व्यक्तित्व विकार: मिथक और तथ्य
विकार

व्यक्तित्व विकार: मिथक और तथ्य

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

मिथक: व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त व्यक्ति के साथ रहना मुश्किल है। यह वास्तव में कोई विकार नहीं है।

तथ्य: लोग यह मान सकते हैं कि व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त व्यक्ति के साथ रहना मुश्किल है क्योंकि उसका अनियंत्रित और असंगत व्यवहार, 'सामान्य' की श्रेणी में नहीं आता है। ज्यादातर लोग यह नहीं जानते हैं कि उसका अनियंत्रित और असंगत व्यवहार इरादतन नहीं है बल्कि दरअसल एक मानसिक समस्या के कारण होता है।

मिथक: व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त लोग सिर्फ जिद्दी और बदलाव के ख़िलाफ़ होते हैं। इसीलिए वे ठीक नहीं हो पाते हैं।

तथ्य: हम सभी बदलाव के ख़िलाफ़ होते हैं। हम सभी की अपने काम करने की कुछ प्राथमिकताएं और कुछ तरीके होते हैं जिन्हें हम छोड़ने के लिए तैयार नहीं होते हैं। यदि एक संतुलित व्यक्ति बदलाव के लिए प्रतिरोधी हो सकता है तो व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त व्यक्ति को अपना व्यवहार बदलना और अधिक कठिन लगता होगा। जैसे अवसाद से ग्रस्त व्यक्ति को बेहतर होने के लिए दवा और उपचार की आवश्यकता होती है, उसी तरह व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त व्यक्ति को भी इसकी ज़रूरत होती है।

मिथक: व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त लोग अपने आसपास के लोगों के बारे में परवाह नहीं करते। उनका ध्यान हमेशा इस पर केंद्रित रहता हैं कि वह क्या चाहते हैं। 

तथ्य: व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त लोग अपने मित्रों और परिवार के बारे में परवाह करते हैं। दुर्भाग्य से, व्यक्तित्व विकार की वजह से समस्याएं (मन के उतार-चढ़ाव, दूसरों से जुड़ाव की अक्षमता, आवेगपूर्ण व्यवहार और अस्थिर आत्म छवि) इतनी तीव्र होती हैं कि कभी-कभी यह नहीं देख पाते हैं कि उनका व्यवहार प्रियजनों को कैसे प्रभावित करता है। वे करुणामय और प्रेमपूर्ण हो सकते हैं और कभी उन्हें आत्मग्लानि और अवसाद महसूस हो सकता हैं कि उनके व्यवहार के कारण दूसरों को परेशानी हुई। हालांकि, वे खुद के भीतर जिस संघर्ष का सामना करते हैं वह ज़बर्दस्त होता है, और हर बार वे दूसरों की सहायता करने में या संबंध बैठा पाने में सक्षम नहीं होते हैं।

मिथक: व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त लोग आत्महत्या का प्रयास केवल ध्यान खीचने की कोशिश में करते हैं। वे वास्तव में मरना नहीं चाहते हैं।

तथ्य: आत्महत्या करने वाले ज़्यादातर लोगों की तरह, व्यक्तित्व विकार से ग्रस्त लोग जो खुद को मारने की कोशिश करते हैं, क्योंकि उस क्षण में, उनकी पीड़ा इतनी बड़ी दिखती है कि उन्हें नहीं लगता कि जीवन जीने योग्य है। वे तीव्र, दर्दनाक भावनाओं का अनुभव कर रहे होते हैं और लगता है कि आत्महत्या का एकमात्र तरीका है आत्महत्या का व्यवहार मदद के लिए बेताब गुहार है। 

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org