शिक्षा

परीक्षा दौरान समय का प्रबंधन

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

परीक्षा के दौरान छात्रों की एक ही शिकायत होती है कि पढ़ने के लिए इतना ज़्यादा है पर समय बहुत कम है. यही घटक है जब समय नियोजन बहुत महत्वपूर्ण होता है जो सीधे परीक्षा के तनाव को प्रभावित करती है. कई छात्र परीक्षा के दौरान उपलब्ध समय गँवा देते हैं या तो पढ़ाई से बचने के लिए या उन्हें परीक्षा से निपटने के लिए जितने समय और प्रयास की ज़रूरत होती है उसका अंदाज़ा नहीं होता. समय का महत्व जानते हुए समय नियोजन करें. अगर आप अपने अध्ययन की योजना बदलते हैं तब भी पहले से बनाई योजना से आपको लाभ ही होगा.

अक्सर, छात्र किसी भी कार्य करने के लिए समय का सही अंदाज़ा नहीं कर पाते हैं. लेकिन किसी भी नियमित कार्य में कितना समय लगता है, ये विचार करना अच्छा होता है. जैसे- कई छात्र एक डायरी रखते हैं जिसमें वह पूरे सप्ताह के प्रतिदिन, प्रति घंटे की गतिविधियों का विवरण लिखते हैं.

एबीसी वर्गीकरण

एक छात्र के रूप में, यदि आप स्पष्ट रूप से अपने पाठ्यक्रम या परीक्षा से संबंधित काम को विभाजित करें तो आप अपने समय का अधिकतम उपयोग कर सकते हैं और यह अधिक असरदार भी होगा. अपने आप से पूछें कि कौन सा कार्य आपके लिए ज़्यादा महत्वपूर्ण है, किस कार्य को अगले दिन या सप्ताह के अंत तक रोका जा सकता है? यह दृष्टिकोण न सिर्फ कुशलता से समय के उपयोग में बल्कि सभी कार्यों की व्यवस्थित प्राथमिकता के लिए उपयोगी है.

निम्नलिखित समूहों के अनुसार वर्गीकृत प्रतिबद्धताएँ:

  • बिल्कुल जरूरी (उच्च महत्व)

  • बेहतर है कि जल्द ही करें (मध्यम महत्व)

  • रुक सकते हैं (कम महत्व)

समय प्रबंधन योजना का निर्माण

आम तौर पर, समय प्रबंधन योजना में वे सारी गतिविधियाँ शामिल की जाती हैं जो एक व्यक्ति एक दिन में करता है जैसे-

  • प्रतिबद्धताएँ: शैक्षणिक, काम, परिवार के लिए समय, खेल, जिम, समितियाँ (यात्रा समय सहित)

  • व्यक्तिगत समय: सौंदर्य / स्वच्छता, आराम, टी.वी देखना, संगीत सुनना, खरीदारी, सामाजिकता, ईमेल, फोन कॉल, इत्यादि

  • आवश्यक समय: भोजन, नींद

  • घर के कामकाज: भोजन तैयार करना, घर की सफाई, बर्तन धोना, कपड़े धोना, इत्यादि

इसी तरह, पढ़ाई के दौरान, जो आप पढ़ना चाहते हैं उन विषयों या अध्याय की पहले ही दैनिक सूची बना लें. ऐसा करने का एक तरीका ये है कि ‘कार्य करना’ की एक सूची बना लें. इस सूची में हर विषय या अध्याय या कार्य को प्राथमिकता के दृष्टिकोण से ए, बी, सी का नामांकन करें. इससे आपको ये याद आयेगा कि कौन सा कार्य पहले करना है. बड़े कार्यों को छोटे-छोटे कार्यों में विभाजित कर खत्म करना आसान रहेगा, जैसे किसी भी काम के विवरण में विशिष्ट होना.

टालमटोल करना

हम सभी ऐसी स्तिथि से गुज़रे हैं जब हमने अपनी पढ़ाई को अंतिम घड़ी तक टाला है. हम ऐसा क्यों करते हैं? क्यों हम कोई बहाना ढूँढ़ते हैं या विचलित हो जाते हैं? आम तौर पर, कार्य शुरू करने में या जारी रखने के विचार में जो कठिनाई होती है, वह खुद कार्य से भी बदतर है. छात्रों के लिए, अपने सामने बड़ी सिलेबस देखना ही बड़ी कठिनाई की बात है. उसे देखते ही वे और आलसी हो जाते हैं और आखिरी मिनट तक पढ़ाई शुरू नहीं करते. अक्सर, शुरू करना ही सबसे कठिन काम है. इसलिए टालमटोल या विलंब न करने का सबसे अच्छा तरीका है कि पहला कदम लें, चाहे वह कितना ही छोटा हो.

विलंब टालमटोल न करने के लिए टिप्स:

  • पहचानें कि आप क्यों टालमटोल कर रहे हैं. इन विचारों पर स्पष्टता हो तो आप अपने अध्ययन लक्ष्य को पूरा करने का समाधान पा सकते हैं. उदाहरण के लिए, यदि आपको असफलता का भय है तो लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें और सकारात्मक विचार करें. यदि आप किसी विशेष कार्य को लेने के बारे में चिंतित हैं, तो उस कार्य को छोटे-छोटे लक्ष्यों में विभाजित करें.

  • यदि आपको अपने कार्य में ध्यान केंद्रित करने में समस्या हो तो आप यह सुनिश्चित कर लें कि आप जिस जगह काम करते हैं वहाँ किसी तरह का विकर्षण न हो. आप अपने कार्य को छोटी-छोटी इकाइयों में विभाजित कर लें जिससे आपको अपने लक्ष्य को पाने में आसानी हो.

  • याद रखें, आप अधिक कठिन कार्य तभी पूरा कर सकते हैं जब आप सबसे अधिक सतर्क रहेंगे. तो, अध्ययन शुरू करें और सबसे मुश्किल अध्याय से प्रारंभ करें, फिर आसान पाठ्यक्रम की ओर बढ़ें.

सन्दर्भ:

  • चोंग, जे (2007)। समय प्रबंधन। सिडनी, ऑस्ट्रेलिया: न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय

  • कॉट्रेल, एस (2008)। अध्ययन कौशल हैंडबुक (3 एड ). न्यूयॉर्क, एनवाई: पालग्रेव मैकमिलन

  • मॉर्गेनस्टर्न, जे (2004) समय प्रबंधन- इन्साइड आउट. न्यू यॉर्क: हेनरी होल्ट और कंपनी

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org