जब तनाव जीवन का हिस्सा बन जाता है

'तनाव' - एक ऐसा शब्द है जिसका प्रयोग साधारण बोलचाल में हमेशा किया जाता है, लेकिन इसका वास्तव में क्या अर्थ है? यह हमारे शरीर के साथ क्या करता है और यह हमारे मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है? नीचे दी गयी जानकारी तनाव को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेगी।

जब हम तनावग्रस्त होते हैं तो क्या होता है?

हमारे शरीर के पास स्थिति के अनुकूल ढलने और बदलने की क्षमता है। उदाहरण के लिए, गर्मी के दिनों में हमे पसीना आता है। ठंड के दिनों में हम कंपकंपाते है जिससे हमारे शरीर को गर्म करने के लिए गर्मी उत्पन्न होती है। इसी प्रकार, जब हम तनावग्रस्त होते हैं तो हमारा शरीर अपने आंतरिक संतुलन को पुनर्स्थापित करने के लिए प्रतिक्रिया करता है जिसे होमियोस्टेसिस कहा जाता है। यह तनाव प्रतिक्रिया तनाव से निपटने की एक प्राकृतिक प्रक्रिया है और यह सामना करो या भागो प्रतिक्रिया का रूप लेती है।

क्या आपने कभी ध्यान दिया है कि कैसे आपका दिल तेजी से धड़कने लगता है जब आप किसी ऐसे जानवर को देख ले जिससे आपको डर लगता है या कैसे किसी अनिश्चित स्थिति के दौरान जैसे परीक्षा परिणाम या मूल्यांकनों की प्रतीक्षा करते वक़्त आप गहरी सांसे नहीं ले पाते हैं? ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारा शरीर कोर्टिसोल और एड्रेनालाईन जैसे तनाव हार्मोन पैदा करता है। ये तनाव हार्मोन सामना करो या भागो प्रतिक्रिया या किसी सुरक्षित जगह में छिपने के लिए तत्काल ऊर्जा प्रदान करते हैं। जब तनाव खत्म हो जाता है या मौजूद नहीं होता है, तो शरीर में इन हार्मोन का स्तर कम हो जाता है और शरीर अपने सामान्य कार्यप्रणाली को फिर से शुरू कर देता है। हमारे दिमाग में तनावपूर्ण जीवन स्थितियों या घटनाओं के प्रति अनुकूलित होने के लिए शारीरिक या कार्यात्मक रूप से बदलने के लिए भी एक समान तंत्र है। यह न्यूरोप्लास्टिसिटी के रूप में जाना जाता है। न्यूरोप्लास्टिसिटी दिमाग की वह क्षमता है जिससे वह कुछ नया सीखने या तनाव के अनुभव या किसी चोट के बाद नए तंत्रिका मार्ग बनाता है। प्रत्येक तंत्रिका मार्ग न्यूरॉन्स का एक गट्ठा होता है जो मस्तिष्क के विभिन्न हिस्सों या क्षेत्रों को जोड़ता है। तंत्रिका मार्गों के गठन के माध्यम से, मस्तिष्क प्रभावी रूप से कार्य करने के लिए अनुकूलित होता है। न्यूरॉन्स का गठन न्यूरोजेनेसिस के रूप में जाना जाता है और तंत्रिका मार्गों का गठन न्यूरोप्लास्टिसिटी के रूप में जाना जाता है।

तनाव शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है

कुछ तनाव स्वीकार्य होते है, लेकिन अगर आप लगातार तनावग्रस्त रहते है, तो यह चिंताजनक बात है। तनाव का निरंतर अनुभव हमारे सामान्य चयापचय को बहुत प्रभावित कर सकता है। हंस सेल्ये के अनुसार -जो की एक ऑस्ट्रियाई-कैनेडियन एंडोक्रिनोलोजिस्ट है और इन्होने तनाव पर अनुसंधान का नेतृत्व किया है - तनाव बीमारी का एक प्रमुख कारण हो सकता है क्योंकि स्थायी तनाव आगे चल कर रासायनिक परिवर्तन का कारण बनती है।

