शराब की लत से छुटकारा पाना
व्यसन

शराब की लत से छुटकारा पाना

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

शराब का दुरुपयोग क्या है?

शराब का दुरुपयोग वह होता है, जिसमें एक व्यक्ति इसके नकारात्मक भौतिक,  पारस्परिक और सामाजिक परिणामों को जानने के बावजूद बार-बार शराब पीता है। एक व्यक्ति जो इसे नियंत्रित करने में असमर्थ है कि वे कितना पीते हैं (यानी, एक व्यक्ति जो शराब पीने से रोक नहीं पा रहा है) शराब से पीड़ित कहलाता है।

अनुमान के मुताबिक, भारत में कम से कम 30 प्रतिशत पुरुष और 5 प्रतिशत महिलाएं शराब के नियमित उपभोक्ता हैं। अधिकांश युवा जिज्ञासा या सहकर्मी के दबाव से शराब पीना शुरू करते हैं और फिर इसके अभ्यस्त उपयोगकर्ताओं बन जाते हैं। 1980 के दशक में भारत में शराब का पहली बार सेवन करने वालों औसत आयु 28 वर्ष था। यह उम्र अब 17 साल तक आ गई है।

बीयर, वाइन और इसी तरह के मादक पेय (जिनका ज्यादातार उपभोग शहरों में होता है) के अलावा, ताड़ी, अरक, दारू और अन्य देशी शराब की खपत ग्रामीण इलाकों में व्याप्त है। इन सभी पेय पदार्थों में एक मूड बदल देने वाला यौगिक, एथिल अल्कोहल शामिल है, जो मानव शरीर को कई तरीकों से प्रभावित करता है। प्रत्येक प्रकार के अल्कोहल पेय पदार्थों में सिर्फ एथिल अल्कोहल का प्रतिशत अलग-अलग होता है।

जब कोई व्यक्ति शराब पीता है, तो यह उसके खून में अवशोषित हो जाती है और उसके बाद पूरे शरीर में फैल जाती है। मादक पेय की एक छोटी मात्रा शरीर को कुछ घंटों तक प्रभावित कर सकती है। यह शराब व्यक्ति को आराम और सुखद महसूस करा सकती है। धीरे-धीरे, जब इसका प्रभाव कम होता है, तो व्यक्ति भ्रमित और निद्रालु हो जाता है। अल्कोहल अवरोधों को खोलता है, एक व्यक्ति की समन्वय शक्ति को कम करते हुए यौन इच्छा को बढ़ाता है, जबकि यौन कार्य के प्रदर्शन में कमी लाता है।

शराब की लत मस्तिष्क की एक दीर्घकालिक बार-बार होने वाली बीमारी है और इससे सामाजिक और मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ सकता है।

'नशे में होने' का क्या मतलब है?

मानव शरीर एक ड्रिंक को एक घंटे में विभाजित कर सकता है। जब एक व्यक्ति, अपने शरीर द्वारा विभाजित की जा सकने वाली मात्रा से अधिक शराब पीता है, तो यह अल्कोहल पूरे शरीर में फैल जाता है। इससे व्यक्ति निद्रालु और असमन्वित महसूस करता है और इस कारण उसका अपने शरीर पर से नियंत्रण खो जाता है।

शराब, मानव मस्तिष्क को कैसे प्रभावित करती है?

शराब मस्तिष्क के कुछ हिस्सों को प्रभावित करने के लिए जानी जाती है, जिनमें बोलना,  कार्य करना और निर्णय लेने की क्षमता शामिल है। ऐसे मामलों में जहां व्यक्ति कभी-कभार ही पीते हैं, तो मस्तिष्क इन प्रभावों से छुटकारा पाते हुए सामान्य रूप से कार्य करना शुरू कर देता है। हालांकि, एक व्यक्ति जो अल्कोहल पर निर्भर है,  उसका शरीर तो अल्कोहल का प्रभाव खत्म होने के बाद ठीक हो जाता है, लेकिन मस्तिष्क ठीक होने में असमर्थ रहता है।

शराब का दीर्घकालिक उपयोग निम्नलिखित को जन्म दे सकता है:

  • स्मरण शक्ति की क्षति

  • डिप्रेशन

  • चिड़चिड़ापन या मिज़ाज डोलना

  • उच्च रक्तचाप

  • भ्रूण को क्षति

  • कैंसर के खतरे को बढ़ाना

  • मनोभ्रंश का जोखिम बढ़ाना

  • यकृत को क्षति

  • मस्तिष्क के ऊतकों का संकुचन

  • हृदय की मांसपेशियां कमजोर पड़ना, अतालता और स्ट्रोक

  • कब्ज़ की शिकायत

  • यौन क्रिया असामान्य होना

  • समय से पूर्व बुढ़ापा

  • बौद्धिक कामकाज की हानि

जैविक परिवर्तनों के अलावा,  शराब व्यक्ति के पारस्परिक संबंधों को भी प्रभावित करती है। भारत में, घरेलू हिंसा के मामलों और सड़क दुर्घटनाओं में बड़ा हिस्सा शराब पीने से संबंधित है।

