ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम विकार

ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम विकार (एएसडी) क्या है?

ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसॉर्डर (एएसडी) या ऑटिज़्म विकास संबंधी विकारों के समूह की छतरी के लिए एक शब्द है जो मूल में स्नायु-विज्ञान विषयक हैं और सामाजिक, संचार और व्यवहार की चुनौतियां पैदा करता है।

एएसडी तीसरा सबसे आम विकास विकार है। यह मुख्य रूप से बिगड़े सामाजिक संपर्क, संचार और दोहराए जाने वाले व्यवहार या सीमित रुचियों की उपस्थिति से पहचाना जाता है। एएसडी से ग्रस्त बच्चे की संवेदी संवेदनशीलता भी प्रभावित हो सकती हैं यानी वे कुछ इंद्रियों के प्रति अति या कम संवेदनशील हो सकते हैं (जैसे तेज शोर, कुछ कपड़े आदि)

ऑटिज्म स्पेक्ट्रम के तहत आने वाले विकार क्या हैं?

यहां ऑटिज्म स्पेक्ट्रम में आने वाले विकारों का संक्षिप्त अवलोकन है:

ऑटिस्टिक डिसऑर्डर: एक बच्चे को ऑटिज्म का निदान तब किया जाता है जब उनमें एएसडी के सभी लक्षणों के संकेत मिलते हैं।

एस्पर्गर्स संलक्षण: अति सक्रिय ऑटिज्म के रूप में संदर्भित, यह विशिष्ट विषयों पर सामाजिक/भावनात्मक कौशल और महत्वपूर्ण मुद्दों पर जुनूनी फ़ोकस के साथ चिह्नित किया जाता है। भाषा या संज्ञानात्मक विकास कोई रुकावट नहीं है। विस्तृत जानकारी के लिए, पढ़ें: 

व्यापक विकास संबंधी विकार - अन्यथा निर्दिष्ट नहीं (पीडीडी एनओएस): पीडीडी अक्सर एटिपेकल ऑटिज़्म के रूप में जाना जाता है क्योंकि इसका निदान तब किया जाता है जब कोई बच्चा ऑटिज़्म की कुछ विशेषताओं को दर्शाता है, लेकिन सब को नहीं। उदाहरण के लिए, यदि कोई बच्चा बोलने में देर करता है और कुछ दोहराव के व्यवहार दर्शाता है - तो सबसे अधिक आसार हैं कि उसे पीडीडी (एनओएस) का निदान मिलेगा।

रेट सिंड्रोम: रेट सिंड्रोम एक दुर्लभ और गंभीर विकार है जो गुणसूत्र एक्स में दोष से जुड़ा हुआ है, और इसलिए यह ज्यादातर लड़कियों को प्रभावित करता है। रेट सिंड्रोम में विकास की सामान्य अवधि होती है, इसके बाद कौशल में धीमी गति, अक्सर संचार कौशल की कमी और हाथ का उद्देश्यपूर्ण इस्तेमाल कम होता है।

बचपन का विघटनकारी विकार: यह एक बहुत ही दुर्लभ विकार है जहां शुरुआत में सभी क्षेत्रों में सामान्य विकास होता है और कौशल के प्रतिगमन की शुरुआत बहुत ही बाद में स्पेक्ट्रम के अन्य विकारों की तुलना में होती है। बचपन के विघटनकारी विकार से ग्रस्त बच्चे सभी विकास क्षेत्रों (भाषा, सामाजिक, व्यवहारिक और मोटर) में कौशल की कमी का अनुभव करते हैं।

इससे पहले, प्रत्येक स्थिति (ऑटिस्टिक डिसऑर्डर, व्यापक विकास संबंधी विकार जो अन्यथा निर्दिष्ट नहीं है [पीडीडी-एनओएस] और एस्पर्गर्स संलक्षण) का अलग-अलग निदान किया जाता था लेकिन अब, इन स्थितियों को एक साथ समूह में कर दिया गया है और इसे ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर कहा जाता है। 

एएसडी के संकेत क्या हैं?

ऑटिज्म स्पेक्ट्रम में कोई भी बच्चा तीन मुख्य क्षेत्रों में कठिनाइयों का सामना करेगा:

• सामाजिक बातचीत (रिश्ते बनाने में कठिनाई आदि)

• सामाजिक संचार (मौखिक/गैर मौखिक संचार में कठिनाई, उदाहरण के लिए शारीरिक भाषा, इशारों की भाषा आदि)

• सामाजिक कल्पना (सोच के लचीलेपन में कठिनाई, आयोजन आदि)

मोटर कौशल के विकास और हाथों से फटकारना, हिलना आदि जैसी असामान्य दोहराव के व्यवहार की समस्या भी हो सकती है। 

एक बच्चे में एएसडी कैसे जांचा जा सकता है?

