देखभाल करना

मनोभ्रंश रोगियों की देखभाल करने वालों की देखरेख

डॉ. अनिल पाटिल

अपने पिछले लेखों में,  मैंने उन मुद्दों पर बात की जिनका सामना सभी देखभालकर्ताओं को करना पड़ता है। सेवा करवाने वाले व्यक्तियों के खराब स्वास्थ्य या उसके निदान की परवाह किए बिना। इस बार, मैं उन देखभालकर्ताओं पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं जो मनोभ्रंश के शिकार अपने प्रियजनों की देखभाल कर रहे हैं।

मनोभ्रंश और संबंधित स्थितियों का परिवार पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष दोनों रूप से भारी प्रभाव पड़ता है। केवल मनोभ्रंश व्यक्ति ही नहीं, बल्कि इससे पूरा परिवार प्रभावित होता है। यह विशेष रूप से तब मार्मिक होता है, जब उसे संभालना परिवार की ज़िम्मेदारी हो जाती है,  जो कि भारत में बहुत विशिष्ट है। जिम्मेदारी भरा यह नया काम परिवार पर आर्थिक,  भावनात्मक और शारीरिक रूप से भी बहुत बड़ा बोझ डाल सकता है।

डब्लूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) जैसे अंतरराष्ट्रीय निकायों की रिपोर्ट के मुताबिक,  'एशिया में मनोभ्रंश तेजी से बढ़ रहा है,  जो देखभालकर्ताओं की बढ़ती संख्या पर भारी बोझ डाल रहा है,  जो मुख्य रूप से परिवार के सदस्य हैं'। यह मुद्दा कम होने के बजाए बढ़ता ही जा रहा है। यही कारण है कि मनोभ्रंश पीड़ितों की देखभाल करने वालों के मुद्दे को लिखना इतना महत्वपूर्ण है।

भारत में मनोभ्रंश से प्रभावित लोगों की बड़ी संख्या के बावजूद (वर्तमान में लगभग 3.7 मिलियन है और सन् 2030 तक 7 मिलियन से अधिक की वृद्धि अनुमानित है), इस स्थिति के आसपास के मुद्दों में छिपी हुई एक बड़ी समस्या है। ऐसे परिवारों के लिए कोई वित्तीय सहायता नहीं है और भावनात्मक रूप में भी बहुत कम संबल मिल पाता है। कई परिस्थितियों में,  देखभालकर्ताओं को खुद के बल पर ही संभाल करने के लिए छोड़ दिया जाता है और ऐसे में वह अपने सभी काम छोड़ने पर मजबूर हो जाता है

देखभालकर्ता होने का भावनात्मक प्रभाव भी महत्वपूर्ण है। देखभाल करने वालों के लिए न केवल अपने प्रियजन के मनोभ्रंशी होने का दर्द झेलना पड़ता है, बल्कि उसकी 'अनौपचारिक देखभाल', आर्थिक और भावनात्मक समर्थन प्रदान करने का बोझ भी वहन करना पड़ता है। यह अक्सर देखभाल करने वालों को बढ़ते अवसाद,  चिंता और अन्य मनोवैज्ञानिक समस्याओं की ओर ले जाता है।

लोगों के मुताबिक,  भारतीय संस्कृति में  कई लोग परिवार और बुजुर्गों की देखभाल करने को सौभाग्य और सकारात्मक भूमिका के रूप में देखते रहे हैं,  इसके नकारात्मक प्रभावों के बावजूद,  और यही कारण है कि हमें परिवार के देखभालकर्ताओं को सहारा देने की और उनकी महत्वपूर्ण भूमिका के लिए उनका समर्थन करने की जरूरत है।

