मानसिक बीमारी से पीड़ित व्यक्ति काम पर वापस कब लौट सकता है?
देखभाल करना

मानसिक बीमारी से पीड़ित व्यक्ति काम पर वापस कब लौट सकता है?

वाइट स्वान फाउंडेशन

विशेषज्ञ कुछ सरल दिशानिर्देश प्रदान करते हैं जो यह निर्धारित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं कि आपका प्रियजन मानसिक बीमारी के इलाज के बाद काम पर वापस कब जा सकता है।

1. लक्षणों के द्वारा प्रतिक्रिया: क्या व्यक्ति अभी भी बीमारी के लक्षण प्रदर्शित करता है? अपने मनोचिकित्सक से उनके लक्षणों की स्थिति के बारे में जाने और क्या मनोचिकित्सक यह सिफारिश करते हैं कि वे काम पर वापस जाएँ।

मनोवैज्ञानिक बीमारी की प्रकृति भी इसमें एक भूमिका निभाती है। उदाहरण के लिए, अगर सही उपचार दिया गया है, हल्के से मध्यम अवसाद वाला व्यक्ति ओसीडी से पीड़ित व्यक्ति से पहले लक्षण मुक्त होगा।

2. उनकी आदतों में परिवर्तन: क्या वे अच्छी तरह से खा रहे हैं, अच्छी तरह से सो रहे हैं और क्या वे दूसरों के साथ ऐसे बातचीत करते हैं जैसे कि बीमारी की शुरुआत से पहले करते थे? क्या वे खुद को व्यस्त रखने और / या काम पर लौटने के लिए प्रेरणा व्यक्त कर रहे हैं?

3. दैनिक दिनचर्या का प्रबंधन: क्या आपको विश्वास है कि वे काम पर वापस जा पाएंगे और कामकाजी दिनचर्या को निभा पाएंगे?

कभी-कभी, देखभालकर्ता उनकी क्षमताओं में आत्मविश्वास की कमी के कारण अपने प्रियजनों को काम पर लौटने की अनुमति नहीं दे पातें, या डरते है कि कहीं तनाव उनके लिए बहुत अधिक न हो जाये। लेकिन, व्यक्ति को काम कर पाने के एक स्तर पर लौटने में मदद करने के लिए, जोखिम लेना होगा।

ऐसी कुछ चीजें हैं जो आप अपने प्रियजन को उनके संक्रमण में मदद करने के लिए कर सकते हैं:

  • इस विचार से सहज महसूस करने का प्रयास करें कि वे काम पर वापस जाएंगे, और दूसरों के साथ बातचीत करने और पूरे दिन खुद का ख्याल रखने में सक्षम होंगे।

  • आधारभूत कार्य करें और मदद करने वाली सेवाओं को नोट करें। आप अपने प्रियजन को ऐसी जगह रोजगार खोजने में मदद करें जो उनकी चिंताओं को समझता है और समावेशी है। यदि वे बीमारी से पहले जहाँ नौकरी करते थे, वहीँ लौट रहे हैं, तो नियोक्ता से बात करने के लिए समय निकालें, उन्हें बताएं कि क्या हुआ है, और यह जाने कि नियोक्ता उन्हें कैसे समर्थन दे सकता है।

  • अगर आपके प्रियजन के पास ऐसी नौकरी नहीं है जहाँ वे वापस लौट सकते हैं, तो उनका मनोबल थोड़ा कम हो सकता है। वे खोए अवसरों पर प्रतिबिंबित हो सकते हैं और अपने साथियों की तुलना कर सकते हैं जो अपनी नौकरियों में जम चुकें हैं। उनके आत्मविश्वास को बढ़ावा दें। उन्हें ऐसी नौकरी खोजने के लिए प्रोत्साहित करें जो उनके कौशल और शौख के अनुरूप हो।

  • कार्यस्थल पर लौटने से पहले, उन्हें सामाजिक तौर पर बातचीत करने का अवसर दें और अतिरिक्त जिम्मेदारियां दें ताकि उन्हें मूल्यवान होने की भावना हो। आप इन्हे विवाह या अन्य सामाजिक कार्यक्रमों में साथ ले जा सकते हैं और घरेलू निर्णय, खरीदारी, घरेलु काम और बिलों का भुगतान करने में मदद मांग सकते हैं। इन्हें धीरे-धीरे चरणों में करना महत्वपूर्ण है ताकि व्यक्ति अभिभूत महसूस न करे, और ऐसे काम लें जो वे आसानी से संभाल सकें।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org