स्क्रीनिंग केवल विकास संबंधी विलंब की उपस्थिति जांचने के लिए है और पेशेवर एएसडी के जोखिम का आकलन करने के लिए एम-सीएचएटी-आर/एफ जैसे स्क्रीनिंग टूल का उपयोग कर सकते हैं। स्क्रीनिंग आमतौर पर एक विस्तृत मूल्यांकन और निर्धारण के लिए की जाती है। इस स्थिति का जल्दी पता चल जाने पर शुरुआत में ही इलाज हो जाता है और लंबे समय के लिए बच्चे को अधिक अनुकूल परिणाम मिल सकते हैं।

आपके बच्चे को खुद स्क्रीन करने में आपकी मदद करने के लिए यहां एक आयु के उपयुक्त चेकलिस्ट (क्रेडिट: कॉम डीइएएलएल) है। आप इसका उपयोग कर यह जान सकते हैं कि आपका बच्चा विकास के सही पैमाने पा रहा है और उसके बाद उसके विकास पर बाल रोग विशेषज्ञ, बाल मनोचिकित्सक या नैदानिक मनोवैज्ञानिक के साथ चर्चा कर सकते हैं। कृपया ध्यान दें कि यह चेकलिस्ट पेशेवर मूल्यांकन का विकल्प नहीं है।

एएसडी कैसे पहचाना जाता है?

एएसडी की पहचान करने के लिए कोई एक चिकित्सा या आनुवंशिक परीक्षण नहीं है हालांकि पेशेवर एएसडी की पहचान करने के लिए निदान उपकरण जैसे ऑटिज्म डायग्नोस्टिक आबज़र्वेशन शेड्यूल  (एडीओएस) या ऑटिज़्म निदानिक साक्षात्कार - संशोधित (एडीआई-आर) का उपयोग करके मूल्यांकन या आकलन कर सकते है। संचार, सामाजिक, मोटर और संज्ञानात्मक विकास सहित बच्चे का कई कौशल विकास में मूल्यांकन किया जाएगा।

कुछ मामलों में, बच्चा ऑटिज्म के लक्षणों को जल्दी ही दिखा सकता है। कुछ मामलों में, एएसडी में आमतौर पर 2 से 2.5 वर्ष की उम्र तक स्पष्ट सामान्य विकास की गति होती है, उसके बाद कुछ क्षेत्रों में हासिल किए गए कौशल में कमी होती है। इसे 'ऑटिस्टिक रिग्रेशन' कहा जाता है।

एएसडी से ग्रस्त कई बच्चे को अन्य चिकित्सा या मनोरोग की स्थिति भी हो सकती है और इसे कॉमोरबैडिटी कहा जाता है। ऑटिज्म के साथ आम तौर पर कॉमोरबिड परिस्थितियों में एडीएचडी, व्यग्रता, अवसाद, संवेदी संवेदनशीलता, बौद्धिक विकलांगता (आईडी), टॉरेट्स सिंड्रोम और एक डिफरेंशियल डायग्नॉसिस उनका पता लगाने के लिए किया जाता है।

एएसडी ग्रस्त बच्चों की कुछ अनूठी शक्तियां क्या हैं

ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चों को अपने आसपास की दुनिया से जुड़ने और बातचीत करने में परेशानी होती है। हालांकि, उनमें कुछ अनूठी शक्तियां भी हो सकती हैं जो उन्हें बाद में अपने चुने हुए कार्य क्षेत्र में कामयाब होने में मदद कर सकती हैं। कुछ ऐसे क्षेत्र जिनमें ऑटिज्म ग्रस्त बच्चों में सामान्यतः औसत या उससे ऊपर के कौशल होते हैं

  • किसी विशेष क्षेत्र में विशिष्ट ज्ञान
  • अच्छी दृश्य और स्थानिक स्मृति
  • व्यवस्थित और संगठित होना
  • सार अवधारणाओं को समझने की योग्यता
  • तार्किक विचार / समस्या हल करने में महारथ 

एएसडी क्यों होता है?

विशेषज्ञ अब भी ऑटिज्म का सटीक कारण खोजने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अनुसंधान यह इंगित करते हैं कि यह आनुवंशिक, जैविक और पर्यावरणीय कारकों के संयोजन के कारण हो सकता है। 

एएसडी के लिए क्या हस्तक्षेप उपलब्ध हैं?

