित हो सकते हैं क्योंकि उनके सहोदर को ज़्यादा देखभाल और ध्यान' मिलता है।

 

विशेषज्ञ बताते हैं कि माता-पिता हालात कैसे सम्भालते हैं, यह तय करता है कि सहोदर का रवैया कैसा रहता है। माता-पिता के रूप में, यहां कुछ चीजें हैं जो सहोदर को मदद करने के लिए आप कर सकते हैं:

बीमारी के बारे में बात करें: अपने बच्चे से (उम्र के हिसाब से) सहोदर की बीमारी के बारे में बात करें और कुछ कार्यों में उसकी सम्भावित ज़रूरतों को समझाएं। बीमार बच्चे की देखभाल की जिम्मेदारी केवल माता-पिता पर दिखाने के बजाय उसकी सहायता में पूरे परिवार की भूमिका बनाइए। आप बीमारी के बारे में खुलकर बातचीत कर सकते हैं, और चर्चा कर सकते हैं कि एक इकाई के रूप में परिवार को क्या कर सकता है और प्रत्येक व्यक्ति ख़ुद अलग से क्या कर सकता है।

बीमारी के खिलाफ यह हम है: अक्सर, परिवार में एक बच्चे के बीमार और एक के ठीक होने पर माता-पिता बनाम बच्चे की स्थिति बन जाती है; और जो बच्चा ठीक होता है वह खुद को माता-पिता का ध्यान खींचने के लिए सहोदर के साथ प्रतिस्पर्धा में देख सकता है। माता-पिता के रूप में, आप बच्चे को बता सकते हैं कि उसका सहोदर क्या झेल रहा है और बीमारी का क्या असर है, और हम सब को एक साथ मिलकर इससे लड़ेंगे।  

सहोदर की देखभाल में बच्चे को शामिल करें: माता-पिता के रूप में, आप अपने बच्चे को यह समझने में मदद कर सकते हैं कि उसका सहोदर क्या झेल रहा है और उसे अधिक संवेदनशील होने को कहें। उदाहरण के लिए, कुछ विकास संबंधी विकार से ग्रस्त बच्चे यदि ऊंची आवाज़ या संगीत सुनते हैं तो आक्रामक हो सकते हैं। तो अपने बच्चे को शोर कम रखने के बजाय आप सुझाव देते हुए साफ तौर पर कह सकते हैं: "क्या आप इयरफ़ोन का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि तेज़ आवाज और संगीत आपके सहोदर के लिए तनावपूर्ण हो सकती है?" इससे बच्चे को यह समझने में मदद मिलेगी कि आप सहोदर की बीमारी के कारण उसे कुछ बदलने के लिए कह रहे हैं।

उन्हें सहोदर की देखभाल में शामिल करें: आप अपने बच्चे से सहोदर को दवा लेने की याद दिलाने, उनके साथ खाने या खेलने को कह सकते हैं। आप समय- समय पर अपने बच्चे में देख सकते हैं, कि कहीं सहोदर को मदद तनाव तो पैदा नहीं कर रही है।

दोनों बच्चों की ज़रूरत को स्वीकार करें: अपने बच्चे से बात ज़रूर करें, यहां तक कि (या विशेषकर) जब सहोदर को अपके समय और ध्यान देने की ज़रूरत है। अगर बीमार बच्चे के लिए आपात स्थिति है और उसे अस्पताल ले जाना चाहिए और सहोदर का एक खिलौना टूट जाता है, तो बीमार बच्चे की स्थिति अधिक महत्वपूर्ण है। लेकिन एक पल के लिए यह समझें कि सहोदर में क्या चल रहा है और अपना इरादा साझा करें कि जब संकट खत्म हो जाएगा तो इसको देखेंगे।

