बाइपोलर डिसऑर्डर (द्विध्रुवी विकार)

बाइपोलर डिसऑर्डर क्या है?

आईटी पेशेवर रमन ने अपनी कहानी साझा की: "मेरा एक सहयोगी कभी कभी अजीब तरह से बर्ताव करने लगता है वह थोड़ी देर के लिए अति आनंदित हो जाता है, लगातार अलग- अलग विषयों पर बोलता रहता है, या कभी-कभी एक कंपनी के मालिक होने और लाखों डॉलर बनाने की अत्यधिक महत्वाकांक्षी योजनाओं का दावा करता है। लेकिन कुछ दिनों बाद, वह बेहद चुप हो जाता है, किसी के साथ बातचीत नहीं करता है या समय पर अपना काम पूरा नहीं करता है।

एक बार, जब हम कई लोग दोपहर का भोजन करने बाहर गए, तब उन्होंने वेटर के ऊपर प्लेट फेंक दी क्योंकि उसका आर्डर समय पर नहीं लाया था। हम लोग उसके व्यवहार पर हैरान रह गए। अक्सर, उसका व्यवहार अप्रत्याशित होता था जिसका असर उसके काम और सहकर्मियों के साथ संबंध पर भी पड़ता रहा। आखिरकार, उन्हें संगठन छोड़ना पड़ा।

वास्तव में मुझे यह जानने की उत्सुकता थी कि वह ऐसा क्यों व्यवहार कर रहा था और अपने पारिवारिक डॉक्टर से बात करने के बाद, मुझे समझ में आया कि मेरा सहयोगी बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त था।"

इस काल्पनिक कथा का निर्माण वास्तविक जीवन की स्थिति में रखकर इस विकार को समझने में सहायता के लिए किया गया है।

बाइपोलर डिसऑर्डर, (मेनिक अवसाद के रूप में भी जाना जाता है) एक गंभीर मानसिक बीमारी है जिसके कारण मनोदशा में असामान्य और गंभीर उतार-चढ़ाव होते है। वह व्यक्ति कभी 'हाई' (नैदानिक ​​रूप से मेनिया के रूप में जाना जाता है) और कभी 'लो' (अवसाद के रूप में जाना जाता है) का अनुभव करता है, जो कुछ दिनों या कई हफ्तों तक जारी रह सकता है। व्यक्ति मेनिया और अवसाद के स्पष्ट दौरे अनुभव करता है, और ये दौरे बहुत जल्दी- जल्दी बदलते रहते हैं, और यहाँ तक कि सप्ताह में कई बार पड़ सकते हैं।

गंभीर बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त व्यक्ति में मानसिक रोग के लक्षण हो सकते हैं जैसे मतिभ्रम या भ्रम हो सकते हैं उसे खुद को नुकसान पहुँचाने या आत्महत्या का विचार आ सकते हैं। बाइपोलर डिसऑर्डर से व्यक्ति की दैनिक क्रियाकलापों की शक्ति भी बाधित हो सकती है, जिसके कारण उसके पेशेवर और व्यक्तिगत दोनों सम्बन्ध बिगड़ सकते हैं।

नोट: बाइपोलर डिसऑर्डर, हृदय रोग या मधुमेह की तरह एक दीर्घकालिक बीमारी है, जिसका आजीवन उपचार करना आवश्यक है।

बाइपोलर डिसऑर्डर क्या नहीं है

हम सभी की मनोदशा में उतार-चढ़ाव होते है। कभी-कभी अतिउत्साह की भावना भी हो सकती है, लेकिन हो सकता है कि उनका असर हमारे दैनिक क्रियाकलापों पर न पड़े। तो यह बाइपोलर डिसऑर्डर नहीं है। 

अवसाद भी बाइपोलर डिसऑर्डर नहीं है, हालांकि दोनों के लक्षण एक समान होते हैं। मुख्य अंतर यह है कि बाइपोलर डिसऑर्डर में, मेनिया और अवसाद दोनों के दौरे पड़ते हैं और साथ ही मनोदशा के उतार-चढ़ाव भी चरम के होते हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर के लक्षण क्या हैं?

बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त लोगों में अवसाद और मेनिया दोनों ही स्थितियों में दो तरह के लक्षण दिखाई देते हैं।
मेनिया की स्थिति: मेनिया के दौरे के समय, वह व्यक्ति आवेगपूर्वक व्यवहार करता है, बिना उचित निर्णय लिये ही फैसले करता है, और असामान्य जोखिम लेता है। साथ ही, व्यक्ति अप्रत्याशित कार्यों के नकारात्मक परिणाम से अनभिग्य होता है या नज़रअंदाज़ करता है। 
• पूर्ण आनंद की भावना होना, जिसको कुछ भी (अप्रिय समाचार या दुखद घटना) बदल नहीं सकती हैं।  
• अचानक क्रोध या अत्यधिक चिड़चिड़ापन 
• अति महत्वाकांक्षा का भ्रम हो सकता हैं अथवा ऐसें दृढ़ विश्वास होना, जिसका तार्किक औचित्य न हो। वह दावा कर सकता/सकती है कि उसका ईश्वर, मशहूर हस्तियों या ऐतिहासिक पात्रों के साथ विशेष संबंध है।
• अपनी क्षमताओं में अवास्तविक विश्वास। उदाहरण के लिए, व्यक्ति सोच सकता है कि कुछ भी उन्हें मुश्किल काम पूरा करने से रोक नहीं सकता है।
• अनावश्यक चीजों के लिए डींग मारना, मूर्खतापूर्ण व्यापारिक निवेश, खतरनाक ड्राइविंग या अत्यधिक यौन व्यवहार आदि; आवेगी और जोखिम भरे क्रियाकलाप पर नियंत्रण करने में असमर्थता।
• मन में निरंतर अनियंत्रित विचार आना।  
• नींद की अक्षमता, जिसके कारण बेचैनी और अतिसक्रियता हो सकती है। 
• एकाग्रता में कठिनाई, सामान्य क्रियाकलाप करने में असमर्थ होना।   
• कुंठा की भावना होना तथा दिन के अधिकांश समय चिड़चिड़ा होना। 
• जल्दी-जल्दी बोलना, एक विचार से दूसरे विचार पर कूद जाना तथा विचारों में सामंजस्य न होना।  
• वास्तविकता की भावना का आभाव, जिसके कारण मनोविकृति (मतिभ्रम- उन चीजों को देखने या सुनना जो वास्तव में वहां नहीं हैं) हो सकती है। 
• अपने आत्म-सम्मान और क्षमताओं के बारे में अवास्तविक विश्वास होना। 
• जुनूनी बाध्यकारी व्यवहार - चीजों को साफ या व्यवस्थित करना, एक ही संगीत को कई दिनों तक लगातार सुनना, लोगों पर हावी होना या नियंत्रण करने का प्रयास करना। 
अवसाद की स्थिति: अवसाद के दौरान व्यक्ति निम्नलिखित चीजों का अनुभव कर सकता है:
• अत्यधिक दुःख या हताशा
• निराशा की भावना
• उन गतिविधियों में रुचि कम होना जिनमें पहले आनन्द आता था 
• ऊर्जा में कमी, जल्दी थक जाना और सुस्त महसूस करने की प्रवृत्ति
• नींद में कठिनाई; बहुत ज्यादा सोना या बिलकुल नहीं सोना 
• भूख में परिवर्तन, अच्छी तरह खाना न खा पाना, आहार कम किए बिना काफी वजन घटाना 
• ध्यान केंद्रित करने, याद रखने या निर्णय लेने में कठिनाई
• आत्म-नुकसान, मृत्यु या आत्महत्या के विचार
यदि आप किसी परिचित में ऐसे लक्षण देखें, तो उन्हें मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ से परामर्श करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर का कारण क्या है?

