आपके कर्मचारी सहायता कार्यक्रम में आत्महत्या की रोकथाम को क्यों शामिल करना चाहिए

श्रीरंजिता जेउरकर

हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में बढ़ते तनाव की वजह से, खुदकुशी की रोकथाम के लिए कार्यस्थली एक महत्वपूर्ण जगह बन गई है। कार्यस्थल पर आत्महत्या रोकने पर तैयार चार लेखों की श्रृंखला में दूसरे इस लेख में,  श्रीरंजिता जेउरकर ने पता लगाया कि किस तरह कोई भी ऑर्गेनाइजेशन आत्महत्या को रोक सकते हैं और संवेदनशील कर्मचारियों को सहारा प्रदान कर सकते हैं।

अधिकांश कार्यालयों में कर्मचारी सहायता कार्यक्रम (ईएपी), या कर्मचारियों के लिए एक स्वास्थ्य योजना होती है- ईएपी एक कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य कर्मचारियों तक चिकित्सकीय सहायता पहुँचाना है। मानसिक स्वास्थ्य या खुदकुशी की रोकथाम कार्यक्रम को ईएपी में शामिल किया जा सकता है। आज के समय नौकरी में बढ़ते तनाव को देखते हुए, सभी कंपनियों को अपनी स्वास्थ्य  नीति में मानसिक स्वास्थ्य को शामिल करने की जरूरत का एहसास होना चाहिए। हालांकि मनोस्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि कुछ संस्थाओं में ऐसी परिस्थितियां होती हैं कि वहां स्वास्थ्य  नीति में मानसिक स्वास्थ्य को शामिल करना वैकल्पिक नहीं, बल्कि पूरी तरह अनिवार्य होना चाहिए।

ये कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कारक हैं जो संभावित खतरे या संवेदनशीलता की ओर इशारा कर सकते हैं:

- संस्था के उद्द्योग की प्रकृति: यहां किस तरह और कैसे माहौल में काम किया जाता है? कर्मचारियों को किस तरह के काम करने होते हैं और वे कितने तनावपूर्ण हैं? तनाव उनके रोजमर्रा के कार्यों में कितना शामिल है?

- कर्मचारियों की स्थिति: वे कहां से आते हैं? क्या उन्हें कंपनी में टिके रहने के लिए अपने जीवन में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव करने पड़े (जैसे- शहर का बदलना, अपने परिवार से दूर रहना आदि)? उनकी शक्ति और कमजोरियां क्या हैं?

- सांस्कृतिक और नस्लीय विविधता: क्या ऐसे कुछ कर्मचारी हैं जिन्हें सांस्कृतिक रूप से खुद को फिट बैठाने में कड़ी मेहनत करनी पड़ी है? क्या उन्हें अच्छा माहौल देने के लिए किसी तरह के उपाय किया जा रहे हैं?

प्रत्येक संगठन में मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों के परामर्श से बनाए जाने वाले आत्महत्या रोकथाम कार्यक्रम को अपने संगठन और अन्य विशिष्ट संगठनों से संबंधित मुद्दों को ध्यान में रखते हुए बनाने की आवश्यकता होगी।

 

विशेषज्ञों का मानना है कि ईएपी के हिस्से के रूप में बनाई गई आत्महत्या रोकथाम की कुशल योजना में कुछ विशिष्ट पहलुओं का ध्यान रखना चाहिए:

1.कलंक की भावना कम करना

किसी व्यक्ति की परेशानियों को लेकर उसे जितना ज्यादा बदनाम या कलंकित किया जाएगा, उस पीड़ित व्यक्ति में उतनी ही कम संभावना रहेगी कि वह मदद मांगने के लिए आगे आए। आत्महत्या और मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी बदनामी और कलंक इतना मजबूत होता है कि पीड़ित लोग दूसरों से अपनी समस्याओं के बारे में बात करने से घबराते हैं। इसी वजह से आत्महत्या कार्यक्रम का पहला और सबसे महत्वपूर्ण कदम यह है कि समस्या से जुड़ी बदनामी को कम किया जाए।

ईएपी के अंतर्गत मानसिक स्वास्थ्य या आत्महत्या रोकथाम योजना को शामिल करने से मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़ी बदनामी को कम करने में सहायता मिलती है। इससे, यह संभावना बढ़ जाती है कि पीड़ित व्यक्ति आवश्यकता के मुताबिक मदद मांगने पहुंच जाए। संगठन की स्वास्थ्य नीति में मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम शामिल करने से कई फायदे मिलते हैं:

- संगठन में होने वाली वार्षिक स्वास्थ्य जांचों में मानसिक स्वास्थ्य सहायता, मानसिक स्वास्थ्य के मूल्यांकन, या मनोचिकित्सक से चर्चा करने को शामिल किया जा सकता है। यह मदद चाहने वाले या अतिसंवेदनशील (मनोविकार ग्रस्त और विशेष रूप से खुदकुशी की इच्छा रखने वाले)  व्यक्तियों की पहचान करने में सहायता प्रदान करता है।