बातचीत का माध्यम बनाए रखें, अच्छा समय एक साथ बिताएं: हो सकता है माता-पिता केलिए दोनों बच्चों के साथ बराबर समय बिताना संभव न हो, अगर उनमें किसी एक को विशेष ज़रूरत हैं। इसके बजाय आप यह कर सकते हैं कि जो बच्चा ठीक है उसके साथ अच्छा समय बिताएं। यह सुनिश्चित करें कि आप नियमित रूप से बच्चे के साथ दाख़िल हो रहे हैं। आप कुछ अनुष्ठानों को शुरू कर सकते हैं जहां आप या आपके जीवनसाथी बच्चे के साथ निर्बाध समय व्यतीत कर सकते हैं (बाल काढ़ना, स्कूल के लिए तैयार होना या सोने से पहले कहानी सुनाना) जबकि इसको विशेष ज़रूरत वाले बच्चे की परवाह करनी होगी। आप बोर्ड गेम या अन्य गतिविधियों के माध्यम से भी बच्चे के साथ जुड़ सकते हैं; यह दूरियां कम करने और बच्चे को आपसे बात करने में मदद कर सकता है।

कलंक से निपटने में उनकी मदद करें: विशेष जरूरत वाले सहोदर होने पर बच्चे परोक्ष रूप से कलंक से प्रभावित होने लगते हैं- यह तब और भी होता है जब वे अपनी उम्र के अन्य बच्चों से बातचीत करते हैं। जब उनके मित्र या सहपाठी ने सहोदर के बारे में चिढ़ाते हैं या हल्के ढंग से बोलते हैं, तो वे इस उहापोह में क्षत-विक्षत होते हैं कि उनसे जुड़ना भी चाहते हैं (ताकि वे अपने साथियों के समूह में स्वीकार किए जाएं), और अपने सहोदर की रक्षा भी करना चाहते हैं। स्थिति अधिक तनावपूर्ण होती है, जब माता-पिता यह कहते हैं कि वे अपने खेल में सहोदर को भी शामिल कर लें।

आप इसके बजाय क्या कर सकते हैं? अपने बच्चे को सहोदर और ऐसी ही स्थिति में फंसे किसी अन्य व्यक्ति के प्रति संवेदनशील होने के लिए कहें, - उन्हें बताकर – कि "हम उन्हें नाम से नहीं बुलाते या उनका मजाक नहीं उड़ाते हैं।"

यदि ज़रूरत है तो मदद मांग लें: परवरिश आसान नहीं है, और यह तब और भी मुश्किल हो जाता है जब आपके बच्चे का स्वास्थ्य ठीक न हो। उसकी देखभाल करने के अपने तरीकों की पहचान करें, और सहारे के स्रोत देखें। इससे यह तय हो जाएगा कि आप अपने बच्चों की तरफ अपना तनाव नहीं बढ़ा रहे हैं, और उन्हें बेहतर देखभाल करने में मदद करें। 

लाल झंडे के लिए सचेत रहें: यदि आपके बच्चों में से एक को मानसिक बीमारी है, तो सहोदरों को बाकी आबादी की तुलना में आनुवंशिक रूप से वैसी ही बीमारी होने का खतरा अधिक होता हैं। यदि आप बच्चे में सहोदर की मानसिक बीमारी का कोई भी लक्षण देखते हैं, तो तत्काल सहायता मांगें। अन्य लाल झंडे में में हो सकता हैं: अचानक व्यवहार में परिवर्तन, लंबे समय तक क्रोध या उदास रहना, परिवार और दोस्तों से अलग-थलग रहना, स्कूल जाने से इनकार करना और मादक द्रव्यों का सेवन। यदि आप अपने बच्चे में इनमें से कोई संकेत देखते हैं तो जल्दी से जल्दी किसी विशेषग्य से मिलें।  

Resources

https://childmind.org/article/advice-siblings-of-special-needs-kids/

http://kidshealth.org/en/parents/siblings-special-needs.html

http://www.parentcenterhub.org/repository/siblings/

https://childmind.org/article/how-mindfulness-can-help-caregivers/

http://www.healthyplace.com/blogs/parentingchildwithmentalillness/2015/05/siblings-of-children-with-mental-illness/

की सिफारिश की