शिक्षा

परीक्षा दौरान लक्ष्य

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

“पढ़ने के लिए इतना सारा है, मैं कैसे पूरा कर सकूंगा।”

“हे भगवान, पाठ्यक्रम को देखने से लगता है कि जाकर बिस्तर में चादर के अंदर छुप जाऊँ।“

परीक्षा के समय के दौरान, पाठ्यक्रम को देखते ही कई छात्र या तो व्यग्र हो जाते हैं या फिर दीर्घसूत्रता में पड़ जाते हैं। परीक्षा के पाठ्यक्रम से संबन्धित विशिष्ट लक्ष्यों का निर्माण करके और पाठ्यक्रम की सामग्री को प्राप्त करने योग्य लक्ष्यों में विभाजित करने से परीक्षा से होने वाली व्यग्रता कम की जा सकती है।

परीक्षा के लिए आपको लक्ष्य निर्धारित करने की जरूरत क्यों है?

पहाड़ पर चढ़ने के कार्य पर विचार करें। केवल पहाड़ को देखना आपको विह्वल कर सकता है और आपको चढ़ने के लिए अनिक्षा पैदा कर सकता है। परंतु, यदि आपने एक बार चढ़ने के बारे में ठान लिया, तो आपको सबसे पहले चढ़ने की योजना बनाएँ, उसके बाद अपने आप को व्यवहारिक रूप से लैस करें, और फिर शुरूआत करें। बस कल्पना करिए कि पहाड़ पर चढ़ जाने के बाद आप कितने खुश और संतुष्ट होंगे। परीक्षा के लिए लक्ष्य को निर्धारित करना समान तरीके से काम करता है। यह कठिन लग सकता है, परंतु एक बार समय पर एक पग बढ़ाने से, आप आसानी से अपने लक्ष्यों को पूरा कर लेंगे।

लक्ष्यों के प्रकार

जब आप परिणाम प्राप्त करना चाहते हैं, तैयारी करने के कार्य और परीक्षा में उपस्थित होने के लक्ष्यों को विभाजित कर सकते हैं।

दीर्घकालिक लक्ष्य: कुछ दीर्घकालिक लक्ष्यों में से हैं:

  • अपनी पसंद के कॉलेज या विश्वविद्यालय में जाने की इच्छा होना

  • अगले वर्ष के अंत तक सफलतापूर्वक अपना कोर्स पूरा करना

  • परीक्षा में अच्छी तरह से तैयारी के साथ शामिल होना

  • अल्पकालिक लक्ष्य: अल्पकालिक लक्ष्य आपके दीर्घकालिक लक्ष्यों की ओर सफलता की सीढियों के लघु उन्नति-सोपान होते हैं। उदाहरण स्वरूप:

  • अपनी पसंद के कॉलेज या विश्वविद्यालय में प्रवेश करने हेतु सही कट-आफ अंक प्राप्त करना

  • पूरे कोर्स को पूर्ण करके अच्छा दरजा या अंक प्राप्त करना

  • परीक्षा के लिए अच्छी तरह से तैयारी करना या पूरे पाठ्यक्रम का अच्छी तरह अध्ययन करना

छोटे लक्ष्य: यह ऐसा परिणाम होता है जिसके लिए एक व्यक्ति को एक दिन, हफ्ते या महीने के अंदर-अंदर पूरा करने की जरूरत होती है। छोटे लक्ष्य को पूरा करना आपको अपने अल्पकालिक लक्ष्य की दिशा की ओर कार्रवाई करने हेतु प्रेरित करता है। बड़े कार्यों तथा लक्ष्यों को छोटे कार्यों में बाँटने से आपके अंदर सफलता की भावना प्राप्त करने में मदद करती है। लघु लक्ष्य के कुछ उदाहरण इस प्रकार हैं:

  • आपके द्वारा एक निर्धारित समय में पढ़ाई करने हेतु पाठ्यक्रम के विषयों को विभाजित करना

  • प्रत्येक पाठ्यक्रम के विषय के लिए अध्ययन कार्यों को रेखांकित करना, उदाहरण के लिए, हर हफ्ते पाठ्यक्रमों के कुछ पाठों का अध्ययन करना

  • अपने दैनिक अध्ययन कार्य की रूपरेखा तैयार करना

आप लक्ष्य को कैसे निर्धारित कर सकते हैं?

हर किसी के पढ़ाई करने और सीखने के तरीके अलग होते हैं। जिन पाठ्यक्रमों को पूरा करना असंभव लगता हो उन्हे छोटे भागों में विभाजित किया जा सकता है। परीक्षा की तैयारी करते समय लक्ष्यों की स्थापना और प्राप्ति करना निम्न पर निर्भर करता है:

  • तैयारी हेतु वांछित समय

  • उपलब्ध समय के आधार पर अध्ययन के लक्ष्यों के बारे में लिया गया निर्णय और बनाई गई योजना

  • विशिष्ट, मापन-योग्य, यथार्थवादी और समय पर कार्यों के लक्ष्यों का पृथक्करण।

  • लक्ष्यों और नियत कार्यों को प्राप्त करने के लिए, प्रेरणा तथा आत्मविश्वास

लक्ष्यों को निर्धारित करते समय, यह बहुत आवश्यक है कि विश्राम तथा सामाजिक जीवन हेतु भी समय निकाला जाए। यह सुनिश्चित करने के लिए कि बीच में किसी दिन यदि आपकी पढ़ाई चूक जाती है तो भी आप अगले दिन उसको पूर्ण कर सकते हैं, आपका लक्ष्य लचीला होना वरीय होगा।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org