ऑटिज्म स्पेक्ट्रम विकार एक आजीवन स्थिति है और इसका कोई इलाज नहीं है, लेकिन सही चिकित्सा या हस्तक्षेप बच्चे को अपने जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए आवश्यक कौशल सीखने में मदद कर सकता है। चूंकि एएसडी को 12-18 महीनों की उम्र के बीच में भी पहचाना जा सकता है, इसलिए बेहतर परिणाम के लिए हस्तक्षेप काफी जल्दी उपलब्ध कराया जा सकता है।

एएसडी के लिए सबसे प्रभावी हस्तक्षेप अंतःविषय, निश्चित प्रकार का और बच्चे को विशेष रूप से उनके संचार, सामाजिक और व्यवहार के पैमाने हासिल करने में मदद करने के लिए है। एएसडी वाले बच्चे महत्वपूर्ण प्रगति कर सकते हैं यदि प्राप्त हस्तक्षेप सही प्रकार का, गहन और सुसंगत है।

व्यवहार के दृष्टिकोण

एप्लाइड बिहेवियर एनालिसिस (एबीए): एबीए ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चों में मुख्य रूप से समस्या के व्यवहार को कम करने के लिए काम करती है। यह तीन तरह की प्रक्रिया से व्यवहार को देखता है: निर्देश, व्यवहार और परिणाम। बच्चों को सीखने और वांछित व्यवहार और कौशल बनाए रखने के लिए यह विधि पुरस्कार या सुदृढीकरण का उपयोग करती है। बच्चे की प्रगति को देखा और मापा जाता है। एबीए कई तकनीकों का उपयोग करता है जैसे कि:

अलग जांच प्रशिक्षण (डीटीटी): डीटीटी विधि कार्य के छोटे उप घटक पर माहिर होते हुए बच्चे को जटिल कार्यों को करने में मदद करती है। सही उत्तर और व्यवहार को प्रोत्साहित करने के लिए सकारात्मक सुदृढीकरण और प्रोत्साहनों का इस्तेमाल किया जाता है। वांछित व्यवहार या कौशल पढ़ाया जाता है और तब तक दोहराया जाता है जब तक बच्चा सीखता नहीं जाता है।

प्रारंभिक गहन व्यवहार हस्तक्षेप (ईआईबीआई): एक प्रकार का ए.बी.ए. जो पांच या उससे कम तीन साल से कम उम्र के बच्चों में ऑटिज्म के असामान्य व्यवहार को कम करने के लिए है।

निर्णायक प्रतिक्रिया प्रशिक्षण (पीआरटी): पीआरटी एक बच्चे के विकास के चार प्रमुख क्षेत्रों पर केंद्रित है: प्रेरणा, आत्म प्रबंधन, स्वयंदीक्षा और कई संकेतों के प्रति उत्तरदायित्व। यह बच्चे के लिए एक हस्तक्षेप है क्योंकि चिकित्सक अक्सर एक गतिविधि या एक आइटम का उपयोग करता है जो बच्चे को सिखाने और बच्चे को लक्ष्य तक पहुंचने में सहायता प्रदान करता है।

संयुक्त हस्तक्षेप

ऑटिस्टिक और संबंधित संचार विकलांग बच्चों के लिए उपचार और शिक्षा की विधि (टीइएसीसीएच): टीइएसीसीएच संरचित शिक्षण पर आधारित है। यह ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चों में मौजूद कौशल पर बल देता है। टीइएसीसीएच का लक्ष्य ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चों को जहाँ तक संभव हो स्वतंत्र रूप से कार्य करने में सहायता करना है।

विकास के दृष्टिकोण

विकास,व्यक्तिगत मतभेद,रिश्ते-आधारित दृष्टिकोण (डीआईआर - जिसे "फ्लोरटाइम" भी कहते हैं): भावनात्मक और संबंधपरक विकास (भावनाओं, देखभाल करने वालों के साथ संबंध) पर ध्यान केंद्रित करता है। यह इस बात पर भी ध्यान देता है कि बच्चा स्थान, आवाज़ और महक पर कैसा व्यवहार करता है।

मानक दृष्टिकोण

व्यवसायिक चिकित्सा: ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चों को रोज़मर्रा के कार्यों में अधिक प्रभावी ढंग से भाग लेने के लिए व्यावसायिक चिकित्सा विभिन्न प्रकार की रणनीतियों का इस्तेमाल करती है। यह सकल मोटर कौशल और उत्कृष्ट मोटर कौशल जैसे कुछ क्षेत्रों को मजबूत करने में मदद करता है।

भाषा चिकित्सा: भाषा चिकित्सक बच्चे के साथ काम करते हैं और संचार में सुधार करने में सहायता करते हैं। वे वैकल्पिक तरीकों जैसे इशारों, चित्र बोर्डों आदि का इस्तेमाल करते हैं ताकि बच्चे को सिखाया जा सके कि अपने विचारों और अवधारणाओं को दूसरों को कैसे व्यक्त करे। अंतःविषय हस्तक्षेप कार्यक्रम में भाषा चिकित्सा होना जरूरी है, क्योंकि ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चों को संचार में अधिक परेशानी होती है।

