क्या मुझे मानसिक बीमारी विरासत में मिल सकती है?

आपको शायद पता होगा कि कोरोनरी हृदय रोग, मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसे कई शारीरिक रोग वंशानुगत होती हैं। इसी प्रकार, अगर आपके परिवार में किसी व्यक्ति को मानसिक बीमारी है, तो आप सोच सकते हैं कि आप को यह बीमारी अनुवांशिक रूप से मिलेगी या नहीं। यदि आपका या आपके पति / पत्नी का मानसिक बीमारी के लिए इलाज हो रहा है, तो यह बीमारी आपके बच्चों में अनुवांशिक रूप से आएगी या नहीं, इस बारे में चिंतित हो सकते हैं।

यद्यपि मानसिक बीमारी परिवारों में चलती है, शोध साक्ष्य बताते हैं कि मानसिक बीमारियों वाले अधिकांश लोगों के मानसिक बीमारी से पीड़ित कोई रिश्तेदार नहीं होते हैं।

निमहांस के मनोचिकित्सा विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ दीपक जयराजन का कहना है कि "आनुवांशिक अध्ययन से पता चलता है कि ऐसा कोई एक वंशाणु नहीं है जो किसी को मानसिक बीमारी के खतरे में डाल देता है। यह विभिन्न गुणसूत्रों पर वंशाणु के संयोजन पर निर्भर करता है, जो मानसिक बीमारी के उत्तराधिकारी की प्रवृत्ति को बढ़ाता है। मधुमेह, उच्च रक्तचाप या हृदय रोग को विरासत में पाने के जोखिम का समानांतर हो सकता है।"

मानसिक बीमारी को विरासत में पाने की क्या संभावना है?

 

स्कित्ज़ोफ्रेनिया

द्विध्रुवीय विकार

अवसाद

उत्कंठा विकार

आजीवन संभावना (सामान्य आबादी में किसी के जीवनकाल के दौरान ऐसी स्थिति विकसित होने की संभावना)

1%

1-2%

10-25% महिलाएं

5-12% पुरुष

15-25% किसी भी उत्कंठा विकार के लिए

यदि आपके जैविक माता-पिता में से कोई एक इससे पीड़ित है

9-16%

27%

5-30%

उत्कंठा विकार के कई प्रकार होते हैं। उदाहरण के लिए, सामान्य उत्कंठा विकार के मामले में 20% और आतंक विकार के मामले में 8-31%

यदि आपके दोनों जैविक माता-पिता इससे पीड़ित है

35 - 46%

50 – 65%

31-42%

 

अगर एक सहोदर (भाई या बहन) इससे पीड़ित है

8-14%

5-20%

5-30%

 

यदि एक गैर-अभिन्न जुड़वां सहोदर इससे पीड़ित है

10 – 16%

5-20%

11%

 

यदि एक अभिन्न जुड़वां इससे पीड़ित है

40-60%

50-70%

40%

 

यदि दूसरी डिग्री के रिश्तेदार (चाचा या मासी) इससे पीड़ित है

1-4%

5%

  

* सूत्रों के अनुसार:

जेनेटिक्स में राष्ट्रीय गठबंधन व्यावसायिक शिक्षा द्वारा अनुभवजन्य जोखिम डेटा

क्या मानसिक बीमारी परिवारों में चलती है?

ये विश्वव्यापी संख्याएं हैं, और एक मानसिक बीमारी को विरासत में पाने का जोखिम समग्र आबादी का प्रतिनिधि है। आंकड़े बताते हैं कि यदि पहली डिग्री के रिश्तेदार (माता-पिता या भाई-बहन) मानसिक बीमारी से पीड़ित है, तो मानसिक बीमारी होने का जोखिम अधिक होता है।

क्या मानसिक बीमारी के लिए केवल वंशाणु जिम्मेदार हैं?

नहीं। अनुसंधान से पता चलता है कि सिर्फ वंशाणु मानसिक बीमारी का कारण नहीं बनते हैं; इसके अलावा दूसरे कारक भी जिम्मेदार होते हैं। मानसिक बीमारियां आनुवांशिक और पर्यावरणीय कारकों जैसे तनाव, दुर्व्यवहार, बचपन के आघात, गरीबी और कुपोषण के सम्मलेन से होती हैं। इसका मतलब है कि यदि किसी व्यक्ति में 'जोखिम भरा वंशाणु' (मानसिक बीमारी से जुड़ी वंशाणु) है तो पर्यावरणीय और सामाजिक कारक विरासत में मिले वंशाणुओं को व्यक्त किए जाने के तरीके को बदल सकते हैं। इसलिए, ऐसे अन्य कारक होते हैं जो मानसिक बीमारी को सक्रिय या उत्तेजित कर सकते हैं। इसके अलावा, बीमारी को विरासत में पाने की संभावना उम्र के साथ कम हो जाती है; क्योंकि अधिकांश मानसिक बीमारियों की शुरुआत 18-25 वर्ष के दौरान हो जाती है।

मानसिक बीमारी से जुड़े वंशाणुओं और अन्य जोखिम कारकों को विरासत में पाने के जोखिम को जानने से मुझे कैसे मदद मिलेगी?

अब, आप सोच सकते हैं - तालिका में संकेतित संख्याओं को मेरी स्थिति से कैसे जोड़ा जा सकता हैं? यह जानकर कि आपने आनुवांशिक भेद्यता को विरासत में पाया है जिसके कारण मानसिक बीमारी के कुछ निश्चित जोखिम है, और अन्य कारक वंशाणु अभिव्यक्ति को बदल सकते हैं, जोखिम को कम करने के कई तरीके हैं। मधुमेह और उच्च रक्तचाप के मामले की तरह, मानसिक बीमारी को विरासत में पाने का जोखिम बना हुआ रहता है लेकिन इसे कम करने या नियंत्रित करने के उपाय:

• तनाव से अवगत होना

• भावनात्मक संकट और चुनौतियों से निपटने और सामना करने की आपकी क्षमता को बढ़ाना

• तनाव को कम करने के लिए अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव लाएं

• एक स्वस्थ आहार बनाए रखना

• नियमित रूप से व्यायाम करना

• पर्याप्त नींद लेना

• किसी ऐसे व्यक्ति को अपनी समस्याओं के बारे में बताना जिस पर आपको भरोसा हो

• शराब, तंबाकू और अन्य मनःस्थिति को बदलने वाले पदार्थों से बचें। ऐसे पदार्थों के उपभोग से मानसिक बीमारी का खतरा बढ़ता है, और साथ ही यदि आपको मानसिक बीमारी है, तो वे बीमारी की गति को बदल सकते हैं और इस प्रकार दवा के असर को प्रभावित कर सकते हैं।

• एक विश्वसनीय स्रोत से मानसिक बीमारी के संभावित संकेतों को जानना।

पारिवारिक सदस्य और देखभालकर्ता जिन्हें यह संदेह या चिंता है कि वह स्वयं या उनके बच्चे किसी मानसिक बीमारी को विरासत में पा सकते हैं, वे मनोचिकित्सक और / या आनुवंशिक सलाहकार के साथ चर्चा कर सकते हैं।