देखभाल करने वालों पर पड़ने वाले बोझ को पहचानें
देखभाल करना

देखभाल करने वालों पर पड़ने वाले बोझ को पहचानें

डॉ अनिल पाटिल

शारीरिक स्वास्थ्य की देखभाल पर आधारित मेरे पिछले लेख के प्रभाव को देखते हुए, अब समय है देखभाल करने वालों के मानसिक स्वास्थ्य के महत्वपूर्ण मुद्दे पर आने का। अपने काम में अक्सर, हम सुनते हैं कि लंबे समय तक देखभाल करते रहने या तात्कालिक चिंताओं के परिणामस्वरूप देखभालकर्ता अवसाद, दुष्चिंता विकार, जैसी खराब मानसिक स्थिति का अनुभव करने लगते हैं।

किसी और की देखभाल करना कई परेशानियों से भरा होता है, और सभी देखभालकर्ता कई बार व्याकुल महसूस करते हैं। देखभालकर्ताओं को इन भावनाओं से शर्मिंदा महसूस नहीं करवाना चाहिए। यहां तक कि अच्छे अर्थों से भरी टिप्पणियां जैसे कि "आप एक फरिश्ता हैं जो इस तरह देखभाल करते हैं। मुझे नहीं पता कि आप इसे कैसे करते हैं, "या" विशेष बच्चे किन्हीं विशेष माता-पिता को ही दिए जाते हैं - इसीलिए यह बच्चा आपके पास आया" इस तरह की बातें बोलकर देखभालकर्ता को प्रोत्साहित तो किया जा सकता है, लेकिन वे अक्सर अच्छा करने से ज्यादा नुकसान कर सकते हैं। देखभालकर्ता को यह महसूस कराया जाता है कि उन्हें शिकायत नहीं करनी चाहिए या अगर वे अपनी देखभालकर्ता की भूमिका को कठिन पाते हैं तो वे इसके लायक नहीं हैं।

देखभालकर्ताओं को किन्हीं विशेष परिस्थितियों के दौरान देखभाल करना कठिन लग सकता है, उदाहरण के लिए, अपने संरक्षकों के चुनौतीपूर्ण व्यवहार से निपटना या नियमित नींद नहीं ले पाने की परेशानी से निपटना। देखभालकर्ता जितनी ज्यादा देखभाल करता है, उतनी ही ज्यादा चुनौतियां और तनाव पैदा होता है। विशेष रिश्तों के दौरान अतिरिक्त  परेशानी हो सकती है, उदाहरण के लिए, बुजुर्गों की देखभाल करने की अपेक्षा अपने पति या पत्नी की देखभाल करने वाले देखभालकर्ताओं में अवसाद के ज्यादा लक्षण देखे जाते हैं। 

यदि देखभाल करने वाले इन बोझों को बांटने में असमर्थ हैं, तो वे चिंता, तनाव और अलगाव की भावना से ग्रस्त हो सकते हैं। बोझ को व्यावहारिक रूप से साझा करने में सक्षम होना महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए, देखभाल के काम से कुछ राहत मिलना, या घर के आसपास कोई हो जो सहायता कर सके, इससे मदद मिल सकती है। काम का बोझ बांटने के साथ ही भावनात्मक सहारा देकर बोझ उतारना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। यह किसी पड़ौसी या मित्र के माध्यम से हो सकता है जो निष्पक्ष तरीके से बात सुनता है, इसके साथ ही अन्य देखभालकर्ताओं के किसी स्वयं सहायता समूह का हिस्सा बनना या अनुभवी पेशेवर के साथ परामर्श लेना भी एक तरीका हो सकता है।

जिन देखभालकर्ताओं का ध्यान नहीं रखा जाता या उन्हें सहारा नहीं मिल पाता, उन पर पड़ने वाले मानसिक और भावनात्मक बोझ किसी बड़ी मानसिक स्वास्थ्य समस्या से घिर सकते हैं, अपना और उस व्यक्ति का भी जीवन बिगाड़ सकते हैं जिसकी वे देखभाल कर रहे हैं।

तो आइए कुछ महत्वपूर्ण चुनौतियों को जानें। इनसे शायद आपको कुछ ऐसे तरीके मिल जाएं, जिनसे अपने किसी परिचित देखभालकर्ता की आप मदद कर सकते हैं...

तनाव और चिंता: देखभाल करने की ज़िम्मेदारी अक्सर देखभालकर्ता को तनाव और चिंताग्रस्त महसूस कराती है। वे आम तौर पर अपने प्रियजन की देखभाल की जरूरतों को पूरा करने और बीमारी के बारे में सोचने में बहुत समय बिताते हैं, जो उन्हें सामान्य होने में मुश्किल पैदा कर देता है। देखभाल करने वालों को अक्सर नींद लेने में कठिनाई होती है, बहुत अधिक या बहुत कम खाते हैं और इससे उनका मूड प्रभावित होता है। लंबे समय तक इस तरह से महसूस करने से देखभाल करने वाले के मानसिक स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है और वे अस्वस्थ हो सकते हैं।

