रोगात्मक जुआ

रोगात्मक जुआ क्या है?

जुआ, भारत सहित दुनियाभर के ज्यादातर हिस्सों में एक प्राचीन और आम मनोरंजन का साधन रहा है। हालांकि कुछ जुआरी अपनी इस आदत पर नियंत्रण खो देते हैं, इतना ज्यादा कि यह व्यवहार उनके पूरे जीवन पर हावी हो जाता है। वे जुआ खेलने और इसमें संलिप्त रहने के अवसर तलाशने के लिए जीवन की अन्य महत्वपूर्ण गतिविधियों की भी परवाह नहीं करते हैं। भारी मात्रा में पैसा खोने और बढ़ती बाधाओं के बावजूद वे जुआ खेलना जारी रखते हैं। वे इस आदत पर काबू रख पाने में असमर्थ रहते हैं और रोकने के कई प्रयासों के बावजूद वे जल्दी ही फिर से पतन की ओर बढ़ जाते हैं। यह उसी तरह है, जैसे मादक पदार्थ लेने वाले नशीले पदार्थ तलाशने और इन्हें लेने की लत लगा लेते हैं। रोगात्मक जुआ शुरुआत में एक आवेग नियंत्रण विकार माना गया था। हालांकि पदार्थों के उपयोग संबंधी विकारों की समानता को अब पहचान लिया गया है, और डीएसएम -5 (डायग्नोस्टिक एंड स्टेटिस्टिकल मैन्युअल ऑफ मेंटल डिसऑर्डर) एवं आईसीडी -10 (इंटरनेशनल क्लासिफिकेशन ऑफ डिज़ीजेस) जैसे मानसिक विकारों का प्रमुख वर्गीकरण अब जुआ संबंधी विकारों को लत की तरह वर्गीकृत करता है।

मस्ती के लिए जुआ खेलने वाले लगभग 2-3% लोगों के रोगात्मक जुआरी बनने का खतरा होता है। 

रोगात्मक जुआ के लक्षण क्या हैं?

हद से ज्यादा जुआ खेले जाने के तीन स्वरूप हैं। 'जुआ में जोखिम' यह तब होता है जब जुआरी में जुआ खेलने की समस्या बढ़ने की तो आशंका है, लेकिन अभी तक किसी बड़े प्रतिकूल प्रभाव का सामना नहीं किया है। 'जुआ की समस्या' यह तब होता है जब जुआ के कारण जुआरी के निजी, परिवार और मनोरंजक गतिविधियों का बाधित होना शुरू होता है। दूसरी तरफ, 'रोगात्मक जुआ', तब होता है जब व्यक्ति  जुआ खेलने की तीव्र इच्छा का विरोध नहीं कर पाता, चाहे वह नुकसान की भरपाई करने या सिर्फ उत्तेजना पाने के लिए हो। जब वे इसे हद से ज्यादा करते हैं, तो ये विनाशकारी स्वरूप बन जाता है।

रोगात्मक जुआ दीर्घ स्थाई और बार-बार होने वाला है। एक व्यक्ति  में जुआ की लत (या रोगात्मक जुआ) के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

- वे हमेशा जुआ के बारे में चिंतामग्न रहते हैं। (जुआ के पिछले अनुभवों की फिर से अनुभूति करते में, अगले जुआ उपक्रम की योजना बनाने में, पैसों की व्यवस्था करने में) 

- जुआ उनके व्यक्तिगत संबंधों, वित्तीय मामलों और पेशेवर जीवन को प्रभावित करता है

- वे समस्याओं से बचने या खुद को डाइस्फोरिक मूड (चिंता, अपराध, असहायता या अवसाद की भावना) से बचने के तरीके के रूप में जुआ खेलते हैं।

- वे जुआ खेलने में कटौती या जुआ छोड़ने का प्रयास करते हैं, लेकिन बहुत असफल रहते हैं।

- वे अपनी जुआ की लत दूसरों से छुपाने की कोशिश करते हैं।

- वे अपना बहुत सा समय और प्रयास जुआ में लगा देते हैं, जिसके फलस्वरूप अधिक महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों की उपेक्षा करते हैं।

- वे जुआ के लिए पैसा हासिल करने के अवैध तरीके तलाशने लगते हैं। वे जुआ में पैसा लगाने के लिए आर्थिक रूप से दूसरों पर आश्रित हो जाते हैं और अक्सर कर्ज में पड़ जाते हैं।

रोगात्मक जुआ किन कारणों से होता है?

अनुसंधान से पता चलता है कि लत वाले अन्य विकारों की तरह ही रोगात्मक जुआ, आनुवांशिक, पर्यावरणीय और जैविक कारकों के संयोजन के कारण होता है। हमारे दिमाग में पारितोषिक या प्रतिफल की चाह वाले मार्ग की कार्य पद्धति को भी इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। जब कभी भी हम उस गतिविधि में शामिल होते हैं, जिससे हमें अच्छा लगता है तो प्रतिफल पथ सक्रिय होता है, परिणामस्वरूप न्यूरोट्रांसमीटर डोपामिन का स्राव होने लगता है, जो हमें संतुष्टि की भावना देता है। लत के मामलों में, चाहे किसी नशीली दवा की हो या जुआ जैसी आदत की, इन मामलों में संवेगों पर काबू करने वाला क्षेत्र प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स कमजोर होता है। शोधकर्ता दावा करते हैं कि जुए की समस्या वाले व्यक्तियों में, पारितोषिक परिपथ कम सक्रिय रहता है और इसलिए वे इस परिपथ को उत्तेजित करने जुआ जैसी गतिविधियों की तलाश करते हैं।

रोगात्मक जुआ के लिए जोखिम कारक क्या हैं?