बाइपोलर डिसऑर्डर का सही कारण अभी भी अज्ञात है। यह पाया जाता है कि बाइपोलर डिसऑर्डर आमतौर पर किशोरावस्था के दौरान शुरू होता है। विकार के बारे में जानकारी के अभाव में अधिकांश लोग बाइपोलर डिसऑर्डर से लंबे समय तक ग्रस्त रहने के बाद मदद लेते हैं।
इसके कारण हार्मोनल असंतुलन, आनुवंशिकी, दुखद घटना, ड्रग्स या मादक द्रव्यों के सेवन के कारण अत्यधिक आघात का जोखिम हो सकता है। बाइपोलर डिसऑर्डर के साथ दूसरी बीमारियाँ भी हो सकती जैसे मनोविकृति या स्किज़ोफ़्रेनिया के साथ अत्यधिक अवसाद हो सकता है। 

बाइपोलर डिसऑर्डर के प्रकार

बाइपोलर डिसऑर्डर बुनियादी रूप से चार प्रकार का होता हैं:
1. बाइपोलर I डिसऑर्डर: मेनिया या मिश्रित दौरे पड़ते हैं जो कम से कम सात दिन तक रहते हैं, या मेनिया के गंभीर लक्षण होते हैं जिनमें व्यक्ति को तुरंत अस्पताल में भर्ती करना पड़ सकता है। साथ ही अवसाद के दौरे भी हो सकते हैं जो कम से कम दो सप्ताह तक जारी रह सकते हैं।
2. बाइपोलर II डिसऑर्डर: अवसाद और हाइपोमैनिया के मिलेजुले दौरे पड़ सकते हैं, किन्तु उनमें मेनिया या मिश्रित दौरों की प्रधानता नहीं होती। 
3. बाइपोलर डिसऑर्डर अन्यथा निर्दिष्ट नहीं (बीपी-एनओएस): बीमारियों के लक्षण उपस्थित होने पर निदान होता है लेकिन वे बाइपोलर I या II के लिए नैदानिक ​​मानदंडों को पूरा नहीं करते हैं। हालांकि, लक्षण स्पष्ट रूप से उस व्यक्ति के सामान्य व्यवहार से भिन्न होते हैं।
4. साइक्लोथैमिक डिसऑर्डर या साइक्लोथैमिया: बाइपोलर डिसऑर्डर का हल्का रूप है जहां हाइपोमेनिया और हल्के अवसाद के दौरे कम से कम दो वर्ष तक जारी रह सकते हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर के साथ मौजूद समस्याएं

कुछ मामलों में, बाइपोलर डिसऑर्डर के साथ अन्य विकार भी हो सकते हैं जैसे कि विखंडितमनस्कताग्रस्त (Schizophrenia) या गंभीर अवसाद। इसके अलावा, बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त व्यक्ति को थायराइड, मधुमेह, या कुछ अन्य शारीरिक बीमारियों का भी पर्याप्त खतरा रहता है।

बाइपोलर डिसऑर्डर का निदान कैसे होता है?

लक्षणों में समानता के कारण बाइपोलर डिसऑर्डर को अक्सर विखंडितमनस्कताग्रस्त (Schizophrenia) या अवसाद समझने की गलती हो जाती है असामान्य मनोदशा का उन्नयन (मेनिया या हाइपोमेनिया) बाइपोलर डिसऑर्डर का सबसे प्रमुख लक्षण है।
मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ स्थिति को सही तरीके से निदान करने और इन लक्षणों को पैदा करने वाली अन्य अंतर्निहित समस्याओं को दूर करने के लिए कई परीक्षण और मूल्यांकन करते हैं। लक्षणों की गंभीरता का आकलन करने के लिए, विशेषज्ञ व्यक्ति को उनके मनोदशा के परिवर्तन, नींद के तरीके और दैनिक गतिविधियों के विवरण का रिकॉर्ड बनाने के लिए कह सकता है जो उपयुक्त उपचार में सहायक हो सकता है।

मनोवैज्ञानिक व्यक्ति के विचारों, भावनाओं और समवेदनाओं का आंकलन करता है। विशेषज्ञ व्यक्ति की स्थिति के बारे में अधिक जानकारी एकत्र करने के लिए परिवार के अन्य सदस्यों से भी बात कर सकते हैं। विकार की गंभीरता का विश्लेषण करने के लिए मनोवैज्ञानिक स्व-मूल्यांकन भी कर सकता है।