- संगठन में एक स्थायी मनोचिकित्सक होने के साथ ही, डॉक्टर-ऑन-कॉल की व्यवस्था होने से यह फायदा होता है कि जब कर्मचारियों को आवश्यकता पड़े तो वह आसानी से उन तक पहुंच सकें। इससे कर्मचारियों को यह भी पता रहता है कि जब भी उन्हें जरूरत पड़ेगी, उनके लिए मानसिक स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध रहेगी।

- संगठन में कर्मचारी मानसिक स्वास्थ्य सहायता योजना होने से यह कर्मचारियों की परिस्थितियों से मुकाबला करने की क्षमता में वृद्धि करती है, संवेदनशीलता को कम करती है और काम के दबाव, कर्मचारियों के बीच प्रतिस्पर्धा, कार्यस्थल पर होने वाले टकराव जैसे तनावों को ध्यान में रखते हुए आत्महत्या को रोकती है।

-  गोपनीयता बनाए रखने का स्पष्ट समझौता (जैसा किसी भी स्वास्थ्य सहायता कार्यक्रम में होता है), वह कर्मचारियों में सुरक्षा की भावना पैदा करता है।

मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं, शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं से ज्यादा अलग नहीं है, नियोक्ता मानसिक समस्याओं से जुड़ी बदनामी को कम कर देता है और अपने कर्मचारियों को मदद लेने के लिए प्रोत्साहित करता है।

संगठन कर्मचारियों को किसी भी तरह की मानसिक समस्या के बारे में बात करने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है, और इस पर चर्चा कर सकता है कि वे कैसे इसे दूर करने में मददगार हैं। उन्हें बताना होगा कि मानसिक समस्याएं कोई कलंक नहीं हैं और यदि कर्मचारी इस बारे में बताते भी हैं तो उनके खिलाफ कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा।

2.संवेदनशीलता कार्यक्रम

कर्मचारियों में आत्मविश्वास और भरोसा पैदा करने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि किसी संगठन के पास प्रबंधकों, टीम लीडर्स और उच्च अधिकारियों के लिए एक संवेदनशील मॉड्यूल हो। इस तरह का कार्यक्रम पूरे मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम की गोपनीयता बनाए रखने और इससे जुड़ी बदनामी को कम करने के मामले में ज्यादा प्रभावी पाया गया है।

कर्मचारी भी उस वक्त आश्वस्त रहते हैं, जब उनके मैनेजर या उच्च अधिकारी खुद अपने मानसिक स्वास्थ्य, और विशेष रूप से आत्महत्या की भावना के अपने अनुभवों को साझा करते हैं। आत्महत्या के विचार आने और इस तरह की प्रवृत्तियों में किस तरह मदद की गुहार लगाई जाए, इस बारे में खुलकर चर्चा किए जाने से यह कर्मचारियों को अपनी परेशानियां सामने रखने में मददगार साबित होती है। इसके साथ ही यह उनमें भरोसा पैदा करती है कि उन्हें बिना किसी भेदभाव के लिया जाएगा।

3.जागरूकता पैदा करना

कार्यस्थल पर आपसी चर्चा में मानसिक स्वास्थ्य और आत्महत्या रोकथाम के लिए कार्यक्रमों को तैयार किया जा सकता है। इसमें मानसिक स्वास्थ्य या खुदकुशी की रोकथाम के विषय से संबंधित फ्लायर, पोस्टर, व्याख्यानमाला, चर्चा, फिल्म प्रदर्शन या अन्य गतिविधियां शामिल हो सकती हैं। इस पर खुले रूप से चर्चा को बढ़ावा देने से कर्मचारियों को लगता है कि मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बात करना पूरी तरह से ठीक है।

खुदकुशी के बारे में आम मिथकों पर ध्यान देना भी महत्वपूर्ण है: जैसे कि आत्महत्या का विचार मन में लाने वाला व्यक्ति कमजोर होता है या जीना नहीं चाहता; या ऐसी गलत धारणा कि अगर कोई व्यक्ति अपने मन में आत्महत्या का विचार ला रहा है तो वह आत्महत्या करने का प्रयास कर सकता है।

4.संकट से घिरे लोगों को पहचानना

मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि आत्महत्या की घटना अचानक से नहीं होती है। आम तौर पर कोई ऐसा दौर या हादसा होता है जो व्यक्ति को आत्महत्या करने के लिए प्रेरित करता है। जब कोई संगठन, संकट से घिरे अपने लोगों की पहचान कर लेता है, तो वह इस ओर काम कर सकता है कि उस व्यक्ति को परिस्थिति का सामना करने में मदद के लिए जो भी सहारा आवश्यक है, वह उसे प्रदान किया जाए।

