विकार

श्रवण प्रसंस्करण विकार

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

Q

श्रवण प्रसंस्करण विकार क्या है?

A

कार्तिक के माता-पिता उसकी स्कूली शिक्षा और पढ़ाई के बारे में परेशान थे। वह शारीरिक रूप से स्वस्थ 12 वर्षीय किशोर था, जो कक्षा 5 में पढ़ रहा था, अपनी उम्र के हिसाब से दो ग्रेड पीछे था। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उसने कितनी मेहनत की या उसके माता-पिता ने उसके लिए घर में ट्यूशन की कितनी व्यवस्था की हो, वह 5वीं क्लास पास नहीं कर पा रहा था। उसके माता-पिता उसके बारे में बेहद चिंतित थे;  अपनी उम्र के अन्य बच्चों जैसा न होने पर कार्तिक का आत्म-सम्मान और आत्मविश्वास दिनोंदिन कम हो रहा था। उसके माता-पिता उसे एक शिशु मनोरोग विशेषज्ञ के पास ले गए। मनोवैज्ञानिक ने कई आंकलन किए और पाया कि उसमें कोई बौद्धिक, विकास या सीखने की अक्षमता नहीं थी।

कार्तिक ने हमेशा यह शिकायत की थी कि उसे क्या बोला गया यह समझ में नहीं आता था, और वह उन निर्देशों का पालन नहीं कर पाता था। उसके माता-पिता और शिक्षकों ने पहले तो यह सोचा कि यह उसका विद्रोही दृष्टिकोण था, और उसे दंडित किया जाता था। जब वह कक्षा 5 में था तभी वे समझ गए कि निर्देशों का पालन करने में उसकी अक्षमता कुछ और ही संकेत दे रही है। फिर एक शिक्षक ने उसके माता-पिता को किसी ऑडियोलॉजिस्ट के पास जाने का सुझाव दिया, जिसमें पता चला कि कार्तिक श्रवण प्रसंस्करण विकार से पीड़ित था।

Q

क्या माता-पिता या शिक्षक के रूप में आप इससे परिचित है?

A

श्रवण प्रसंस्करण विकार (एपीडी), जिसे केंद्रीय श्रवण प्रसंस्करण विकार के रूप में भी जाना जाता है, वह इस बात को प्रभावित करता है कि कान के माध्यम से जाने वाली ध्वनि का मस्तिष्क द्वारा किस प्रकार प्रसंस्करण किया जाता है और समझा जाता है। स्कूल जाने वाले बच्चों में से लगभग पांच प्रतिशत को यह प्रभावित करता है। जबकि कान की संरचना या कामकाज में कोई असामान्यता नहीं है।

एपीडी वाले बच्चे शब्दों की ध्वनि के बीच के सूक्ष्म मतभेदों को नहीं पहचानते हैं, भले ही आवाज़ें तेज और सुनने के लिए पर्याप्त स्पष्ट हों। उनके कान और मस्तिष्क के बीच समन्वय की कमी के कारण वे समझ नहीं सकते कि उनसे क्या कहा जा रहा है। कुछ ऐसा होता है जो मस्तिष्क द्वारा पहचानने और ध्वनि की व्याख्या करने के तरीके में बाधा पैदा करता है, खासकर भाषण। उन्हें यह भी पता चलना भी मुश्किल लग सकता है कि ध्वनि कहां से आ रही है, ध्वनि के क्रम को समझने के लिए, या पीछे से बराबर आने वाले शोर को रोकने का पता चलने में उन्हें मुश्किल आती है।


संदर्भ:

https://www.understood.org/en/learning-attention-issues/child-learning-disabilities/auditory-processing-disorder/understanding-auditory-processing-disorder

http://kidshealth.org/en/parents/central-auditory.html

https://ldaamerica.org/types-of-learning-disabilities/auditory-processing-disorder/

Q

श्रवण प्रसंस्करण विकार के संकेत क्या हैं?