सामाजिक अलगाव: कई देखभाल करने वालों को समाज के साथ चलने या अपने हित और शौक को आगे बढ़ाने का वक्त नहीं मिल पाता है। हमारे प्रोजेक्ट क्षेत्रों में, 88 प्रतिशत देखभालकर्ताओं ने बताया कि उनके पास अपने लिए समय नहीं था। वे खुद के लिए थोड़ा समय निकालने में भी दोषी महसूस करते हैं। देखभालकर्ता खुद की या जिसकी वह देखभाल कर रहे हैं उस व्यक्ति की बदनामी के डर से दूसरे लोगों को अपनी देखभाल करने संबंधी ज़िम्मेदारियों के बारे में नहीं बता पाते हैं। इससे उन्हें बहुत अकेलापन महसूस हो सकता है और आखिरकार उन्हें चिंता और अवसाद जैसी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। जिन देखभालकर्ताओं के साथ हमने काम किया उनमें से 77 प्रतिशत को इस स्थिति का सामना करना पड़ा।

निराशा और क्रोध: देखभाल करने वाले बहुत निराश और क्रोधित महसूस कर सकते हैं, खासकर तब, जब कि उन्हें अपने कैरियर जैसे जीवन के कुछ हिस्सों को छोड़ना पड़ा हो। उन्हें लग सकता है कि देखभालकर्ता बने रहने के सिवाय उनके पास कोई विकल्प नहीं है। कुछ मामलों में, यह क्रोध परिवार के सदस्यों या उस व्यक्ति पर निकल सकता है जिसकी वे देखभाल कर रहे हैं। बदले में देखभालकर्ता के अंदर खुद को दोषी ठहराने की भावना पैदा होती है और हानिकारक भावनाओं का एक दुष्चक्र शुरू हो जाता है।

आत्म-सम्मान में कमी: देखभालकर्ता होने के नाते आत्म-सम्मान की भावना पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है। देखभालकर्ता यह महसूस कर सकते हैं कि वे देखभाल करने या ध्यान देने के लायक नहीं हैं, और उनका पूरा समय उसी व्यक्ति के लिए होना चाहिए जिसकी वे देखभाल कर रहे हैं। देखभालकर्ता का खुद पर से विश्वास और देखभाल की जिम्मेदारियों के बाहर कुछ भी करने की उनकी क्षमता को खोना सामान्य बात है।

धन की चिंता: देखभालकर्ताओं को आम तौर पर अतिरिक्त देखभाल, चिकित्सकीय खर्चे, इलाज, उपकरण और परिवहन के लिए पैसा खर्च करने की आवश्यकता होती है। यह उनकी आर्थिक स्थिति पर प्रभाव डाल सकता है, और इसका मतलब यह हो सकता है कि उन्हें अन्य चीजों पर होने वाले खर्चों में कटौती करना पड़ता है, जिससे व्यावहारिक समस्याएं और अतिरिक्त तनाव पैदा हो सकता है। कई देखभालकर्ता इस लागत को कवर करने और कर्ज से उबरने में संघर्ष करते नजर आते हैं। जिन देखभालकर्ताओं से हम नियमित रूप से बातचीत करते हैं उनमें 10 में से 9 देखभालकर्ताओं ने आर्थिक परेशानियों के बारे में बताया।

देखभालकर्ताओं को उनके मानसिक स्वास्थ्य की रक्षा के लिए दोनों की जरूरत है और वे सहारा पाने लायक होते हैं। देखभाल करने वालों को इस तरह की महत्वपूर्ण देखभाल तभी मिल सकेगी, यदि समाज के रूप में, हम उनसे देखभाल के बारे में खुले तौर पर बात करना शुरू करें और यह जानें कि हमारे समुदायों में यह किस हद तक मौजूद है। आखिरकार, अपने जीवनकाल में हम में से प्रत्येक व्यक्ति को ऐसी स्थिति से गुजरना है। यदि दोनों भी नहीं, तो हम या तो देखभालकर्ता के रूप में या देखभाल करवाने वाले के रूप में रहेंगे।

मेरे अगले लेख में, मैं देखभाल करने वालों को सहारा देने के व्यावहारिक और भावनात्मक तरीकों पर ध्यान केंद्रित करूंगा, और इस बारे में विस्तार से बताऊंगा कि केयरर्स वर्ल्डवाइड किस तरह से दुनियाभर के देखभालकर्ताओं को सहारा दिलाता है।

डॉ अनिल पाटिल केयरर्स वर्ल्डवाइड के संस्थापक और कार्यकारी निदेशक हैं। केयरर्स वर्ल्डवाइड अवैतनिक पारिवारिक देखभालकर्ताओं द्वारा सामना किए जाने वाले मुद्दों को प्रकाश में लाता है और उन्हें सुलझाता है। 2012 में स्थापित और ब्रिटेन में पंजीकृत, यह संस्था विशेष रूप से विकासशील देशों में देखभालकर्ताओं के साथ काम करती है। डॉ पाटिल ने सह-लेखक रुथ पाटिल, जो करियर वर्ल्डवाइड के साथ स्वयंसेवक के रूप में जुड़े हैं, उनके साथ इस कॉलम का लेखन किया है।  अधिक जानकारी के लिए आप केयरर्स वर्ल्डवाइड पर लॉग ऑन कर सकते हैं। आप लेखकों को columns@whiteswanfoundation.org पर भी लिख सकते हैं

इस कॉलम में व्यक्त राय लेखक की ही हैं और जरूरी नहीं कि यह व्हाइट स्वान फाउंडेशन के विचारों का प्रतिनिधित्व करती हो।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org