बाइपोलर डिसऑर्डर का इलाज करना

मधुमेह या हृदय रोग की तरह बाइपोलर डिसऑर्डर भी लम्बे समय तक चलने वाली बीमारी है, जिसका इलाज व्यक्ति को जीवनभर करना पड़ सकता है। उचित निदान और उपचार से व्यक्ति स्वस्थ और उत्पादक जीवन जी सकता है। उपचार करने से दौरे की आवृत्ति और गंभीरता कम करने में बहुत बड़ा अंतर आ सकता है। बाइपोलर डिसऑर्डर के इलाज में दवा, चिकित्सा और परामर्श (संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सा) का एक संयोजन बहुत प्रभावी हो सकता है। उपचार उम्र, चिकित्सकीय इतिहास, हालत की गंभीरता या दवा के प्रति व्यक्ति की सहिष्णुता के आधार पर भिन्न हो सकता है।
उपचार न मिलने या मौजूदा इलाज या दवा को बंद करने से वास्तव में स्थिति खराब हो सकती है या बीमारी फिर से हो सकती है कुछ मामलों में, लक्षण अप्रत्याशित रूप से बढ़ सकते हैं और व्यक्ति को इसके बारे में जानकारी नहीं हो सकती है या इसे नियंत्रित करने में सक्षम नहीं हो सकता है।
उपचार का मुख्य उद्देश्य है:
• विकार की आवृत्ति और गंभीरता को कम करना 
• व्यक्ति को दैनिक गतिविधियों को प्रबंधित करने और घर पर और काम पर अपने जीवन का आनंद लेने के लिए सक्षम करना 
• स्वयं-हानि और आत्महत्या को रोकना 
नोट: इन लक्षणों में से कुछ अवसाद और स्किज़ोफ़्रेनिया में भी दिखाई दे सकते है इसलिए यह अत्यावश्यक है कि इसका मूल्यांकन और निदान मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ से ही करवाएं और उनके बताए उपचार के साथ ही आगे बढ़ें।

महत्वपूर्ण: बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त व्यक्ति के लिए आत्महत्या का जोखिम अधिक हो सकता है। इसलिए, उपचार जल्द से जल्द शुरू किया जाना चाहिए।

बाइपोलर डिसऑर्डर से निपटना

बाइपोलर डिसऑर्डर आपके जीवन के हर पहलू को प्रभावित कर सकता है इस तथ्य को स्वीकार करना है कि आपको बाइपोलर डिसऑर्डर है और यथासम्भव इसके बारे में जानकारी से आपको हालत से निपटने में मदद हो सकती है।
आप ऐसा कर सकते हैं:
·      मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ के निर्धारित उपचार का पालन करें।
·      नियमित रूप से जांच के लिए जाएं और दवा लें।
·      एक स्वस्थ जीवन शैली का अनुसरण करें और अपने पोषण तथा नियमित नींद का विशेष ध्यान रखें।
·      अपनी मानसिक स्थिति के बारे में सावधान रहें और परिस्थितियों या घटनाओं की पहचान करें जिनसे बीमारी के लक्षण बढ़ सकते हैं।
·      देखभाल करने वालों (पारिवारिक सदस्यों और मित्रों) के समर्थन को स्वीकार करें और उसका आदर करें। 
·      एक समर्थन समूह में शामिल हों और अन्य लोगों के साथ बातचीत करें जो समान परिस्थितियों का सामना कर रहे हैं। इस तरह की बातचीत आपको प्रेरित कर सकती है और आप स्थिति का बेहतर प्रबंधन कर सकते हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त व्यक्ति की देखभाल

