देखभाल करना

अव्यवस्थित मनोदशा वाले साथी की देखभाल कैसे करें

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

अवसादग्रस्त साथी के साथ रहना तनावपूर्ण हो सकता है। यद्यपि मनोदशा विकार वर्तमान दौर में आम समस्या है,  जब करीबी संबंधों की बात हो तो इस प्रभाव पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता। कुछ सामान्य लक्षणों,  जैसे संबंधों से विरक्ति होना, सामाजिक बातचीत में कमी  और गतिविधियों में रुचि की कमी इन संबंधों को एक संघर्ष बना सकती है।

यह आपको भी प्रभावित कर सकता है क्योंकि जब आप किसी ऐसे व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं जिसे आप पसंद करते हैं, तो आपका ध्यान उनकी खुशी पर ही केंद्रित हो और अनजाने में आप खुद की जरूरतों और इच्छाओं को अनदेखा करने लगते हैं। इस कारण मानसिक स्वास्थ्य समस्याग्रस्त साथी की देखभाल करना बहुत जटिल हो जाता है। जब आपका साथी मानसिक बीमारी से गुजर रहा है, तो यह जरूरी है कि आप अपना भी ख्याल रखें। दोनों का ध्यान आप ही को रखना है, और इस प्रकार आप अपने साथी को सहारा दे सकते हैं।

यह कुछ तरीके हैं, जो उपयोगी हो सकते हैं।

समस्या को नकारें नहीं

एक साथी जो पहली चीज कर सकता है वह है इसे अनदेखा करना और इनकार करना कि कोई समस्या है। शुरू में यह मुश्किल हो सकता है, लेकिन जितना जल्दी आप इसे स्वीकार करते हैं और अपने साथी से मदद लेने के लिए आग्रह करते हैं,  उतने ही बेहतर परिणाम मिलेंगे।

चीजों को नकारने के बजाय, चुनौतियों का सामना करना और आपस में खुलकर स्वस्थ बातचीत करते रहना सबसे अच्छा है: इससे अंतरंगता और विश्वास की भावना बरकरार रहती है। खुलकर प्रश्न पूछने का प्रयास करें: "मैं आपकी मनोदशा और व्यवहार में कुछ बदलाव देख रहा हूं। क्या आपको कोई बात परेशान कर रही है? क्या आप इसके बारे में बात करना चाहेंगे?" इससे आपके साथी को खुलने में और यह महसूस करने में मदद मिलेगी कि उसकी देखभाल की जा रही है।

संबद्ध रहना

आपका साथी जिस बीमारी से गुजर रहा है उसके बारे में जानें। बीमारी किस तरह की है और इसका इलाज कैसे किया जा सकता है इस बारे में जागरूक रहने से आपको बेहतर तरीके से इससे निपटने में मदद मिलेगी। आप यह भी जान पाएंगे कि रिश्तों पर पड़ने वाले बीमारी के प्रभाव को आप कैसे कम कर सकते हैं। हालांकि अधिकांश बीमारियों में सामान्य लक्षण होते हैं, लेकिन वे प्रत्येक व्यक्ति में अलग-अलग तरह से प्रकट हो सकते हैं। अपने साथी द्वारा व्यक्त किए गए विशिष्ट लक्षणों से अवगत रहें। इसके लिए,  आप अपने साथी को चिकित्सक या डॉक्टर को दिखाने उसके साथ जा सकते हैं।

अपनी खुशी का ख्याल रखना

ऐसी चीजें करें जो आपको खुशी प्रदान करती हों। एक दिन दूर रहकर बिताएं, अपने दोस्तों के साथ बाहर जाएं,  फिल्म देखें। इससे आप अपने साथी को थोड़ा खालीपन और समय भी दे देंगे।

अन्य लोगों को शामिल करें

देखभाल की जिम्मेदारी दूसरों से साझा करें: आप अपने लिए अधिक समय निकाल पाएंगे और अपने कंधों पर पड़ी ज़िम्मेदारी कम करने में सक्षम होंगे। आपका साथी भी यह जानकर बेहतर महसूस करेगा कि अन्य लोगों को भी हमारी चिंता है।

उनकी खुशी के लिए खुद को जिम्मेदार न समझें

याद रखें: वह किस स्थिति से गुजर रहे हैं, यह एक स्वास्थ्य मुद्दा है। उन्हें ठीक होने में समय लगेगा। यदि वे उदास हैं तो इसके लिए खुद को दोष न दें। चिकित्सक को दिखाने उनके साथ जाकर उन्हें सहारा दें और प्रोत्साहित करने के लिए ऐसी चीजें करें जो उन्हें पसंद हों, लेकिन उनके लिए खुशी पैदा करने का बोझ न लें।

इसे व्यक्तिगत रूप से ना लें

अवसाद, भावनाओं को बदल सकता है। जानें कि यदि वे उदास हैं,  तो यह आपके कारण नहीं है, बल्कि उस स्वास्थ्य समस्या के कारण है, जिससे वे गुजर रहे हैं। उदास होने पर उनकी और स्वयं की मदद करने का एक तरीका यह है कि आप उनसे की जाने वाली अपेक्षाओं को कम करें। उनके लिए उस तरह की प्रतिक्रिया नहीं कर पाना, जैसा सामान्य परिस्थितयों में किया करते थे, यह एक साधारण बात है।

स्वयं के लिए पेशेवर सहायता प्राप्त करें

देखभाल करने से किसी व्यक्ति के व्यवहार में लचीलापन कम हो सकता है। यदि आप घबराहट महसूस करते हैं और खुद को टूटने की कगार पर पाते हैं तो पेशेवर से मदद लेने से डरें नहीं।

नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक डॉ. रत्ना आइजैक से मिले इनपुट से लिखा गया।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org