साक्षात्कार: मेरा पार्टनर मानसिक रोग से ग्रस्त हो सकता है
देखभाल करना

साक्षात्कार: मेरा पार्टनर मानसिक रोग से ग्रस्त हो सकता है

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

दम्पतियों के लिए मानसिक बीमारी चुनौतीपूर्ण हो सकती है। किसी ऐसे व्यक्ति के साथ जो मानसिक रोगी है, रिश्ते में रहना, अपने रोजमर्रा के काम संभालने के साथ ही उसकी देखभाल करना और वह भी इस तरह कि खुद पर कोई आंच ना आए, यह वाकई चुनौतीपूर्ण कार्य है। रितिका धालीवाल ने क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट पल्लवी तोमर से यह समझने का प्रयास किया कि जब दम्पतियों में से किसी एक पार्टनर को मानसिक बीमारी हो, तो रिश्ते को कैसे संभालना है। प्रस्तुत है उसके कुछ संपादित अंश:

मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरा साथी अवसाद या उत्कंठा से गुजर रहा है?

नैदानिक अवसाद में आमतौर पर आप उनके मूड में खराबी होते देखेंगे। आपको पता चलेगा की उन्हें लंबे समय तक उदासी घेरे रहती है। आप यह भी देखेंगे कि ऐसे लोग उन चीजों में दिलचस्पी खोना शुरू कर देते हैं जिनमें कभी उन्हें मजा आता था। बहुत जल्दी थक जाना, कार्यकुशलता के मामले में मनोसामाजिक सक्षमता में गिरावट आना, लोगों से मिलने की चाह खो देना – जीवन के इन सारे पहलुओं पर इसका नकारात्मक प्रभाव देखा जा सकता है। और अगर वे काम कर भी रहे हैं तो उन्हें ऐसा करना भारी लग सकता है और पहले से अधिक प्रयत्न करना पड़ता है। इसके अलावा, अवसाद में, आप उनकी नींद और भूख में भी महत्वपूर्ण बदलाव देखेंगे। वे ज्यादा सुस्त, निराशाजनक और नाकारा होने की भावना का अनुभव कर सकते हैं। उनकी बातचीत में भी इस तरह की बातें शामिल हो सकती हैं। कुछ मामलों में, रोगी खुदकुशी के बारे में बात करता है, या यह कहते हैं कि वे और जीना नहीं चाहते हैं।

उत्कंठा विकार कई तरीकों से प्रकट हो सकते हैं। एक सामान्यीकृत चिंता रोग (जनरलाइज़्ड ऐंगजाइटी डिसऑर्डर), जिसमें व्यक्ति को किसी भी बात को लेकर चिंता करने लगता है, कुछ भी और सब कुछ उसमें चिंता पैदा कर सकता है। ऐसी उत्कंठा के साथ कुछ शारीरिक लक्षण भी प्रकट होते हैं, जैसे धड़कन बढ़ जाना, पसीना और कंपकंपी आना। संत्रास का विकार (पैनिक डिसऑर्डर) में, चिंता के गंभीर अनुभव होते हैं, हालांकि ये अल्पकालिक होते हैं लेकिन रोगी को काफी हतोत्साहित कर देते हैं। वास्तव में, पैनिक डिसऑर्डर में, शारीरिक हावभाव बहुत प्रमुख है, और ये डर की भावनाओं की ओर ले जाते हैं।

मेरा पार्टनर मदद लेने के लिए तैयार नहीं है – ऐसी स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

