शिक्षा

निर्देशित कल्पना के साथ आराम करें

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

निर्देशित कल्पना को तनावपूर्ण स्थितियों में विश्राम के लिए एक उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है; यह आपको आराम करने में सहायक होगी और आप कल्पना कर सकते हैं कि आप परीक्षा कैसे लेना चाहेंगे. सफलता की कल्पना आपके आत्मविश्वास को बढ़ा सकती हैं.

आप निर्देशित कल्पना विश्राम तकनीकों को अपनी परीक्षा के तनाव से निपटने के लिए इस प्रकार उपयोग कर सकते हैं:

1. अपने घर में ऐसी जगह खोजें जहाँ कोई विकर्षण न हो. आराम से सुकून की मुद्रा में बैठें. अपने शरीर को ढीला रखें; अपने हाथों को गोद में या बगल में आराम से रखें. पैरों को सीधा करें; शरीर को आराम करने दें. गहरी साँस लें... एक पल साँस को पकड़ कर रखें और फिर छोड़ें.... गहरी साँस लें...... थामें..... पूरी तरह साँस छोड़ें. सुनिश्चित करें कि आप स्वाभाविक रूप से साँस ले रहे हैं. प्रत्येक साँस के साथ आप अधिक से अधिक आराम महसूस करेंगे.

आप अगर चिंतित हैं तो उन विचारों की समीक्षा करें और परे रखें. उन्हें दबाने की कोशिश न करें; तनाव से मुक्ति मिलते ही आराम मिलेगा और चिंताएँ भी अपने आप कम होंगी.

2. कमरे में एक स्थान चुनिए जिस पर अपनी आँखें केंद्रित कर सकें. कुछ पल उस स्थान पर अपनी आँखें केंद्रित करें फिर धीरे-धीरे दृष्टि मंद करते हुए अपनी आँखें बंद कर लें.

3. अपने शरीर पर ध्यान दे: आप तनाव कहाँ महसूस करते हैं? अपने कंधे, अपने चेहरे, अपनी पीठ, अपने पैर, अपने पेट या अपने हाथ में?

4. अपने कंधों पर ध्यान केन्द्रित करें: गौर करें कि जैसे ही आपका ध्यान उन पर जाता है वे कैसे आराम की स्तिथि में जाते हैं. माँसपेशियों का ढीलापन, कंधों की सहजता को महसूस करें. अपने निचले जबड़े को ढीला करें ताकि ऊपरी और निचले दांत के बीच जगह रहे. आप महसूस करेंगे कि आपका पूरा चेहरा तनाव-मुक्त हो गया है. अपनी गर्दन पर ध्यान दें; कल्पना करें कि आराम करते ही तनाव कम हो गया. यही आराम रीढ़ की हड्डी तक भी पहुँचेगा. जैसे ही आप अपनी साँसों पर ध्यान देना शुरू करेंगे आप उसकी लय से परिचित हो जाएँगे. प्रत्येक साँस के साथ अपने सीने के तनाव को कम करते आइए. पेट की मांसपेशियों की प्रशांतता को महसूस कीजिए. अब अपने हाथों पर ध्यान दें. कुछ समय इन्हें खोलने और बंद करने की प्रक्रिया करें. अपनी उंगलियों को तेज़ी से हिलाएँ और फिर ऐसे छोड़ दें जैसे उनमें जान ही न हो.

5. इसके बाद आप अपने शरीर के अन्य क्षेत्रों की तरफ़ ध्यान दें जो तनाव महसूस कर रहे हों. गहरी साँस लें और छोड़ें, कई बार इस व्यायाम को दोहराएँगे तो शारीरिक तनाव कम होगा और आप पूरी तरह आराम महसूस करेंगे. शरीर के हर अंग को इस तरह तनाव-रहित कीजिए.

6. अब आपका शरीर पूर्ण आराम महसूस कर रहा है. आप पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने में सफल होंगे. अब आप परीक्षा की कल्पना में तल्लीन हो सकते हैं.

7. कल्पना कीजिए कि परीक्षा की सुबह है. आप कैसा महसूस कर रहे हैं? क्या आप परीक्षा लेने के बारे में उत्साहित हैं? क्या मन के किसी कोने में आप चिंतित हैं कि परीक्षा कैसे जाएगी? कल्पना कीजिए कि आप परीक्षा हॉल में शांत मन से घुस रहे हैं. अपने आप से ये कहिए, "जब मैं अपनी सीट पर बैठूँगा तो सिर्फ़ अपनी परीक्षा पर ध्यान दूँगा, अपनी चिंता पर नहीं." कल्पना कीजिए कि आप अपनी कुर्सी पर बैठकर अपने परिवेश को शांति से सराह रहे हैं. ये कल्पना वास्तविकता के काफ़ी करीब होनी चाहिए. अगर आप चिंतित हैं तो एक गहरी साँस लें और अपने आप से कहें कि " मैं इससे निपटने में सक्षम हूँ."

8. कल्पना करें कि आप आत्मविश्वास से प्रश्न-पत्र पढ़ रहे हैं. प्रश्न-पत्र पढ़ते समय आपको महसूस होगा कि हर प्रश्न के बारे में आपको कुछ न कुछ जानते हैं और आत्मविश्वास है कि आप उत्तर लिख सकेंगे. अब अपने आप से कहिए, " मैं शांत रहूँगा और चिंता से विचलित नहीं हूँगा. मैंने पहले भी परीक्षाओं में अच्छा किया है और आज अच्छा न करने का कोई कारण ही नहीं है. मैं इस चुनौती के लिए तैयार हूँ."

9. एक गहरी साँस लें. साँस छोड़ें. आपको महसूस होगा कि आपका शरीर तनाव-रहित है और मन भी शांत है. आप अपने मन को काम पर ध्यान केंद्रित करने को कह रहे हैं. आप देखेंगे कि आप जल्दी-जल्दी लिख रहे हैं और बड़ी आसानी से सवालों के जवाब लिखने में सक्षम हैं.

10. अब कल्पना करें कि आपने परीक्षा खत्म की- पूरा प्रश्न-पत्र हल किया और बड़ी शांति से कागज़ और कलम दूर रख रहे हैं. अपनी कार्यक्षमता से आप आश्वस्त हैं.

एक बार ये पूरा दृश्य आपकी आँखों के सामने आ जाएगा तो आप मानसिक स्तर पर भी आप परीक्षा के लिए तैयार रहेंगे. इस तकनीक का अभ्यास करते रहने से आपकी चिंता कम होगी और आप परीक्षा भी शांति और आत्मविश्वास के साथ ले पाएँगे.

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org