देखभाल करना

देखभालकर्ताओं के लिए राहत

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

सुधा, एक कॉर्पोरेट फर्म में बिजनेस डेवलपमेंट एग्जीक्यूटिव के रूप में काम करती है। अपने काम के दौरान उसे बहुत यात्रा करनी पड़ती है। हाल ही में पता लगा है कि सुधा की मां को अल्जाइमर रोग है। सुधा कश्मकश में है कि जब वह काम के दौरान यात्रा पर होगी तो उसकी मां का ख्याल कौन रखेगा।

मानसिक बीमारी वाले व्यक्ति की देखभाल करना देखभालकर्ता के लिए एक चुनौतीपूर्ण कार्य है। और जब बात अल्जाइमर जैसी अपमानजनक बीमारी वाले किसी व्यक्ति की देखभाल करने की हो, तो यह कुछ समय बाद देखभाल करने वाले के लिए भी तनावपूर्ण हो जाता है और इसके परिणामस्वरूप बेहद खराब स्थिति बन सकती है।

मनोरोगी को सामान्य स्थिति का जीवन जीने में मदद करने में परिवार की भूमिका महत्वपूर्ण है। हालांकि, यदि देखभालकर्ता एक अस्थायी राहत की तलाश में है या पेशेवर या व्यक्तिगत कारणों से देखभाल करने से ब्रेक लेने की आवश्यकता है, तो उसके पास इसके लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं। रेस्पाइट केयर फैसेलिटीज, जैसा कि नाम से ही पता चलता है, यह सुविधा अनिवार्य रूप से देखभालकर्ता को उसकी नौकरी या किसी अन्य काम को आगे बढ़ाने के लिए राहत प्रदान करती है।

रेस्पाइट केयर फैसेलिटी दो प्रकार से मिलती हैं: आवासीय देखभाल और गैर-आवासीय देखभाल। इनमें से कोई एक चुनने का निर्णय बीमारी की तीव्रता, सामाजिक-आर्थिक स्थिति और सेवा की उपलब्धता जैसे अन्य कारकों के अलावा कार्य करने के स्तर पर निर्भर करता है। यदि बीमारी गंभीर है और यह देखभालकर्ता की स्वयं की स्वच्छता और दैनिक दिनचर्या को प्रभावित करती है, तो फिर एक आवासीय व्यवस्था का चयन किया जा सकता है। यदि व्यक्ति अपना दैनिक काम करने में सक्षम है, लेकिन कोई पेशा सीखना या कार्य आदत विकसित करना चाहता है, तो एक गैर आवासीय व्यवस्था पर विचार किया जा सकता है।

आवासीय देखभाल: इस तरह की सुविधाओं में, बीमार व्यक्ति एक विशिष्ट अवधि के लिए आवासीय संस्था में रहता है। उसे नियमित चिकित्सीय जांच-पड़ताल और पुनर्वास के साथ भोजन और आवास प्रदान किया जाता है। बीमार व्यक्ति और उसके परिवार की आवश्यकता के आधार पर विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध हैं।

आवासीय देखभाल सुविधाएं इनमें से हो सकती हैं:

हाफवे होम्स: जब किसी बीमार व्यक्ति का इलाज हो चुका होता है और एक गंभीर स्थिति के बाद स्वस्थ हो जाता है, लेकिन उसे दैनिक जीवन, सामाजिक और संवादात्मक कौशल और व्यावसायिक कौशल विकसित करने के लिए हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है। ऐसा व्यक्ति कम से कम छह महीने के लिए इस संस्था में रहता है।

क्वार्टर-वे होम्स: जब एक गंभीर बीमारी वाला व्यक्ति कम से कम तीन महीने तक ऐसी संस्था में रहता है।

हाफवे / क्वार्टर-वे होम्स डॉक्टरों, मनोवैज्ञानिकों, मनोसामाजिक कार्यकर्ताओं और मनोवैज्ञानिक नर्स से सुसज्जित रहते हैं। वे किसी भी तरह की चिकित्सा आपात स्थिति से निपटने के लिए भी तैयार रहते हैं।

हाफवे / क्वार्टर-वे होम्स कैसे काम करते हैं?