यदि आप बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त किसी व्यक्ति को जानते हैं, तो उसे मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ से सलाह लेने और उपचार लेने के लिए प्रोत्साहित करें। व्यक्ति यह स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हो सकता है कि उनकी समस्या है। ऐसी स्थिति में, आपको डॉक्टर से पहले मिलना पड़ सकता है और फिर व्यक्ति को साथ में ले जाना पड़ सकता है।
आप ऐसा कर सकते हैं:
·      उनके साथ बातचीत करते समय शांत और आराम से रहने की कोशिश करें आपकी शांति उस व्यक्ति को सकारात्मक तरीके से प्रभावित कर सकती है। 
·      व्यक्ति को कार्य योजना का पालन करने और अपने दैनिक कार्यों को नियमित रूप से करने के लिए प्रोत्साहित करें, जिससे उन्हें लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी।
·      बाइपोलर डिसऑर्डर के मिश्रित दौरे निराशाजनक और जोखिम भरे हो सकते है। देखने और आकलन करने की कोशिश करें कि कौन से कारण हैं जो जोखिम भरे व्यवहार को बढ़ाते हैं उस व्यक्ति को ऐसी चीजों से बचने में मदद कर सकता है। उदाहरण के लिए, अनियमित भोजन या नींद की रुटीन या आसानी से प्राप्त होने वाला धन।
·      बाइपोलर एपिसोड के बाद, बीमारी के कारण हुए अपने अनुचित या जोखिम भरे व्यवहार के लिए अत्यधिक शर्मिंदा और अपराधबोध से ग्रस्त हो सकता है। उन्हें शांत करने की कोशिश करें और उन्हें समझाएं कि ऐसा व्यवहार स्थिति की वजह से है और स्वैच्छिक कार्रवाई नहीं है। 
·      उस व्यक्ति को आश्वस्त करें कि नियमित उपचार के साथ, वे बेहतर हो सकते हैं और सामान्य जीवन जी सकते हैं।

आत्म-हानि या आत्महत्या से संबंधित टिप्पणियों या कार्रवाइयों के बारे में सतर्क रहें, और तत्काल डॉक्टर को इसकी रिपोर्ट करें।

देखभाल करने वाले की परवाह करें

देखभाल करने वालों को भी बहुत तनाव और भावनात्मक उथल-पुथल से गुजरना पड़ता है। अधिकतर, देखभाल करने वाली महिलाओं को पुरुषों की तुलना में बहुत अधिक तनाव, थकान और व्यग्रता महसूस होती है जिसके कारण उन्हें भी अवसाद होने का खतरा हो सकता हैं। देखभाल करने वाले अपने प्रियजन के स्वास्थ्य के बारे में इतना चिंतित रहते हैं कि वे खुद का ख्याल रखना भूल जाते हैं।
देखभाल करने वाले के रूप में, आपको सहायता की आवश्यकता हो सकती है यदि आप:
  • एक देखभालकर्ता होने से पहले के की तुलना में कम ऊर्जावान या सक्रियता महसूस करते हैं 
  • सर्दी, संक्रमण या फ्लू के कारण अक्सर बीमार पड़ने लगते हैं
  • कुछ समय के लिए सो लेने या आराम के बाद भी, लगातार थकान महसूस करते हैं 
  • अपनी जरूरतों पर ध्यान नहीं रखते, क्योंकि आप बहुत व्यस्त हैं या अपनी परवाह नहीं करते हैं
  • आपकी जिंदगी देखभाल के आसपास घूमती है, लेकिन इससे आपको थोड़ा संतोष मिलता है
  • मदद उपलब्ध होने के बावजूद आपको आराम करने में दिक्कत होती है
  • आप जिसकी देखभाल कर रहे हैं और दूसरों के साथ अधिक अधीर और चिड़चिडे हो रहे हैं 
  • अभिभूत, असहाय और निराश महसूस कर रहे है
  • इसलिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रखें। यदि निम्नलिखित में से आप कुछ करें तो यह फायदेमंद होगा:
  • पर्याप्त पोषण लें और आराम करें
  • नियमित रूप से व्यायाम करें 
  • तनाव कम करने की तकनीक जानें और उसका उपयोग करें
  • बिना अपराधबोध के अपने लिए समय निकालें 
  • आपको आराम करने में मदद करने वाला शौक या गतिविधि करें 
  • दूसरों से मदद मांगें और उसे स्वीकार करें 
  • किसी विश्वसनीय सलाहकार या मित्र से बात करें और अपने विचारों और भावनाओं को साझा करें

Was this helpful for you?