हमारे शरीर में अस्थायी तनाव को संभालने की प्राकृतिक क्षमता होती है। तनाव हार्मोन सभी शारीरिक कार्यों को प्रभावित करता है। हृदय गति तेज हो जाती है, एड्रेनालाईन दिल को ज्यादा मात्रा में खून को पंप करने के लिए उकसाता है, सांस फूलने लगती है। लेकिन अगर एक व्यक्ति को एक लम्बे समय तक तनाव का अनुभव होता है; जैसे की महीनों और वर्षों तक; तो तनाव को सँभालने के शारीरिक तंत्र प्रभावित हो जाते है। यदि एक व्यक्ति लगातार वैवाहिक विवाद या काम के दबाव का अनुभव करता है, तो वह स्थायी तनाव का अनुभव कर सकता है। जब तनाव जीवन का एक हिस्सा बन जाता है, तो प्राकृतिक तनाव प्रतिक्रिया चक्र टूट जाती है। ऐसी स्थिति में, हृदय लगातार उच्च दर पर रक्त पंप करता है और व्यक्ति की सांस फूलने लगती है।

इसी तरह, मस्तिष्क भी तनाव से जूझने के लिए कार्य करता है लेकिन यदि ऐसा लंबे समय तक चलता है, तो यह अपनी अनुकूलन की क्षमता को पार कर जाता है, और फिर यह बिगड़ी हुई न्यूरोप्लास्टिसिटी के साथ एक दुष्चक्र बन जाता है; जिससे मस्तिष्क के कार्य प्रभावित होते हैं। तनाव का अनुभव करते समय मस्तिष्क इससे निपटने के लिए नई तंत्रिका मार्गों का निर्माण करता है। लेकिन, जब तनाव व्यक्ति के तनाव सीमा से परे होता है, तो यह दिमाग की तंत्रिका मार्ग को बनाने की क्षमता को नुकसान पहुंचाता है। यह मस्तिष्क के कार्य को प्रभावित करता है।

न्यूरोफिजियोलॉजिस्ट ने देखा है कि हमारे शरीर में बहुत अधिक कोर्टिसोल के होने से हमारी रक्तवाहिनियों को नुकसान पहुंच सकता है जो कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों, स्ट्रोक और मधुमेह का कारण बन सकता है। मनोचिकित्सक कहते हैं कि अगर स्थायी तनाव के कारण तनाव-प्रतिक्रिया क्षमता हद्द से अधिक खींची जाती है तो इससे अवसाद, उत्कंठा विकार, सोमाटफोर्म विकार आदि जैसे मनोवैज्ञानिक विकार हो सकते हैं। यह शराब और अन्य नशीले पदार्थों के उपयोग से और भी बदतर हो सकता है जिसका सहारा कई लोग तनावग्रस्त होने पर लेते हैं।

तनाव से राहत

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक व्यक्ति की तनाव सीमा और तनाव को संभालने की क्षमता भिन्न होती है। हालांकि, यह जांचना अच्छा होता है कि आप औसत तौर पर कितने तनावग्रस्त हैं। यदि आपको लगता है कि आप अधिकतर समय तनावग्रस्त रहते हैं या तनाव आपके जीवन का एक हिस्सा बन गया है, तो निम्नलिखित उपायों के माध्यम से तनाव से छुटकारा पाने का समय आ गया है:

व्यायाम: नियमित रूप से व्यायाम तनाव हार्मोन के कारण निर्मित ऊर्जा का उपयोग करने में मदद और शारीरिक कार्यों के आंतरिक संतुलन को बहाल करने में मदद करता है। व्यायाम चलने, दौड़ने, जॉगिंग या यहां तक ​​की नाचने के रूप में हो सकता है।

योग और ध्यान: योग और ध्यान का अभ्यास मस्तिष्क की खुद की मरम्मत करने की क्षमता में सुधार करने में मदद करता है क्योंकि यह न्यूरोप्लास्टिसिटी को बढ़ाता है।

गहरी सांस लेना और विश्राम: विश्राम तकनीकों और गहरी सांस लेने के नियमित अभ्यास से रक्त परिसंचरण में वृद्धि होती है, हृदय गति धीमी होती है और रक्तचाप कम हो जाता है।

यह लेख निमहांस के मनोचिकित्सा विभाग के एडिशनल प्रोफेसर डॉ शिवराम वारंबल्ली के द्वारा दी गयी जानकारी के आधार पर लिखा गया है।