एक बार संस्था चुन ली जाने के बाद, बीमार व्यक्ति को आमतौर पर थोड़े समय के लिए यहां रहना पड़ता है। इसे परीक्षण अवधि के रूप में जाना जाता है। यह इसलिए किया जाता है ताकि बीमार व्यक्ति इस जगह से परिचित हो जाए। अगर व्यक्ति यहां आरामदायक महसूस करता है और परिवार की मंजूरी मिल जाती है, तब प्रवेश के लिए उनका पंजीयन कर दिया जाता है।

वे हाफवे / क्वार्टर-वे होम्स में क्या करते हैं?

गंभीर मानसिक बीमारी वाले लोगों को कई समस्याएं आ सकती हैं;  वे बीमारी की वजह से दांत साफ करना, स्नान करना इत्यादि जैसे अपने नियमित काम करने के बुनियादी कौशल में सक्षम नहीं हो सकते हैं। उन्हें लगाता चिकित्सीय देखभाल और पर्यवेक्षण की भी आवश्यकता होगी।

हाफवे होम्स में प्रत्येक व्यक्ति के लिए दैनिक कार्यक्रम होते हैं, जिनमें दिनचर्या से संबंधित प्रशिक्षण दिया जाता है जैसे कपड़े धोना, अपने कमरे को साफ रखना, व्यक्तिगत स्वच्छता इत्यादि शामिल होता है। इस तरह, व्यक्ति को किसी गतिविधि में व्यस्त रखा जाता है। कार्यक्रम में इनडोर और आउटडोर गेम, कला और शिल्प इत्यादि जैसे शौक शामिल हैं।

गैर-आवासीय देखभाल: यदि मानसिक बीमारी वाला व्यक्ति ठीक हो रहा है और वह अपने दिन-प्रतिदिन का कार्य करने में सक्षम है, तो एक गैर-आवासीय व्यवस्था पर विचार किया जा सकता है। यहां मुख्य ध्यान उन गतिविधियों पर होगा जो व्यक्ति के मौजूदा कौशल में सुधार करने में मदद करती हैं।

गैर-आवासीय देखभाल में डे-केयर सेंटर होते हैं, जहां बीमार व्यक्ति सुबह में आ सकता है, डे-केयर में होने वाली गतिविधियों में भाग ले सकता है और शाम को अपने परिवार के पास लौट सकता है। यहां आयोजित गतिविधियों में खेल, पहेली, सामाजिक कौशल और जीवन कौशल प्रशिक्षण,  आर्ट थेरेपी जैसे वैकल्पिक उपचार,  मूवमेंट थेरेपी, योग और म्यूजिक थेरेपी शामिल हैं। पेशागत थेरेपी जैसे कि मोमबत्ती बनाना, सिलाई, प्रिंटिंग, टोकरी बुनाई, बेकिंग और कंप्यूटर प्रशिक्षण। व्यक्ति अपने कौशल और रुचि के अनुसार इनमें से किसी भी गतिविधि में भाग ले सकता है।

परिवार की भूमिका

मनोवैज्ञानिक पुनर्वास के रूप में, जब व्यक्ति आवासीय या गैर-आवासीय देखभाल व्यवस्था में होता है तो परिवार की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। कभी-कभी, बीमार व्यक्ति आवासीय व्यवस्था में रहते हुए तो सुधार दर्शा सकता है, लेकिन जब वे पुनर्वास अवधि के बाद अपने परिवार में लौटता है, तो अपने कामकाज में गिरावट दर्शा सकता है। इसलिए, पेशेवरों के साथ-साथ परिवार के सदस्यों के लिए काम करना महत्वपूर्ण है ताकि घर का वातावरण व्यक्ति के लिए अनुकूल हो और उसके कामकाज में और गिरावट न हो।

रेस्पाइट केयर व्यवस्था कैसे तलाशें?

देखभालकर्ता को रेस्पाइट केयर ढूंढने की पहली जगह अपने मित्रों और परिवार के अपने सर्कल के भीतर यह जानना है कि क्या इनमें से कोई देखभालकर्ता का कर्तव्य साझा करने का इच्छुक है। यदि यह संभव नहीं है, तो इलाज कर रहे किसी भी मनोचिकित्सक या अपने आसपास उपलब्ध किसी भी मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से संपर्क कर सकता है और वहां उपलब्ध विभिन्न सुविधाओं के बारे में जानकारी ले सकता है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org