देखिए, मुझे लगता है कि एक बात जो हमें समझनी चाहिए, वह यह कि मदद मांगना अपने आप में काफी हतोत्साहित करने वाला हो सकता है - यह मान लेना कि उन्हें कोई बीमारी है और उन्हें शायद किसी खास इलाज की जरूरत है। इसलिए पहली बात यह है कि अपने पार्टनर के डर को समझने की कोशिश करें कि वे वास्तव में क्या कर रहा है और किस बारे में चिंतित हैं। आपको चाहिए कि उन्हें मदद तलाशने, कोशिश करने और किसी से बात करने के लिए प्रोत्साहित जरूर करें। यदि वे इस बात से घबराते हैं, तो पहली बार डॉक्टर को दिखाने आपका उनके साथ जाना मददगार हो सकता है, ताकि आप चिकित्सक के साथ ज्यादा बातचीत कर स्थिति को समझा सकें। यदि वे सीधे रूप से डॉक्टर का सामना नहीं करना चाहते हैं, तो आप उन्हें हेल्पलाइन या ऑनलाइन सेशन के उपयोग के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। यदि ये सारे प्रयास विफल हो जाते हैं, तो मैं रोगी के पार्टनर्स को खुद ही अकेले जाकर चिकित्सक से मिलने के लिए प्रोत्साहित करती हूं, जिसमें वह स्थिति का वर्णन और कौनसी समस्याएं सामने आ रही हैं इस बारे में डॉक्टर से बात करें। इससे चिकित्सक आपको बेहतर मार्गदर्शन देते हुए बता सकता है कि मरीज से कैसे बात करें और उसे कैसे मदद लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है।

दूसरी बात, जो मुझे लगता है कि यह बहुत महत्वपूर्ण है, वह यह कि रोगी को प्यार और सहारा देना जरूरी है। अपने आसपास के लोगों और प्रियजनों से स्वीकारा जाना मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। कभी-कभी, उनके लिए आपका साथ ही उनके लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है।

मैं अपने पार्टनर को प्यार और सुरक्षित महसूस कराने के लिए क्या कर सकती हूं?

जब आपको लगता है कि आपका पार्टनर किसी मानसिक बीमारी का सामना कर रहा है, तो ऐसे वक्त अपने आप को शिक्षित करना बहुत महत्वपूर्ण है। मेरा मतलब है कि यह जाने बिना कि वास्तव में बीमारी क्या है, आप कुछ खास नहीं कर सकते हैं। इसलिए लक्षणों को जानने और समझने की कोशिश करें, और इसके कारणों का पता लगाते हुए क्या उपचार किए जा सकते हैं इसे समझें। चिकित्सकों से मिलने के अलावा अपने पार्टनर के साथ काम करने वाले लोगों से मिलें- यह बहुत जरूरी है। इसके साथ ही, बीमारी के बारे में अपने पार्टनर के खुद के अनुभव को समझना भी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि भले ही लक्षण बहुत समान हों, लेकिन उन्हें क्या ज्यादा कठिन लगता है और क्या महसूस कर पाना उनके लिए मुश्किलभरा है, इसे आप समझने की कोशिश करें।

मैं अपना ज्यादातर समय जब अपने पार्टनर की देखभाल करने में बिताता हूं तो मुझे अपना ध्यान कैसे रखना चाहिए?

चूंकि हर किसी का ध्यान मरीज को बेहतर महसूस कराने में लगा रहता है, तो हम सभी यह भूल जाते हैं कि देखभाल करने वाला प्रमुख व्यक्ति - या इस मामले में रोगी का साथी - वास्तव में बहुत सारी चुनौतियों से गुजर रहा है। वह वास्तव में इससे निपटने के लिए खुद को पूरी तरह लैस महसूस नहीं कर सकते हैं। पहली बात जो मुझे लगती है वह यह कि साथी को यह समझने की जरूरत है कि वह इलाज नहीं है और रोगी को ठीक करना उनके अकेले का काम नहीं है। सुनिश्चित करें कि आप खुद की देखभाल के लिए कुछ समय दें। उन दोस्तों और परिवार के सदस्यों से बात करें जिनके साथ आप सहज महसूस करते हैं, क्योंकि एक ऐसे साथी के साथ रहना जिसके लिए कभी-कभी शायद रोजमर्रा के काम करना भी मुश्किल होता है, जो समाज के साथ नहीं जुड़ना चाहता, या शायद नौकरी नहीं कर सकता, अपको तनावग्रस्त बना सकता है - न सिर्फ बाहरी दुनिया के संदर्भ में, बल्कि आपके आपसी रिश्ते में भी तनाव का कारण बन सकता है। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप उन दोस्तों और परिवारजनों से जुड़े रहे जिनसे आप से बात कर सकते हैं। उन चीजों के लिए समय निकालें जो करना आपको पसंद हैं। यदि आपको लगता है कि चीजों को संभालना थोड़ा मुश्किल हो रहा है तो बेझिझक होकर पेशेवर से मदद मांगें।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org