शराब की लत के बारे में तथ्य

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का अनुमान है कि शराब का सेवन करने वाले हर दूसरे व्यक्ति को इसकी लत लगने की संभावना है।

  • गैर-उपयोगकर्ता की तुलना में शराब उपयोगकर्ताओं में स्वास्थ्य समस्याओं के तीन गुना अधिक होने की संभावना है।

  • भारत के अस्पतालों में भर्ती होने वाले हर पांच में से एक मरीज का संबंध सीधे शराब के उपयोग से जुड़ा होता है।

  • दर्दनाक मस्तिष्क चोटों के पांच मामलों में से एक, और अस्पतालों में आने वाले आकस्मिक चोट के दो तिहाई मामले शराब के उपयोग से संबंधित हैं।

  • शराब उपयोगकर्ताओं के हिंसक कृत्यों में शामिल होने की ज्यादा संभावना है, विशेष रूप से उनके सहयोगियों के साथ। हिंसा शारीरिक, यौन, भावनात्मक या आर्थिक हो सकती है।

  • शराब उपयोगकर्ता आत्महत्या की कोशिश या जोखिम भरा यौन व्यवहार कर सकते हैं या उनमें एचआईवी संक्रमण, टीबी, एसोफेगल कैंसर, यकृत की बीमारी, और ग्रहणी संबंधी अल्सर विकसित हो सकता है।

अनियंत्रित मदिरापान क्या है?

अधिकांश लोग मानते हैं कि केवल लंबे समय तक शराब पीने के कारण ही स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होती हैं। अनियंत्रित मदिरापान से भी स्मृति हानि,  विषाक्तता और अल्कोहल पोईजनिंग हो सकती है। जिससे मृत्यु तक हो सकती है।

पुरुषों के लिए,  एक बार में (दो घंटों के भीतर) पांच यूनिट से अधिक शराब (या वाइन के पांच छोटे गिलास) पीना अनियंत्रित मदिरापान होता है। महिलाओं के लिए, इन इकाइयों की संख्या चार है। अनियंत्रित मदिरापान करने वाले लोग इसे जल्दी-जल्दी पीते हैं, और मदहोश हो जाने के इरादे से पीते हैं। वे इसके आदी या इस पर आश्रित नहीं होते हैं और शराब के बिना भी काम कर सकते हैं।

अनियंत्रित मदिरापान के दौरान,  हर अतिरिक्त पेय के साथ पीने वाले में अल्कोहल का प्रभाव बढ़ता जाता है। अनियंत्रित मदिरापान, पीने वाले को घुटन के साथ उल्टी का कारण बन सकता है, यदि यह उसके अल्कोहल का स्तर संभालने से ज्यादा है। यह उसके दृढ़ निर्णय लेने के लिए मस्तिष्क की क्षमता को अस्त-व्यस्त कर,  शराबी में असुरक्षित यौन संबंध बनाने या जोखिम उठाने वाला व्यवहार पैदा करता है।

लंबी अवधि तक अनियंत्रित मदिरापान से कैंसर, मानसिक स्वास्थ्य विकार जैसे उदासी या चिंता, और स्थायी मस्तिष्क क्षति का खतरा बढ़ सकता है।

शराब की लत की पहचान करना

सामाजिक परदृश्य में बहुत से लोग शराब पर ज्यादा निर्भर रहे बिना सिर्फ एक या दो पेय के लिए खुद को सीमित कर लेते हैं। जो लोग शराब के आदी रहे हैं वे महसूस नहीं कर सकते कि वे इस पर कितना निर्भर हैं। ऐसे मामलों में,  कुछ चेतावनी के संकेत हैं जो एक व्यक्ति या उसके चाहने वाले को महसूस करा सकते हैं कि उनकी आदत अब एक लत बन गई है।

एक व्यक्ति जो शराब का आदी हो चुका है, , उसमें यह पाया जा सकता है कि शराब को सहन करने की क्षमता बढ़ रही है। इसका मतलब है कि एक व्यक्ति जो दो यूनिट के बाद शराब का उच्च प्रभाव महसूस करता था, उसे यह पता लगना शुरू हो जाता है कि उसे वही प्रभाव पाने के लिए पांच या छह यूनिट चाहिए।

शराब के प्रतिकार के दौरान सामने आने वाले लक्षणों से भी एक संभव लत का संकेत मिलता है। जब व्यक्ति खुद को पीने से रोकता है, तो उन्हें गंभीर भावनात्मक एवं शारीरिक प्रतिकार के लक्षण अनुभव हो सकते हैं, जैसे, कंपकंपी, घबराहट, पसीना, मतली या चिड़चिड़ापन। यदि आप इन लक्षणों का अनुभव करते हैं,  तो तत्काल एक डॉक्टर से संपर्क करें।

शराब की लत का निदान करना

कई परीक्षण हैं जो पहचान कर सकते हैं कि आपको शराब की लत है या नहीं। हालांकि इनमें से कुछ परीक्षण स्वयं के द्वारा किए जा सकते हैं,  अन्य को प्रशिक्षित मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर द्वारा करवाने की आवश्यकता हो सकती है।

शराब की लत के लिए केज (सीएजीई) परीक्षा एक सरल परीक्षण है जो आप स्वयं के द्वारा कर सकते हैं। इसमें चार प्रश्न होते हैं :

  1. क्या आपने कभी महसूस किया है कि आपको पीना कम कर देना चाहिए?

