आप स्वयं को दूसरों के स्थान पर रख कर संघर्ष का हल निकाल सकते हैं

एक चिकित्सक के रूप में मैं अक्सर ऐसे लोगों से मिलती हूं जिनके साथ निर्देशक तरीका उतना  काम नहीं करता जितना गैर-निर्देशक तरीका करता है। निर्देशक परामर्श में मनोवैज्ञानिक प्रत्यक्ष सुझाव देता है और व्यक्ति इसके आधार पर अपनी मनपसंद क्रियाविधि चुनने के लिए स्वतंत्र होता है। गैर-निर्देशक तरीके में, इसके बजाय कि मनोवैज्ञानिक व्यक्ति को कुछ करने को कहे, व्यक्ति मनोवैज्ञानिक की सहायता से संभावित समाधानों की पड़ताल करता है।

ऐसी कई तकनीकें हैं जो परामर्श के लिए आये लोगों की मदद करते हैं खुद को एक दूरी से देखने की, दूसरों को समझने की, और यह जानने की कि अन्य लोग उन्हें किस नज़रिये से देखते हैं। खाली कुर्सी तकनीक (जिसे डबल-कुर्सी तकनीक भी कहा जाता है) एक ऐसी विधि है जिसका उपयोग पारस्परिक संघर्ष सम्बंधित मुद्दों को सुलझाने के लिए किया जाता है। यह लोगों की मदद करता है संघर्ष को एक अलग नजरिये से देखने में, और ये समझने की अंतर्दृष्टि प्रदान करता है कि वो जैसी अनुभूति और व्यवहार कर रहे है, वैसा क्यों कर रहे हैं।

इस तकनीक में एक खाली कुर्सी को व्यक्ति के विपरीत रख दिया जाता है। यह कुर्सी उस व्यक्ति या परिस्थिति का रूप लेती है जिसके साथ वह संघर्ष में है। व्यक्ति को उनकी धारणाओं और भावनाओं को समझाते हुए कुर्सी से बात करने के लिए कहा जाता है। इसके बाद व्यक्ति को कुर्सी पर बैठने के लिए कहा जाता है (इस स्थिति में दूसरे व्यक्ति की भूमिका ग्रहण करने के लिए) और जो कहा गया था उसका जवाब देने को कहा जाता है। इस वार्तालाप के दौरान व्यक्ति कई बार स्थान बदलता है। यदि मनोवैज्ञानिक या परामर्शदाता इस वार्तालाप को बेहतर समझने के लिए अन्य साक्षात्कार तकनीकों का उपयोग करते हैं, तो इस प्रक्रिया से मदद मिलती है।

इस तकनीक के उदाहरण के रूप में, मैं एक मध्यम आयु वर्ग की महिला का ज़िक्र करता चाहूंगी जिसमें हल्की निराशाजनक प्रवर्तियां थी और जो मेरे पास परामर्श के लिए आई थी। घर पर व्यवस्थितता और साफ-सफाई बनाए रखने के लिए उसे अपनेआप से अवास्तविक स्तर की उम्मीदें थीं। इस काम को बेहतर करने के लिए उसने इस तरह से आपने आप को इसमें झोंक दिया था कि उसका आत्मसम्मान इससे जुड़ गया था। घर के काम में उसे आनंद नहीं मिलता था, फिर भी वह अपने घर के सभी कमरों की सफाई करने के लिए घंटों खर्च करती थी, जिसमें बच्चों का कमरा (जो अब उपयोग में नहीं था) और गेराज भी शामिल थे।  सफाई और घर के काम के लिए समर्पित होने के कारणों को स्थापित करने की कोशिश करने पर यह पाया गया कि उसकी जिंदगी के शुरुआती दिनों से उसकी मां घर के काम के महत्व पर जोर देती थी और कहती थी कि यदि वह भविष्य में अपने पति और बच्चों की नजर में सम्मान हासिल करना चाहती है, तो उसे घर के सभी कार्यों में उत्कृष्ट होना होगा।

उसकी आत्म-मूल्यांकन और आत्म-सम्मान की कमी को दूर करने में मदद करने के लिए अन्य मनोचिकित्सा तकनीक और विधियों का उपयोग करने के अलावा, 'खाली कुर्सी तकनीक' का भी उपयोग किया गया। उसे खाली कुर्सी पर बैठने और अपनी मां की भूमिका ग्रहण करने के लिए कहा गया, और खुद को घर के काम करने के महत्व के बारे में बताने के लिए कहा गया। अपनी मां की भूमिका में  उसने कहा कि स्वच्छता ईश्वरीयता के बराबर है, और एक अच्छी पत्नी अपने घर के प्रति समर्पित होती है। फिर, उसे कुर्सी बदल कर स्वयं बनने को कहा गया, और अपनी माँ को जवाब देने को कहा गया। उसके जवाबों में कटुता और क्रोध दिखाई दिया और वह कहती रही कि "नहीं, मैं ये नहीं करना चाहती। मैं हर समय ये काम करते करते थक गयी हूँ। मैं दूसरों के लिए काम करते करते थक चुकी हूँ।"

इस वार्तालाप के दौरान, उसे यह एहसास हुआ कि इन उम्मीदों के कारण उसके जीवन में बहुत परेशानी हो रही है। उसने यह भी स्वीकार किया कि एक वयस्क के रूप में, अब उसके पास वह विकल्प हैं जो बचपन में नहीं थे। इसके अलावा, उसने यह भी महसूस किया कि उसने कभी भी अपनी मां को यह नहीं बताया था कि उसने इन सभी वर्षों में कैसा महसूस किया था। और मन ही मन अपनी मां के खिलाफ असंतोष की भावनाओं को पाल रखा था।

ऊपर दिया गया उदाहरण दर्शाता है कि किस तरह खाली कुर्सी तकनीक ने उस महिला को अन्य विचारों या स्वयं के अन्य पहलुओं के संपर्क में आने में मदद की। इस तकनीक की व्यापक प्रयोज्यता के कारण,  हम अपने निजी मुद्दों, उदासी या क्रोध की भावनाओं, या हमारे संबंधों में पारस्परिक समस्याओं या संघर्षों से निपटने के लिए हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में भी खाली कुर्सी तकनीक का उपयोग कर सकते हैं। इसे एक शक्तिशाली तकनीक माना जाता है;  न केवल परामर्श प्रक्रियाओं में, बल्कि एक अपनी मदद स्वयं करने के तकनीक के रूप में भी। यह हमें अपनी स्थिति से खुद को दूर खड़े होकर एक अलग परिप्रेक्ष्य से हमारी समस्याओं को देखने में सहायता कर सकता है।

अनुशंसित किताबें:फसिलिटेटिंग इमोशनल चेंज: द मोमेंट बाई मोमेंट प्रोसेस: लेस्ली ग्रीनबर्ग,लौरा राईस,और रॉबर्ट इलियट द्वारा।

डॉ गरिमा श्रीवास्तव नेऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज से पीएचडी की डिग्री प्राप्त की है औरदिल्ली स्थितएकनैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक हैं।