देखभाल करना

गंभीर रूप से बीमार की देखभाल

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

पिछले तीन सालों से कैंसर से पीड़ित अपने पिता की देखभाल करने के बाद, महेश खुद को उजड़ा महसूस करने लगा जब डॉक्टर ने बताया कि कैंसर अंतिम चरण में था। इतने सालों तक देखभाल करने के बावजूद, अपने पिता को खोने का ख्याल काफी विह्वल करने वाला था और वह गहरे दु:ख और पीड़ा से भर गया था। उसे नहीं पता था कि इस स्थिति को कैसे संभाले। 

स्थिति को समझने में सहायता करने के लिए परिस्थितियों को वास्तविक जीवन की स्थिति में रखकर यह काल्पनिक कथा बनाई गई है।  

देखभाल करना अपने आप में एक कठिन और थका देने वाली जिम्मेदारी है, लेकिन यह तब और भी अधिक कठिन हो जाता है जब किसी व्यक्ति को गंभीर रूप से बीमार (कैंसर, एड्स, अल्जाइमर, उम्र संबंधी जटिलताओं आदि) का ख्याल रखना पड़ता है। गंभीर बीमारी का निदान देखभाल करने वाले और परिवार के सदस्यों के लिए बहुत कष्टकारी हो सकता है। जब डॉक्टर स्थिति के बारे में परिवारवालों को सूचित करते हैं, तो परिजन कई तरह की भावनाओं से गुज़रते हैं, और हर व्यक्ति अलग तरह से प्रतिक्रिया करता है। वे पहले इसे अस्वीकार करते हैं। कुछ समय बाद, यदि किसी भिन्न उपचार से बीमारी ठीक हो सकती हो तो वे उसका पता लगाने की कोशिश करते हैं। लेकिन जब उन्हें एहसास होता है कि कोई भी अपरिहार्य को नहीं रोक सकता है, तो वे इसे मान कर वास्तविकता को स्वीकार कर लेते हैं।  
देखभाल करने वाला दवा और उपचार की अनिश्चितता, जीवन के अंतिम क्षणों तक देखभाल करने, व्यक्ति कब तक जीवित रहेगा, उस व्यक्ति को कैसे यह जानकारी देनी है और इसी तरह की अन्य बातों के बारे में चिंतित हो सकता हैं। जैसे- जैसे कि व्यक्ति की स्थिति बिगड़ती जाती है, तो वह पूरी तरह से देखभाल करने वाले पर निर्भर हो सकता है। देखभाल करने वाले का अपनी दैनिक गतिविधियों को सँभालते हुए देखभाल करने का संघर्ष बहुत अधिक तनाव का कारण हो सकता है। इस दौरान, देखभाल करने वाले को परिवार के सदस्यों और दोस्तों से बहुत समर्थन की आवश्यकता होगी। 

देखभालकर्ता की तरह सहायता प्रदान करना

हम जितनी कल्पना कर सकते हैं गंभीर रूप से बीमार की देखभाल करना उससे कठिन होता है; फिर भी, देखभालकर्ता स्थिति का प्रबंधन करने का एक प्रयास कर सकता है:

  • नियंत्रण की भावना को बनाए रखें: हर व्यक्ति अलग-अलग तरह से प्रतिक्रिया देता है जब उसे अपनी गंभीर बीमारी के बारे में पता चलता है और यह स्वाभाविक है कि वे उदास महसूस करते हैं। एक देखभालकर्ता के रूप में, नियंत्रण की भावना को बनाए रखें और भावनात्मक सहारा देने का प्रयास करें। परिवार के सदस्य भी बीमार के साथ अधिक समय बिता सकते हैं।
  • जल्दी योजना बनाएं: विशेषज्ञों की सलाह है कि परिवार को जल्दी योजना बनानी चाहिए और देखभाल करने के बारे में जब बीमार व्यक्ति खुद निर्णय लेने में सक्षम हो तो उससे परामर्श करके देखभाल के बारे में व्यावहारिक निर्णय लें। इससे परिवार वालों को स्थिति का सामना बेहतर तरीके से करने में मदद मिलती है। यदि कोई योजना नहीं है, तो देखभालकर्ता आखिरी अवस्था में चीजों को संभालने के लिए तैयार नहीं होंगे।
  • अक्सर बातचीत करें: परिवार और व्यक्ति के जीवन से संबंधित सभी चीजों के बारे में जितना अधिक हो सके खुलकर और ईमानदारी से संवाद करना सबसे महत्वपूर्ण बातों में से एक है। व्यक्ति को पारिवारिक वार्तालाप या चर्चा में शामिल करें। व्यक्ति को अपनी गूढ़ विचारों और भावनाओं को साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें, पूछें यदि उनकी कोई इच्छा है जो पूरी की जा सकती हो और इसी तरह अन्य बातें। उन मरीजों के मामले में जिनको गंभीर स्मृति हानि हुई है, उनसे हो सकता है कि आप उसी तरीके से संवाद न कर सकें।
  • घर पर दिनचर्या और सामान्य स्थिति बनाए रखें: उनके सभी दैनिक कार्यों के लिए दिनचर्या बनाने की कोशिश करें। यह उस व्यक्ति की दिनचर्या का एक ढांचा बनाएगा, और उन्हें जितना संभव हो मशगूल रखेगा। उन्हें सामाजिक समारोहों में ले जाएं, एकजुट होने के क्षणों का जश्न मनाएं और जितना संभव हो घर पर सामान्य वातावरण बनाए रखें। इससे व्यक्ति की गरिमा और उपयोगिता की भावना में वृद्धि होगी।
  • कानूनी और वित्तीय मामलों को प्रबंधित करें: जब कोई व्यक्ति स्थिर अवस्था में हो, तो उन्हें सभी कानूनी और वित्तीय मामलों (वसीयत, संपत्ति, धन, आदि) बनाने और उचित निर्णय लेने के लिए प्रोत्साहित करें। इस तरह से, व्यक्ति संतुष्ट होगा कि चीजों को उनकी इच्छा के अनुसार हल किया गया है, और आप बाद में हो सकने वाली किसी भी जटिलताओं से भी बच सकते हैं।
  • सहायता मांगे: जब व्यक्ति की स्थिति बिगड़ जाती है, वे अपनी सभी दैनिक गतिविधियों (स्नान, ड्रेसिंग, भोजन, शौचालय का उपयोग और सौंदर्य) के लिए आप पर अधिक निर्भर हो सकते हैं। आपको इस बदलाव के लिए तैयार रहना होगा। यदि आपको खुद इसका प्रबंध करना मुश्किल लग रहा हो, तो परिवार के सदस्यों से मदद के लिए कहें, या पूर्णकालिक नर्स या देखभाल करनेवाला बुलाएं।
  • आध्यात्मिक विचारों का समर्थन: हर व्यक्ति के अपने विश्वास और आस्था होगे। कुछ के लिए, धर्म बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है; यह उनके जीवन और उनकी मृत्यु दोनों को अर्थ दे सकती है। उनकी आवश्यकता के आधार पर, आप उनकी सहायता कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, वे चाह सकते हैं कि पुजारी या पादरी उनके लिए प्रार्थना करें, वे धार्मिक गीत या भजन को सुनना चाह सकते हैं, या पवित्र शास्त्र से छंदें सुन सकते हैं, और इसी तरह की अन्य बातें।  
  • पीड़ाहारी देखभाल चुनें: प्रशिक्षित पेशेवरों की एक टीम इस विशेष चिकित्सकीय देखभाल के साथ रोगहारी उपचार प्रदान करती है। यह देखभाल दर्द और चिंता के  लक्षणों से राहत प्रदान करने और रोगी और परिवार के सदस्यों दोनों द्वारा अनुभव किए जाने वाले तनाव को कम करने में पर ध्यान केंद्रित करती है। रोगनिवारक देखभाल रोगी की मनोसामाजिक और आध्यात्मिक पहलुओं को एकीकृत करती है। इसका लक्ष्य रोगी और परिवार दोनों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना है।
    
घातक बीमारियां 
यह कुछ गंभीर स्थितियां हैं:
  • उन्नत संज्ञानात्मक और कार्यात्मक नुकसान के साथ गंभीर न्यूरोलोलॉजिकल स्थितियां, जिनके सुधार के लिए कोई संभावना नहीं (मनोभ्रंश, अल्जाइमर)
  • बुढ़ापे में जीर्ण दुर्बलता या बीमारी, जो अंततः अंग शिथिलता की ओर ले जाता है
  • बढ़ने वाला कैंसर जहां उपचार विफल हो गया है या रोगी ने इलाज लेने से इनकार कर दिया है।
  • सर्जरी के बाद की जटिलताएं जिनका इलाज नहीं किया जा सकता है 
  • फेफड़ों, हृदय, गुर्दे या यकृत रोग के अंत-चरण, जिसका चिकित्सा या शल्य चिकित्सा के साथ इलाज किया गया है
  • विनाशकारी बीमारियों (पक्षाघात, स्ट्रोक, आदि) के साथ अंग शिथिलता और जो इलाज की उचित अवधि तक पतिक्रिया नहीं कर रहा हैं।
  • गंभीर मस्तिष्क की चोट, मस्तिष्क में आंतरिक रक्तस्राव, आदि के कारण कोमा (मस्तिष्क मौत की अनुपस्थिति में)
  • बचने की कम संभावना के साथ कोई अन्य चिकित्सा स्थिति 

 

 
वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org