  2. जब कोई आपके पीने की आदत की आलोचना करता है तो क्या आप परेशानी महसूस करते हैं?

  3. क्या आपने कभी अपने पीने के बारे में बुरा या खुद को दोषी महसूस किया है?

  4. क्या आपने कभी सुबह उठते ही अपनी नसों को स्थिर करने या हैंगओवर (आई-ओपनर) से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले एक ड्रिंक ली?

यदि आपने इस प्रश्नावली में दो या अधिक प्रश्नों का उत्तर "हां" में दिया है,  तो आप शराब के आदी हो सकते हैं और आपको पेशेवर मदद की आवश्यकता हो सकती है।

शराब की लत के लिए ऑडिट टेस्ट भी समस्याओं का निदान करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

इलाज

शराब की लत से छुटकारा पाने के लिए पहला कदम यह स्वीकार करना है कि आपको एक समस्या है,  और सहायता प्राप्त करने के लिए आप एक चिकित्सक से संपर्क कर सकते हैं या परिवार के किसी सदस्य या दोस्त से बात कर सकते हैं, जो इस प्रक्रिया में आपका समर्थन करेंगे। डॉक्टर पहले आपसे अपनी नशा संबंधित जानकारी की पहचान करने के लिए प्रश्न पूछेंगे और समस्या का गहराई से पता लगाएं। डॉक्टर आपके मित्र और परिवार से भी बात कर सकते हैं। ये विवरण डॉक्टर को आपके लिए सही उपचार योजना बनाने में मदद करेंगे।

शराब की लत के इलाज में दो लक्ष्य हैं: मरीज को शराब का प्रयोग बंद करने में मदद करने के लिए, और एक ऐसी जीवनशैली अपनाने में उनकी सहायता करना, जो शराब मुक्त रहने की उनकी इच्छा में सहायक हो।

उपचार आम तौर पर शरीर से जहरीले तत्वों को बाहर निकालने की प्रक्रिया के साथ शुरू होता है। यह अवधि लगभग एक हफ्ते या उससे ज्यादा समय की हो सकती है। इस दौरान,  रोगी पीना छोड़ देता है, और प्रतिकार के दौरान होने वाले लक्षणों का प्रबंधन करने में मदद के लिए दवा दी जाती है। संयम की यह अवधि शरीर को इस लत से बाहर निकलने में मदद करती है।

अगला कदम परामर्श या चिकित्सा है, जहां ग्राहक को प्रकृति और नशे के खतरों से अवगत कराया जाता है,  और वे वापस लौटने की दिशा में कैसे काम कर सकते हैं। इस स्तर के दौरान,  परामर्शदाता या मनोचिकित्सक रोगी को उस भावनात्मक समस्या को उजागर करने में भी मदद कर उन पर काम कर सकते हैं, जिसके कारण उन्हें शराब की लत लगी। रोगी भी सहायता समूह बैठकों में भाग लेता है। ग्रुप थैरेपी से उन्हें अपने इनकार पर काबू पाने, नशे की वजह से किसी भी मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में बात करने,  इस लत से जूझ रहे अन्य लोगों के बीच समर्थन प्राप्त करने का अवसर, और उनके व्यवहार को बदलने के लिए प्रेरित किया जाता है। इस चरण के अंत में,  रोगी को उन परिस्थितियों की पहचान करने, जो पुनरुत्थान पैदा कर सकते हैं, और उन तनावों से बचने के तरीके के लिए भी प्रशिक्षित किया जाता है।

इस स्तर के दौरान,  मरीज के परिवार और दोस्तों को भी समस्या के बारे में शिक्षित किया जा सकता है,  और वे इनकी कैसे मदद कर सकते हैं, यह समझाने के लिए सहायता समूह की बैठकों की पेशकश की जा सकती है।

उपचार के तीसरे और अंतिम चरण में जानकारी लेते रहना होता है,  जिससे ग्राहक को शराब-मुक्त रहने के लिए सहायता मिलती रहती है, क्योंकि वे अपनी नियमित जीवन शैली में वापस जाते हैं। मरीज नियमित सहायता समूह की बैठकों में भाग लेने का रास्ता भी चुन सकता है, जो शराब की लत वाले अज्ञात व्यक्तियों की ओर से अतिरिक्त सहायता के लिए प्रस्तुत की जाती हैं।

1. सभी आँकड़े: गुरुराज जी.,  प्रतिमा मूर्ति,  गिरीश एन. और बेनेगल वी.। अल्कोहॉल रिलेटेड हार्मः इंप्लीकेशंस फॉर पब्लिक हेल्थ एंड पॉलिसी इन इंडिया, प्रकाशन संख्या 73,  निमहंस,  बैंगलोर,  भारत 2011

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org