A

बच्चे में श्रवण प्रसंस्करण विकार (एपीडी) की पहचान करने के लिए कुछ निम्नलिखित लक्षण हैं:

  • भाषा संबंधी कार्यों का प्रसंस्करण करने और याद रखने में कठिनाई होना।
  • गैर मौखिक ध्वनि, संगीत आदि को समझने या याद करने में उन्हें कोई कठिनाई नहीं होना।
  • विचारों और उपाय सुझाने में धीमा प्रसंस्करण, और उन्हें समझाने में कठिनाई होना।
  • समान ध्वनि वाले शब्दों की गलत वर्तनी और गलत व्याख्या करना, अक्षरों को छोड़ना, समान ध्वनि वाले शब्दों के बीच भ्रम होना, जैसे (थ्री/ फ्री, जब/जॉब, बैश/बैच इत्यादि)
  • लाक्षणिक भाषण (उपमाओं और रूपकों) के बारे में भ्रम होना।
  • शब्दों की व्याख्या हूबहू करना।
  • अक्सर पीछे आने वाले शोर से विचलित होना।
  • मौखिक व्याख्यान पर ध्यान केंद्रित करने या याद रखने में कठिनाई होना।
  • मौखिक निर्देशों की गलत व्याख्या करना या इन्हें याद रखने में मुश्किल होना।
  • अगर तल्लीन हों तो लोगों को "अनदेखा" करना।
  • भले ही उन्होंने सुना हो कि क्या कहा जा रहा है, फिर भी अक्सर पूछना "क्या?"

Q

श्रवण प्रसंस्करण विकार किन कारणों से होता है?

A

श्रवण प्रसंस्करण विकार (एपीडी) के कारणों में शामिल हैं:

उपार्जित एपीडी: केंद्रीय श्रवण तंत्रिका तंत्र को किसी भी तरह के नुकसान, या अक्षमता के कारण यह हो सकता है।

आनुवंशिकता और जननिकी: पीढ़ी दर पीढ़ी इसका प्रसार हो सकता है या जटिल जन्म होने की स्थिति के परिणामस्वरूप यह हो सकता है।

विकासशील एपीडी: विकासशील एपीडी का सटीक कारण अज्ञात है और इस क्षेत्र में अनुसंधान चल रहा है। यद्यपि सुनने की प्रक्रिया का विकास गर्भाशय में शुरू होता है, फिर भी यह जीवन के पहले दशक के दौरान विकसित होता जाता है। विकास में देरी या किसी दौरे से एपीडी हो सकता है।

श्लेष कर्ण / ओटिटिस मीडिया: यदि किसी बच्चे में शैशवकाल या बचपन के दौरान कानों में गोंद की तरह का श्लेष विकसित होता है, तो उसे एओपीडी विकसित होने का खतरा हो सकता है। 'श्लेष कर्ण' तब होता है जब मध्य कर्ण गोंद की तरह के पदार्थ से भर जाता है। यह द्रव ध्वनि द्वारा किए गए कंपन को कम करता है।

Q

श्रवण प्रसंस्करण विकार की पहचान

A

श्रवण प्रसंस्करण विकार (एपीडी) का पता लगा पाना और निदान कठिनाई भरा है। हालांकि, माता-पिता के रूप में, देखभाल करने वाले या शिक्षक के रूप में आप इन संकेतों और लक्षणों को देख सकते हैं और बच्चे को ऑडियोलॉजिस्ट के पास ले जा सकते हैं, जो विशेष परीक्षणों और उपकरणों की सहायता से एपीडी वाले बच्चे का निदान कर सकता है।

श्रवण बाध्यता में प्रबंधन की कमी के कारण एपीडी वाले कई छात्रों को शैक्षणिक चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। इसे देखते हुए यह महत्वपूर्ण है कि एपीडी को जितनी जल्दी हो सके पहचाना जाए।

Q

श्रवण प्रसंस्करण विकार (एपीडी) का उपचार

A

यदि आप एक शिक्षक हैं, तो श्रवण प्रसंस्करण विकार (एपीडी) पीड़ित बच्चे को कई छोटी तकनीकों या रणनीतियों का उपयोग करते हुए आप बेहतर सीखने में उसकी सहायता कर सकते हैं:

• समझाने के बजाए दिखाकर (अन्य संवेदी तरीकों का उपयोग करना- जैसे हैंडआउट्स, प्रस्तुतिकरण)।

• जहां तक संभव हो, पृष्ठभूमि शोर को कम करना।

• बेहतर सुनने के लिए उन्हें कक्षा के सामने या अपने नजदीक बैठाना।

• उन्हें विकर्षण से दूर किसी क्षेत्र में असाइनमेंट पर परीक्षण या काम कराना।

• आवाज के स्वरों एवं लहजे में बदलाव, गति बदलना, प्रमुख शब्दों पर दबाव डालना।

• जवाब देने के लिए उन्हें 5-6 सेकंड दें ("सोचने का समय")

• छात्र को लगातार अवधारणाओं, शब्दावली शब्दों, नियमों आदि से वाचाल बनाना।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org