जब आपके बच्चे घर से दूर चले जाते हैं: खाली घोंसला

क्या होता है जब हमारे व्यसक बच्चे विभिन्न कारणों से घर से बाहर निकलने का फैसला करते हैं? क्या अर्थ होता है इसका? इससे जुड़े अकेलेपन की भावना का सामना कैसे किया जा सकता है? हमने इस जटिल घटना को समझने के लिए कुछ विशेषज्ञों से बात की।

खाली घोंसला दुःख और अकेलेपन के अनुभव को संदर्भित करता है जो वयस्क बच्चे के घर छोड़ने के बाद महसूस होता है। वयस्क बच्चे के दूर जाने का तात्पर्य अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग हो सकता है; जहां कुछ लोगों को समय मिलता है अपने पुराने सपनों और आकांक्षाओं को पुनर्जीवित करने का, वहीं कुछ क्षति या खो देने की भयानक भावना महसूस कर सकते हैं। अनुभव केवल उस दुःख तक सीमित नहीं रहता है जो बच्चे के जाने से होता है, साथ ही देखभालकर्ता और अभिभावक के रूप में पहचान को खो देने की भावना से भी जुड़ा है।

खाली घोंसला एक स्थायी परिवर्तन की शुरुआत करता है, कई तरीकों से यह वयस्कता के बाद का अगला बड़ा पढ़ाव है। अक्सर, व्यक्ति संवेदनशील होता है और ऐसे लक्षणों का अनुभव कर सकता है जो अवसाद और / या उत्कंठा जैसे लगे। तथापि, निराशाजनक और बेकार महसूस करना एक गंभीर समस्या की ओर संकेत करता है जिसे थेरेपी से संबोधित करने की आवश्यकता हो सकती है।

खालीघोंसलेका अनुभव आपके बच्चे के साथ आपके रिश्ते को कैसे प्रभावित करता है?

जब आपको लगता है कि घोंसला खाली हो गया है तो यह तीव्र उत्कंठा और गुस्सा बनकर बहार निकल सकता है। जो बच्चे स्वतंत्र रूप से जीना शुरू करते हैं वे उतना कॉल नहीं कर पाएंगे जितना वे चाहते हैं और अक्सर माता-पिता इसे रिश्ते में तनाव के संकेत के रूप में समझ सकते हैं। रिश्ते को सुधारने के प्रयास में माता-पिता बच्चे पर यह कहकर दबाव डाल सकते हैं कि वह उनका पर्याप्त ध्यान नहीं रख रहा है या उस​​की समालोचना भी सकते हैं। इसके परिणामस्वरूप रिश्ते में तनाव और भी ज्यादा बढ़ सकता है। कभी-कभी माता-पिता और बच्चे दोस्ती-जैसा जुड़ाव साझा करने के लिए अपने रिश्ते का पुनर्मूल्यांकन करने में सक्षम होते हैं जो भविष्य में उनके आपसी रिश्तों को सुधारने में सहायक होता है।

इस अवधि के दौरान कठिनाइयों को कम करने के लिए बच्चे क्या कर सकते हैं?

किसी भी दूसरे तनाव की तरह, धैर्य और सहानुभूति रखना जरुरी है। बच्चों को पता चलता है कि उनके चले जाने के तुरंत बाद से उनके माता-पिता (कोई एक या दोनों) उनकी कुशलता और गतिविधियों की जानकारी को लेकर ज्यादा चिंतित और बेचैन हो गए हैं। माता-पिता छोटे-छोटे मुद्दों के लिए नाराज हो सकते हैं (जैसे बराबर फोन न कर पाने को लेकर)। उनके साथ लगातार संपर्क में रहने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रयास के बावजूद वे लगातार अपने बच्चों को घर वापस आने के लिए परेशान कर सकते हैं। कभी-कभी, माता-पिता पूरी तरह से बातचीत करना बंद कर सकते हैं क्योंकि उन्हें लग सकता है कि उनके साथ विश्वासघात हुआ है। ऐसे मामलों में, बच्चे बहुत परेशान और असहाय महसूस कर सकते हैं। बच्चों के लिए अच्छा होगा कि वे माता-पिता के व्यवहार और उनके उपर उस व्यवहार के प्रभाव के बारे में खुल कर बातचीत करें। उन्हें माता-पिता को यह बताना चाहिए कि वे उन्हें समय देना चाहते हैं। कभी-कभी, केवल यह आश्वासन, और उनके दुखों को सुनने से, रिश्ते में आया तनाव सुधर सकता है। बच्चे को ये कोशिश करनी चाहिए कि वे जब भी अपने माता-पिता से मिलने जाएँ, उनके साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताएं। यह उस परिवर्तन से निपटने में उनकी मदद करेगा जो दोनों अनुभव कर रहे हैं।

घोंसले के खालीपन का क्या प्रभाव पड़ता है दम्पति के आपसी रिश्तों पर?

बच्चे के घर से चले जाने के बाद माता-पिता अपने आपसी रिश्ते के सन्दर्भ में एक-दूसरे को फिर से पहचानने और समझने लगते है। आपको ये पता चल सकता है कि आपके पति या आपकी पत्नी समर्थन और सौहार्द्र का एक बड़ा स्रोत है, क्योंकि वे भी इसी तरह के अनुभवों से गुजरते हैं। हालांकि, कुछ जोड़ों के लिए माता-पिता की भूमिका से दूर होने के बाद, पति या पत्नी की भूमिका में दोबारा लौटने में मुश्किलें आ सकती है। इससे संभावित रूप से रिश्ते में कुछ गड़बड़ी हो सकती है जो इस अवधि के दौरान महसूस हो रही भावनाओं को बढ़ावा दे सकती है।

घोंसलें के सूनेपन का कैसे सामना किया जा सकता है?

पहला कदम खाली घोंसले से जुड़ी भावनाओं को पहचानना और उनकी तीव्रता का आकलन करना होगा। अपने मित्रों से बात करें, खास कर उनसे जो समान अनुभवों से गुजर चुके हैं। अक्सर, मनपसंद गतिविधियों में समय निवेश करने से मानसिक कल्याण को बढ़ावा मिलता है, और यह दिलचस्प लोगों से जुड़ने में भी मदद करता है। पति / पत्नी से बात करें और अंतरंगता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से खुद को गतिविधियों में शामिल करें। उदाहरण के लिए, आप एक साथ घूम सकते हैं, आप दोनों नए अनुभवों का आनंद ले सकते हैं या नियमित रूप से व्यायाम अभ्यास शुरू कर सकते हैं। अकेलेपन और निराशा से संबंधित विचारों के साथ निरंतर पूर्वाग्रह के मामले में, आपको मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से मिलने से लाभ हो सकता हैं।

मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों से आप क्या उम्मीद कर सकते हैं?

इसके बावजूद की ये एक निदान योग्य स्थिति नहीं है, विशेषज्ञ इस परिवर्तन से जुड़ी भावनाओं को सुनने के लिए एक सुरक्षित स्थान प्रदान कर सकता है। एक पेशेवर से बात करके आप अपने विचारों  में अंतर्दृष्टि प्राप्त कर सकते हैं और कौशल विकसीत कर सकते हैं जो इस अवधि में हुए संबंधों के बदलावों का पुन:समझौता करने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

निमहंस से डॉ प्रीती सिन्हाके द्वारा दी गयीजानकारी के अनुसार।