यदि आप इस लेख को पढ़ रहे हैं, क्योंकि आप मनोभ्रंश पीड़ित किसी रिश्तेदार या दोस्त की देखभाल करते हैं,  तो मैं आपकी इस भूमिका के लिए आपकी सहायता करने कुछ सुझाव पेश करना चाहता हूं। हालांकि स्वाभाविक रूप से एक देखभालकर्ता के रूप में आपकी मुख्य प्राथमिकता आपके प्रियजन के लिए हो सकती है, लेकिन अपने स्वास्थ्य और भलाई के लिए जागरूकता रखना भी आवश्यक रूप से महत्वपूर्ण है। मनोभ्रंश व्यक्ति की देखभाल करने से होने वाले भावनात्मक और शारीरिक प्रभाव बहुत हानिकारक हो सकते हैं यदि उन्हें समय पर पहचानकर बताया न जाए।

यहां,  मैं देखभाल करने वालों के लिए कुछ व्यावहारिक सलाह और रणनीतियों को रेखांकित करता हूं, ताकि ये सुनिश्चित हो सके कि वे उनके प्रियजन साथ ही खुद की देखभाल भी कर रहे हैं।

अपना ख्याल रखें

जितना हो सके एक स्वस्थ एवं  संतुलित आहार खाएं, सक्रिय रहें और पर्याप्त नींद लें। इन सब के बिना आपका शरीर जल्द ही सूखने लगेगा और  देखभालकर्ता के रूप में ज्यादा तनाव पैदा करेगा।

अपनी भावनाओं को जानें

शारीरिक स्वास्थ्य के साथ ही आपको अपनी भावनात्मक भलाई का ख्याल रखना भी महत्वपूर्ण है। देखभाल करने वाले के रूप में उदास, तनावग्रस्त, क्रोधित, निराश, पृथक, चिंतित और दोषी महसूस करना सामान्य बात है, और इनमें से कुछ भावनाएं आप पर हावी हो सकती हैं। भावनाएं भड़काने वाली इन स्थितियों को पहचानें। परिवार, अन्य देखभालकर्ता या आपके चिकित्सक से बातचीत ऐसी भावनाओं को कम करने में सहायता कर सकती है।

एक विराम लीजिए

अपने लिए समय निकालें और देखभाल के दौरान बीच में अवकाश ज़रूरी है। मनोभ्रंश वाले व्यक्ति की देखभाल करना अविश्वसनीय रूप से थकाऊ हो सकता है, इसलिए आराम कर खुद को संभालिए और यह विश्राम आपको फिर से ऊर्जावान कर देगा।

आर्थिक बोझ से मुकाबला करना

देखभाल करने वालों की प्रमुख चिंताओं में से एक उस पर पड़ने वाला वित्तीय बोझ हो सकता है, और यह तनाव का महत्वपूर्ण कारक हो सकता है। यदि आप देखभाल के साथ पैसों की चिंता का सामना कर रहे हैं,  तब परिवार और दोस्तों से मदद के लिए पूछने से डरो मत।

अंत में,  हमेशा याद रखें कि जितना अच्छा आप कर सकते हैं, कर रहे हैं!

उम्मीद है कि यह व्यावहारिक सलाह, देखभालकर्ताओं को खुद की देखभाल करने के महत्व को समझाने में मदद करने के लिए रास्ता दिखाएगी, और देखभालकर्ता के रूप में सामने आने वाली समस्याओं से मुकाबला करने की तकनीकों को अधिक प्रभावी ढंग से ढूंढने में मदद करेगी।

डॉ. अनिल पाटिल केयरर्स वर्ल्डवाइड के संस्थापक और कार्यकारी निदेशक हैं। केयरर्स वर्ल्डवाइड संस्था, अवैतनिक देखभालकर्ताओं द्वारा सामना किए जाने वाले मुद्दों पर प्रकाश डालती है और उन्हें सुलझाने का प्रयास करती है। सन् 2012 में स्थापित और ब्रिटेन में पंजीकृत यह संस्था विशेष रूप से विकासशील देशों में देखभाल करने वालों के साथ काम करती है। इस स्तंभ में डॉ. पाटिल के साथ रूथ पाटिल सह लेखक हैं, जो केयरर्स वर्ल्डवाइड संस्था के स्वयंसेवक हैं। अधिक जानकारी के लिए आप केयरर्स वर्ल्डवाइड पर लॉग ऑन कर सकते हैं। आप लेखकों को columns@whiteswanfoundation.org पर लिख सकते हैं।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org