अपने संगठन में गेटकीपर्स को रखना,  ऐसे कर्मचारियों को पहचानने का एक प्रभावी तरीका हो सकता है, जो संकट के दौर से गुजर रहे हैं। गेटकीपर एक ऐसा व्यक्ति होना चाहिए (जो जरूरी नहीं कि मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ हो) जिसे संकटकाल से गुजर रहे कर्मचारी के हावभाव जानने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है और जो संबंधित कर्मचारी को शुरुआती तौर पर भावनात्मक सहारा दे सके और व्यक्ति को अतिरिक्त मदद के लिए किसी मनोरोग विशेषज्ञ के पास भेज सके। संगठन, अपने कर्मचारियों को गेटकीपर बनने के लिए भी प्रशिक्षित कर सकता है, और इसके लिए उन लोगों का नेटवर्क तैयार करें जो खतरे के संकेत या संकट से घिरे लोगों के हावभाव पहचानने में सक्षम हों। गेटकीपिंग में लोगों को प्रशिक्षित करने के लिए निमहांस सेंटर फॉर वेलबिईंग कार्यशालाएं आयोजित करता है।

इस कार्यक्रम में गेटकीपर से संबंधित जानकारी भी प्रदान की जा सकती है, जो आवश्यकता पड़ने पर उन्हें अपने साथियों को सहारा देने में मदद करता है:

- गेटकीपर के लिए व्यावहारिक और उपयोगी जानकारी: यदि उसे पता चलता है कि किसी सहयोगी को मदद की ज़रूरत है, तो वे इसके लिए आगे क्या कदम उठाते हैं? वे इसके बारे में किसे सूचित करते हैं? कर्मचारी को किस तरह की मदद उपलब्ध है?

- गेटकीपर की संभावित चिंताओं का ध्यान रखने वाली अन्य जानकारी: गेटकीपर के दायित्व क्या हैं? जब वे पूरी तरह हारा हुआ महसूस करते हैं, तब गेटकीपर क्या कर सकता है? गेटकीपर के लिए किस तरह का समर्थन उपलब्ध है? गेटकीपर को अपनी सीमाओं के बारे में पता होना चाहिए कि वह किस हद तक जा सकता है।

5.संकटकाल प्रबंधन

संगठन को संकटकाल या ऐसी परिस्थितियों के लिए एक प्रोटोकॉल या अनुशंसित कार्य योजना बनानी चाहिए - जब किसी व्यक्ति के संकटग्रस्त होने के बारे में पता चलता है तो क्या किया जा सकता है? जब कोई व्यक्ति परेशानी भरे हालात में होता है या मदद के लिए पहुंचता है तो किस तरह की योजना का पालन किया जा सकता है? वास्तव में जब कोई आत्महत्या कर लेता है तो उस स्थिति में क्या किया जा सकता है?

6.रेफरल सिस्टम और उसके बाद दी जाने वाली सेवाएं

मानसिक स्वास्थ्य या आत्महत्या रोकथाम कार्यक्रम के अनिवार्य हिस्से के रूप में किसी मनोरोग विशेषज्ञ को अंशकालिक या पूर्णकालिक रूप से रखा जाना शामिल है, जो कर्मचारियों को मदद की आवश्यकता होने पर उनसे संपर्क कर सकता है। आमतौर पर यह पेशेवर हमेशा परामर्श के लिए उपलब्ध होता है, और जरूरत पड़ने पर कर्मचारियों को अतिरिक्त समर्थन के लिए रेफर कर सकता है। इसके साथ ही वह संगठन को ऐसे लोगों की पहचान करने में भी सहायता कर सकता है, जो कमजोर या संकट से घिरी स्थिति में हैं और जितनी जल्दी हो सके उनकी सहायता की जाए। संगठन अपने ईएपी सिस्टम में किसी मनोरोग विशेषज्ञ को शामिल करने के लिए भी प्रदाता कंपनी के साथ करार कर सकता है।

नियोक्ता अपने कर्मचारियों को दी जाने वाली मानसिक स्वास्थ्य और आत्महत्या रोकथाम सहायता के बारे में पोस्टर, हैंडआउट या इंट्रानेट पर प्रमुखता प्रदर्शित नोटिस के रूप में,  प्रबंधक-कर्मचारियों की बैठक या कर्मचारी-एचआर की बैठकों के दौरान जानकारी प्रदान कर सकते हैं। यह उन कर्मचारियों को सशक्त बनाएगा, जो दिमाग में आत्महत्या के विचार रखने के कारण मदद की तलाश में हैं।