रोगात्मक जुआ के लिए जोखिम वाले कारकों में पारिवारिक इतिहास, तरक्की संबंधी तनाव, नशे की लत और उम्र शामिल हैं। युवा लोग, विशेष रूप से जिनके पास 'तुरंत भड़कने का स्वभाव' है, जिन्हें दिलचस्पी बनाए रखने में कठिनाई, विचारों में ज्यादा आवेग हो उन्हें किसी भी प्रकार के नशीले पदार्थों या नशे की लत के साथ शुरुआती समस्याएं विकसित होने का बहुत अधिक जोखिम है। यह ध्यान रखना भी जरूरी है कि सभी लत विकारों की तरह,  जुए की लत वालों में से ज्यादातर लोग पुरुष हैं।

रोगात्मक जुआ का कैसे निदान किया जाता है?

रोगात्मक जुआ के निदान के लिए, लक्षणों को दीर्घकालिक रूप में (और एक चिकित्सा विशेषज्ञ की बैठक के एक वर्ष के भीतर) उपस्थित रहना आवश्यक है। इसका निदान करने के लिए मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर, उपकरणों से जांच के साथ ही मनोवैज्ञानिक आंकलन और व्यक्ति के इतिहास का उपयोग करते हैं।

रोगात्मक जुआ से जुड़ी जटिलताएं क्या हैं?

रोग जुआ एक दीर्घकालिक विकार है और यदि उपचार न किया जाए तो इससे आगे जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है जैसे कि:

-शराब और नशीली दवाओं के दुरुपयोग

-निजी, पेशेवर और कानूनी समस्याएं (जैसे दिवालियापन)

-दिल का दौरा (जुआ की उत्तेजना)

-घबराहट की बीमारियां

-आत्महत्या का प्रयास

रोगात्मक जुआ का इलाज करना

याद रखने वाली सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उपचार सबसे प्रभावी तब होता है, जब व्यक्ति उपचार प्रक्रिया में जुड़ा रहता है। रोगात्मक जुआ का आमतौर पर मनोचिकित्सा के संयोजन के माध्यम से इलाज किया जाता है, जैसे कि कॉग्नीटिव बिहेवियर थेरैपी (सीबीटी),  नशीले पदार्थों के प्रयोग से होने वाले विकारों के दीर्घकालिक उपचार में इस्तेमाल होने वाली दवाएं और स्व सहायता समूहों में भागीदारी। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि जुए की लत का इलाज करवाने वाले 70% से अधिक लोगों का एक मनोरोगी इतिहास है।

रोगात्मक जुआ विकार के रोगी की देखभाल करना

यदि आप अपने किसी चहेते की जुए की लत के बारे में चिंतित हैं, तो उनसे संपर्क करने से पहले समस्या को समझना और उन्हें सहायता प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना महत्वपूर्ण है। जब आप अपनी चिंता के बारे में बताते हैं, तो सुनिश्चित करें कि समय सही है और अतीत के बारे में कोई बात न करें - केवल वर्तमान समस्या के बारे में बात करें, और ये बताएं कि जुआ उनके आसपास के लोगों को कैसे प्रभावित कर रहा है। 'तुम्हें ऐसा करना चाहिए' या 'तुम्हें ऐसा करना ही होगा'  जैसी भाषा का उपयोग करने से बचें। एक बार जब वे एक विशेषज्ञ से मिलने और निदान के बाद उपचार प्राप्त करने के लिए सहमत होते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप सफल होने के अपने प्रयास के लिए उन्हें ज्यादा समय दें। अपने प्रियजन के बाध्यकारी जुआ से जुड़े ट्रिगर को पहचानना सीखें। एक ट्रिगर वह है जो उन्हें जुआ खेलने के लिए उकसाता है और ट्रिगर एक व्यक्ति से दूसरे में भिन्न होता है। उदाहरण के लिए, एक कैसीनो विज्ञापन को खोलता है, या हाथ में बहुत अधिक नकदी होने के बावजूद इसे खर्च करने के लिए उसमें कोई उत्तेजक गतिविधि नहीं है। ट्रिगर्स को पहचानें और सुनिश्चित करें कि आपके प्रियजन अक्सर उनसे संपर्क में नहीं आ सकें।

अगर आपके प्रियजन को जुए की समस्या है तो खुद को कैसे संभालें

-अपने प्रियजन के व्यवहार में परिवर्तन के लिए अपने आप को दोषी न समझें, आप किसी भी तरह से इसके जिम्मेदार नहीं हैं

-भरोसेमंद मित्रों और परिवार के साथ अपनी चिंता साझा करें आप जुआमुक्ति केंद्र में परामर्शदाता या प्रशिक्षित पेशेवर से भी बात कर सकते हैं।

-यदि आपके प्रियजन के जुए की लत आपके लिए वित्तीय संकट पैदा कर रही है, तो पैसे कमाने पर स्पष्ट सीमाएं निर्धारित करने से पहले बैठकर बातचीत करें। यदि आपके प्रिय व्यक्ति को अभी भी वित्त पर नियंत्रण रखना है, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप अन्य व्यवस्थाओं पर विचार करें,  जैसे कि एक अलग बैंक खाता रखना।