संवेदी एकीकरण चिकित्सा: बच्चों को संवेदी जानकारी जैसे स्थान, आवाज और गंध के साथ व्यवहार करने में मदद करता है। संवेदी एकीकरण चिकित्सा एक ऐसे बच्चे को मदद कर सकती है जो कुछ ध्वनियों से परेशान होते हैं या वह छुए जाना पसंद नहीं करता है। जब बच्चों को अपने इंद्रियों पर बेहतर नियंत्रण प्राप्त होता है, तो वे अपनी गतिविधियों, ध्वनियों और भावनाओं पर ज्यादा नियंत्रण कर सकते हैं यह अस्वस्थता या बेढंगेपन को कम करता है और सामाजिक कौशल में सुधार करता है।

अन्य दृष्टिकोण

संगीत चिकित्सा: एएसडी से ग्रस्त बच्चों के लिए, संगीत चिकित्सा विशिष्ट संगीत गतिविधियों का इस्तेमाल ऑटिज़्म से ग्रस्त बच्चों में सामाजिक और संचार कौशल में सुधार करती है।

पिक्चर एक्सचेंज कम्युनिकेशन सिस्टम (पीईसीएस): यह सामान्यतः ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चों के लिए उपयोग किया जाता है जिनमें बहुत कम या कोई संचार क्षमता नहीं होती है। संचार की सुविधा के लिए चित्र के प्रतीक या कार्ड का उपयोग किया जाता है।

नोट: अनुसंधान से पता चलता है कि प्रारंभिक हस्तक्षेप उपचार बच्चे के विकास को बहुत सहारा दे सकता है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे में ऑटिज़्म या कोई अन्य विकास की समस्या है तो जितनी जल्दी हो सके अपने बच्चे के डॉक्टर से बात करनी चाहिए। इसके अलावा कई हस्तक्षेप केंद्र सहारा और परामर्श की आवश्यकता वाले परेशान माता-पिता या देखभाल करने वालों को मदद करने के लिए कार्यक्रम पेश करते हैं। कृपया अपने चिकित्सक से बात करें कि क्या प्रशिक्षण उपलब्ध है और क्या आपको चिकित्सक के साथ बच्चे की मदद करने के लिए सबसे ज्यादा तैयार करेगा। 

एएसडी मरीज़ की देखभाल

माता-पिता या अभिभावकों को भारी तनाव से गुज़रना पड़ता है और वे काफी परेशान हो सकते है जब उनको पता चलता है कि उनके बच्चे को ऑटिज्म का निदान किया गया है। कई माता-पिता, खासकर माताओं ने बच्चे का पूर्णकालिक देखभाल करनेवाला बनने के लिए नौकरी छोड़ दी। बहुत सारे समायोजन घर पर होते हैं, सहोदर अपने ऑटिज्म से ग्रस्त भाई या बहन के चारों ओर अपने जीवन को अनुकूलन करना सीखते हैं, परिवार के सदस्य अधिक सहारा देते हैं, बच्चे की रुचि को ध्यान में रखते हुए रखते गतिविधियों और योजनाओं को बनाया जाता है, और इसी तरह से होता है। संक्षेप में, ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चे के साथ रहना विचित्र चुनौतियों लाता है। हालांकि, सही ज्ञान का साथ होने पर, माता-पिता या देखभालकर्ता बच्चे को बेहतर विकल्प दे सकते हैं।

इस स्थिति में, एक अभिभावक और देखभालकर्ता के रूप में, आप कर सकते हैं:

• ऑटिज़्म के बारे में जितना संभव हो, जानें। प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लें जहां आप सीख सकते हैं कि विभिन्न हस्तक्षेपों का उपयोग कैसे करना हैं।

• सभी दैनिक गतिविधियों के लिए एक नियमित दिनचर्या की योजना बनाएं और प्रदान करें।

• विशेषज्ञ की सहायता प्राप्त करें। स्थिति से निपटने में सक्षम होने के लिए आपको परामर्श की आवश्यकता भी हो सकती है।

• यह स्वाभाविक है कि केवल विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के माता-पिता ही पूरी तरह से समझ सकते हैं कि उनके जैसे अन्य माता-पिता कैसा महसूस करते हैं। समर्थन समूहों में शामिल हों और ऑटिज़्म से ग्रस्त अन्य बच्चों के माता-पिता के साथ जुड़ें।

• खुद के लिए समय लें। अपने शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य का ख्याल रखें।  

 

यह लेख एमएस दीपा भट नायर,एफिलिएशन कोऑर्डिनेटर,कॉम डीईएल ट्रस्ट,बैंगलोर से दिए गए आदानों के साथ लिखा गया है। 

Was this helpful for you?