7.गोपनीयता के उपनियम

एक कर्मचारी जिसे मदद की आवश्यकता है, वह मदद मांगने में संकोच कर सकता है क्योंकि उसे यह चिंता रहती है कि उसके मामले को कितनी बुद्धिमानी से या गोपनीय रूप से रखा जाएगा। आत्महत्या योजना के तहत गोपनीयता के नियम होना चाहिए, जिससे कर्मचारियों की इस चिंता को ध्यान में रखा जा सके: कर्मचारियों की व्यक्तिगत जानकारी को किसके सामने प्रकट किया जाएगा? जानकारी को किस आधार पर साझा किया जाएगा? यदि कोई कर्मचारी मानसिक समस्या या खुदकुशी के विचार मन में आने के बारे में बताता है, तो यह उसकी स्थिति या उसकी नौकरी की सुरक्षा को किस तरह प्रभावित करेगा?

इन बिंदुओं पर सही जानकारी कर्मचारियों को इस बारे में आश्वस्त करेगी कि उनका संगठन उनकी परवाह करता है और गोपनीय जानकारी को संवेदनशीलता के साथ संभाला जाएगा। इसके साथ ही उनकी मानसिक समस्याओं के खिलाफ उनसे भेदभाव नहीं किया जाएगा। इससे आवश्यकता पड़ने पर उनमें मदद मांगने की संभावना ज्यादा होती है।

8.एक मॉड्यूल जो संवेदनशील ग्रुप्स की चिंताओं का ध्यान रखता है

किसी संगठन के संवेदनशील ग्रुप्स में कुछ ऐसे कर्मचारी शामिल हो सकते हैं:

- कर्मचारी जिनके काम करने के तरीके में अचानक बदलाव दिखाई देता है (उदाहरण के तौर पर, उनकी दक्षता, पंक्चुअलिटी या काम की गुणवत्ता में कमी आना)

- कर्मचारी जिन्हें अपनी नौकरी में जिम्मेदारियों और / या वेतन में कटौती किए जाने का डर बना रहता है।

- ऐसे कर्मचारी जो अपने गृहनगर को छोड़कर नौकरी पर आए हैं और उन्हें यहां के सिस्टम में फिट हो पाने में परेशानी है या उन्हें यहां की आबोहवा रास नहीं आ रही है।

- वे कर्मचारी जो आर्थिक या भावनात्मक समस्याओं से घिरे हैं, भले ही समस्या का संबंध सीधे उनकी नौकरी से हो या न हो।

जिन संगठनों में कर्मचारी अतिसंवेदनशील माहौल में जैसे हिंसा, सशस्त्र बलों या सुरक्षा के मामले में, या खुदकुशी के मामलों से संबंधित (दवा कंपनियों या भारी मशीनरी का उपयोग करने वाले) कारकों के संपर्क में आते हैं, उन्हें अपनी योजना बनाते समय ऐसे कारकों को ध्यान में रखना होगा ।

9.कार्य योजना

आत्महत्या रोकथाम कार्यक्रम प्रभावी होने के लिए इसमें एक विशिष्ट कार्य योजना होनी चाहिए, जिसमें शामिल हैं:

- आत्महत्या रोकथाम योजना के हिस्से के रूप में शामिल गतिविधियों की सूची

- प्रत्येक गतिविधि को संपन्न कराने के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों के नाम, जो संगठन के स्वास्थ्य विभाग, मानव संसाधन या अन्य विभागों से हैं।

- प्रत्येक वर्ष के लिए गतिविधियों की समय सीमा

- गतिविधियों को संपन्न कराए जाने के लिए विशिष्ट संसाधनों की उपलब्धता, ताकि प्रत्येक गतिविधि को पूरा कराने वाले विभाग, संकट की स्थिति में कागजी कार्रवाई में देरी लगाए बिना स्वतंत्र रूप से कार्य कर सकें।

योजना से पड़ने वाले प्रभाव की देखरेख के लिए सिस्टम का होना: इस बात को सुनिश्चित करना कि गतिविधियों की योजना समय पर बनाई गई हो और यह मूल्यांकन किया जाए कि उनकी परफॉर्मेंस कितनी बेहतर या प्रभावी है।

इस सीरीज को निमहांस के महामारी विज्ञान विभाग के प्रमुख  डॉ.गुरुराज गोपालकृष्ण,निमहंस की मनोचिकित्सा प्रोफेसर डॉ.प्रभा चंद्र,निमहंस में नैदानिक मनोविज्ञान की एडिश्नल प्रोफेसर डॉ.सीमा मेहरोत्रा,निमहंस में  नैदानिकमनोविज्ञान विभाग की असोसिएट प्रोफेसर डॉ.पूर्णिमा भोला और निमहांस में मनोचिकित्सा के असोसिएट प्रोफेसर डॉ.सेंथिल कुमार रेड्डी से मिले इनपुट के साथ व्हाइट स्वान फाउंडेशन द्वारा संयोजित किया गया है